गाजियाबाद में दैनिक जागरण के पत्रकार ने कांस्टेबल और दुकानदार पर की फायरिंग, गिरफ्तार

एक बड़ी खबर गाजियाबाद से आ रही है. यहां दैनिक जागरण के एक पत्रकार पर कांस्टेबल व दुकानदार पर फायरिंग करने का आरोप लगा है. उसे गिरफ्तार कर लिया गया है. पत्रकार का नाम है विवेक त्यागी. वह शराब के नशे में विजयनगर थाने पहुंचा और कांस्टेबल की पिटाई कर दी. नशे में धुत त्यागी ने कांस्टेबल और एक दुकानदार पर फायरिंग भी कर दी. दुकानदार से उसकी किसी बात को लेकर कहासुनी हुई थी.

कांस्टेबल ने जब रोका तो विवेक त्यागी ने कांस्टेबल और दुकानदार दोनों पर फायरिंग कर दी. कांस्टेबल का कुसूर सिर्फ इतना था कि उसने पत्रकार को खुलेआम शराब पीने से रोका. कांस्टेबल के सिर पर काफी चोटें आई हैं. इसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर पत्रकार को गिरफ्तार कर लिया. विवेक रात भर थाने के लाकअप में रहा. कहा जा रहा है कि पुलिसवालों ने उसकी लाकअप में जमकर पिटाई की. पत्रकारों के दबाव के कारण उसे थाने से ही जमानत दे दी गई. बताया जाता है कि शराब पीकर बदतमीजी करने के कारण ही विवेक त्यागी को अमर उजाला से निकाला गया था.

आपको भी कुछ कहना-बताना है? हां… तो bhadas4media@gmail.com पर मेल करें.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “गाजियाबाद में दैनिक जागरण के पत्रकार ने कांस्टेबल और दुकानदार पर की फायरिंग, गिरफ्तार

  • आशुतोष says:

    जिसे दया पर नौकरी मिले, दया पर चले और उसे क़ाबलियत समझे, वह विवेक त्यागी है l अमर उजाला से निकले गए तो इस जन्मजात बदतमीज़ को दैनिक जागरण में इनपुट हेड मनु त्यागी और संपादक विष्णु त्रिपाठी की शिफारिश पर नौकरी पर रख लिया गया l इनके तथाकथित भैया अनुरोध भारद्वाज (हाल ही में इनकी एक फर्जी खबर का फायदा उठाकर फर्जी IAS उगाही करता लिंकरोड थाने में पकड़ा गया ) की लिखी ख़बरों से विवेक त्यागी की नौकरी चलती है l दारु पीकर रिपोर्टिंग करने पर अमर उजाला गाजियाबाद से गोरखपुर फेंके गए l गोरखपुर में अपनी माँ को लेकर झूठ बोलने और काम नहीं कर पाने पर फिर पटके गए और कुछ दिनों बाद नौकरी से निकल दिए गए l विवेक त्यागी की शाम को आठ बजते ही दारु की हुड़क उठती है l और अकड़ l अब जागरण में ३०७ के मुजरिम भी काम करेंगे l जय ही सिफर्शियों की l

    Reply
  • जागरन में कुछ भी संभव है, 307 का मुकदमा। दज है फिर भी फर्जी खबरों पर। बाइलाइन दी जा रही है।वो भी संपादक को चू बनाने के लिए। मगर संपादक विष्णु जी। करें भी। तो क्या। आखिर सिफारिश मनु त्यागी कि है। कार्रवाई करे भी श्रतो कैसे। जय हो जागरण की।

    Reply
  • patrkarita ka sipahi says:

    Aur jamanat dilane k liye jagran k dalal patrakaro ne jaan laga di…bechare amar ujala wale wale bhi pahuche…magar police ki dalali karne wala jagran ka crime reportr gaurav narayan zamanat k bad itna khush tha jese uske sathi tyagi ne wrld cup jeet lia ho..vinay ji..jagran ki vastav me hai hai..dalalo,ka akhbar hai..aise hi chalega..vivek bhai ko is kritya k liye badhai…..

    Reply
  • Bhai jo hai wo sabhi ko dikha raha hai magar hume yahan kisi or par charcha nahi karni..jo bhi dalali kar raha hai wo sabhi jante hain…kisi or kaa naam yahan na kholen………wese jagran ki majburi,hai in jese logo ko jhelna…..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *