जामिया उर्दू अलीगढ़ में धांधली पर बड़ी कार्यवाही, योगी सरकार के निर्देश पर होगा 10 वर्षों का ऑडिट

अलीगढ । जामिया उर्दू पर लम्बे समय से अनियमितताओं और भर्ष्टाचार के आरोपों पर अब बड़ी कार्यवाही हुई है। जामिया उर्दू प्रबंधन द्वारा किये जा रहे भ्रष्टाचार और धांधली को देखते हुए रजिस्ट्रार फर्म्स, सोसाइटीज एवं चिट्स लखनऊ ने उपनिबंधक आगरा को पिछले 10 वर्षों का संस्था का ऑडिट कराने के आदेश दिए हैं। लखनऊ से शिकायतकर्ता डॉ मौ उस्मान की शिकायत पर हुई इस कार्यवाही से जामिया उर्दू में हडकंप मचा हुआ है। रिकार्ड्स को पूरा करने के लिए प्रबंधन में हलचल मची हुई है। आदेश की कॉपी जामिया उर्दू को मिलते ही उर्दू के नाम पर खेल कर रहे लोगों में हडकंप मचा हुआ है।

उपनिबंधक आगरा द्वारा जामिया उर्दू को ऑडिट कराने के लिए आदेश भेज दिए गए हैं। आदेश में शिकायतकर्ता मौ उस्मान द्वारा भ्रष्टाचार और अनियमितताओं की शिकायत का उल्लेख करते हुए स्पष्ट किया गया है कि रजिस्ट्रार को प्रतीत होता है कि संस्था में वित्तीय अनियमितताएं हैं। उपनिबंधक ने ऑडिट के लिए आगरा के चार्टेड अकाउंटेंट प्रियरंजन शर्मा को नियुक्त किया और पांच सप्ताह में पिछले 10 वर्षों की रिपोर्ट देने के आदेश दिए हैं।

जामिया उर्दू  में पिछले 10 वर्षों के ऑडिट के आदेश से हडकंप की स्थिति है। बताते चलें कि पिछले लम्बे समय से जामिया उर्दू में फर्जीवाड़े, भ्रष्टाचार और अनियमितताओं के आरोप लग रहे हैं। अब शिकायतकर्ता मौ उस्मान की शिकायत पर हुई इस बड़ी कार्यवाही से धांधली और भ्रष्टाचार का बड़ा पर्दाफाश खुलने की उम्मीद जगी है। जामिया उर्दू की सोसाइटी के सदस्य और शिकायतकर्ता मौ उस्मान ने कहा कि रजिस्ट्रार ने 10 वर्षों के ऑडिट के आदेश दिए हैं यह सराहनीय निर्णय है। जामिया उर्दू को फर्जी सोसाइटी चला रही है, उर्दू के नाम पर बड़ा खिलवाड़ कर घपला कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जामिया उर्दू की स्थापना उर्दू के प्रचार प्रसार के लिए हुई थी लेकिन अब फर्जी लोगो ने कब्ज़ा कर उसे धंधा बना लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि जामिया उर्दू के सचिव और प्रबंधन रातों को भी ऑफिस खुलवाकर फर्जी रिकॉर्ड बनवा रहे हैं, डीएम से मिलकर इसकी शिकायत करेंगे।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *