पंजाब में तो सरकार बन गई, बाकी राज्यों में क्या चल रहा है भाई?

Sheetal P Singh-

पाँच राज्यों के चुनाव के नतीजे दस मार्च को आ गये थे आज उन्नीस मार्च है। अभी सिर्फ़ पंजाब में सरकार गठित हुई है। बाक़ी चारों राज्यों में किसकी सरकार है?

पंजाब में भ्रष्टाचार ख़त्म करने के प्रयास के तौर पर २३ मार्च को वहाँ के मुख्यमंत्री एक ऐलान करने जा रहे हैं (मुझे नहीं मालूम कि इसका क्या नतीजा निकलेगा पर कोशिश तो की ), जबकि उत्तर प्रदेश समेत बाक़ी दलों द्वारा शासित राज्यों में भ्रष्टाचार पर कोई बात ही नहीं करता बस प्रचार ज़रूर कर देते हैं कि भ्रष्टाचार कम हुआ ।

शिक्षा के मामले में पंजाब पहले से बेहतर इन्फ़्रास्ट्रक्चर वाले राज्यों में से है पर सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत कुछ की ज़रूरत है। नशे की समस्या वहाँ सबसे प्रमुख है, देखते हैं कि भगवंत मान की सरकार वहाँ इस सिलसिले में क्या क्या करती है?

ताजी सूचना है कि पंजाब पहली कैबिनेट बैठक में आम आदमी पार्टी की भगवंत मान सरकार ने महीने भर के भीतर पच्चीस हज़ार नौकरियों के लिए अहर्ता जारी करने का ऐलान किया है।

उत्तराखंड में सरकार बनाए जाने की स्थिति ये है

Rajiv Nayan Bahuguna जी ने वर्तमान पत्रकारिता के नौनिहालों के लिए उत्तराखंड के राजनैतिक माहौल पर आज चलाने हेतु कुछ विषय चुने हैं । योग्य उपसंपादक इस पर दो तीन पैरे गढ़ ही सकते हैं । कुछ धुरंधर इसमें योग्यतानुसार नई संभावनाओं का निवेश कर सकते हैं…

ब्रेकिंग उत्तराखण्ड

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत बुलाये गए दिल्ली । बन सकते हैं अगले सीएम ।

इससे पहले कार्यवाहक पुष्कर सिंह धामी बुलवाए गए थे । उन पर भी चल रहा विचार ।

युवा सांसद अनिल बलूनी आला कमान की पहली पसंद ।

विधायकों में ही चुनना पड़े तो सतपाल महाराज के नाम पर लग चुली पहले ही मुहर ।

निशंक को लेकर मोदी , शाह दोनों गम्भीर ।

संघ की ज़िद पर झुक कर धन सिंह रावत का नाम फाइनल ।

हरीश रावत को हराने वाले …पर खेला आला कमान ने नया दांव।

तीरथ सिंह के नाम पर संघ ने मोदी – शाह को मनाया ।

महिला मतदाताओं को रिझाने वास्ते ऋतु खंडूरी को किया तय ।

प्रेमचंद अग्रवाल के दावे को आलाकमान ने गम्भीरता से लिया ।

मदन कौशिक पर सभी पर्यवेक्षक एकमत ।

वंशीधर भगत से पूछा – क्या सीएम बनाये जाने पर 2024 जीता देंगे ?

इनके अलावा अन्य की संभावना से भी इंकार नहीं।

मेरी दृष्टि में श्री पुष्कर सिंह धामी विधायक का चुनाव हारे हैं , मुख्यमंत्री का नहीं । अतः उन्हें मुख्यमंत्री बनाने में कोई रोड़ा नहीं ।
दूसरी ओर स्वामी श्री सतपाल महाराज एक आध्यात्मिक पुरुष हैं । उत्तरप्रदेश की तर्ज़ पर उत्तराखंड में भी एक संत को कमान सौंपना श्रेयष्कर रहेगा ।

साथ ही आयुष्मती रेखा आर्य जी महिला होने के साथ दलित भी हैं । बहन मायावती एडवोकेट को राष्ट्रपति बनने की मुहिम को उनके पदासीन होने से बल मिलेगा । जबकि ऋतु खंडूरी जी भले दलित न हों , पर सुशिक्षित हैं । मुझे उनके शुभ नाम पर क्योंकर आपत्ति होगी ।

माननीय मदन कौशिक साहब के पदारोहण से पहाड़ – मैदान का मिथक टूटेगा , जबकि श्रीयुत वंशीधर भगत टेढ़ी उंगली से घी निकालना जानते हैं ।

मुख़्तसर यह कि सभी माननीय दक्ष , सुयोग्य , सुजान एवं चतुर चपल हैं ।

भले ही मेरी स्वयं की पसन्द मेरे क्षेत्र घनसाली के माननीय शक्ति लाल जी हैं , जो घर आते जाते मेरे काम आएंगे , जैसा कि पहले आये हैं।


समर अनार्या-

चुनावों के नतीजे चारों राज्यों में साथ आए थे- 10 मार्च को। आज पंजाब में आप सरकार ने शपथ भी ले ली।

भाजपा अभी उत्तराखंड और गोवा में मुख्यमंत्री ढूँढ रही है, यूपी में मंत्री!

बाक़ी एक देश एक चुनाव से लेकर सुशासन तक के जुमले हैं ही!



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code