गोरखपुर के पत्रकार सुशील कुमार वर्मा ला रहे ‘बागी42 डाट कॉम’

गोरखपुर : सन् 1975 में इंदिरा गांधी के शासनकाल में लगे इमरजेंसी के दौरान गोरखपुर से जब्त अखबार ‘बागी 42’ एक बार फिर डिजीटल रुप में लांच हुआ है. महज छह महीनों के छोटे से सफर में ही यह न्यूज पोर्टल सिर्फ गोरखपुर में ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ रहा है. हालांकि बागी 42 के मैनेजिंग टीम के अनुसार अभी आफिशियल लांचिंग होना बाकी है. बावजूद इसके इस पोर्टल से खबरें पढ़ने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है.

दैनिक जागरण से रिटायर वरिष्ठ पत्रकार व लोकतंत्र रक्षक सेनानी सुशील कुमार वर्मा के निर्देशन में यह न्यूज पोर्टल चल रहा है. आई नेक्स्ट के रिपोर्टर उत्कर्ष श्रीवास्तव जो कि सुशील वर्मा के पुत्र हैं, ने बीते दिनों दैनिक जागरण के अखबार आई नेक्स्ट को बाय-बाय करके इस पोर्टल से जुड़ गए हैं. अक्तूबर महीने के नौरात्रि में इस न्यूज पोर्टल को आफिशियली लांच किया जाएगा.

गोरखपुर के पुराने पत्रकारों की माने तो खबरों के प्रकाशन के डर से आपातकाल के दौरान इंदिरा गांधी सरकार ने अखबार ‘बागी 42’ को जब्त करा दिया था. इसके संपादक सुशील कुमार वर्मा को इमरजेंसी के दौरान जेल की यात्रा भी करनी पड़ी. बाद में मुलायम सिंह के शासनकाल में सुशील कुमार वर्मा और इमरजेंसी के दौरान जेल गए अन्य लोगों लोकतंत्र रक्षक सेनानी की उपाधी से नवाजा गया और आज तक इन लोगों को राज्य सरकार की तरफ से पेंशन व राजकीय सम्मान जैसी सुविधाएं दी जा रही है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *