कथित रिपोर्टर ने गाड़ियां बेचने के नाम पर बीस लाख हड़पे

झांसी। नवाबाद थाने में गाड़ियां बेचने के नाम पर बीस लाख रुपये हड़पने पर एक दंपति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस को दी गई तहरीर में नई दिल्ली निवासी सैय्यद अरशद ने बताया कि कोतवाली थाना क्षेत्र के दतिया गेट निवासी इमरान मलिक अपनी पत्नी के साथ दिल्ली के जामिया नगर में अपने चाचा के पास रहता था। वहां पति- पत्नी पुरानी गाड़ियों को खरीदने व बेचने का काम करते थे। वह उनके संपर्क में आ गया। उसने दंपति से चार लाख कीमत पर दो मारुति डिजाइर कार खरीद ली, मगर दोनों गाड़ियां उसे ट्रांसफर नहीं की गई।

इसके बाद उसने दो फोरचूनर व एक फोर्ड गाड़ी का सौदा साढ़े पंद्रह लाख रुपये में कर लिया। दंपति ने यह कहकर उनसे पूरा पैसा ले लिया कि उन्हें किसी काम से झांसी जाना है, लौटकर गाड़ियां दे देंगे, मगर वह झांसी से लौटकर नहीं आए तो उन्होंने दंपति से संपर्क किया। दंपति ने यह कहकर झांसी बुलाया कि उन्हें पचास हजार रुपये की आवश्यकता है। वह झांसी आया और उन्होंने नवाबाद क्षेत्र में दंपति को पैसा दे दिया। इस बार फिर उनसे दिल्ली में गाड़ी देने की बात कही गई। इसके बाद से उनका दंपति से संपर्क नहीं हो पा रहा है। पुलिस ने दंपति के खिलाफ अमानत में खयानत का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

कोतवाली थाना क्षेत्र के दतिया गेट निवासी इमरान मलिक, जो खुद को रिपोर्टर बताता है, ने पहले भी झाँसी में कई लोगो को अपनी ठगी का शिकार बना चुका है। गाड़िया बिकवाने के नाम पर लाखों रुपये का चूना लगा चुका है। अपने आप को पत्रकार बताने वाला इमरान मलिक मीडिया की धमकी देकर लोगों को धमकाता रहा और जहां बस नहीं चला वहां परिवार की महिलाओं को पुलिस और जिला अधिकारी के पास भेज कर ज्ञापन दिलवा देता और कहला देता कि सूदखोर उसको परेशान कर रहे हैं। कई लोगों को तो अपने नवजात बच्चे की बीमारी का हवाला देखर ठगी की। कई लोगों ने जब उसकी तलाश और वसूली की कोशिश की तो इमरान मलिक झाँसी छोड़ कर कुछ महीनों के लिए अपने चाचा के पास दिल्ली चला गया और वहां भी कई लोगों को अपना शिकार बनाया। अपने सहयोगी तथाकथित हिस्ट्रीशीटर पत्रकार जो अपने आप को दो न्यूज चैनलों का पत्रकार बताता है, उसके साथ एसएसपी से भी मिला और न्यूज़ चैनल का दबाव बनाया।

झांसी से आशीष कुमार की रिपोर्ट.



 

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक करें- BWG-1

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “कथित रिपोर्टर ने गाड़ियां बेचने के नाम पर बीस लाख हड़पे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code