सुब्रत राय अपनी जगह एकदम सही थे, इसीलिए वो भारत छोड़ के भागे नहीं!

~सिद्धार्थ ताबिश

सहारा इंडिया के मालिक सुब्रत राय को क्रांतिकारियों ने चोर साबित करके जेल भिजवा दिया.. उनके ऊपर इल्ज़ाम ये लगाया कि गरीबों का पैसा लूट रहे हैं.. मगर क्या आप जानते हैं कि सहारा में पैसा लूटा किसने?

साहारा ने एक स्कीम शुरू की थी जिसमें ग़रीब से ग़रीब आदमी अपनी रोज़ की छोटी छोटी सेविंग जमा करवा सकता था.. उस पैसे को जमा करने के लिए हर शहर में सैकड़ों एजेंट थे.. वो सब आम मध्यम वर्गीय परिवार के एजेंट थे.. और इन एजेंटों ने किया क्या? ग़रीब लोगों से पैसे लिए और उन्हें फ़र्ज़ी रसीदें दिए और सारा पैसा अपने पास रख लिया और एक भी सहारा में जमा नहीं किया.. उत्तर भारत के हर शहर में आपको ऐसे लोग मिलेंगे जिन्होंने अपने रिश्तेदारों, मोहल्ले वालों और गरीबों का पैसा खा लिया.. भतीजा अपने चाचा चाची का पैसा खा गया और बेटा अपने बाप का.. ये बोल के कि आपका पैसा मैं सहारा में जमा कर रहा हूँ

ये पूरा घोटाला मध्यम और निम्न वर्गीय परिवार के लोगों का था.. जाली रसीद छपवा के उन्होंने ये किया.. और फिर एक क्रांतिकारी “पत्रकार” सुब्रत राय के पीछे पड़ गया और उसे जेल भिजवा दिया.. इस दो टके के दलाल पत्रकार को इस बात से कोई मतलब ही नहीं था कि ढाई से तीन लाख लोग जो सहारा में नौकरी कर रहे हैं उनके भविष्य का क्या होगा.. उसने इसका कैलकुलेशन ही नहीं किया, उसे बस अपनी क्रांति चमकानी थी गरीबों की मदद के नाम पर.. जो पैसा उसी ग़रीब का रिश्तेदार, दोस्त और मुहल्ले वाला लूट के बैठा था वो पैसा वो सुब्रत राय को चोर बना के मांग रहा था

और फिर यही हुवा, जब मामला खुलने लगा तो पता चला कि फ़र्ज़ी रसीदों के साथ मध्यम और निम्न वर्ग के एजेंटों ने कितना बड़ा घोटाला कर रखा है.. हज़ारों करोड़ का घोटाला था वो जिसे अब सुब्रत राय को देना था.. और सुब्रत राय अपनी जगह एकदम सही थे, इसी लिए वो भारत छोड़ के भागे नहीं.. मगर वो ये नहीं जानते थे कि ये ये दो कौड़ी के क्रांतिकारी कितने शातिर होते हैं.. इन लोगों ने दुनिया भर का केस लगा कर उनको अंदर करवा दिया.. गरीबों के पैसा उन्ही के लोगों ने लूटा और सुब्रत राय को जेल हो गयी.. एक मध्यम वर्ग का एजेंट जेल नहीं गया.. सब पाक साफ़ बने सुब्रत राय को पत्रकारों और क्रांतिकारियों के साथ मिलकर गाली दे रहे थे

सुब्रत राय ऐसे लोग अगर चाह जाएं तो उस पत्रकार का नामों निशान नहीं मिलता किसी को.. यहां एक बीड़ी के लिए क़त्ल हो जाता है तो ऐसे लोगों को रास्ते से हटाना कौन बड़ी बात थी? मगर सुब्रत राय जानते थे कि वो सच्चे हैं और उन्हें अपनी ईमानदारी पर भरोसा था.. इसीलिए न वो विदेश भागे और न ही कुछ किया

सहारा के इस कांड का असर समाज के आम लोगों पर कितने बड़े पैमाने पर हुवा इसका आकलन न तो किसी NGO ने किया और न ही किसी क्रांतिकारी ने.. अभी तक मैं ऐसे लोगों से मिल रहा हूँ जिनका हंसता खेलता परिवार बिखर गया.. वो सब बहुत अच्छी और संपन्न ज़िन्दगी जी रहे थे सहारा इंडिया में जॉब करके और एकदम से सब ख़त्म हो गया.. लोग पूरी तरह से बर्बाद हो गए और अभी तक संभल नहीं पाए हैं

घोटाला किसने किया.. जेल कौन गया.. सज़ा किसे मिली.. बर्बाद कितने लोग हुवे इसका किसी ने कोई हिसाब नहीं लगाया.. बस दो चार क्रांतिकारियों को चुल मची थी, उनकी चुल शांत हो गयी और फिर वो झोला समेट के दूसरे किसी “चोर” व्यापारी को “मुर्दाबाद मुर्दाबाद” करने निकल गए

फ़ेसबुक और आम ज़िन्दगी के क्रांतिकारियों को परखिये और उनसे बचिए.. जिनके अभी दाढ़ी मूछ नहीं आयी हैं वो आपको आ कर बिज़नेस समझाते हैं कि अम्बानी वहां इतना लूट रहा है और ये कर रहा है.. ऐसे ही सुब्रत राय को भी सब बताते थे.. उसका धंधा बन्द करवा के लाखों को बेरोज़गार करके अब सब चैन से बैठ गए

इन क्रन्तिकारियों ने अपनी पूरी उम्र “एक” इंसान को रोज़गार नहीं दिया होता है.. मगर किसी का कोई बिज़नेस सेट हो जाय और वहां लोग रोज़गार पाने लगेंगे, तो ये वहां जा कर, बीच मे कूदकर, बस ये बताएंगे कि कौन किसका खून चूस रहा है और क्रांति करवाएंगे

यहां लखनऊ में हमारे ग्रुप में एक लड़का था 18 साल का जो हर दूसरे दिन मेरे कपड़े और गाड़ी पर कमेंट करता था और कहता था कि “ये सब आपने गरीबों को लूट के बनाया है”.. मैं मुस्कुरा देता था क्योंकि मैं जानता था कि उसका जो गुरु है वो दिन रात यही सब उसे सिखाता है इसलिए उसके लिए बुसिनेस करना मतलब दूसरों को लूटना होता है.. ऐसे ही फ़ेसबुक पर नौजवान इन्हीं कुंठित क्रांतिकारियों से यही सब सीख कर दिन रात व्यापारियों और संपन्न लोगों को गालियां निकालते हैं और किसानों, मजदूरों, गरीबों की जय जय कार करते हैं.. और इन्हें पर्दे के पीछे का कोई सच पता नहीं होता है.

आप लोग सामझ ही नहीं पा रहे हैं कि मामला कहाँ फंसा है.. कंपनी चल रही होती तो सबके पैसे निकलते.. अब किसी का नहीं मिलेगा.. क्योंकि आप जैसों की बिज़नेस समझ ये कहती है आपसे कि आपने जो पैसा सहारा में जमा किया था वो सुब्रत राय अपनी तकिए के नीचे रख के सोते थे.. अब आप मांग रहे हैं तो उन्हें उसे तकिए के नीचे से निकालकर वापस कर देना चाहिए.

क्या आप जानते हैं कि करंट एकाउंट यानि कंपनी के खाते में अगर आपके पास दस करोड़ रुपये भी दस साल तक पड़े रहेंगे तो बैंक आपको उस पर एक रुपये का भी ब्याज नहीं देता है? इसीलिए सहारा ऐसी बड़ी कंपनीज़ इन्वेस्ट करती हैं पैसे ताकि उनसे कमा के आपको ज़्यादा रकम ब्याज के साथ लौटाई जा सके.. कंपनी उसे अपने एकाउंट में रखे बैठी रहे तो आपने जितना जमा किया होगा वो भी लौटाने में कंपनी दिवालिया हो जाएगी.

इस वजह से एक कंपनी के अंडर में पचासों तरह की अलग अलग कंपनी लोग बनाते हैं ताकि अगर एक कंपनी में कोई इशू आये तो सारा पैसा न फंसे.. ये बड़ी कंपनियां पैसे को इधर उधर इन्वेस्ट करती हैं.. ज़ाहिर है इसमें कुछ लीगल तरीक़ा होता है कुछ इल्लीगल.. आप किसी भी बड़ी कंपनी को उठा लीजिए, सब आपको ये करते मिलेंगे.. मगर ये बातें सिर्फ़ तब सामने आती हैं जब आप पर कोई केस हो जाता है तब मीडिया आपको बताएगा कि ओह हो, सहारा ऐसे 200 कंपनियां बना के आपके पैसे को लूट रहा था.. और आप इनमें से किसी एक मीडिया हाउस उठा लीजिए, ये भी बीस कंपनियां अलग अलग नाम से बना के पैसा इधर उधर लगाए रहते हैं मगर आपको सुब्रत राय के चोर होने का सबूत देंगे.

जैसे अगर आप एक्सीडेंट कर दें तो पुलिस आप पर ऐसी ऐसी धाराएं लगा देगी जो आपने कभी सोचा भी न होगा.. तब आपसे कोई पूछेगा कि “वाह आप तो बड़े शातिर ड्राइवर थे, आप के गाड़ी का इंडिकेटर नहीं काम कर रहा था, आपकी कांच पर टिंट ग्लास था, आपका बम्पर आगे निकला हुवा था, और आप गाड़ी चला रहे थे, आप तो बहुत बड़े चोर थे”.. तब आपको समझ आएगा कि केस कैसे बनाये जाते हैं आप पर, क्योंकि अब आपको कोर्ट में घेरना है.

इसलिए अब मत चिल्लाईये कि आपका पैसा सहारा में जो जमा है वो मिल नहीं रहा है.. ये उन पत्रकार साहब से पूछिए जिन्होंने सहारा को कोर्ट में खींचकर उसके सारे एकाउंट्स फ़्रीज़ करवा दिए हैं, सारे टर्न ओवर बन्द करवा दिए हैं और सारी कंपनी का सिस्टम तोड़ के रख दिया है.. उनसे कहिए क्रांति करें और निकाल ले पैसा अब.. सहारा ने जहां जहां इन्वेस्ट कर रखा था वो सब अब बेकार हो चुका है.. इन्वेस्टर अब return नहीं दे रहा है कोई क्योंकि अब सब सबके ऊपर कोर्ट की तलवार लटक रही है.

यही मैंने लिखा था पिछली पोस्ट में.. कि कितना बड़ा ब्लंडर किया था क्रन्तिकारियों ने सहारा पर केस करके.. भविष्य में जिन्हें पैसे मिलने थे, उन्हें आराम से मिल जाते..मगर अब एक भी रुपया नहीं मिलेगा.. अब आप चाहें सुब्रत राय को गाली दें या किसी और को.. अब कोई टर्न ओवर ही नही बचा, सारे इन्वेस्टमेंट सब बेकार हो चुके हैं.. आप लड़ते रहिए और उन पत्रकार महोदय को बोलिये कि आपको पैसे दिलवाएं अब.

बेबाक़ टिप्पणीकार सिद्धार्थ ताबिश की fb वॉल से.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “सुब्रत राय अपनी जगह एकदम सही थे, इसीलिए वो भारत छोड़ के भागे नहीं!

    • Noushad ali says:

      क्या आपको पता है सुब्रत रॉय भारत छोड़कर क्यों नही भागा, क्योंकि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने उनका पासपोर्ट पहले ही जब्त कर लिया
      इसकी पत्नी और बच्चे पहले ही मेकोडुंया कि नागरिकता लिए है

      Reply
    • Rakesh soni says:

      मिस्टर आप अभी नए हो और अपने बाप से कंपनी की जानकारी हासिल करो फिर बहस करने के लिए मैदान में उतरो। और जब जानकारी मिल जाए तो निर्दोष गरीब वर्कर के साथ डिबेट करना तो आपके असली बाप के पाप की सच्चाई मालूम पड़ेगी । आपने डिबेट करने का एक मौका ( 28 मई का ) गवा चुके हो आशा है दूसरा मौका नहीं छोड़ेंगे । कानून मे देर है अंधेर नही उसी प्रकार ईश्वर के घर देर है अंधेर नही । ये जानकारी होगी या फिर अनपढ़/नास्तिक होगे

      Reply
    • सुब्रत राय एक महा आत्मा का नाम है
      चुतिया लोग तो महात्मा गॉंधी को भी गाली दिये
      भगवान राम को भी बनवास झेलना पड़ा
      45 साल तक लाखों लोगों का भरण पोषण करने वाले इस महापुरुष को सलाम।
      जो इसका ही नमक खा कर नमक हरामी कर रहे हैं उन्हे भी नमस्ते।

      Reply
  • Sarat Sahoo says:

    Probably u don’t know the truth or pretending. inspite of writing the story you should attempt through ur media , how sahara and all the workers and depositors will get proper justice. it’s a request.
    Thanks

    Reply
  • Sanjay TOMAR says:

    Subrot Roy is criminal taken poor people money not returning not kept server with government to sync taken money with poor people need to captured all property of sahara India to recover all money to return to poor people.

    Reply
  • Amir khan says:

    Are Bhai tumko subrat ray kitni rakam bhikh me diya hai ki pura jhuth faila rahe ho. Mard ho to jo paisa sahara me jama hai use dilwa sakte ho. Hai tumhare gaand me takat? Nahi to bina jane jhuth nahi failao

    Reply
  • सुनील says:

    उपयुक्त बात पूर्णतया निराधार है, सत्य तो ये है कि उन्होने सेवी व कोर्ट के आदेश को नही माना रियल स्टेट व हाऊसिग की स्कीमा के पैसे का निवेशको के पैसे का भुगतान करने का आदेश दिया था, सहारा ने भुगतान के बजाय क्यू शाप स्कीम मे परिवर्तन कर दिया भुगतान नही दिया, हां सहारा तबका भुगतान करती रही जब तक बाजार से कार्यकर्ता भुगतान भर का पैसा लाते रहे, जब बाजार से पैसा आना बन्द हुआ भुगतान सहारा देना बन्द कर दी, सहारा को परेशान, सहारा नुकसान पहुंचाने वाले सहारा के छोटे बड़े प्रबन्धक है,।

    Reply
  • Sale harmi kutte agar to sahara ka ajent hota aur tere ghar log paisa magne aate to tujhe pata chalta ki sahara shree chor hai.sale harmi log roj gali aur jaan se marne ki dhamki deta to tujhe pata chalta sale kutte. Tujhe jo karna hai karle

    Reply
  • चितरंजन says:

    सही बात है। हमारा भी बहुत पैसा फंसा है सहारा में। लेकिन यह सुब्रत राय की गलती नहीं है। सुप्रीम कोर्ट, सेबी और भारत सरकार ने सभी का पैसा फंसाया हुआ है। अगर सरकार, सेबी, सुप्रीम कोर्ट ईमानदार हैं तो आधार और पैन कार्ड से वेरिफिकेशन कर के पैसा लौटा सकते हैं। जय हिंद।

    Reply
  • Arun Kumar says:

    Bhai tab sahara ka paisa do logo ko kuto ki tarah itne taref ki Kitne kimat le hai aap to Sadi ka mahan Nayak ho jo chor ko itna sanskari bata rahi ho fir compani fake kyu banai

    Reply
  • SUMIT BHAI TRIVEDI says:

    Sriman,poori baat na pta ho to analyst nhi bnna chahiye.Aapko Subrat Roy ke baare me pta nhi hai,wo apne ko bhagwan samajhta hai,aur India se bhaga isliye nhi kyuki woh apne ko system se upper samajhta hai,Aur jb tk woh samajh pata tb tk PASSPORT jabt kr liya gya .

    Reply
  • Ajay Prakash sahu says:

    Ap thik bol rhe hi sir …..lekin mere pass to original rashid hai sara paisa sahara me jama kiya hai ….to hamara paisa to dilwa do bechare garib log apni sari kamai sahara me jama kar diye hi aaj wo ro rhe hai paiso ke chalte unke bachho ki shadi ni ho rhi hi unka pura kam ruka hua hi ……karje me lade huye hai wo apko dikhai ni de rha agent ka ghar me rhna ghar se niklna mushkil ghar me gali de de ke custmore ja rhe hi ….aur subrat rai ji to mst apna aisha kar rhe hi aaj unki wajah se bhut se log pareshan wo dikhai ni diya kya apko

    Reply
  • Prantik Chatterjee says:

    मिस्टर सिद्धार्थ दबिश तुम्हें कितने पैसे मिले हैं यह लिखने के लिए, तुम्हें सहारा के बारे में कितना मालूम है, जब फर्जी रसीद का फर्जीवाड़ा हो रहा था तब क्या मैनेजमेंट सो रही थी मैनेजमेंट तो अय्याशी में डूबी हुई थी और लाखों लोग का भविष्य दांव में लगा हुआ है, उन्होंने तो अपने एजेंट और स्टाफ के साथ भी छल किया, पब्लिक मनी से 1000 करोड़ की अपने बेटों की शादियां करवाई। कोई भी धंधा करने के लिए आंख,कान,नाक खोल कर रखना बहुत ही जरूरी है। कभी आमने सामने होने का मौका मिला तो मैं सारी बातें खोल कर बताऊंगा।

    Reply
    • दुबे गौतम कुमार says:

      लिखने को कुछ भी लिख दिया और सिद्धार्थ तुम्हारे लिखने से लगता है कि सुब्रत रॉय को लोग अच्छा समझने लगेंगे सुब्रत रॉय पैसा का पेड़ लगाया था क्या इतना आलीशान जिंदगी जिता है वो सब पैसा किसका है
      एक रिक्सा चलाने वाले का एक चाय वाले का एक नुक्कड़ पर पान बेचने वाले एक मोची का ऐसे ऐसे पता नही कितने लोगों का पैसा है और रहा बात देश छोड़ कर भागने का तो वो भाग सकता था अगर माननीय सुप्रीम कोर्ट ने उसका पासपोर्ट जप्त नही कराया होता पूरी जानकारी नही है तो एक चोर के लिए इतना बड़ा कहानी नही लिखा करो

      Reply
  • Sanjay chaturvedi says:

    महोदय सहारा सेबी का मामला फर्जी रसीद का नहीं है यह 2012 का मैटर है जिसमें सहारा ने रियल एस्टेट और हाउसिंग के नाम पर 24000 करोड से ज्यादा मार्केट से पैसा उठाया था सेबी ने कहा कि यह पैसा गैर कानूनी ढंग से उठाया जबकि सहारा ने आर ओ सी से लाइसेंस ले रखा था तब से विवाद चला आ रहा है और आज तक शांत होने का नाम नहीं ले रहा इसमें सरकार कीऔर से भी पूरी गलती है यह लोग पहले बिजनेस के लिए पैसा देते हैं फिर उसी बिजनेस को तोड़ देते हैं इसलिए मेरा सरकार से भी से अनुरोध है कि मानवीय दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए 300000 लोगों के रोजगार को ध्यान में रखते हुए 10 करोड़ से ज्यादा जमा करताके हितों को ध्यान में रखते हुए सहारा को राहत पहुंचाई जाए ताकि सभी का भुगतान सुनिश्चित किया जा सके निगरानी के लिए समिति का गठन किया जा सकता है कार्य सुचारू रूप से तरीके से हो रहा है कि नहीं हो रहा धन्यवाद।

    Reply
  • एबीसी says:

    यदि मैं उपर्युक्त सभी बातों को सच मान लूं तो भी सुब्रत राय को निगरानी रखनी चाहिए थी अपने एजेंटों, स्कीम का और यह समस्या एक दिन में पैदा नहीं हुआ होगा। यदि आपको सहारा में कार्यरत कर्मचारियों के भविष्य की चिंता है तो उन गरीबों की भी चिंता करनी चाहिए जो सुंदर, समृद्ध भविष्य के लिए प्रतिदिन की गाढ़ी कमाई को जमा किया।

    Reply
  • Gyanendra Singh says:

    यह लेख सहारा प्रमुख को बचाने के लिए लिखा गया है। इन छोटे मोटे लेखकों की बजाय हमको पूरे मामले के बारे में पढ़ना चाहिए। तब इन टुच्चे लेखकों की सच्चाई समझ में आएगी।

    Reply
  • निर्मल सिंह जावरा says:

    तुझे पता है कि एजेंट चोर है ,तेरा सहारा श्री ईमानदार है इसके तलवे चाट कर इस तरह की बात करने वाले तूझे क्या पता एक गरीब आदमी पर क्या बीत रही है जिसने अपना पेट काट कर पैसा जमा कर रखा है।।।

    Reply
  • Arvind Singh says:

    भाई जो रियल इन्वेस्टर है, उनका तो पैसा मिलना चाहिये

    Reply
    • s.s.singh says:

      सहारा में जमा निवेशकों का पैसा यदि फर्जीएजेंट के द्वारा किया गया है तो यह बहुत ही चौंकाने वाली बात है क्योंकि सभी रसीदो में कंपनी का लोगो मोहर और प्रिंट डेट और तारीख लिखी हुई है इसलिए विश्वास नहीं होता कि यह रसीद फर्जी या बॉन्ड पेपर या सर्टिफिकेट डुप्लीकेट हो सकते हैं कोई एजेंट या दलाल कोई 10/20 कागज नहीं छप वाले पा
      येगा और ना ही इतनी किसी की हिम्मत है कि कोई फर्जी रस्पस रसीद छपवा ले क्योंकि हर मोहल्ले में हर घर में सहारा के बारे में सब लोग जानते थे और यदि ऐसा होता तो ऐसी तो कोई चर्चा सामने आती यह अचानक नकली सर्टिफिकेट का बम कहां से फोड़ गया यह सही है की सहारा कंपनी ने अपनी तमाम कंपनियां बना रखी हो एक का पैसा दूसरे में ट्रांसफर कर दिया हो यदि यह कह रहे हैं कि हमें निवेशकों का भुगतान कर दिया है तो सेबी के पास जमा 24000 करोड़ रूपया किसका है इन कंपनी के ऑफिस को जो कि सभी जगह बैठे हुए हैं उनके डाटा को सील कर देना चाहिए जिससे और ज्यादा फर्जीवाड़ा ना हो और सरकार सभी जिलों में उच्च अधिकारियों की एक कमेटी बनाई जिसमें वह सहारा कंपनी के एजेंट व रिकॉर्ड से मिलाकर उसका रिकॉर्ड तैयार करे जिससे जो कुछ बचा हुआ है वह और नष्ट ना हो सके क्योंकि सहारा कंपनी और पूरी तरह डूब चुकी है उसके पास पहले भी कोई काम नहीं था केवल एक एंबी वैली और कुछ जायदाद थी जो पूरी तरह से नेश्तना बूंद हो चुकी है इन कमेटी द्वारा जल्दी से जल्दी रसीदो को सुरक्षित करके भुगतान की कार्यवाही करनी चाहिए

      Reply
  • Niraj Kumar says:

    Sir kya aap muje ye bata sakte h ki kis agent ne duplicate receipt print ki??
    Apki bat sahi h ki sahara india galat nhi h aur na hi sahara sri ji

    Reply
  • Ashutosh Rai says:

    Tera aapna kuch nahi gaya hai is liye tu likh raha hai jiska gaya hai usse pucho tujhe to dalali mil rahi hai kahani banane ke liye

    Reply
  • प्रमोद कुशवाह says:

    सहारा परिवार सही से कार्य कर रहा था सारा झमेला सहारा के लखनऊ में हुए vandematram प्रोग्राम से सुरु हुआ को सोनिया गांधी को बिलकुल नागवार गुजरा और उन्होंने सहारा परिवार पर जांच शुरू कर दी आज भी सहारा इंडिया सबका पैसा वापस कर देगी पर सुप्रीम कोर्ट को सही दिशा निर्देश जारी करने की जरूरत है

    Reply
  • Tarique Mahmood says:

    तुम चोर हो, सुब्रत रॉय का पासपोर्ट कोर्ट के पास था, इसलिए नहीं भागा। कितने लोग इलाज के अभाव में मर गए, कई बेटियों की शादी टूट गई, कितनों को पढ़ाई से वंचित रहना पड़ा। तुम्हारे साथ ऐसा होता तब पता चलता। सुब्रत चोर और तुम भी चोर जो उसकी तारीफ कर रहे हो। जानकारी नहीं है तो उल्टा सीधा लेख मत लिखो

    Reply
  • Rakesh Kumar Gupta says:

    Total wrong information with you Subrata Roy nd its supporting societies should go in hell along with all management staff,all authorised dealers who misguided all customers by converting Sahara Q Shoppe certificates to different societies God should not forgive these corrupt Management and Dealers.

    Reply
  • Alka Tomar says:

    Bhai Shubruto Ray aapke kon h jo itna side le rahe ho un garibo ka socho jinhone ek ek joda ke age kuchh kam ayega or aapne itni aasani se bol diya k kic ko kuchh nahi milega

    Reply
  • Kaushal N. Banka says:

    अज्ञानी व्यक्ति द्वारा या लिखा गया लेखा ,सच्चाई इससे भिन्न है

    Reply
  • बबन says:

    साले सहारा के चम्चो एक बार लोगो के सामने आ कॉमेंट क्या करता है

    Reply
  • Durgaprasad Saw says:

    क्यों झूठ फैला रहे हो? क्या प्रत्येक मध्यम वर्गीय परिवार का एजेंट चोर है, और निवेशकों का पैसा ठग कर ले लिया है? और सुब्रत रॉय दूध का धुला है? यह झूठ फैलाने के लिए सुब्रत रॉय ने तुझे कितने करोड़ दिए है? अपना बकवास बंद करो, और न्यायपालिका के निर्णयों का सम्मान करना सीखो।

    Reply
  • Birendra kumar Singh says:

    जिसका पैसा उसको वापस कर दे मेरा भी चार लाख है

    Reply
  • Surya prakash mishra says:

    Bhai jo jo Banaras ka jama Karta hai vah is WhatsApp number message Karen uske bad sahara ki maa chodi jayegi 7839476772

    Reply
  • Surya prakash mishra says:

    Bhai jo jo Banaras ka jama Karta hai vah is WhatsApp number message Karen uske bad sahara ki maa chodi jayegi 7839476772 ismein hamari Sarkar ka pura hath hai aur sabse bada hath hamare media ka hai isiliye to hamare media 142वें number per aati hai pure Vishva mein aap logon ne Dhyan Diya hoga Ki koi media wala Sahara ki news nahin dikha raha hai aur Sarkar bhi isko lekar kuchh bol nahin rahi hai Rahi baat topic ki to Gyan Bharati ka jisse kisi Ko Labh ya Hani nahin hai uske use matter ko uthakar ham log Ko bhramit Kiya ja raha hai jo Mul Mudda hai uske bare mein kuchh nahin bola ja raha hai jisse logon ke rojgar badhe pet palan hokar logon ki gadi kamai Sahara Shri ne fansa kar rakha hai apne pass bad mein vah paise dekar ham humko kya Karega jab Mera kam kharab ho jaega aap log ke kya vichar Hain is message Ko jitna forward Karen aur mere WhatsApp number per sampark Karen taki ham log milkar Sahara office ko band karvaya jaaye aur jab tak ham log ka Paisa Na mile Sara office nahin Khulna chahie

    Reply
  • सिद्धार्थ जी नौकरी कहाँ करते हैं …. कितना पैसा देता
    है सुब्रत रॉय …. गरीबों की हाय लगेगी … इतनी बेशर्मी
    कैसे ले आते हो ..

    Reply
  • Preeti modi says:

    Sahara India ka paisa ajents ne jama karwaya aur sahi rasid aur bond bhi diya but government ki polices ke karan paisa nahi mil pa raha hai aur SABI jab tak sahara ka paisa nahi deti tab tak hume paisa nahi mil sakta .Problem yahi hai ager phir hum SEBI ko paisa dene ke lute kyu nahi kah rahe hai.
    Jisne bhi ye likha hai Sahara shri nirdosh hai
    Wo sirf bate ker rahe hai unhe sahara investor ki majboori nazar nahi aa rahi hai

    Reply
  • Sahara chairman Subroto rai chor hai, dhokebaaj, Garibo ki mehnat ki kamai le kar koi reply nahi de raha

    Reply
  • Swatantra Narayan Prasadbgzgct says:

    Ye sala chu…ya hai, ishe ye nahin pata ki lakhon logo ke deposits ko sahara office ne verify kiya hai, certificate diya hai, un logon kapaisa to sahara me jama hai,uska refund pichhle saalon se kyun pending hai. Article likhne wale ne jaroor paisa khaya hai.

    Reply
  • Noushad ali says:

    यसवंत जी,यह पोस्ट बिल्कुल निराधार है इस पोस्ट में कोई भी सच्चाई नहीं है पोस्ट लिखने वाला व्यक्ति ऐसा लगता है कि या तो वह सहारा का मेंबर हो या वह सुब्रत राय का किसी परिवार का सदस्य हो या फिर वह किसी भी तरह सहारा से लाभ प्राप्त करता हो, इस पोस्ट में कोई भी सच्चाई नहीं बताई गई है।
    सुब्रत राय का पासपोर्ट पहले से ही माननीय सुप्रीम कोर्ट में जमा है अगर पासपोर्ट मिल जाता तो सुब्रत राय बहुत दिन पहले देश छोड़कर चले जाता क्योंकि इसके बच्चे और पत्नी पहले से ही विदेश में शिफ्ट हो चुके हैं देश में से भिन्न-भिन्न फर्जी कम्पनियाओ को बनाकर 200000 करोड रुपए निकालकर विदेश में लगा में दिए हैं .
    जिसकी वजह से जमाकर्ताओं को भुगतान नही किया जा रहा है,माननीय सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश निर्देश दिए थे उसके अनुसार सुब्रत राय ने माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश को भी ठेका दिखाया देश के कानून को ठेंगा दिखाया और देश के लोगों को लूटा और 5 क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी में जमा कर्ताओं का पैसा लिया सेबी का बहाना लगाते हुए पैसा देने से साफ इनकार कर रहा है क्योंकि सुब्रत राय ना तो कभी पहले देशभक्त था ना सुब्रत राय आज देश भगत है
    सुब्रत रॉय औऱ इसकी ठग तंत्र के ठगी के विषय एजेंट से ज्यादा अच्छा कोई नही जान सकता !

    नौशाद अली एजेंट सहारा इंडिया परिवार

    Reply
  • Arti Patnaik says:

    Jesi karni wesi bharni The cheater thinks he can survive withholding all curses of investors But I have faith in God if sahara has fair owners n if they return all the money to the depositors they will revive n flourish otherwise their generations will see the misfortune as they will be cursed many sufferers

    Reply
  • puran chand minny says:

    जिन एजेंटा के सहयोग से सहारा खडी हुई उनको चोर बता रहे तलवे चाट ने वाला चाटुखोर जमाकर्ता की बददुआ मे इतनी ताकत हे जो भी चाटुखोर उनका समर्थन करते हे आने वाले समय मे उनकी हालात बहुत ही दयनीय स्थिति मे होगी

    Reply
  • Tum ko sahi jankari nahi hai. Tumko Sahara Sri se paisa mila hai. Ya Phir tum gadha hai. Tum likha hai Sahara diwali ho gaya hai aur ab kisiko paisa nahi milega. Tum to sc ka insult kar rahe ho. Kya wo galat hai. Tumko bhi jail Mein dalna padega. Agar tere gand Mein dum hai to nakli certificate lakar dikha.

    Reply
  • दुर्गा प्रसाद मिश्र says:

    एजेंट सहारा कंपनी का था एजेंट को कंपनी ने जनता के बीच से जनता को कंपनी में धन जमा करने के फायदे बताकर जनता से पैसा कंपनी में जमा करवाने के लिए अधिकृत किया था।इसलिए एजेंट कंपनी का कर्मचारी है ।और कंपनी की जवाबदेही कंपनी सुप्रीमो सुब्रतराय के ऊपर है तो कंपनी में किसी भी गड़बड़ी का जिम्मेदार सुब्रतराय ही होंगे अब सुब्रतराय की जिम्मेदारी बनती है कि वे अपने कर्मचारी के ऊपर कानूनी कार्यवाही करें

    Reply
  • आप ने सही कहा ये यू ट्यूब वाले लोग अपने कमाई के चकर मे लोगों को उल्टा पुल्टा समझा कर बेवकूफ बना रहे हैं । 1 से 2% लोग इनके चकर मे पड़ कर परेशान हैं। आज के डेट मे सहारा का 1-1 पैसा का हिसाब सरकार के पास या कोर्ट के पास है। सहारा तो आज खडा है 12 साल से कानूनी परेसानी के कारण अस्त व्यस्त हो गया है। लेकिन बहुत सारी कम्पनी मार्केट से पब्लिक का पैसा ले कर भाग चुकी हैं, करोडो लोगों का गाढ़ी कमाई डूब चुका है। ये यू ट्युबर लोग किस नींद मे सोये हैं उनको दिलाने का प्रयास क्यों नहीं कर रहे हैं। वो भागने वाली कंपनियां इनके दमाद थे क्या।

    Reply
  • Subrat ray ke krantikari bete ye 22 June ke baad fir tera krantikari baap jel jayega agar garibo ka paisa return nhi kiya aur kitna paisa diya tuje subrat ray jo faaltu ka bakwaas kar raha….

    Reply
  • Rajeev Ranjan says:

    Bahut khub …phle ye btao ki ye sb fake story likhne ko kitne paise mile or kisne aisa krne ko kaha?

    Reply
  • Rajeev Ranjan says:

    Bahut khub …phle ye btao ki ye sb fake story likhne ko kitne paise mile or kisne aisa krne ko kaha? Agent ko galat bta rhe ho agr wo garibo ka paisa lute hote to apna paisa kyu sahara me jma krte.

    Reply
  • Santosh srivastva says:

    Bhai jo fix deposits kiye hai, aur jo shi wo sahara kyu nhi de raha hai, niyt shi nhi hai esliye jail me hai, aap ye bhi likhte ki kitne old person ka paisa hai wo tu de de

    Reply
  • सुब्रत राय एक महा आत्मा का नाम है
    चुतिया लोग तो महात्मा गॉंधी को भी गाली दिये
    भगवान राम को भी बनवास झेलना पड़ा
    45 साल तक लाखों लोगों का भरण पोषण करने वाले इस महापुरुष को सलाम।
    जो इसका ही नमक खा कर नमक हरामी कर रहे हैं उन्हे भी नमस्ते।

    Reply
  • Dushyant singh dabi says:

    चोर कम्पनी का साथ देने व गरोबो का करोडो रुपये डकारने वाले की तरफदारी करने का भडास मिडिया को धन्यवाद साधुवाद

    Reply
  • Pankaj bhushan pathak says:

    आधी अधूरी रिपोर्ट है। सहारा यह कहकर नहीं बच सकता कि एजेंट धोखा दे रहे थे।जनता के भरोसे को सुरक्षित करने की जवाबदेही सहारा की थी। जबकि हर छोटेमोटे बैंक ऑनलाइन थे लेकिन सहारा जैसी बड़ी कम्पनी आजतक ऑनलाइन नहीं हो पाई। रसीद सबके सही हैं। लोगो ने चेक के माध्यम से पैसा सहारा के खाते में जमा किया है।

    Reply
  • सुब्रत राय के चमचे जो पैसा जमा हैं जिसकी लेजर सहारा मे दिख रही है उसका तो भुगतान कराओ

    Reply
  • Dr Rd Dixit ma PhD retd j from gagran and 4utimes says:

    Sir, imaginary but very emotional. It is attractive but at the same time very very unreasonable . The so called revolutionary and intellectual journalist should be brought to light from the bosom of darkness and his version should have been taken. U have well pleaded for but this type of counter should be produced in court and Sir be defended. Again a demarcation case should be put in court against the great magician.

    Reply
  • Bahut saare log hai jo yahi mante hai ki Sahara ne fraud kiya. Ho sakta hai jisaka jais anubhaw ho.
    Maine sahara me 10 saal tak kaam kiya. Khushi se kiya. 10 me se 9 saalo me kabhi bhi aaisa nahi huha ki Salary ek din bhi late aaye ho. Magar Saharashri ke jail jane ke baad halat bigadte gaye. Salary ruk gayee. bahut samay tak eedhar udhar se lekar pariwar palta raha. Magar Dilli jaise city me gujara karna mushkil ho gaya to fir majboori me Job change karna pada.
    Magar mera jo anubhav raha ki, Saharasri ke jail jaane ke baad jo avyavastha faili uske jimmedaar sabse jada Sahara ki managment ke log the.
    Jab logo ko bilkul bhi salary nahi mil rahi thi to ye uche pado ke log kaise mouj masti kar rahe the. Mera experience ye hai ki agar ye managment ke log chahte to sabko salary milti rahti magar us samay bhi (SaharaShri ke anupasthiti me) ye log apai jebe bharte rahe.
    Ab baat Public Investment ki. Saharashri ke jail jaane ke mahineo baad bhi maine khud kitne logo ke (mere jaan pahchan wale jinko dar tha ki unka dhan doob na jaye) invested paise with interest niklwaye bina kisi pareshani ke.
    Antath: mera manana ye hai ki agar Saharasri ke matahat kaam karne waale agar eemandar hote to shayd halat itne kharab nahi hote.

    Reply
  • सत्य says:

    सुब्रत राय एक महापुरुष का अवतार है 14 लाख लोगों का परिवार चलाने वाले इस महा मानव को सत सत नमन । अरे भगवान राम, ईशा मशी, भगवान श्री कृष्ण, महात्मा गांधी सभी लोगों को कस्ट झेलना पड़ा । तो ये तो एक सच्चा इंसान है। पूरी उम्मीद है सहारा सेबी विवाद खत्म होगा एवम सभी लोगों का भुगतान ब्याज के साथ होगा।

    Reply
  • Shakti singh says:

    कुछ लोग भुगतान के लिए परेसान नहीं हैं सहारा को बर्बाद करने के लिए परेसान हैं। आज जो भी परेशानी पैदा हुआ है वे परेसानी पैदा करने वाले लोग सहारा का ही कमाई 10-20 साल तक खा कर बाल बच्चों को भी खिलाये पिलाये हैं। आज थोड़ा सा सहारा का समय बिपरित हुआ तो इनका भाषा बदल गया।ये तरह तरह का उपाय कर के संस्था को बर्बाद करना चाहते हैं। यू ट्यूब बनाने वाले भी यही लोग हैं। इन सभी लोगों को मुसीबत की घडी मे माँ रूपी संस्था का साथ देना चाहिए था। आज सरकार, सुप्रीमकोर्ट, मीडिया, सभी सत्य के साथ खडा हैं। सहारा को फिर से लाइन अप करने मे सहयोग कर रहे हैं। और ये लोग सुब्रत राय चोर है का नारा लगवा रहे हैं। दुनिया अब समझ रही है की चोर सुब्रत राय नहीं यही नमक हराम लोग हैं।

    Reply
  • Why honourable supreme court or India govt not seized the movable and immovable property of Sahara group and by selling it returning the capital of investors?

    Reply
  • क्या सही है सुब्रत राय मैं सहारा में जॉब करता था मैं एसजीडब्ल्यू थर्ड था मेरी वाइफ की तबीयत बहुत ज्यादा खराब हो गई मुझे 5 महीने की सैलरी नहीं दी गई मैंने कई बार सहारा के अधिकारियों को मैंने अपना लेटर लिख कर दिया तो मुझे पैसे की बहुत जरूरत है मेरी वाइफ की बहुत तबीयत खराब है लेकिन सहारा वालों के अधिकारियों ने कोई मेरी बात नहीं सुनी जब भी अधिकारियों से कहता तो बोलते कि रिजाइन कर दो फिर मैंने दूसरे से पैसा लेकर अपनी वाइफ की दवा करा या फिर भी मैं जॉब करता रहा और अधिकारियों से कहता रहा कि मुझे मेरी सैलरी दे दीजिए जो मैंने पैसा उधार लेकर अपनी वाइफ की दवा कर आया हूं उसको मैं पैसा वापस कर दो लेकिन मेरी कोई सुनवाई नहीं हुई मैं नहीं रिजाइन कर दिया फिर भी आज तक फिर भी मेरी सैलरी नहीं दी गई मैंने कई बार लेटर अधिकारियों को दिया लेकिन फिर भी मेरी कोई सुनवाई नहीं हुई है और ना मुझे अभी तक मेरी सैलरी दी गई है 5 महीने की और आप बोलते हैं सुब्रत राय बहुत सही है अरे वह सही होते तो मेरे 5 महीने की सैलरी ना खा जाते हैं मैंने जिसका पैसा उधार लेकर वाइफ की दवा कराया और सहारा की नौकरी की उसका पैसा भी तक मैं नहीं दे पाया हूं जब सहाराश्री मेरी मदद पर नहीं खड़े हो तो मैं क्या जानू कि वह सही है जिन भाइयों को मेरी बात बुरी लगी हो तो बोल देना

    Reply
  • Ye bhi apni dukaan chala rha h, bhai ye btana tumhara ek bhi paisa laga h kya sahara, bus bina soche smjhe story bna lo footage lene k liye

    Reply
  • आप तो सुब्रत राय सहारा के बहुत बड़े वाले चमचे नज़र आते हैं भाई। वरना इतने बड़े घोटाले और धोखाधड़ी को आप आम जनता के सिर मढ़ने की गुस्ताखी ना करते।
    कंपनी सुब्रत राय की, एजेंट सुब्रत राय के, अब अगर उनकी कम्पनी के नाम लोग फर्जीवाड़ा कर रहे थे तो उसको रोकने की, चेक करने की जिम्मेदारी भी सुब्रत राय एंड कंपनी की थी। और तो किसी कंपनी के एजेंट्स ने इतना बड़ा घोटाला जाली रसीदें दे कर नहीं किया।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code