IRS2017 : हे अखबार वालों, सुधर जाइए… दुनिया बहुत तेजी से डिजिटल हो रही है

Harsh Vardhan Tripathi : हिन्दी ही है हिन्दुस्तान… बाकी सब भ्रम है…  इस भ्रम को तोड़ना जरूरी है… देश के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबारों की सूची में 20 अखबारों में सिर्फ एक अंग्रेजी का अखबार है, टाइम्स ऑफ इंडिया। महानगरों में जिसे पढ़ते लगता है कि, सब यही अखबार पढ़ते हैं। और, हिन्दी ही है हिन्दुस्तान, जब मैं कह रहा हूं तो, इसका सीधा सा मतलब है, हर क्षेत्र की अपनी भाषा यानी हिन्दुस्तानी।

हिन्दी देश की सम्पर्क भाषा है और बड़े हिस्से में आसानी से बोली जाती है। लगभग हर जगह समझी जाती है। भारतीय भाषाओं का अपना जुड़ाव भी है। अंग्रेजी के साथ यह पूरी तरह से गायब होता है। इसका नतीजा होता है कि अंग्रेजी में पारंगत होता बच्चा अपनी भाषा सबसे पहले भूलता है। फिर हिन्दी हो, तमिल, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, मराठी, अवधी, भोजपुरी … लेकिन, अगर हिन्दी पढ़ रहा है तो, उसे अपनी मां वाली बोली जरूर याद रहती है।

1- दैनिक जागरण 7,03,77,000

2- हिन्दुस्तान 5,23,97,000

3- अमर उजाला 4,60,94,000

4- दैनिक भास्कर 4,51,05,000

5- दैनिक तांती 2,31,49,000

Manish Shandilya : आज कई अखबारों ने अपनी लोकप्रियता और बुलंदी का दावा किया है। ऐसा आप सब ने आईआरएस के आंकड़ों के हवाले से किया है। आप सबों को बधाई। आगे बढ़ते रहिए। दनदनाते रहिए।और आगे भी अपने खबरों में सही सोर्स बताइए, पूरे कॉन्टेक्स्ट के साथ। आप ये बताइये कि आप जो कह रहे हैं किसके हवाले से कह रहे हैं। साथ ही खबरों में सभी पक्ष बताइये। खबर चाहे किसी गांव-कस्बे की हो या आपके स्टेट-नेशनल ब्यूरो से निकली हो, आप अक्सर अलग-अलग कारणों से ऐसा करने से चुके हुए लगते हैं। नहीं तो दुनिया बहुत तेजी से डिजिटल हो रही है। और इसका असर आप बखूबी जानते हैं।

वरिष्ठ पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी और मनीष शांडिल्य की एफबी वॉल से.

#IRS2017

इन्हें भी पढ़ें…

xxx

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code