हवाई हमले की सबसे संयमित खबर दैनिक भास्कर में है

हिन्दी अखबारों में आज दैनिक भास्कर अकेला है जिसने आग उगलते या वैसे, लड़ाकू विमानों की फोटो नहीं छापी है और ना कंप्यूटर के बनाए गए बम धमाकों की तस्वीर को खबरों के बैक ग्राउंड में लगाया है। हालांकि, दैनिक भास्कर ने शीर्षक में बताया गया है कि भारतीय वायु सेना ने 48 साल बाद सरहद लांघी और आतंकी अड्डा तबाह हो गया। इसके साथ भास्कर ने मौके पर मौजूद बालाकोट थाने के एसएचओ तस्वीर शाह और डिप्टी एसपी नियाज गुल से बातचीत छापी है। इसके मुताबिक कई कच्चे पक्के घर तहस नहस हो चुके थे। पर अंधेरा होने के चलते ज्यादा समझ में नहीं आई। सुबह सभी लोगों को गांव में जाने से मना कर दिया गया। तस्वीर शाह ने कहा कि हमलोगों की ड्यूटी चुनाव में लगा दी गई। वहां आर्मी और रेंजर अब तैनाती पर हैं।

अंग्रेजी अखबारों में हिन्दुस्तान टाइम्स कम युद्धमय नहीं है। पहले पन्ने से पहले का अधपन्ना मोदी जी की फोटो के साथ एलान कर रहा है, वायु सेना ने आग बरसाई। इस अधपन्ने के पीछे नेताओं की फोटो और उनके बयान हैं। शीर्षक है, भारतीय वायुसेना की तारीफ में राजनीतिज्ञ एकजुट। मुख्य खबर पहले पन्ने पर है दो शब्दों का शीर्षक है, टेरर अटैक्ड यानी आंतक पर हमला किया गया। पहले पन्ने पर चार कॉलम में एक खबर का शीर्षक है, वायु हमले का समय सिर्फ सात लोगों को मालूम था। मुझे इस खबर का मतलब नहीं समझ में आया क्योंकि पायलट और वायुसेना के लोगों को पता नहीं होगा तो यह संभव कैसे हुआ और पता था तो क्या अंदाजा नहीं होगा?

टाइम्स ऑफ इंडिया ने शीर्षक को अलग बनाने या भारतीय वायु सेना की तारीफ करने के लिए फ्लैग शीर्षक लगाया है, इंडिया एवेंजिंग फोर्स। यानी भारत की बदला लेने वाली या दंड देने वाली सेना। टाइम्स ऑफ इंडिया ने पहले पन्ने पर ही पाकिस्तान का भी पक्ष रखा है। इसके मुताबिक, पाकिस्तान की सेना ने इसे कम बताया पर सरकार ने इसे गंभीर आक्रमण कहा।

द हिन्दू ने सीधा सपाट शीर्षक लगाया है, भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के कैम्प पर बम गिराया। एक कॉलम में पाकिस्तान ने आक्रमण की निन्दा की और दो कॉलम में सूक्ष्म हमले के लिए विपक्ष ने वायु सेना की प्रशंसा की जैसे शीर्षक लगाए हैं। दो कॉलम की एक खबर यह भी है कि भारत को ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस से समर्थन मिला। इसके साथ अमित शाह की फोटो के साथ एक खबर है, देश की सुरक्षा कौन सुनिश्चित करेगा, गठजोड़ या मोदी? यानी युद्ध औऱ राजनीति साथ-साथ। ऐसा हिन्दी में सिर्फ राजस्थान पत्रिका ने किया है।

इंडियन एक्सप्रेस का शीर्षक और गंभीर है, इंडिया स्ट्राइक्स टेरर, डीप इन पाक। मोटे तौर पर इसकी हिन्दी होगी, भारत ने आतंक पर हमला बोला, पाकिस्तान में अंदर घुसकर। नवभारत टाइम्स ने लिखा है कि वायु सेना पाकिस्तान में 65 किलोमीटर अंदर तक घुसी। अब हवाई हमले में 65 किमी अंदर घुसकर है तो सीमा पर क्या होगा यह मुझे समझ में आए तो बताता हूं। वैसे, इंडियन एक्सप्रेस में आज पहले पन्ने पर आधा विज्ञापन है। फिर भी, पाकिस्तान का पक्ष पहले पन्ने पर है। शीर्षक है, पाकिस्तान उलझन में पहले मना किया फिर जवाबी कार्रवाई की कसम खाई।

हिन्दुस्तान ने एलान कर दिया है, जैश का जोश जमींदोज। इसके साथ दो कॉलम की एक खबर है, ऑपरेशन बालाकोट पर हर पल थी मोदी की नजर। अखबार ने संपादक शशि शेखर की त्वरित टिप्पणी भी फोटो के साथ छापी है। इसका शीर्षक है, अंतत हम बेटों की मौत का बदला लेना सीख गए। इस शीर्षक के बाद पढ़ने की दिलचस्पी नहीं हुई। पाकिस्तान का पक्ष पूरे पन्ने पर (आज विज्ञापन नहीं है) सिंगल कॉलम की खबर में है। नौ लाइन की इस खबर का शीर्षक दो लाइन में है। पाकिस्तान बोला, अंधेरे में अंदाजा ही नहीं लग पाया।

Ek Sharabi ki shuktiyan : एक शराबी की सूक्तियां

Ek Sharabi ki shuktiyan : एक शराबी की सूक्तियां… कृष्ण कल्पित उर्फ कल्बे कबीर ने एक शराबी की सूक्तियां लिखकर साहित्य जगत में भरपूर वाहवाही पाई. युवाओं ने खासकर इस कृति को हाथोंहाथ लिया. एक शाम कृष्ण कल्पित ने रसरंजन के दरम्यान भड़ास के संपादक यशवंत के अनुरोध पर इसका पाठ किया. इस रिकार्डिंग के दौरान नीलाभ अश्क जी भी मौजूद थे.

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶನಿವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 16, 2019

नवभारत टाइम्स ने पहले पन्ने से पहले के अधपन्ने पर शहीदों की तेरहवीं से पहले बदला शीर्षक से खबर छापी है। इसी अधपन्ने पर बॉटम है, जैश के सबसे बड़े सेंटर में स्ट्राइक के समय थे 300 आतंकी। मुख्य शीर्षक है, बालाकोट में चलते थे आतंक के कोर्स। नभाटा ने अधपन्ने के पीछे भारत के 12 मिराज देख भाग गए पाक के एफ-16 फाइटर। अखबार ने यह एलान भी किया है कि हमारी ताकत के सामने कमजोर है दुश्मन देश। अखबार ने तीन कॉलम की खबर से यह भी बताया है कि जैश सरगना मसूद अजहर का साला युसूफ मारा गया। इसमें लिखा है कि भारत या पाकिस्तान की तरफ से इसकी पुष्टि नहीं हुई है। फिर भी पहले पन्ने पर मुख्य खबर का शीर्षक है, हाऊ इज द जैश? तबाह सर। इसके साथ नवभारत टाइम्स ने एक और खबर छापी है, हमलों से बौखलाए पाकिस्तान ने धमकाया, लेकिन हाथ बंधे हैं।

नवोदय टाइम्स भी नवभारत टाइम्स, हिन्दुस्तान की ही तरह युद्धमय है। सर्जिकल स्ट्राइक टू के तहत इस खबर का शीर्षक है, जोश में इंडिया। अखबार ने पहले ही पन्ने पर सतीश पेडनेकर की टिप्पणी है। इसका शीर्षक है, सैनिक और कूटनीतिक नजरिए से सफल ऑपरेशन। अखबार में पहले पन्ने पर पाकिस्तान का पक्ष नहीं है पर एक खबर में बताया गया है कि पाकिस्तान संसद में लगे शेम-शेम इमरान खान के नारे। एक दूसरी खबर में कहा गया है कि पाक सेना ने 55 भारतीय सैन्य चौकियो को निशाना बनाकर की भारी गोलीबारी।

दैनिक जागरण का शीर्षक है, पुलवामा का हिसाब पूरा। अखबार ने ये नहीं बताया है कि बाकी हमले एनपीए हुए या कोई नीरव मोदी लेकर भाग ले गया। अखबार की दूसरी बड़ी खबर है, सर्जिकल स्ट्राइक – 2 से पाकिस्तान पस्त। इसके साथ दो कॉलम का शीर्षक है, बौखलाए पाकिस्तान ने देर रात दागीं मिसाइलें। इमरान ने जवाब देने की बात कही, सिंगल कॉलम में है। एक खबर यह भी है, जांबाजों की वापसी के बाद सोने गए पीएम। और प्रशांत मिश्र की त्वरित टिप्पणी, इच्छा शक्ति और अदम्य साहस को सलाम ….।

अमर उजाला में इस खबर का शीर्षक है, पाकिस्तान में घुसकर जैश के तीन बड़े ठिकाने तबाह। उपशीर्षक है, तड़के 3:45 से 4:05 के बीच 80 किमी अंदर बालाकोट में वायुसेना की कार्रवाई। नवभारत टाइम्स ने लिखा है कि वायु सेना पाकिस्तान में 65 किलोमीटर अंदर तक घुसी। अमर उजाला का फ्लैग शीर्षक है, 20 मिनट, 12 मिराज, 1000 किलो बम। अखबार ने मुख्य खबर के साथ सिंगल कॉलम में खबर छापी है, कंधार और संसद हमले का भी हिसाब किया। अखबार ने लिखा है कि पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ले चुका जैश ही 2001 में संसद और जनवरी 2016 में पठानकोट हमले का भी जिम्मेदार था।

अखबार के मुताबिक, कल के हमले में मारा गया बताया जा रहा मसूद अजहर का बहनोई युसूफ 1999 में कंधार विमान अपहरण में भी शामिल था। यही नहीं, अखबार के मुताबिक, मसूद का बड़ा भाई इब्राहिम खान व मौलाना तन्हा भी ढेर हो गए। विमान अपहरण में इब्राहिम भी शामिल था। इस खबर में आगे कहा गया है, कश्मीर व अफगानिस्तान में सक्रिय मौलाना अम्मार भी मारा गया है। अखबार ने लिखा है कि इसके साथ ही पाकिस्तान में जैश का शीर्ष नेतृत्व खत्म हो गया। इस खबर का अंतिम वाक्य है, हालांकि, जैश का दावा है कि युसूफ हमले के वक्त बालाकोट में नहीं था। अखबार ने इस खबर का सूत्र नहीं बताया है।

एक तरफ खबर है कि हमले के समय की जानकारी सिर्फ सात लोगों को थी और दूसरी ओर अमर उजाला ने लिखा है कि 36 सुखोई, 5 मिग बैगअप में भी थे। 12 मिराज ऑपरेशन में तो थे ही। अखबार के मुताबिक रणनीति ऐसी रही कि जाम कर दिया पाक सेना का रडार। अमर उजाला ने भी जश्न मनाते लोगों की तस्वीर छापी है। यह प्रयागराज की है और एक कॉलम में ही छपी है। अन्य अखबारों के साथ आज राजस्थान पत्रिका भी युद्धमय है। यहां शीर्षक है, पाकिस्तान में घुसकर मारा। अखबार ने इस खबर के साथ पहले पन्ने पर प्रधानमंत्री की दो कॉलम की फोटो के साथ चुरू की रैली की खबर छापी है और बताया है कि वायुसेना की कार्रवाई के बाद यह प्रधानमंत्री की पहली प्रतिक्रिया पत्रिका थी। इस खबर का शीर्षक है, “सौगंध इस मिट्टी की, देश नहीं झुकने दूंगा : मोदी”।

वरिष्ठ पत्रकार और अनुवादक संजय कुमार सिंह की रिपोर्ट। संपर्क : anuvaad@hotmail.com

Desi Boy के प्यार में Videshi Chhori गाने लगी- 'नानी तेरी मोरनी को मोर ले गया…

Desi Boy के प्यार में Videshi Chhori गाने लगी- 'नानी तेरी मोरनी को मोर ले गया… कनाडा की जैकलीन और भारत के विनीत की प्रेम कहानी…https://www.bhadas4media.com/desi-boy-videshi-chhori/ (आगरा से फरहान खान की रिपोर्ट.)

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಭಾನುವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 17, 2019



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code