पत्रकार और बिल्डर के बीच की जंग हुई तेज, एक दूसरे के खिलाफ दिलवाया ज्ञापन

डीएम को ज्ञापन देते पत्रकार यूनियन के लोग.

सीतापुर। उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन ‘यूपीडब्लूजे’ द्वारा केशवग्रीन सिटी में कवरेज के दौरान कॉलोनी के मालिक भू-माफिया मुकेश अग्रवाल द्वारा पत्रकारों से अभद्र व्यवहार किये जाने एवं फर्जी मुकदमा किये जाने के विरोध में जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया। इसमें पत्रकारों ने भू-माफिया के विरूद्ध कठोर कानूनी कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

दिये गये ज्ञापन में यूनियन के अध्यक्ष हरिराम अरोरा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष पंकज सक्सेना, सुधांशु पुरी, महामंत्री उरूज कदीर, कोषाध्यक्ष आनंद तिवारी ने संयुक्त रूप से कहा कि सरायन नदी के किनारे अवैध रूप से विकसित हो रही केशव ग्रीन सिटी कॉलोनी की कवरेज करने के उद्देश्य से गये हुए पत्रकारों के साथ कॉलोनी के मालिक ने अभद्र व्यवहार किया। बंधक बनाया, गालियां दी और लड़कियों से छेड़खानी का झूठा मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी दी। इसका वीडियो भी मौजूद है। इसकी एफआईआर भी थाना रामकोट में लिखवायी गयी है। लेकिन अभी तक न कॉलोनी के मालिक की गिरफतारी हुई है और न ही शासन के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बन रही अवैध कॉलोनी की जांच हुई।

पत्रकारों ने कहा कि भू-माफिया मुकेश अग्रवाल द्वारा धन-बल के सहारे मान्यता प्राप्त पत्रकारों समेत कुल तीन पत्रकारों पर बगैर किसी प्रमाण के मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। इससे जिले के पत्रकारों में भारी आक्रोश व्याप्त है, जिसकी श्रमजीवी कड़े शब्दों मे निन्दा करता है। पत्रकारों ने कहा कि विकसित हो रही अवैध कॉलोनी की अखबारो व न्यूज चैनलों में बराबर चर्चा होती रहती है, लगातार प्रशासन द्वारा जब-जब इस कॉलोनी पर कोई कार्यवाही होती है, तब इसके मालिक पत्रकारों के खिलाफ झूठे मुकदमों में फंसाने का निरन्तर प्रयास भी किया करता है। इस बार भी इस कॉलोनी का कवरेज करने गये पत्रकारों के खिलाफ झूठा मुकदमा लिख दिया गया है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि पत्रकारों के खिलाफ इस झूठे मुकदमें की निष्पक्ष जॉच कराकर झूठे मुकदमे को वापस लिए जाने के साथ ही अवैध कॉलोनी की विस्तृत जॉच की जाए। इस मौके पर काफी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।

उधर, पत्रकार की खबर पर कार्रवाई से बचने के लिए भूमाफिया ने दे डाली आत्मा हत्या की धमकी… करा दिया रुपए मांगने का मुकदमा… सीतापुर में टीवी पत्रकार पत्रकार हिमांशु पुरी सुधांशु पुरी और इंद्रपाल सिंह द्वारा सीतापुर में बनी अवैध केशव ग्रीन सिटी पर कई दिनों तक प्रमुखता से खबर प्रकाशित करने के बाद जब जिला प्रशासन ने भू माफिया पर शिकंजा कसना शुरू किया तो सीतापुर के भूमाफिया मुकेश अग्रवाल बौखला गए उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर आत्महत्या की धमकी व रुपए मांगने का वीडियो वायरल किया और पत्रकारों पर फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया.

पत्रकारों की खबर के बाद जब प्रशासन ने कार्रवाई शुरू की तो सीतापुर के एक अन्य पत्रकार इंद्रपाल सिंह भी खबर बनाने गए तो इस भूमाफिया ने अपनी केशव ग्रीन सिटी में उसे बंधक बना लिया और सीतापुर के सभी पत्रकारों समेत उपरोक्त पत्रकारों को जमकर मां बहन की गाली दे डाली। इसका वीडियो भी साहस करके पत्रकार इंद्रपाल सिंह ने बना लिया और पुलिस ने मुकदमा बंधक बनाने का दर्ज कर लिया। जब भूमाफिया मुकेश अग्रवाल को वीडियो बनने की जानकारी हुई तो आनन-फानन में पत्रकार हिमांशु पुरी और सुधांशु पुरी के घर जाकर माफी भी मांग ली। इसका भी वीडियो मौजूद है। जब इन टीवी पत्रकारों ने लिखित माफी मांगने के लिए कहा तो भू माफिया यह समझ गया कि अगर लिखित माफी मांगी तो वह फंस सकता है।

इसके बाद भू माफिया मुकेश अग्रवाल ने प्रशासनिक कार्रवाई से बचने के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पत्रकार हिमांशु सुधांशु एवं इंद्रपाल सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए आत्महत्या की धमकी दे डाली और राजनैतिक और धनबल के सहारे तीनों पत्रकारों पर रंगदारी का फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया। हालांकि पुलिस ने उपरोक्त तीनों पत्रकारों से साक्ष्य के रूप में वीडियो सीडी अपने कब्जे में कर ली है लेकिन काफी वक्त बीत जाने के बाद भी भूमाफिया मुकेश अग्रवाल पैसे मांगने का कोई प्रमाण नहीं दे सके हैं। इससे सीतापुर के पत्रकारों में बेहद आक्रोश है और पत्रकार जल्द मुख्यमंत्री और राज्यपाल से इसकी शिकायत भी करेंगे

अवैध बन रही केशव ग्रीन सिटी बीते 5 वर्षों से यह कॉलोनी विकसित हो रही है और सीतापुर की इकलौती सरायन नदी का अस्तित्व खत्म हो रहा है। नियमों की मानें तो नदी से 100 मीटर की दूरी पर कोई भी निर्माण कार्य नहीं हो सकता लेकिन दबंगों ने सारे नियमों को दरकिनार कर नदी के पास की जमीन सब बेच डाली। इतना ही नहीं हाई वोल्टेज लाइन के नीचे बने पार्क और मकान और विनियमित क्षेत्र में कमर्शियल नक्शा पास करके आवासीय बनाकर करोड़ों में बेच दिए गए। कुछ वर्ष पूर्व जब टीवी के 5 पत्रकार इसकी खबर बनाने पहुंचे तो भूमाफिया ने उन पर भी गंभीर धाराओं में फर्जी मुकदमा रामकोट थाने में दर्ज करा दिया। तब से कोई भी सीतापुर का पत्रकार इस अवैध बन रही के केशव ग्रीन सिटी में झांकने नहीं गया।

पता चला है कि भूमाफिया मुकेश अग्रवाल ने जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी को अग्रवाल महासभा और व्यापार मंडल की तरफ से ज्ञापन दिलवाया है। इस तरह दोनों तरफ से तगड़ी मोर्चेबंदी हो गई है। वहीं टीवी पत्रकार व मान्यता प्राप्त पत्रकार सुधांशु पुरी ने अपने व अपने परिवार की जान को खतरा बताया है। सुधांशु पुरी ने पुलिस से कहा है कि भूमाफिया मुकेश अग्रवाल से मेरी जान को खतरा है। वो किसी भी साजिश में फंसा सकता है। सुधांसु ने पुलिस से सुरक्षा की मांग की है। सुधांशु का कहना है कि खबर प्रकाशित करने के बाद जिला प्रशासन द्वारा कार्यवाही किया जाना और 4 दिन बाद मेरे ऊपर फर्जी मुकदमा किया जाना साफ तौर पर संकेत दे रहा है कि विपक्षी मुकेश अग्रवाल काफी लंबी पहुंच वाला है. इससे मेरी जान को खतरा बना हुआ है क्योंकि प्रशासन द्वारा लगातार अवैध बनी केशव ग्रीन सिटी पर कार्रवाई जारी है. ऐसे में मालिक मुकेश अग्रवाल से मुझे व मेरे परिवार को जान का खतरा बना हुआ है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *