इंडियन रीडरशिप सर्वे 2017 : देखें देश के टॉप-20 अखबार, जानें कौन किस नंबर पर है

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल यानि एमआरयूसी ने वर्ष 2017 का रीडरशिप सर्वे जारी कर दिया है. भारत के सभी भाषाओं के अखबारों की कुल पाठक संख्या के आधार पर जो टाप ट्वेंटी की लिस्ट बनी है, उसमें नंबर एक पर दैनिक जागरण है.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स आफ इंडिया भले ही अंग्रेजी अखबारों में नंबर वन हो लेकिन सभी भारतीय भाषाओं के अखबारों की कुल प्रसार संख्या के मामले में ग्यारहवें नंबर पर है. टीओआई से ज्यादा तो प्रभात खबर अखबार की रीडरशिप है. नंबर दो पर हिंदुस्तान अखबार है. नंबर तीन पर अमर उजाला है. दैनिक भास्कर को नंबर चार पर संतोष करना पड़ रहा है. पांचवें पर डेली थांती और छठें पर लोकमत है. सातवें नंबर पर राजस्थान पत्रिका है. बीसवें स्थान पर पत्रिका अखबार है जो राजस्थान पत्रिका समूह का ही अखबार है.

देखें Indian Readership Survey 2017 के आंकड़े…

Top 20 Newspapers of india : Total Readership

Dainik Jagran 7,03,77,000 नंबर एक

Hindustan 5,23,97,000 नंबर दो

Amar Ujala 4,60,94,000 नंबर तीन

Dainik Bhaskar 4,51,05,000 नंबर चार

Daily Thanthi 2,31,49,000 नंबर पांच

Lokmat 1,80,66,000 नंबर छह

Rajasthan Patrika 1,63,26,000 नंबर सात

Malayala Manorama 1,59,95,000 नंबर आठ

Eenadu 1,58,48,000 नंबर नौ

Prabhat Khabar 1,34,92,000 नंबर दस

Times of India 1,30,47,000 नंबर ग्यारह

Anandabazar Patrika 1,27,63,000 नंबर बारह

Punjab Kesari 1,22,32,000 नंबर तेरह

Dinakaran 1,20,83,000 नंबर चौदह

Mathrubhumi 1,18,63,000 नंबर पंद्रह

Gujarat Samachar 1,17,84,000 नंबर सोलह

Dinamalar 1,16,09,000 नंबर सत्रह

Daily Sakal 1,04,98,000 नंबर अठारह

Sandesh 1,01,52,000 नंबर उन्नीस

Patrika 96,23,000 नंबर बीस

इसे भी पढ़ें…

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code