यूपी में ट्रांसफर पोस्टिंग की दलाली का ऑडियो लीक, सुनें टेप

गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश सरकार में ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर दलाली का एक रैकेट सामने आया है। यहां तथाकथित दलाल अपनी पहुंच सीधा मुख्यमंत्री तक बता रहा है। इस मामले का खुलासा तब हुआ जब एक ऑडियो रिकॉर्डिंग लीक हो गई।

इसमें फोन पर दलाल और एक आईएएस के रिश्तेदार के बीच खुलकर ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर पैसों के लेन-देन की बात हो रही थी। एक ओर जहां प्रदेश भर में कोविड-19 का कहर जारी है वहीं कुछ दलाल सत्ता के गलियारों में अपनी मजबूत पकड़ बताते हुए भोले भाले इंसानो से नहीं बल्कि आईएएस और आईपीएस जैसे मजबूत अधिकारियों से भी ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर एक मोटी रकम हड़प लेते हैं।

इस संबंध में वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण साहनी ने बताया कि जब उनके हाथ दलाल और आईएएस अधिकारी के रिश्तेदार के बीच हो रही फोन पर वार्ता का ऑडियो लगा तब वे इसे सुनकर दंग रह गए क्योंकि जिस तरह से दलाल आईएएस अधिकारी के रिश्तेदार को कन्विंस कर रहा था, उससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि सत्ता के गलियारों का वह दलाल बेहद प्रोफेशनल है और उसके लिए यह कोई नया काम नहीं है।

ज्ञात हो कि पत्रकार प्रवीण साहनी समाचार प्लस न्यूज चैनल में वरिष्ठ पद पर हुआ करते थे और अपराध पर आधारित शो ‘द वांटेड’ व नेताओं के कारनामों पर आधारित “राजनीति” नामक शो होस्ट करते थे। ये दोनों शो यूट्यूब पर भी इसी नाम से हैं और लोकप्रिय हैं।

प्रवीण साहनी ने इस आडियो को सुनने के बाद इस फोन कन्वर्सेशन को जनता के सामने लाने का निर्णय लिया। बिना किसी दबाव में आए प्रवीण साहनी ने इस ऑडियो को लेकर एक विस्तृत खबर उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल ‘राजनीति’ पर चलाई।

दलाल का नाम पीयूष अग्रवाल बताया जा रहा है जो कि बेहद कॉन्फिडेंस के साथ ऑडियो में कह रहा है कि उसने मुख्यमंत्री से बात की है, कुछ दिन में उसका काम हो जाएगा। हालांकि आईएएस का रिश्तेदार दलाल की बात पर बहुत अधिक भरोसा करता हुआ नजर नहीं आ रहा है लेकिन दलाल पीयूष अग्रवाल लगातार प्रयास कर रहा है कि किसी तरह आईएएस के रिश्तेदार को फोन पर संतुष्ट कर सके।

सुनें आडियो-


  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *