Connect with us

Hi, what are you looking for?

बिहार

बिहार के चर्चित वकील और एनिमल एक्टिविस्ट मदन तिवारी पर पशु तस्करों ने किया हमला

Advocate madan tiwari

बिहार के गया जिले के चर्चित वकील और एनिमल एक्टिविस्ट मदन तिवारी और उनकी टीम पर जानलेवा हमला पशु तस्करों ने किया लेकिन तिवारी जी बाल बाल बच गए।

बार बार सूचना देने के बावजूद पुलिस अफ़सर और थाने वाले किसी मदद को तत्पर नहीं हुए। उल्टे पशु तस्करों के पक्ष में काम करती दिखी पुलिस।

एडवोकेट मदन तिवारी ने पुलिस को जो लिखित कंप्लेन दी है उसका कुछ अंश पढ़ें जिससे घटना की भयानकता का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

It was murderous attack by animal smugglers in jurisdiction, though we were continuously giving information to the police stations enroute , to magadh medical- Rampur-bodhgaya-magadh university-cherki, many patrolling parties was passing through but no one try to help, virtually police patrolling collects money from animal smugglers and they have admitted this when they came in court for release of their seized vehicles. One swift desire and scorpio chased more than 30 km. We were informed about a big container loaded with 40 animals was going to Bangladesh via bengal, rescue team in two vehicles started following the container, which was coming from cherki , when the container reached magadh medical police station, we started following, but the vehicle took route of gaya-dobhi road and near bodhagaya turning ,turned to cherki road ,mean from where vehicle has come when we turned and reached cherki one swift stopped us, 5 persons with arms alighted and attacked, I asked the driver take right side and move fast, second vehicle was also attacked. One scorpio was standing ahead as we passed that scorpio, one pistol fire we heard, soon we turned to another road, cherki to gurua, they were chasing and firing, road was single ,Gurua ps was approximately 15 km , other activist sitting in delhi, jhansi varanasi patna started making call to ssp dgp but no one picked up phone, then they informed Gurua PS is just 5-6 km , move fast, we reached there and entered in police station, no patrolling or Scott was provided, lastly other members informed they are coming and 12 activist came in one suv.

Advertisement. Scroll to continue reading.

जिला पुलिस के रवैये से नाराज़ एडवोकेट मदन तिवारी SSP को संबोधित करते हुए कहते हैं-

एसएसपी साहब आपके मगध मेडिकल, रामपुर, बोधगया, मगध यूनिवर्सिटी, चेरकी सबको फोन होते रहा कोई पुलिस नहीं पहुँची। गुरुआ थाने का गेट बंद था। मैं चिल्ला रहा था। बाद में गेट खुला। उनकी पेट्रोलिंग भी नही आई। तस्करी की गाड़ियों के रास्ते मे पड़ने वाले सभी थानों का पैसा बंधा हुआ है। पेट्रोलिंग पार्टी तस्करों से वसूली करती है। मेरी हत्या के प्रयास में आपकी पुलिस संलिप्त है। साक्ष्य दूंगा। शेरघाटी, विष्णुपद, फतेहपुर सब शामिल है। जब हमारे एक्टिविस्ट गाड़ी पकड़ते हैं तब भी पुलिस असली तस्करों को छोड़ देती है। उनकी जगह बेचारे मजदूरों को अपराधी दिखलाते हुए कुछ दिन जेल में रहने के एवज में पैसा देकर भेज देती है। विष्णुपद और फतेहपुर का साक्ष्य है मेरे पास।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement