क्या ‘रिपब्लिक टीवी’ अब ‘रिपल्सिव टीवी’ हो गया है?

SANJAY HEGDE @sanjayuvacha I only feel sad for #RepulsiveTV reporters, who get rejected all the time. In years to come they will hide on their resumes, any evidence of having worked there

Raymond Albert @raalferns The reporters should now realise that they are repulsive to most people. And will be probably out if jobs. Infact, for all the hatred spewed by Arnab, he should have been in jail for crimes against the peace loving people. ‘The country wants to know why he is still free

Tanttu @TanttuG In future there may be strict condition In recruitment advertisement ” people working with Republic TV need not apply”.

Nitin Thakur : ‘भारत’ शब्द का जितना इस्तेमाल अर्नब बाबू ने अपने नए हिंदी चैनल में किया है उतना तो खुद भारत सरकार नहीं करती!

Anil Pandey : अर्णव का चैनल बार बार पश्चिम बंगाल में योगी को चुनावी रैली नहीं करने दिया जा रहा है बोल रहा है तो सोच रहा था कि चुनाव घोषित अभी नहीं हुआ है तो चुनावी रैली कैसे हो गई? और वो चुनावी रैली की रट लगाए हुए। सारे बौड़म भर्ती कर रखा है।

Nahid Fatma : रात R रिपब्लिक न्यूज चैनल ने सूबे के मुख्यमंत्री को कोलकाता की खबर पर इस तरह जोड़ रखा था जैसे ज़िले के स्ट्रिंगर या रिपोर्टर को जोड़ लेते हैं… बहुत हैरत हुई.. या तो चैनल बहुत बड़ा है या फिर घर का है…

Pratap Singh : BIG BOSS अर्नब गोस्वामी जी के साथ… नए जोश और जुनून के साथ हम लिखेंगे इतिहास… जिस प्रकार अंग्रेजी में रिपब्लिक टीवी ने अंग्रेजी में नंबर 1 मुकाम हासिल किया है उसी प्रकार हम हिंदी में रिपब्लिक भारत का नंबर का मैसेज करें जब से चैनल लांच हुआ है तब से लेकर अब तक ऐसी खबरें ब्रेक की है जो किसी भी चैनल ने नहीं की… R. भारत आपको हिंदुस्तान के हर केबल नेटवर्क और हर d2h पर देखने को मिलेगा…. एक बार जरूर देखें..

Faisal Khan रिपब्लिक चैनल 3 दिन से देखकर महसूस हुवा की ये ज़ी और सुदर्शन को भी बहुत जल्द पीछे छोड़ देगा…

Asif Khan बीजेपी का एक सांसद राजीव चंद्रशेखर इसका मालिक है

Anwer Jamal बीजेपी ने पैसा बहुत इकट्ठा किया है और पिछले 5 साल में अब प्रचार के रूप में ऐसे चैनल खड़े करना स्वभाविक है।

Narendra Parihar देखा मत करिये यह चैनल… चिल्लाना /झल्लाना देख के आपको रोग लग जायेंगे…

सौजन्य : सोशल मीडिया

amausa ka mela 'कुंभ 2019' के दृश्य और 'कुंभ 1989' की कैलाश गौतम की कविता… अमउसा का मेला

amausa ka mela… 'कुंभ 2019' के दृश्य और 'कुंभ 1989' की कैलाश गौतम की कविता… अमउसा का मेला.. भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह अपनी घुमक्कड़ी के क्रम में बुलेट से खजुराहो गए फिर वहां से खुली जिप्सी से पन्ना पहुंचे. उसके बाद सतना से ट्रेन पकड़ कुंभ मेले में घुस गए. जाने माने कवि कैलाश गौतम ने कुंभ पर जो कविता रच दिया, उसे सुने-समझ बगैर आप कुंभ को इंज्वाय नहीं कर सकते. तो देखें यशवंत के बनाए इस कुंभ के कुछ वीडियो और साथ-साथ सुनें कैलाश गौतम की कविता…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಮಂಗಳವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 5, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *