पुण्य प्रसून से पीड़ित पत्रकार ने FB Live के जरिए सुनाई दास्तान, देखें वीडियो

SP Singh Rajput : दिवाकर जी आपके संघर्ष में देश आपके साथ है। पत्रकारिता में बड़ा नाम होने से कोई बड़ा नहीं हो जाता, उसको अपने पत्रकारिता धर्म से खिलवाड़ करने की अनुमति नहीं मिल जाती। आपने बखूबी कहा कि नेताओं की निष्ठा और ईमानदारी पर हमेशा सवाल उठाने वाले पत्रकारों भी अपने गिरेबान में झांकना चाहिए।

शायद यह बात इतने दमदार तरीके से पब्लिकली किसी पत्रकार ने इससे पहले कभी नहीं की होगी। दिवाकर जी भले ही उस मूर्धन्य पत्रकार ने क्षणिक विजय हासिल कर ली हो लेकिन इस एपिसोड से आपकी नैतिक विजय हुई है और उनकी विराट पराजय। जागरुक पाठक और नागरिक जो भी इस घटना के बारे में पड़ेगा या सुनेगा, आपके साहस और पत्रकारिता धर्म से समझौता न करने की प्रवृत्ति की प्रशंसा किए बिना न रह पाएगा।

Ashish Pratap Singh : Great journalists and Editor of Surya news who faught with Prasoon Vajpayee for opposing fake news and resigned from his post. We salute to Mr Diwaker Vikram Singh for showing his bravery and taken stand against poor journalists.

देखें दिवाकर विक्रम सिंह का लाइव वीडियो….

फेक न्यूज का विरोध करने पर पुण्य प्रसून बाजपेयी खा गए इस पत्रकार की नौकरी!

फेक न्यूज का विरोध करने पर पुण्य प्रसून बाजपेयी खा गए इस पत्रकार की नौकरी! सूर्या समाचार चैनल के एग्जीक्यूटिव एडिटर पद से इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ पत्रकार दिवाकर विक्रम सिंह सुना रहे हैं आपबीती…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 14, 2019

एसपी सिंह राजपूत और आशीष प्रताप सिंह की एफबी वॉल से.


इसे भी पढ़ें….

पुण्य प्रसून प्रायोजित खबरें चलाना चाहते थे, विरोध किया तो इस्तीफा देना पड़ा : दिवाकर विक्रम सिंह

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “पुण्य प्रसून से पीड़ित पत्रकार ने FB Live के जरिए सुनाई दास्तान, देखें वीडियो

    • Sajai Kumar Saxena says:

      No doubt that Truth is always a truth. It can be concealed but never destroyed. Soon or later, it will again reappear. People who are in power will never be remain in power. It is a cycle that most of the people forget. You agree that facts are tarnished just to satisfy the powermen’s whims. History never forget any event whatever be. The big question is who is suffering now and what can we do for him or them. Tolerance and forgiveness are tools to rehabilitate aggrieved person (s). But we fail to accept this truth despite knowing that we are puppet of destiny maker say GOD.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *