पत्रकार सुचेता दलाल के ट्वीट से अडानी की संपत्ति में हज़ारों करोड़ की गिरावट!

अश्विनी कुमार श्रीवास्तव-

किसने तोड़ा जन्म दिन पर ताजपोशी का अदानी का सपना!

-शेयर बाजार में हुए सनसनीखेज खुलासे के बाद से तेजी से गिर रही अदानी की हैसियत

  • 24 जून को अपने जन्म दिन तक अदानी अब नहीं छीन पाएंगे अंबानी से एशिया के सबसे बड़े धनकुबेर उद्योगपति का सिंहासन

अगले कुछ दिनों बाद यानी 24 जून को नरेंद्र मोदी के अति प्रिय धनकुबेर गौतम अदानी का जन्म दिन है. अभी कुछ ही रोज पहले तक खबरें आ रही थीं कि पिछले एक बरस से हर रोज अपनी दौलत में दिन-दूनी, रात-चौगुनी रफ्तार से इजाफा कर रहे अदानी अब मुकेश अंबानी को पीछे छोड़ कर अपने जन्म दिन तक भारत ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे बड़े धनकुबेर बन जाएंगे.

दोनों के बीच अंतर भी बहुत कम रह गया था. करीब 63,530 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित करते ही अडानी एशिया के सबसे रईस उद्योगपति बन जाने वाले थे.

जाहिर है, बरसों से एशिया में सबसे अमीर उद्योगपति के सिंहासन पर विराजमान मुकेश अंबानी इन खबरों से विचलित तो हो ही रहे होंगे. लेकिन अंबानी की बादशाहत छिनती, उससे पहले अचानक सुचेता दलाल नाम की एक महिला पत्रकार ने अपने ट्वीट से विस्फोट करके अदानी को धनकुबेरों की सूची में वापस नीचे ला पटका. सुचेता दलाल वही नामचीन पत्रकार हैं, जिन्होंने कभी हर्षद मेहता का घोटाला उजागर करके भारत के शेयर बाजार को लंबे अरसे के लिए धराशाई कर दिया था.

सुचेता ने ट्वीट में किए एक खुलासे से अदानी समूह के शेयरों को धराशाई करके अदानी की नाभि पर ऐसा सटीक तीर मारा है कि अब अदानी के शेयर जितनी तेज रफ्तार में चढ़ रहे थे, उससे भी तेज रफ्तार से नीचे आते हुए अदानी और अंबानी का फासला हर रोज फिर से बढ़ाते जा रहे हैं. जाहिर है, अंबानी की बादशाहत को अदानी से मिली चुनौती भी अब लंबे समय के लिए खत्म हो गई है.

Bloomberg Billionaires Index के मुताबिक अडानी एशिया के अमीरों की लिस्ट में तीसरे स्थान पर खिसक गए हैं। पिछले 3 दिन में उनकी नेटवर्थ में 9.4 अरब डॉलर यानी करीब 69263 करोड़ रुपये की गिरावट आई है। यानी जितनी दौलत कुछ दिनों में जोड़कर वह अपने जन्म दिन पर एशिया का सबसे रईस उद्योगपति बनने का सपना देख रहे थे, उससे ज्यादा दौलत सुचेता ने उनसे तीन दिनों में छीन ली.

सुचेता ने ट्वीट करके अदानी के समूह के शेयरों में तेजी के लिए विदेश से हो रहे अरबों रुपए के संदिग्ध निवेश को उजागर कर दिया. यह अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है कि सुचेता को इन विदेशी फंड की जानकारी उसी तरह मिली होगी, जिस तरह हर्षद मेहता के घोटाले की जानकारी उन्हें हर्षद के प्रमुख कारोबारी प्रतिद्वंदी ने दी थी. हालांकि अदानी ने जिस तरह एक के बाद भारत के सभी धनकुबेरों को पीछे छोड़ा है, उसमें उनके इस राज को सुचेता तक पहुंचाने का काम करने वाले को ढूंढना आसान नहीं है. लेकिन यह भी संयोग दिलचस्प ही है कि अदानी अब महज अंबानी को ही पीछे छोड़ने वाले थे कि यूं पीछे से किए गए वार से धराशाई हो गए.

दरअसल एक साल में ऐसी हैरतअंगेज तरक्की और अंबानी की बादशाहत को खत्म करने लायक दौलत अदानी को शेयर बाजार से ही मिल रही थी. लिहाजा इस पर किया गया वार उनकी नाभि में लगे तीर की तरह घातक साबित हुआ.

आंकड़ों के मुताबिक, इस साल मई में रिलायंस के मालिक मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति 5.73 लाख करोड़ रुपए आंकी गई थी. जबकि इस साल मई के आखिर तक अदानी कुल 4.98 लाख करोड़ रुपए संपत्ति के साथ एशिया के दूसरे अमीर बन चुके थे. इसमें से आधी दौलत अदानी ने इस साल ही कमाई है यानी उनकी दौलत में लगभग 2.47 लाख करोड़ रुपए का इजाफा इसी साल हुआ है. इसी एक साल से अडानी ग्रुप के शेयर की कीमतों में भी लगातार तेजी देखी जा रही है. शेयरों की इसी तेजी के कारण इस साल अडानी की संपत्ति दुनिया के सबसे अमीर शख्स जेफ बेजोस और एलन मस्क से भी तेज गति से बढ़ी.

अडानी की शेयर बाजार में लिस्टेड 6 कंपनियों का मार्केट कैप एक साल में 41.2 गुना बढ़ा है. पिछले साल अदानी ग्रुप की कंपनियों का मार्केट कैप 1.5 लाख करोड़ रुपए था, जो बढ़कर अब 8.5 लाख करोड़ रुपए हो गया है.

एक साल में अदानी ग्रुप के शेयरों में पैसा लगाने वालों को मिला रिटर्न देखें तो अदानी इंटरप्राइजेज का रिटर्न 12.18 गुना, ग्रीन एनर्जी का 4.5 गुना, अदानी टोटल गैस का 13.44 गुना, अदानी ट्रांसमिशन का 8.66 गुना, अदानी पावर का 4.11 गुना और अदानी पोर्ट का 3.02 गुना रिटर्न रहा है।

बहरहाल, एक दिलचस्प बात यह भी है कि मोदी की लोकप्रियता भी आजकल कोरोना के कारण मची तबाही से उसी तरह गिर रही है, जिस तरह अदानी समूह की दौलत इन दिनों गिर रही है. जबकि इससे पहले पिछले दो दशक से अदानी की तरक्की का ग्राफ भी नरेंद्र मोदी की तरक्की के ग्राफ के साथ ही बढ़ता जा रहा था.

साल 1998 में जब नरेंद्र मोदी को गुजरात में विधानसभा चुनावों की चयन समिति का सदस्य बनाया गया तो उसी वक्त केंद्र में अटल बिहारी वाजपेई की सरकार भी बनी. मोदी के गुजरात की राजनीति में अहम होते ही अदानी को गुजरात में सैकड़ों करोड़ का पहला ठेका मिला. यानी मोदी ने राजनीति में तो अदानी ने व्यापार में पहला मजबूत पड़ाव आगे पीछे ही हासिल किया. फिर अदानी को अगली कामयाबी 2001 में मिली और उसी साल नरेंद्र मोदी भी गुजरात के मुख्यमंत्री बन गए.

फिर गुजरात में मोदी बतौर मुख्यमंत्री 2014 तक अपना एकछत्र राज कायम करके फलते फूलते रहे तो उनकी छत्रछाया में अदानी भी गुजरात में एक के बाद एक बढ़िया ठेके पाकर दोनों हाथों से धन बटोरते रहे. हालांकि अदानी इस दौरान केवल गुजरात तक ही सीमित नहीं रहे बल्कि कांग्रेस व अन्य दलों के शासन वाले प्रदेशों या केंद्र में भी अदानी ने बढ़िया ठेके हासिल किए.

फिर 2014 से केंद्र में मोदी युग आया तो अदानी समूह ने तरक्की की ऐसी उड़ान भरी कि जिस तरह मोदी भारत में सबसे ताकतवर नेता बनकर दुनियाभर में अपना नाम कायम करने में कामयाब रहे, ठीक उसी तरह गुजरात के एक औद्योगिक समूह के रूप में बनी अदानी की पहचान भी न सिर्फ राष्ट्रीय बल्कि ग्लोबल हो गई.


krishnan Iyer-

मन्दिर चन्दा विवाद और अडानी के शेयर के भाव गिरने में सीधा रिश्ता है..दोनो घटनाएं एक ही दिन घटित हुई है..तो मन्दिर और अडानी का रिश्ता क्या है? बिना किसी डेटा के सहजता से लिखता हूँ..डेटा गूगल पर उपलब्ध है..

◆ अडानी के शेयर गिरना कोई साधारण घटना नही है..इन शेयरो के सहारे ही अडानी की पूरी फाइनेंसिंग टिकी हुई है..शेयर के भाव अस्वाभाविक रूप से गिरने पर पूरा सिस्टम खराब हो जाता है..

● एक ट्वीट आया और शेयर गिर गए? ऐसा भी सम्भव नही है..क्योंकि अडानी के शेयर रिटेल निवेशक के हाथों में ना के बराबर है..तो बेचा किसने? किसीने नही बेचा !!

★ अडानी की कंपनियो में अडानी की हिस्सेदारी 50%+ से 70%+ तक है..इसके अलावा बड़े विदेशी/देशी निवेशक के पास 20%+ से 30%+ तक शेयर है..ये निवेशक ऐसे किसी ट्वीट के कारण किसी कंपनी में शेयर नही बेचते..ऐसे निवेशक 24 घन्टे कंपनी के मालिक के कॉन्टैक्ट में रहते है..

★ विदेशी निवेशक के पास शेयर रहना एक तरह का अघोषित/अलिखित उधार है..जब तक विदेशी निवेशक को एग्रीमेंट के अनुसार सबकुछ मिलता रहता है वो देखता भी नही..आज भी विदेशी निवेशको ने 1 शेयर भी नही बेचा है..

◆ अडानी के शेयर का गिरना शायद एक कॉरपोरेट युद्ध की घोषणा है..क्योंकि जब पब्लिक के पास बेचने को शेयर नही, जिसके पास शेयर है उसे बेचने की इजाजत नही तो थोड़े से शेयर बिकने पर इतनी बड़ी गिरावट किसी भविष्य में होने वाली घटना का ट्रेलर है..

-अडानी पर सवाल उठने पर जवाब देना कठिन है..वैसे भी अडानी और PM के रिश्तों पर जनता को शक है..अडानी को बचाने मन्दिर को सामने लाया गया..सबको रामद्रोही बताया जाने लगा..मन्दिर के पीछे अडानी को छिपा दिया गया..(AAP का खेल समझे?)

अडानी का मामला लगभग 600 करोड़ डॉलर + का है..और इस देश की जनता 18 करोड़ के चंदे में उलझ कर रह गई..याद रखिए, अडानी को बचाने के लिए पूरे देश की बलि चढ़ सकती है..

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *