Paytm के IPO की लूट की जांच होनी चाहिए!

योगेश गर्ग-

Paytm के IPO की लूट की जांच होनी चाहिए। कैसे कोई कम्पनी को ओवररेटेड IPO की अनुमति मिल गई जबकि किसी भी सेक्टर में वह profit में भी नही थी।

परिसम्पतियों से 26 गुना वेल्यू किस आधार पर आंकी गई? रिटेल निवेशकों से एक झटके में करोड़ो रुपये लूट लिए गए।

इसमें न केवल विजय शेखर बल्कि बड़े स्तर पर सेबी के अधिकारियों की मिलीभगत की आशंका है।

Note: मुझे अनुमान था यही होगा इसलिए 1 रुपया भी paytm में निवेश नही किया।

चट्टान प्रताप सिंह-

My friends subscribed the IPO (max lots) solely based on the influencers’ advice and did no research.

When I asked why, they said, “Paytm is a big brand. It can become the next Tata any day.”

Here’s how today went:

  • 9:00 AM: As Paytm was about to list on the Stock Exchange, it was very obvious to everyone (who understand finance) that it was going down.
  • 9:30 AM: Out of FOMO, my overconfident friends placed more orders worth ₹2,00,000 in pre-listing to book quick profits.
  • 10:00 AM: Paytm’s listed at a discount of 10%
  • 10:02 AM: Worried folks placed more orders worth ₹4,00,000 to recover the lost amount
  • 10:05 AM: The price recovered a bit and showed little profits to my worried friends. They could have made an EXIT, but they didn’t (because greed!)
  • 11:00 AM: The stock further dived to 17%. Stupid people again placed orders worth ₹10,00,000 to recover all the losses incurred in one go.
  • 11:15 AM: Prices recovered a bit. They could have sold everything and left with little loss (but no, again GREED!)
  • 12:50 PM: Again the stock showed temporary recovery (they again didn’t sell because they thought it was finally going to RALLY) 🙂
  • 2:00 PM: The stock was trembling and it was obvious that a crash was awaiting. They still didn’t sell because someone on Twitter told them it’s gonna recover in the long term.
  • 3:30 PM: The market closed and Paytm lost nearly 1/3 market cap in just 5 hours. And my friends? They didn’t only lose their life savings, they are now on road.

The friends in this story are none other the gullible small investors who always fall for influencers.

They didn’t need a degree in Economics, if they thought for a moment with logic and reasoning, the end picture would have been super obvious to them.

But no, who listens to me these days?

Invest wisely.


इसे भी पढ़ें-

https://www.bhadas4media.com/paytm-ne-lutwa-diya/

https://www.bhadas4media.com/paytm-share-girawat-jari/

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करेंBhadasi Whatsapp Group

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करने के लिए संपर्क करें- Whatsapp 7678515849



Comments on “Paytm के IPO की लूट की जांच होनी चाहिए!

  • sandeep mathur says:

    calling someone who trades actively in the market an investor “is like calling someone who repeatedly engages in one-night stands a romantic.
    Warren Buffet.
    No one cried when stocks tripled/doubled on listing.

    Reply
  • Maine fist time ipo liya bt paytm ne aisa lutta ki ab dusre ipo mai paisa lgane ka mn nhi krata hai…… Abto ipo share market juaa ka adda lagta hai na ki investment ka……. Loss company hai or humare paise se he vo apna loss pura krna cha rahi thi….. Hum logo ko paytm use nhi krna chaiye ye dhokha kbi v de skti es liye mai aaj se paytm ka kuch v aap use nhi kruga byy byy paytm tumhara naam nisan mitt jaye…. .. M.. C… Paytm. F….. U…

    Reply
  • It was totally cheat, plenned and executed on very high level. I almost lost a bug saving of my life. I was feeling like a fool end of the day. Someone took my hard money, so easily.

    Demanding inquiry on this scame.

    Reply
  • कभी किसी ने नहीं सोचा होगा कि इस तरह 27.4% इश्यू प्राइसेज से नीचे जाएगा. इतने बड़े ब्रांड नाम और शेयर का बुरा हाल. सच में जांच का विषय हैं.

    Reply
  • Sebi must check the paytm loot, how these people can take so much of premium. Do these companies are trying to fool the investor’s, please check and do take the action to paytm

    Reply
  • It seems to get out from share market
    It seems to curruptiin in share market
    It seems to curruption in indian share market

    Good bye share market
    MADAN Lal

    Reply
  • पूरी दुनिया के सामने खुले आम चूतिया बनाया है लेकिन कोई भी आगे नही आयगा क्यो की सबको घुस मिली है ना बोलने की

    Reply
  • Mukesh Mehta says:

    Paytm लंबे समय से बड़े घाटे में, कंपनी के पास कोई बड़ा asset नहीं….. रही सही Goodwill पर भी भारी चोट……कंपनी को किसी ट्रांजेक्शन्स पर कोई profit या charges नहीं …केवल महंगे किराये के अनावश्यक offices और employees……सरकार जवाब दे…. इतनी वेल्यूएशन देकर जनता को क्यों लूटा?…… पहले दिन इतनी ज्यादा गिरती कीमत पर किसने कितने शेयर कितनी कीमत पर बेचे…. जांच आवश्यक..

    Reply
  • Hame first time IPO mila hame yakin nhi hota hai Paytm ka IPO 2150/- me leker 1495/- me 2nd day sell krna parega SEBI or Paytm ne Share Market ka majak bna diya. Bina SEBI ke milibhagat ka itna bra loot sambhav nhi ye to licancy loot hai jiska koyi ilaaz nhi hai.

    Reply
  • Mahendra Kumar sethia says:

    SEBI के साथ इनसे संबंधित channels की भी मिली भगत है। पिछले छः महीनों से IPO बाजार में जो भी शेयर आ रहे है। ऐसा लगता है कि SEBI को Retails Investors से कोई लेना देना नही है। ये SEBI वाले Loss Making कंपनी के bid issue price इतने high rate में कैसे पास कर रहे है कुछ समझ नही आ रहा है।

    एक तरफ तो ये कहते है “सोच कर, समझ कर, निवेश कर” और दूसरी तरफ यही निवेशकों के पैसों को डुबाने की पूरी व्यवस्था कर रहे है। 1,2,5 रुपये की face value के शेयर को किस आधार पर 500, 700, 1000, 2000 के bid price पर ये पास कर रहे है वो ये ही जान सकते हैं।

    इनके साथ ये शेयर मार्केट के चैनल वाले भी इन loss making कंपनियों में निवेश करने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोलते है और निवेशकों के पैसों को डुबाने की पुरजोर कोशिश करते है।

    IPO की इस भीड़ में चंद अच्छी कंपनियों के शेयर से भले ही निवेशकों को कुछ अच्छा RETURN मिल जाता हो, मगर ज्यादातर IPO की लिस्टिंग पर नुकसान ही होता है। अगर एक अच्छे IPO में ALLOTMENT आ भी जाय तो उसका मुनाफा बाकी दूसरे IPO से नुकसान की भरपाई में ही पूरा हो जाता है बल्कि बचत के पैसों से ही कुछ निकल जाता है।

    पिछले छः महीनों में किसी भी निवेशक को अगर दो – चार ALLOTMENT अच्छी कंपनी के मिले हो और कुछ मुनाफा कमाया हो तो वो बाकी सात – आठ कंपनियों के allotmenent में जाम हो गया जिनकी listing issue price से नीचे में हुई हो।

    पहले IPO आते थे जिनकी FACE VALUE और ISSUE प्राइस दस रुपये का हुआ करती थी और INVESTOR को 100 शेयर की APPLICATION पर 1000/- रुपये ही भरने पड़ते थे। कभी कभार ही कोई share पर premium होता था जो कि 1,2,5,10 रुपये तक ही सीमित होता था और 25/50/100 % premium पर listing भी होता था। इनमे से अगर कोई share थोड़ा कम प्राइस में भी listing होता था तो वो नुकसान भी सहन करने लायक रहता था। 200 / 400 रुपये का नुकसान होता था जो सहन हो भी जाता था।

    मगर अब वो ज़माना नही रहा। अब ज़्यादातर IPO की FACE VALUE 1, 2, 5 रुपए होती है और वो IPO भारी भरकम PREMIUM पर SEBI की रजामंदी या मिलीभगत से निवेश के लिए शेयर मार्केट में आती है और TV Channel की मिलिभगत से वो इन्हें बढ़ा चढ़ा कर बहुत अच्छा बताएंगे और सैंकड़ो / हज़ारों करोड़ के नुकसान वाली companies भी भारी भरकम premium पर अपने share issue करती है और लाखों करोड़ की company बन जाती है।

    भविष्य में ये companies SEBI की मेहरबानी से या तो हमारा पैसे ले कर गायब हो जाएगी या फिर NCLT या BIFR में चली जायेगी जिसका हमे पता ही नही चलेगा।

    अभी Minimum 14000 / 15000 रुपये की appliacation पर 10 / 20 / 25 शेयर मिलते है और अगर कोई company का शेयर issue price से कम पर लिस्ट हो तो 1500 से 5000 का नुकसान भी सहन करना पड़ता है। एक बात और गौर करने लायक यह भी है कि सभी companies के circular, Notice, agenda इत्यादि ज्यादातर investor की समझ के बाहर की भाषा English में होते हैं जो कि SEBI खुद भी पूरा चेक नही करती होगी।

    SEBI ये समझती है कि English तो हर कोई को समझ मे आती होगी। इसलिये SEBI ये सब कभी भी HINDI भाषा मे उपलब्ध नही कराती। अगर HINDI भाषा में ये सब SEBI उपलब्ध करा देगी तो Investor को सब समझ आ जायेगा और इनकी पोल खुल जाएगी और वो investor बेवकूफ नही बनेगा।

    इसलिए समझने वाली बात ये है कि समय रहते हम अगर नही समझे तो नुकसान हम Retail investor को ही होना है। पैसा हम retail investor का ही डूबना है।

    महेंद्र कुमार सेठिया

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *