रवीश कुमार बता रहे हैं, राजदीप के साथ क्या हुआ!

रवीश कुमार-

गोदी मीडिया की ग़ुलामी से बाहर आएँ, समझें कि राजदीप के साथ क्या हुआ

“ग़ुलाम मीडिया के रहते कोई मुल्क आज़ाद नहीं होता। गोदी मीडिया से आज़ादी ही नई आज़ादी लाएगी”

मेरी यह बात लिख कर पर्स में रख लें। गाँव और स्कूल की दीवारों से लेकर बस, ट्रैक्टर और ट्रक के पीछे भी लिख कर रख लें। इसका मीम बना कर लाखों लोगों में बाँट दें। मेरी राय में सच्चा हिन्दुस्तानी वही है जो गोदी मीडिया का ग़ुलाम नहीं है। गोदी मीडिया के ज़रिए जनता को राजनैतिक रूप से ग़ुलाम बनाया जा रहा है। यह उसी ग़ुलामी का चरम है कि जनता का एक बड़ा हिस्सा उन किसानों को आतंकवादी कहने लगा है जिन्हें अन्नदाता कहते नहीं थकता था। इसकी ताक़त ईस्ट इंडिया कंपनी और ब्रिटिश हुकूमत से भी दस गुना है। गोदी मीडिया ने पाँच साल में ही जनता को ग़ुलाम बना दिया है।

आप पूछेंगे कैसे? गोदी मीडिया ने जनता को सूचनाविहीन कर दिया है। सूचनाविहीन जनता ग़ुलाम ही होती है। गोदी मीडिया सरकार से सवाल नहीं करता है। सरकार की तरफ़ से जनता के बीच काम करने वाला नया लठैत है। यह सरकार की सरकार है। इसे पुलिस से लेकर तमाम एजेंसियों का सहारा मिलता है। इसका काम है सही सूचनाओं को आप तक नहीं पहुँचने देना। सूचनाओं का पता नहीं लगाना। इसकी जगह झूठ फैलाना। फेक न्यूज़ फैलाना और आपके भीतर लगातार धारणाओं का निर्माण करना। सूचना और धारणा के बीच बहुत फ़र्क़ होता है। गोदी मीडिया सूचना की जगह धारणाएँ बनाता है जैसे किसान आतंकवादी हैं और कोरोना तब्लीग जमात से फैला है। यह जिस तरह से अल्पसंख्यक का शिकार करता है उसी तरह से बहुसंख्यक के उस हिस्से का भी करता है जो हक की लड़ाई लड़ते हैं। जो सरकार से सवाल करते हैं ।

कई सौ चैनल, हिन्दी के अख़बार और आई टी सेल का खेल एक है। जनता तक वैसी सूचना मत पहुँचने दो जिससे वह सतर्क हो जाए। सवाल करने लगे। उसे झाँसे में रखो। आज देश में भयंकर बेरोज़गारी है। सैंकड़ों आंदोलन के बाद भी भर्ती परीक्षा की हालत ठीक नहीं है। गोदी मीडिया ने इस मुद्दे को ख़त्म कर दिया। इसकी जगह लगातार लोगों को एक धर्म के नाम पर डराता रहा और एक झुंड को धर्म का रक्षक बना कर पेश करता रहा। गोदी मीडिया ने बेरोजगार नौजवानों को भी सांप्रदायिक बनाया है। धर्मांध बनाया है। पूरा प्रोजेक्ट ऐसा है कि जनता एक धर्म से नफ़रत करती रहे और सवाल करने के लायक़ न रहे।इसलिए लगातार धारणाओं की सप्लाई की जाती है। सूचनाओं की नहीं।

जैसे अंग्रेज सूचनाओं को पहुँचने से रोकते थे। पत्रकारों को जेल भेजते थे। उसी तरह से आज हो रहा है। सूचना लाने वाला पत्रकार जेल में है। उसके ख़िलाफ़ मुक़दमे हो रहे हैं। आई टी सेल ऐसे पत्रकारों को बदनाम करता है ताकि उसके झाँसे में आकर जनता या उनका झुंड पत्रकार पर हमला कर दे। अंग्रेज़ी हुकूमत प्रेस का गला घोंटती थी। आज की सत्ता गोदी मीडिया के ज़रिए प्रेस और जनता का गला घोंटती है। आप मेरी बात लिख कर रख लें। या तो भारत की जनता अगले सौ साल के लिए ग़ुलाम हो जाएगी या अपनी आज़ादी और स्वाभिमान के लिए गोदी मीडिया के प्रभाव से बाहर आने की अहिंसक और वैचारिक लड़ाई लड़ेगी। नहीं लड़ेगी तो उसकी क़िस्मत। ग़ुलामी तो ही है।

