साल के पहले हफ्ते में जी न्यूज नंबर एक की तरफ लपका, इंडिया टीवी का बंटाधार

इस साल के पहले हफ्ते की टीआरपी आ गई है. सबसे अच्छी खबर जी न्यूज के लिए है. यह चैनल तेजी से नंबर एक की तरफ बढ़ रहा है. पंद्रह प्लस कैटगरी में यह सबसे ज्यादा टीआरपी हासिल करके अपने प्रतिद्वंदियों को काफी पीछे छोड़ चुका है. नंबर वन पर काबिज ‘आजतक’ को तगड़ी चुनौती दे रहा है. बाइस प्लस कैटगरी में तो जी न्यूज नंबर वन बन भी चुका है.

सबसे बुरा हाल इंडिया टीवी का है. यह चैनल हमेशा नंबर दो पर रहा है और कभी कभी नंबर एक भी हो जाया करता था. लेकिन इसने पांच नंबर पर गोता लगा दिया है. इससे आगे एबीपी न्यूज, न्यूज एट्टीन इंडिया और जी न्यूज हो चुके हैं. लग रहा है नए साल में रजत शर्मा को कुछ बड़ा करना पड़ेगा और ठीकठाक नए-तेजतर्रार लोगों के हवाले चैनल को करना पड़ेगा. देखें साल के पहले हफ्ते के टीआरपी के आंकड़े…

Weekly Relative Share: Source: BARC, HSM, TG:CS15+,TB:0600Hrs to 2400Hrs, Wk 1’2018

Aaj Tak 16.0 dn 0.1

Zee News 15.6 up 1.8

News18 India 12.6 dn 0.6

ABP News 12.0 up 1.1

India TV 11.9 dn 0.5

News Nation 9.1 dn 0.4

India News 8.2 dn 0.5

News 24 7.9 dn 0.5

Tez 2.9 same 

NDTV India 2.0 dn 0.1

DD News 1.8 dn 0.1

TG: CSAB Male 22+

Zee News 17.8 up 2.8

Aaj Tak 15.6 dn 0.8

News18 India 13.7 dn 0.3

India TV 12.1 dn 0.9

ABP News 11.2 up 0.5

News Nation 7.8 same 

News 24 7.3 dn 0.5

India News 7.1 dn 0.8

Tez 3.4 same 

NDTV India 2.5 dn 0.1

DD News 1.6 same

पिछले साल के आखिरी हफ्तों में क्या हाल था चैनलों का, जानें…

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code