राजदीप सरदेसाई के साथ हुआ उसे इसी संदर्भ में देखें। गोदी मीडिया के बाक़ी एंकर लगातार झूठ और सूचनाविहीन धारणाएँ फैलाते हैं उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं होती है। कभी माफ़ी नहीं माँगते। तब्लीग जमात के कवरेज को लेकर सुप्रीम कोर्ट और बांबे हाईकोर्ट की टिप्पणी पढ़िए। गोदी मीडिया ने कितना ख़तरनाक खेल खेला। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं । कोई अफ़सोस नहीं कि भूल हुई है।

प्रेस के काम में गलती होती है। तरीक़ा है कि आप सफ़ाई दें और अफ़सोस ज़ाहिर करें। राजदीप से जो हुआ वह गलती थी। जो दोबारा नहीं दोहराई गई। तब्लीग, सुशांत सिंह राजपूत के केस में जो हुआ वो प्रोपेगैंडा था। क्योंकि एक दिन नहीं कई हफ़्ते चला। दोनों में अंतर है। लेकिन राजदीप की सैलरी बंद कर दी गई। एंकरिंग से हटा दिया गया। अब FIR की जा रही है। क्या आप इस खेल को समझ पा रहे हैं?

किसी भी घटना में कई तरह के दावे होते है। उन दावों की रिपोर्टिंग अपराध है? सोच समझ कर पेश करनी चाहिए लेकिन राजदीप ने पुलिस का भी मत दिया था। राजदीप ने इन दानों को लेकर महीनों कार्यक्रम नहीं चलाया जो गोदी मीडिया करता है और जहां वे काम करते हैं वो भी गोदी मीडिया ही है। संदेश साफ है अब सिर्फ़ पुलिस जो कहेगी वही रिपोर्ट करना होगा वर्ना FiR होगी। इसे ग़ुलामी नहीं तो और क्या कहते हैं?

न्यूज़लौंड्री के आयुष तिवारी का लेख पढ़िए। आपको खेल समझ आ जाएगा। आपको ग़ुलामी दिख जाएगी । आज पत्रकारों के लिए नौकरी असंभव हो चुकी है। एक ही रास्ता है। चुप रहो। समझौता करो लेकिन कहाँ तक। इसलिए गोदी बनो। वरना बाहर का रास्ता खुला है ।

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करेंBhadasi Whatsapp Group

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करने के लिए संपर्क करें- Whatsapp 7678515849



Comments on “रवीश कुमार बता रहे हैं, राजदीप के साथ क्या हुआ!

  • Bhavi menaria says:

    गांधी मीडिया से गोदी मीडिया बेहतर है, कम से कम घोटाले और अपने भाई भतीजों को टिकट बांटने का काम तो नहीं है। पत्रकार करोड़पति हो गए। बंगलों फैक्ट्रियों के मालिक हो गए।

    Reply
  • Ajai Singh Bhadauria, Fatehpur says:

    राजदीप सरदेसाई जी जैसे मुखर पत्रकार को ऐसे संस्थान को लात मार देना चाहिए। काम करने के और भी तरीके हैं, जहां सम्मान के साथ जनहित में पत्रकारिता की जा सकती है जो गुलाम पत्रकारिता से लाख गुना बेहतर होगी।

    Reply
  • प्रबल says:

    वाकई में बहुत तर्क पूर्ण और सत्य बात…. अरे भैया मुझे सरकार या मोदी विरोधी मत समझ लेना। बस इतना जान लो कि विधायक 10 आदमियों की बात सुन ले यो अखबारों में छपता है जनता दर्शन। विधायक की सराहना की जाती है। आखिर ये क्यों नहीं समझते कि यह तो उसकी बहुत सामान्य सी ड्यूटी है। गुस्ताखी माफ हुजूर

    Reply
  • Rajdeep did a mistake or was it intentionally it can not be determine, but it is obvious that, without verifying the truth he was too eager to spread this message which was found fake later. If the Delhi Police had not got the CCTV footage due to any reason than a very wrong message would have spread. If some channels are GODI media than what is this ANTI MODI journalism? in absence of CCTV footage they would not be agreed in any condition that it was not done by Delhi Police. What type of Journalism it is?
    Matlab agar trap hone ki noubat aa gai to Galti ho gayi..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *