बांध टूटने की खबर बड़ी है या अमित शाह द्वारा दिल्ली पुलिस चीफ को तलब करने की?

दरार, रिसाव की पूर्व सूचना और दो ही महीने पहले, कथित मरम्मत के बावजूद सिर्फ 19 साल पुराने बांध का एक तिहाई हिस्सा बह गया। इससे सात गांवों में बाढ़ आ गई 23, लोग बह गए पर नभाटा में शीर्षक है, महाराष्ट्र में रेकॉर्डतोड़ बारिश से बांध में दरार, 7 गांव डूबे, 23 लोग लापता। …

विजयवर्गीय पिता-पुत्र के खिलाफ खबर प्रधानमंत्री की छवि बनाने का हिस्सा तो नहीं?

जर्नलिज्म ऑफ करेज ने इस खबर को लीड बनाया है तो इसे डैमेज कंट्रोल एक्सरसाइज भी कह सकते हैं! प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय के बारे में जो कहा वह पहले पन्ने पर होगा इसका अनुमान तो मुझे था पर इंडियन एक्सप्रेस इस खबर को लीड …

सत्ता के हाथों बिक चुके हिंदी के इन बड़े अखबारों के संपादकीय विवेक पर थूकें!

अधिकारियों की पिटाई के दो मामले और अखबारों की खबरें… तेलंगाना में महिला अधिकारी की पिटाई की खबर छापने वाले अमर उजाला ने जवाबी कार्रवाई की खबर नहीं छापी आज नवभारत टाइम्स में पहले पन्ने से पहले के अधपन्ने पर फोटो के साथ एक अच्छी खबर है। अफसोस, यह दूसरे अखबारों में पहले पन्ने पर …

अमर उजाला ने इंदौर की खबर को पहले पन्ने पर नहीं छापा था, तेलंगाना की खबर आज पहले पन्ने पर है

आज के अखबारों में तेलंगाना की एक खबर पहने पन्ने पर है। इंडियन एक्सप्रेस में यह खबर लीड है और इसी से इसपर ध्यान गया। आप कह सकते हैं और अखबार ने लिखा भी है कि यह एक जैसी दूसरी वारदात है इसलिए कहने की जरूरत नहीं है कि खबर महत्वपूर्ण हो गई है। लेकिन …

‘बल्लामार’ के शिकार अफसर से बातचीत सिर्फ इंडियन एक्सप्रेस में पहले पन्ने पर

कई अखबारों में सुषमा स्वराज का बंगला खाली होने की खबर ज्यादा प्रमुखता से है आज के अखबारों में पहले पन्ने पर मध्यप्रदेश के बल्लामार विधायक आकाश विजयवर्गीय जो भाजपा महासचिव और मशहूर राजनेता कैलाश विजयवर्गीय के सुपुत्र भी हैं, को जमानत मिलने की खबर ढूंढ़ते हुए मैंने पाया कि सुषमा स्वराज ने अपना बंगला …

आज इस खबर को आप पत्रकारों की औकात से जोड़कर देख सकते हैं

सर्कुलर एक है सिर्फ प्रस्तुति के अंदाज से भाव बदल जाता है आज द टेलीग्राफ में पहले पन्ने पर एक खबर है जिसके साथ दिल्ली में दीवाली पर बांटे जाने वाले उपहार – तथाकथित ड्राईफ्रूट (मेवे) के डिब्बे की फोटो है। विज्ञापन के साथ दो कॉलम की इस खबर पर नजर नहीं जाती अगर इसके …

आरक्षण पर बांबे हाईकोर्ट का फैसला और अखबारों में इसका कवरेज

आज के अखबारों में छपी सबसे महत्वपूर्ण और सबके मतलब की खबर है, आरक्षण पर बांबे हाईकोर्ट का फैसला। अंग्रेजी अखबारों में तो यह पहले पन्ने पर है लेकिन हिन्दी अखबारों में सिर्फ राजस्थान पत्रिका ने इसे लीड बनाया है जबकि अंग्रेजी में यह टाइम्स ऑफ इंडिया में लीड है, इंडियन एक्सप्रेस में सेकेंड लीड …

विजयवर्गीय की औकात भी तो पूछ लेते

नेता पत्रकारों से औकात पूछे और खबर भी न छपे तो नेताओं का दिमाग खराब होगा ही। भाजपा महासचिव के विधायक पुत्र ने इंदौर नगर निगम के अधिकारी की बल्ले से पिटाई की और इस बारे में जब न्यूज़24 ने कैलाश विजयवर्गीय से बात की तो उन्हीने आपा खो दिया। एंकर ने कैलाश विजयवर्गीय से …

नीति आयोग के स्वास्थ्य सूचकांक की खबर सिर्फ दिल्ली के अस्पतालों के लिए?

आज दिल्ली की एक स्थानीय खबर की चर्चा करता हूं जो पहले पन्ने पर तो नहीं है, फिर भी अलग और अनूठी होने के कारण चर्चा योग्य है। हिन्दुस्तान टाइम्स ने इसे मेट्रो पन्ने पर पांच कॉलम में बॉटम छापा है। अंग्रेजी के इस खबर के शीर्षक का हिन्दी होगा (अनुवाद मेरा), “केंद्र शासित प्रदेशों …

पीएम का भाषण, संपादक की गिरफ्तारी और अखबारों में कवरेज!

आज के अखबारों में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण मुख्य खबर है। भाषण में जो कहा गया वही शीर्षक और खबर है। उस पर आता हूं। उससे पहले, आपको याद दिलाऊं कि नए सांसदों के शपथग्रहण के दिन जयश्रीराम और दूसरे नारों की खबर किसी अखबार में …

संसद में चर्चा हुई तो तबरेज पहले पन्ने पर छपा, पहले उल्टा होता था!

‘उड़ीसा के मोदी’ ने संसद में पूछा, भारत में रहने का अधिकार किसे है – खबर कहीं दिखी? आज के अखबारों में चर्चा करने लायक कई खबरें हैं और इन खबरों के कारण थोड़ी चर्चा बदली राजनीति, बदली पत्रकारिता और खबरों के चयन की बदली नीति पर करनी चाहिए। आज के अखबार इसके लिए आदर्श …

तबरेज पिटाई से नहीं, व्यवस्था की नालायकी से मरा

अखबारों ने दो खबरों को दो तरह का ट्रीटमेंट दिया पर दोनों मामलों में लापरवाही को रेखांकित नहीं किया चोरी के आरोप में पकड़े गए झारखण्ड के खरसावां निवासी तबरेज अंसारी उर्फ सोनू को पीट-पीट कर मार डालने की खबर सोशल मीडिया पर मैंने कल देखी थी। कल ही, राजस्थान के बाड़मेर में राम कथा …

जब दिल्ली में बंगाल की खबरें छपना अनियंत्रित हो गया

आज की कुछ खबरें जो पहले पन्ने पर छप सकती थीं! पश्चिम बंगाल में एक दिलचस्प मामला चल रहा है। आप जानते हैं कि राज्य में तृणमूल कांग्रेस का शासन है और पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अपनी जगह बनाई है। विधानसभा चुनाव में इससे भी बेहतर प्रदर्शन की तैयारी है। इसमें राजनीति और …

राष्ट्रपति के अभिभाषण में एयर स्ट्राइक का ‘जिक्र’ और दैनिक जागरण में आज यह खबर

राहुल ने मेज नहीं थपथपाई तो राजस्थान पत्रिका को एतराज, अमर उजाला में अटकल कि सोनिया ने राहुल को इशारा किया वैसे तो आज आम जनता से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण खबर है जीएसटी कौंसिल की बैठक में लिए गए निर्णय और दैनिक भास्कर ने इसे कायदे से लीड के रूप में पेश किया है। अन्य …

अमर उजाला की पत्रकारीय राजनीति को बूझिये!

हिन्दी के जो अखबार मैं देखता हूं उन सबमें आज 17वीं लोकसभा के गठन के बाद संसद के संयुक्त सत्र को राष्ट्रपति रामनाथ कोविद के संबोधन की खबर लीड है. अलग अलग अखबारों ने इसे भिन्न शीर्षक से छोटी या बड़ी खबर के रूप में लीड बनाया है. दैनिक हिन्दुस्तान में फ्लैग शीर्षक है, राष्ट्रपति …

IPS संजीव भट्ट का परिचय ‘द टेलीग्राफ’ जैसा देने से डर गए बाकी अखबार?

प्रज्ञा ठाकुर को टिकट देने का सत्याग्रह, संजीव भट्ट को सजा और हरेन पंड्या की मौत पर चुप्पी गुजरात की एक अदालत ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को 1990 में हिरासत में हुई मौत के एक मामले में गुरुवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। हिरासत में मौत के मामले में किसी आईपीएस …

बंटे हुए विपक्ष को हिंदुस्तान अखबार ने ‘एक साथ चुनाव पर विपक्ष बंटा’ लिख दिया!

आपने कहीं पढ़ा, मायावती ने कहा है, बैठक ईवीएम के मसले पर बुलाई गई होती तो मैं अवश्य ही शामिल होती देश में भले ही मुजफ्फरपुर के अस्पताल में हो रही बच्चों की मौत की चर्चा या गिनती चल रही हो, लोग नहीं समझ पा रहे हों कि स्वास्थ्य मंत्री ने कार्रवाई के नाम पर …

इस संपादकीय ‘संयम’ को क्या नाम दूं?

आज दैनिक भास्कर में (दूसरे) पहले पन्ने पर खबर है, “लोकसभा में गूंजा ‘जयश्रीराम’, ‘अल्ला हू अकबर’, ‘मंदिर वहीं बनाएंगे’ का नारा”। यह और इससे मिलती जुलती खबर मैं जो अखबार देखता हूं उनमें से किसी में भी पहले पन्ने पर नहीं है। दैनिक भास्कर का दूसरा पहला पन्ना इसलिए देखा कि खबरों के पहले …

प्रधानमंत्री का आदर्शवादी बयान प्रमुखता से और वास्तविकता अंदर के पन्ने पर!

अकेले राजस्थान पत्रिका ने दोनों खबरों को एक साथ पहले पन्ने पर छापा है आज के अखबारों में दो खबरें गौरतलब हैं। एक तो लगभग सभी अखबारों में पहले पन्ने पर प्रमुखता से है पर दूसरी खबर सिर्फ राजस्थान पत्रिका में पहले पन्ने पर है। दैनिक जागरण में यह खबर, “विपक्षी दलों को देंगे पूरी …

एक जैसी खबरें एक साथ छापने वाले अखबार डॉक्टर की हड़ताल और मौत की खबर एक साथ नहीं छाप रहे!

बिहार में बच्चों की मौत की खबर एचटी और नभाटा में पहले पन्ने पर, जागरण में लू से मौत की खबर है पश्चिम बंगाल के आंदोलनकारी जूनियर डॉक्टर के समर्थन में आईएमए की अपील पर आज देश भर में चिकित्सकों की हड़ताल है और इंडियन एक्सप्रेस में पहले पन्ने पर प्रकाशित अपील के अनुसार आज …

बिहार में डॉक्टर ड्यूटी पर हैं फिर भी बच्चे ‘चमकी’ और ‘लू’ से मर रहे, अखबारों में खबर गोल

डॉक्टर्स की हड़ताल और उससे जुड़ी खबरों को मिली प्राथमिकता देखिए अब यह बताने और यकीन दिलाने की जरूरत नहीं है कि पश्चिम बंगाल में चिकित्सकों की हड़ताल उनकी मांग और जरूरतों के लिए कम, राजनीति के लिए ज्यादा है। इस बारे में मैं कई दिनों से लिख रहा हूं और मेरे लिखने के केंद्र …

अपराध राजधानी दिल्ली, 12 घंटे में पांच हत्याएं; पहले पन्ने पर खबर गिनती के अखबारों में

इंडियन एक्सप्रेस ने कोलकाता डेटलाइन की तीन एक्सक्लूसिव बाईलाइन खबरें छापी हैं आज के हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने पर तीन कॉलम में एक खबर प्रमुखता से छपी है। इसका शीर्षक हिन्दी में लिखा जाए तो कुछ इस तरह होगा, “अपराध राजधानी : दिल्ली में 15 घंटे में 4 हमले , 5 हत्याएं”। पश्चिम बंगाल …

पश्चिम बंगाल में खराब कानून व्यवस्था : दिल्ली में आंदोलन – मौके की रिपोर्ट – समझिए

पहले पन्ने की खबरों के चयन का एंटायर पॉलिटिकल साइंस दिल्ली के अखबारों में आज पहले पन्ने पर खबर है कि पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर के आंदोलन के समर्थन में दिल्ली के डॉक्टर हड़ताल करेंगे। यह हड़ताल क्यों हुई और वास्तविक स्थिति क्या है यह पाठकों को ना बताया जाएगा ना उनकी दिलचस्पी होगी …

जनहित की खबर छोड़ कोलकाता में भाजपा की रैली दिल्ली के हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने पर

बंगाल की राजनीति दिल्ली के अखबार में !! बंगाल की राजनीति दिल्ली के अखबारों में हो रही थी। मेरा मानना है कि कोलकाता में भाजपा की लड़ाई दिल्ली के अखबारों में लड़ी जाए तो प्रत्यक्ष परोक्ष लाभ देश भर में मिलेगा। और पहले ऐसा हो चुका है। इसलिए कोलकाता की खबरें दिल्ली के अखबारों में …

ये दो खबरें सिर्फ दैनिक जागरण में लीड न्यूज क्यों बनी हैं?

पहले पन्ने की खबरों को समझने का एंटायर पॉलिटिकल साइंस एंड जरनलिज्म आज कुछ ऐसी खबरों के बारे में जो सभी अखबारों में पहले पन्ने पर होनी चाहिए थीं पर नहीं है। कल मैंने लिखा था कि टप्पल में अभियुक्तों को फांसी देने और जिन्दा जला देने की मांग अखबारों में खूब है पर जम्मू …

मानना पड़ेगा ‘इंडियन एक्सप्रेस’ अब भी सत्ता विरोधी है, देखें ये खबर

मैंने तय किया था कि अपनी तमाम उपलब्धियों के लिए दोबारा सत्ता में आई सरकार के काम-काज पर नजर रखना छोड़ दिया जाए। मैंने मान लिया था कि सरकार से मेरी अपेक्षाएं अलग हैं और आम जनता की अलग। इसलिए उसमें दिमाग खराब नहीं करूंगा। 12 आयकर अधिकारियों को जबरन हटाए जाने की खबर मैंने …

टप्पल की दरिंदगी पर अखबारों की खबरें और शीर्षक देखिए

फिर कठुआ के ऐसे ही एक मामले में अदालत के फैसले की रिपोर्टिंग पर गौर कीजिए आज मैं एक जैसे दो मामलों में अखबारों के शीर्षक पेश कर रहा हूं। कल अलीगढ़ में मासूम की हत्‍या पर अलीगढ़ के पास टपप्ल में उबाल की खबर थी। कातिलों को फांसी देने और जिन्दा जलाने की मांग …

टप्पल की घटना को अखबारों ने कैसे कवर किया, जानें

गुस्सा सिर्फ टप्पल की घटना पर क्यों हैं? दूसरे बलात्कारियों को फांसी और जलाने की मांग क्यों नहीं? वैसे तो मुझे आज पश्चिम बंगाल में भाजपा की राजनीति और अखबारों में उसकी पर रिपोर्टिंग पर लिखना चाहिए लेकिन यह मामला अभी कुछ दिन चलेगा और उसपर लिखने का मौका फिर मिलेगा। पर अलीगढ़ के टप्पल …

दैनिक जागरण में आज एक चौंकाने वाली खबर लीड है

दैनिक जागरण में आज एक चौंकाने वाली खबर लीड है। मुझे किसी और अखबार में यह खबर पहले पन्ने पर इतनी प्रमुखता से छपी नहीं दिखी। खबर का शीर्षक है, सवा लाख अपात्र लोगों के खातों से पीएम किसान योजना का पैसा वापस। यहां सवाल उठता है कि अपात्र लोगों के खातों में पैसा गया …

नीति निर्माण का नेहरूवादी फर्मा हटाना और अब नीति आयोग की ‘निरर्थक’ बैठक

हिन्दुस्तान की ‘खबर’ से क्या आप इस मामले को समझ पाएंगे? द टेलीग्राफ की खबर, “नई सरकार में सिंहासनों का खेल” की चर्चा करते हुए मैंने कल लिखा था, इसके साथ दो कॉलम की दो खबरें हैं। …. दूसरी खबर, नीति आयोग में मंत्री ज्यादा – किसी अखबार में नहीं दिखी। नीति आयोग की खबर …

खबर को खबर की तरह छापने से भी परहेज करते हैं अखबार

अमित शाह को सरकार में नंबर टू बनाने का इशारा अखबार समझ नहीं रहे या बता नहीं रहे? मैंने कल लिखा था कि अंग्रेजी और हिन्दी के ज्यादातर अखबारों ने रोजगार और विकास में तेजी लाने के लिए दो समितियां बनाने की सरकारी खबर को लीड बनाया है। आज के अखबारों में खबर है कि …

मंदी और बेकारी से चिंतित सरकार ने समिति बनाई, अखबारों ने फैला दिया पर इलेक्टोरल बांड पर सन्नाटा!

जागरण ने लिखा, शायद पहली बार … हिन्दुस्तान की नजर में मोदी मोर्चे पर ! आज के अखबारों में कोई बड़ी खबर नहीं है। द टेलीग्राफ, इंडियन एक्सप्रेस में उनकी अपनी एक्सक्लूसिव खबरें हैं पर सरकारी खबरों में लीड बनाने लायक कोई खास खबर न होने से अंग्रेजी और हिन्दी के ज्यादातर अखबारों ने रोजगार …

अखबारों को नई शिक्षा नीति के पुराने मसौदे की खबर ही नहीं मिली

सपा-बसपा की खबर आज भी प्रमुखता से है पर बिहार में भाजपा और नीतिश का मामला? आज हिन्दुस्तान में पहले पन्ने पर स्कंद विवेक धर की एक खबर है, “चूक : हिंदी नहीं थी अनिवार्य अपलोड हुआ था पुराना मसौदा”। कल मैंने लिखा था कि अनिवार्य हिंदी शिक्षण पर मोदी सरकार के पहले यू-टर्न की …

ज्यादातर अखबार खबर खा गए, अटकल को खबर बना परोसा

सपा-बसपा गठजोड़ पर अटकल, हिन्दी और प्रज्ञा ठाकुर से संबंधित खबर और हमारी पत्रकारिता वैसे तो आज नई शिक्षा नीति के संशोधित मसौदे से हिन्दी का उपबंध हटाए जाने की खबर हिन्दी अखबारों के लिए बड़ी खबर होनी चाहिए थी। अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ ने इसे लीड बनाया है। इंडियन एक्सप्रेस में पहले पन्ने पर …

अखबारों ने नहीं बताया कि पाकिस्तान ने जो किया वह जैसे को तैसा है

आज के अखबारों में ‘भारत की इफ्तार पार्टी में पाकिस्तान ने मेहमानों को रोका, सुरक्षा के नाम पर मेहमानों से बदसुलूकी की गई और भारत ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई’ जैसी खबर प्रमुखता से छपी है। इंडियन एक्सप्रेस ने इस खबर के साथ ‘एक्सप्लेन्ड’ में बताया है कि यह ‘जैसे को तैसा’ वाली कार्रवाई …

भक्ति मोड में ‘इंडियन एक्सप्रेस’!

इमरान खान ने फोन करके प्रधानमंत्री को बधाई दी। इमरान खान की ओर से तो यह एक औपचारिकता है पर चुनाव प्रचार के दौरान जो स्थितियां बनीं थीं उसके मद्देनजर एक महत्वपूर्ण खबर है। खबर एनडीटीवी डॉट कॉम के अनुसार, इमरान खान ने नरेंद्र मोदी को फोन कर बात की और दोनों देशों के लोगों …

संविधान रक्षा की शपथ की यह खबर और अखबारों में क्यों नहीं है?

आज पढ़िए पहले पन्ने की कुछ खास खबरें आज दैनिक भास्कर में प्रधानमंत्री की दो तस्वीरें हैं – एक 2014 की जब उन्होंने पहली बार संसद पहुंचने पर सीढ़ियों पर माथा टेका था। अखबार ने बताया है कि कल उन्होंने संविधान को नमन किया। इसकी फोटो भी है। अखबार ने इन फोटुओं का शीर्षक लगाया …

क्या यह एक हादसे की खबर का राजनीतिक हो जाना नहीं है!

सूरत में मरने वाले 21 में से 18 लड़कियां हैं – किस अखबार ने प्रमुखता दी? टाइम्स ऑफ इंडिया ने सूरत की खबर के शीर्षक में बताया है कि आग लगने से मरने वाले 19 बच्चों में 16 लड़कियां हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया ने ही अपनी एक खबर में बताया है कि बीजू जनता दल …

टाइम्स आफ इंडिया ने शीर्षक लगाया- ‘चौकीदार का चमत्कार’

हिन्दी अखबारों में ‘अजेय मोदी’ से लेकर ‘प्रचंड मोदी’ तक के शीर्षक लगे आज के अखबारों में दिलचस्प है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फोटो। एक ही मौके की लगभग एक जैसी फोटो अलग-अलग साइज और स्टाइल में कई अखबारों में छपी है। दैनिक भास्कर और अमर उजाला में तो बिल्कुल एक जैसी। इतनी बड़ी जीत …

ईवीएम के समर्थन में चुनाव आयोग ने जो लीपा-पोता

आज मैं कुछ लंबा-चौड़ा या भारी-भरकम लिखूं तो पढ़ेगा कौन? इसलिए द टेलीग्राफ की एक खबर का अनुवाद कर दिया। इससे पता चलता है कि जिस चुनाव नतीजे का हम इंतजार कर रहे हैं उसे कराने वाली ईवीएम के बारे में उठने वाली शंकाओं को दूर करने के लिए चुनाव आयोग ने क्या किया। हिन्दी …

छह खबरें और छत्तीस डिसप्ले, इसमें पत्रकारिता कहां है?

इसके बावजूद बच्चों को पढ़ाई जाती है पत्रकारिता आज के अखबारों में पहले पन्ने पर तीन राजनीतिक खबरें हैं जो निर्विवाद रूप से पहले पन्ने की है। इनमें पहला ईवीएम का मामला, दूसरा चुनाव आयोग का फैसला कि वे विरोध की आवाज को बहुमत से दबाते रहेंगे और तीसरा राजग सहयोगियों के लिए भाजपा का …

ईवीएम स्ट्रांगरूम में 12 ईवीएम बाद में रखा जाना साधारण बात नहीं है!

सारण और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र का मामला सोशल मीडिया पर कल शाम (20 मई 19) एक खबर तेजी से फैली कि बिहार के सारण (छपरा) और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र के (ईवीएम) स्ट्रांगरूम के आस-पास ईवीएम से लदी एक गाड़ी पकड़ी गई है। आरोप था कि इसे स्ट्रांग रूम में ले जाने की कोशिश की जा …

ईवीएम और वीवीपैट पर्चियों की गिनती अलग हो तो क्या होगा, मामला स्पष्ट नहीं और खबर भी गोल है!

ईवीएम में सुधार की मांग से भाजपा क्यों घबड़ा जाती है और खबर क्यों दब जाती है? मतदान, एग्जिट पोल के नतीजों और मतगणना के बीच आज ईवीएम की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है। कल सोशल मीडिया पर कई खबरें रहीं और आज के अखबारों में (राजस्थान पत्रिका में पहले पन्ने पर) यह खबर है कि …

राजग को 300 सीटें आ भी जाएं तो कैसे आईं, ये कौन बताएगा?

आज के अखबारों में टेलीविजन चैनल के एक्जिट पोल के हवाले से यही खबर है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वापस सरकार बना लेंगे। इंडियन एक्सप्रेस का बैनर शीर्षक है, सभी एक्जिट पोल राजग की वापसी का संकेत दे रहे हैं। अटकल खबर नहीं होती पर उसे बैनर बना दिया जाए तो हम आप क्या कर …

एक्जिट पोल क्या इसीलिए हैं?

टॉप करने वाला बच्चा फेल कर जाए तो आत्महत्या कर लेता है। अचानक किसी अनहोनी की सूचना मिले तो हार्ट फेल हो जाता है। ऐसे में 100 सीट की उम्मीद करने वाले को 300 सीट मिलने की सूचना मिले और ऐसे लाखों लोग हों तो वो क्या करेंगे इसकी कल्पना नहीं की जा सकती है। …

टेलीग्राफ को छोड़ किसी अखबार ने केदार यात्रा को चुनावी तीर्थ बताने की हिम्मत नहीं की

आज के लगभग सभी अखबारों में पहले पन्ने पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फोटो छपी है जो गेरुआ वस्त्र पहने पांच मीटर लंबी और तीन मीटर चौड़ी ध्यान गुफा में हैं। अंग्रेजी दैनिक द टेलीग्राफ ने इस बारे में बताया है कि एएनआई ने यह तस्वीर ट्वीट की और लिखा, (अंग्रेजी से अनुवाद …

“पूर्व तड़ीपार” अध्यक्ष और हर हफ्ते हाजिरी लगाने वाली उम्मीदवार !

राष्ट्रवादी पार्टी का दावा भगवा आंतकवाद के खिलाफ सत्याग्रह का आज के अखबारों से क्या आपको पता चला कि मालेगांव ब्लास्ट केस में भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर को हर हफ्ते कोर्ट में हाजिरी लगानी पड़ेगी। अदालत ने यह आदेश दिया है और पहली तारीख 20 मई को ही है। वैसे तो मैं किसी व्यक्ति को …

प्रमुख खबरें छोड़कर बंगाल चुनाव, ममता पर आरोप पहले पन्ने को घेरे हुए हैं

दिल्ली के अखबारों में बंगाल का चुनाव छाया हुआ है। 12 मई को छठे चरण के मतदान के बाद बाकी बची 59 सीटों के लिए मतदान 19 मई को है। छठे चरण में पश्चिम बंगाल की आठ सीटें थीं। इस बार नौ सीटों के लिए मतदान है। 2014 में ये नौ सीटें टीएमसी ने जीती …

आज के ज्यादातर अखबारों ने साबित किया, नाम बड़े दर्शन छोटे

कोलकाता की घटना को दिल्ली के अखबारों में ज्यादा महत्व दिए जाने पर मैंने कल लिखा था। आज भी उसका असर दिल्ली के अखबारों में है। आज ये नहीं कहा जा सकता कि मामला सिर्फ कोलकाता का रह गया है। चुनाव आयोग का फैसला है, अंतिम चरण के चुनाव की खबर है, पहली बार हुई …

अमित शाह के रोड शो में हिंसा का सच – जनसत्ता और राजस्थान पत्रिका के हवाले से

आज दिल्ली के अखबारों में आपने पढ़ा कि कोलकाता में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान तृणमूल कार्यकर्ताओं ने हिंसा की – इस कारण रैली नहीं हो पाई। इसपर भाजपा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री, पुलिस और तृणमूल कार्यकर्ताओं के खिलाफ शिकायत की है और तृणमूल पार्टी ने भाजपा …

भाजपाइयों की तोड़फोड़ को तृणमूल कार्यकर्ताओं से झड़प बताते दिल्ली के अखबार!

आज के अखबारों में भाजपा से जुड़ी दो खबरें हैं और दोनों गौर करने लायक हैं। पहली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की फोटो का मीम शेयर करने के लिए गिरफ्तार प्रियंका शर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत पर रिहा करने का आदेश है। इस मामले को अखबारों में एक जीत की तरह पेश …

रेडार और बादल वाले इंटरव्यू के सवाल जवाब तय थे फिर भी ढेरों गलतियां

अखबार छाप नहीं रहे और लोग “शिक्षित समर्थकों” पर हंस रहे हैं तय सवाल-जवाब वाले टेलीविजन इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिए गए गलत, झूठे और अविश्वसनीय जवाब पर तरह-तरह के चुटकुले चल रहे हैं और दिल्ली के अखबार बता रहे हैं ममता बनर्जी की मीम बनाने वाली महिला सुप्रीम कोर्ट पहुंची और इसपर …

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रेडार ज्ञान पर आज कोई फॉलोअप नहीं

डिवाइडर इन चीफ पर भी अखबारों में चर्चा नजर नहीं आ रही है; अमर उजाला में टॉप बॉक्स है, “अलवर दुष्कर्म कांड पर उत्तर प्रदेश में दलित वोट के लिए सियासी जंग” और नभाटा में लीड है “कांग्रेस ने जवानों के सिर कटवाए अब वोट कटवा रही है” आज के अखबारों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी …

प्रधानमंत्री की पीआर एजेंसी की तरह काम कर रहा है मीडिया

इंडियन एक्सप्रेस में आज प्रधानमंत्री का इंटरव्यू छापना संपादकीय विवेक और आजादी को गिरवी रखना ही है आज सुबह नीन्द खुली तो लगा कुछ जल्दी है। कमरे में अंधेरा था, समय देखने के लिए लाइट जलाने की बजाय मैंने फोन उठा लिया। छह बज रहे थे। अमूमन छह बजे ही उठता हूं पर आज इतवार …

सबसे अच्छी प्रस्तुति दैनिक भास्कर की, सबसे चौंकाने वाला टाइम्स और एक्सप्रेस!

क्या 1984 याद करने वालों के लिए 2002 भूल जाना सामान्य है 34 साल बाद हुआ तो हुआ – ऐसे ही नहीं हो जाता है आइए आज उसे समझते हैं। दिल्ली, हरियाणा और पंजाब की 30 लोकसभा सीटों के लिए क्रम से 12 और 19 मई को मतदान होने हैं। 12 को दिल्ली की सात …

अखबार नहीं बता रहे पर तेज बहादुर अगले राजनारायण बन सकते हैं, पढ़िए क्यों?

आईएनएस सुमित्रा पर कनाडा का नागरिक याद है – द टेलीग्राफ ने पूछा मैंने कल लिखा था, “आज दैनिक हिन्दुस्तान में पहले पन्ने पर एक छोटी सी खबर है, तेज बहादुर की अर्जी पर गौर करें। सवा चार लाइन की इस खबर का विस्तार अंदर के पेज पर होना बताया गया है और अंदर दो …

द टेलीग्राफ और इंडियन एक्सप्रेस गालियों पर खेल गए!

दिल्ली के अखबारों में खबरों को मिलने वाली प्राथमिकता देखने के लिहाज से 8 मई का दिन महत्वपूर्ण है। आम दिनों से बहुत अलग क्योंकि आठ मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली में रैली की और प्रियंका गांधी का रोड शो था। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कई बातें कहीं जो आप आगे पढ़ेंगे …

भाजपा नेताओं द्वारा लेह के पत्रकारों को रिश्वत देने की खबर दबा गए ज्यादातर अखबार

लेह के पत्रकारों ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर रिश्वत देने का आरोप लगाया है। अपने आप में यह अनूठा मामला है। इसके अलावा, इससे संबंधित कई और तथ्य हैं जो इस खबर को महत्वपूर्ण बनाते हैं। पांच मई को मैंने लिखा था कि टेलीग्राफ में पहले पन्ने पर एक महत्वपूर्ण खबर है जो …

सोनिया गांधी की संपत्ति को लेकर दैनिक जागरण में छपी खबर अफवाह साबित हुई!

सोनिया गांधी की संपत्ति को लेकर भक्त लोग अफवाह फैलाते रहते हैं। ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल से मालूम हुआ था कि 14 मार्च 2012 को दैनिक जागरण ने एक खबर छापी थी, दुनिया की चौथी सबसे अमीर राजनेता सोनिया! इसके अलावा इस दावे के समर्थन में कोई ठोस तथ्य नहीं मिला। ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल …

आज के अखबारों में दो चीजें गौरतलब हैं

प्रधानमंत्री को चुनाव आयोग के क्लीन चिट, सुप्रीम कोर्ट में मामला और अखबारों में खबर आज के अखबारों में दो चीजें गौरतलब हैं। मुख्य न्यायाधीश बेदाग करार दिया जाना और प्रधानमंत्री तथा भाजपा अध्यक्ष को चुनाव आयोग से मिल रहे क्लीन चिट पर सवाल। कहने की जरूरत नहीं है कि मुख्य न्यायाधीश वाली खबर सभी …

प्रधानमंत्री ने जो कहा – सो कहा, अखबारों ने क्या किया?

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी नंबर वन कहकर प्रधानमंत्री ने जो किया सो किया अखबारों ने क्या किया यह देखने लायक है। मेरा साफ मानना है कि नरेन्द्र मोदी जैसे नेताओं का झूठ इसीलिए चल जाता है कि वो अखबारों में छप जाता है। अखबार अगर खबर के साथ ही वास्तविक स्थिति बता रहे …

आरोप प्रत्यारोप के दौर में झूठा साबित करने की होड़ और नवभारत टाइम्स का योगदान !

चुनाव चल रहे हैं। हिन्दी पट्टी में मतदान होने हैं। इसलिए आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेजी पर है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प है कि किसने किस आरोप को कितनी प्रमुखता दी। खासकर तब जब प्रधानमंत्री पर झूठ बोलने का आरोप है और अखबारों को पता है कि किस आरोप में कितना दम है। इन खबरों …

एक तूफान नाम अनेक – फणी से लेकर फनि तक

जानिए कैसे रखे जाते हैं तूफान के नाम और सही नाम फनी क्यों है उड़ीशा में 20 साल का सबसे भयंकर तूफान आया है लेकिन नुकसान सबसे कम हुआ है। दैनिक भास्कर ने इस खबर को अपने दूसरे फ्रंट पेज पर लीड बनाया है। पहले पन्ने पर आधा विज्ञापन है। आज मैं पहले पन्ने की …

येति युग की भारतीय सेना और सत्तारूढ़ नेताओं की आस्था में पिसती पत्रकारिता

भारतीय सेना के कार्यों का श्रेय लेने और महिमामंडन की चुनावी कोशिशों के बीच सेना की हास्यास्पद भूमिका की पोल खुल गई है। हालांकि, अखबारों ने इसे ऐसे प्रस्तुत नहीं किया है। सेना की निन्दा वैसे भी देशद्रोही करार दिए जाने का जोखिम लेना है। फिर भी दुनिया भर में इसकी चर्चा है। आपने भी …

सेना और सैनिक के शोर में शहीद होने और नामांकन रद्द होने की खबरें

वाराणसी से चुनाव लड़ने के लिए दाखिल बीएसएफ के बर्खास्त जवान का नामांकन रद्द कर दिए जाने की खबर मुझे कल शाम मिली। विस्तार जानने के लिए रात में मैंने टेलीविजन भी देख लिया। टेलीविजन पर तीन खबरें मुझे आज के अखबारों के लिहाज से पहले पन्ने की लगीं। मैं अपनी प्राथमिकता बताता हूं आप …

आज की दो खबरों से अपने अखबार को जानिए

“राहुल बोले, फाइलें जलने से आप नहीं बचने वाले मोदी जी” “बकवास है राहुल की नागरिकता पर सवाल” चुनाव का मौसम है और आज के अखबारों में कई चुनावी खबरें हैं। इनमें राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाने की भरपूर बेशर्मी है और गृहमंत्रालय की हद दर्जे की नालायकी। पर सब खबरों के रूप …

हिन्दुस्तान टाइम्स की खबर ने दैनिक जागरण की पुरानी खबर की याद दिला दी

आज (30 अप्रैल 2019) के हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने पर सिंगल कॉलम में एक खबर है, जिसका शीर्षक हिन्दी में लिखा जाए तो कुछ इस तरह होगा, “मसूद अजहर को इस हफ्ते अंतरराष्ट्रीय आतंकी का दर्जा मिलने की उम्मीद।” वैसे तो यह उम्मीद ही है। मिल भी जाए तो आम पाठक के किस काम …

दो साल से दोहराया जा रहा फूहड़ दावा हिन्दुस्तान और नवोदय टाइम्स में पहले पन्ने पर

आज हिन्दुस्तान अखबार के पहले पन्ने पर दो कॉलम में एक खबर है, “शाह ने कहा, सर्जिकल स्ट्राइक से विपक्ष परेशान”। ऐसा ही एक शीर्षक नवोदय टाइम्स में प्रकाशित खबर का है। इसके मुताबिक, “पाकिस्तान से अगर गोली आई तो यहां से गोला जाएगा”। आज की अन्य खबरों के आलोक में इन दो खबर की …

ईवीएम पर भाजपा के चुनाव निशान के नीचे बीजेपी लिखे होने की शिकायत

ईवीएम हैक किए जाने, ठीक काम नहीं करने और किसी को भी वोट देने पर भाजपा को जाने जैसी शिकायतों के बाद खबर आई थी कि ईवीएम की गड़बड़ी की शिकायत करने वाले मतदाताओं को कानून का डर दिखाने और फिर भी शिकायत पर टिके रहने पर जांच में शिकायत गलत जाने पर गिरफ्तार कर …

मोदी जी की आय : बाकी अखबारों में खबर गोल, भास्कर के शीर्षक में झोल

आज (शनिवार, 27 अप्रैल 2019) ) के दैनिक भास्कर की लीड है – मोदी का बैंक बैलेंस 26 लाख रुपए से चार हजार रुपए हुआ, एफडी 32 लाख से बढ़कर 1.27 करोड़ रुपए हुए। इस शीर्षक को पढ़कर ग्यारहवीं में पढ़ने वाली मेरी बेटी ने पूछा कि बैंक बैलेंस इतना कम कैसे हो गया। उसके …

आज दो एक्सक्लूसिव खबरें – पहले हिन्दुस्तान टाइम्स और फिर द टेलीग्राफ की

अभिव्यक्ति की आजादी और असली-नकली गालीबाजों को मंच-माइक-स्टूडियो मुहैया कराना! आज हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने से पहले के अधपन्ने पर सबसे नीचे एक छोटी सी खबर है। तीन लाइन के शीर्षक और नौ लाइन की यह खबर दरअसल अंदर विस्तृत खबर होने की सूचना है। पर पहले पन्ने की खबर का शीर्षक हिन्दी में …

पीएम का हेलीकॉप्टर सर्च करने वाले आईएएस अफसर के निलंबन खत्म होने की खबर अखबारों ने गोल कर दी!

वीआईपी किसी भी चीज या सब चीज के योग्य नहीं है – ये कौन बताए क्या आप जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हेलीकॉप्टर की जांच करने के आरोप में निलंबित आईएएस अधिकारी का निलंबन खत्म कर दिया गया है और चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की है। यह खबर …

शिकायत करने वाले पर ही कार्रवाई होने के डर से पूर्व डीजीपी ने ईवीएम की आंखों देखी गड़बड़ी की शिकायत ही नहीं की!

पूर्व डीजीपी ने नहीं की ईवीएम की शिकायत… प्रज्ञा ठाकुर के मामले में एनआईए की खिंचाई खबर नहीं है! आज के टाइम्स ऑफ इंडिया में पहले पन्ने पर खबर है, “जेल जाने के डर से वीवीपैट पर सही वोट नहीं दिखने की शिकायत नहीं की – पूर्व डीजीपी”। यह असम की राजधानी गुवाहाटी की खबर …

प्रधानमंत्री के मुकाबले राहुल गांधी कैसे?

हमारे देश में प्रधानमंत्री का चुनाव नहीं होता है। आम जनता संसद के निचले सदन लोक सभा के लिए सदस्यों का चुनाव करती है और चुने गए सदस्यों में सबसे बड़े दल का नेता प्रधानमंत्री होता है। अगर किसी एक दल को बहुमत न मिले तो भिन्न दलों का समूह अपना नेता चुनता है वही …

बिलकिस बानो के दोषियों के धर्म की बात नहीं की अखबारों ने

ईवीएम की गड़बड़ी और शिकायत से संबंधित नियम 49एमए जानने लायक है सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को गुजरात सरकार को आदेश दिया कि वह बिलकिस बानो को 50 लाख रुपये मुआवजा, नौकरी व घर मुहैया कराए। बिलकिस 2002 के गुजरात दंगों के दौरान सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हुई थीं। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता …

राहुल गांधी की माफी को भास्कर ने समझाया, जागरण ने उलझाया

भारतीय जनता पार्टी की सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में एक अवमानना याचिका दायर की है। इसी का जवाब देते हुए कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने कल जो हलफनामा दिया, उसे लेकर मीडिया और सोशल मीडिया में गलत रिपोर्टिंग होती रही। अवमानना के केस में लेखी ने राफेल सौदे के संदर्भ में “चौकीदार चोर …

दैनिक भास्कर ने इंटरव्यू कर अमित शाह को साध्वी पर बोलने का मौका दिया

आधे पन्ने के इंटरव्यू में ना ढंग से सवाल पूछे ना खुद सही स्थिति बताई दैनिक भास्कर में आज भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह से अहमदाबाद में दिव्य भास्कर स्टेट एडिटर देवेंद्र भटनागर की खास बातचीत छपी है। इसमें अन्य सवालों के साथ एक सवाल है – साध्वी प्रज्ञा को टिकट देने का …

आज के अखबारों में देखिए सरकार की कथनी और करनी का अंतर

अखबारों की मजबूरी और संतुलन बनाए रखने की उनकी कोशिश को समझिए श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में ईस्टर के मौके पर रविवार को हुए कई धमाकों में 215 लोगों की मौत हो गई। 500 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। इनमें भारत के तीन और भारतीय मूल की दुबई की एक महिला समेत कुल चार …

‘न्याय योजना’ पर मनमोहन सिंह से जुड़ी खबर किसी अखबार में दिखी?

विदेश में रखा काला धन वापस आ जाए तो देश में हर व्यक्ति को 15 लाख रुपए मिल सकते हैं, का सपना दिखाकर सत्ता में आई भारतीय जनता पार्टी की नरेन्द्र मोदी सरकार ने विदेश में रखा काला धन वापस लाने के लिए क्या किया इसका कोई प्रचार-विज्ञापन तो सुनने में नहीं आया (15 लाख …

साध्वी प्रज्ञा के बचाव के साथ कुछ पुरानी जानकारी जो सभी अखबारों में नहीं है

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल में कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ भाजपा का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद साध्वी का बयान, उसपर प्रतिक्रिया और फिर बयान को वापस लेना, उसपर माफी मांगना, भाजपा द्वारा खुद को बयान से अलग किया जाना और उसे उनकी निजी पीड़ा का असर कहना आज …

प्रधानमंत्री के हेलीकॉप्टर की जांच पर विवाद, खबर पहले पन्ने पर नहीं है

फर्जी छापों की खबर छपती है पर जांच नहीं होने देने की नहीं छपी आज हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने से पहले के अधपन्ने पर सिंगल कॉलम की एक छोटी सी खबर है, हेलीकॉप्टर की तलाशी के लिए मुअत्तल किए जाने पर विवाद। इस खबर का विस्तार पेज 12 पर होना बताया गया है। पर …

बेमौसम की बारिश पर मौसमी सुर्खी बनने योग्य प्रधानमंत्री का ट्वीट

वैसे तो आज के अखबारों में कई खबर हैं। देश के कई हिस्सों में मतदान है। इससे संबंधित सूचना और भोपाल में साध्वी प्रज्ञा को भाजपा का उम्मीदवार बनाने की घोषणा से लेकर वोट मांगने की चालें, चुनाव आयोग के नोटिस और उनपर योगी की चाल आदि के साथ राहुलगांधी ने दक्षिण के काशी में …

आयकर वालों ने कनिमोझी के घर गलत सूचना पर छापा मारा, कुछ नहीं मिला

अखबारों में छापे की खबर है, कुछ नहीं मिला यह बहुत कम – अब क्या करेगा चुनाव आयोग चुनाव के दौरान आयकर छापों से यह संदेश जाता ही है कि जो राजनीतिक दल सत्ता में है वह पहले की सरकारों के मुकाबले ‘अच्छी’ या ‘निष्पक्ष’ कार्रवाई कर रहा है। इसमें सत्तारूढ़ दल पर छापे नहीं …

तीन खबरें जो आज पहले पन्ने पर होनी चाहिए थी, नहीं हैं

आप जानते हैं कि अखबारों में पहले पन्ने पर कैसी खबर होती है। आज यह जानिए कि कौन सी खबर पहले पन्ने पर नहीं है। आज कम से कम तीन ऐसी खबरें है जो पहले पन्ने पर होनी चाहिए थी। किसी न किसी अखबार में हैं भी लेकिन इन्हें आम तौर पर प्रमुखता नहीं मिली। …

ईवीएम विवाद पर दैनिक भास्कर की आज की खबर आदर्श है

ईवीएम विवाद सत्तारूढ़ दल बनाम विपक्ष या विपक्ष बनाम चुनाव आयोग नहीं है। ईवीएम से जो नतीजे मिलें वे बिल्कुल सही हों (एक-एक वोट की गिनती) यह उतना ही जरूरी है जितना एक लीटर पेट्रोल के पैसे देने पर एक लीटर पेट्रोल मिलना या एक मीटर कपड़े की कीमत देने पर एक मीटर कपड़ा मिलना …

ईवीएम में सुधार की मांग से भाजपा क्यों घबरा जाती है

आज के अखबारों में ईवीएम पर विपक्षी नेताओं की बैठक और सुप्रीम कोर्ट जाने के निर्णय की खबर आमतौर पर प्रमुखता से है। मेरा मानना है कि ईवीएम से छेड़छाड़ न हो यह सुनिश्चित करना सबका काम है। इसलिए सबको सतर्क रहने की जरूरत है और जो भी सवाल उठाए जाएं उसपर विचार होना चाहिए …

फर्जी प्रमाणपत्र पर सांसद और झूठे हलफनामे पर मंत्री बने रहना मुमकिन है!!

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शैक्षणिक योग्यता का मामला अब साफ होता लग रहा है। 2004 से लेकर 2019 तक के चुनावी हलफमानों में उनकी शैक्षणिक योग्यता चर्चा का विषय रही है। उन पर झूठ बोलने के आरोप भी लगे। अब जब उन्होंने हलफनामे में मान लिया है कि स्नातक नहीं हैं तो सवाल उठता …

पूर्व सैनिकों की चिट्ठी और राष्ट्रपति भवन की जल्दबाजी : भाजपा इस मामले में कूद पड़ी, मामला उल्टा पड़ गया!

शुक्रवार, 12 अप्रैल 2019 (कल) की अपनी रिपोर्ट में मैंने अंग्रेजी दैनिक द टेलीग्राफ की पूर्व सैनिकों की चिट्ठी वाली खबर की चर्चा की थी और बताया था कि वह खबर दूसरे अखबारों में नहीं है। इसके साथ ही मैंने सुप्रीम कोर्ट में इलेक्टोरल बांड के मुद्दे पर चर्चा की थी और बताया था कि …

अब सेना के दिग्गजों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी, इलेक्टोरल बांड को लेकर भी सरकार घिरी

पूर्व नौकरशाहों के बाद अब सेना के दिग्गजों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी है। अंग्रेजी दैनिक द टेलीग्राफ में प्रकाशित एक खबर के अनुसार कम से कम आठ पूर्व सेना प्रमुख और कई अन्य दिग्गजों ने सशस्त्र सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति रामनाथ कोविद को पत्र लिखकर मांग की है कि सभी राजनीतिक दलों को …

चुनाव के दिन पोलिंग टीम की गाड़ी में नमो फूड्स का आना… अगर यह चूक है तो भी अक्षम्य है!

नोएडा में उत्तर प्रदेश पुलिस के लोगों को लेकर चल रही किराए के नंबर प्लेट वाली एक गाड़ी में खाने के पैकेट पर नमो लिखा था और इसपर काफी चर्चा हो चुकी है। यह गाड़ी नोएडा में एक मतदान केंद्र पर भी देखी गई। ट्वीटर उपयोगकर्ताओं ने इसकी तस्वीरें शेयर कीं। बताया जाता है कि …

चुनाव आयोग ने राजस्व सचिव को सख्त पत्र लिखा है, क्या इस खबर को आपके अखबार ने बताया?

हार से घबराए नेताओं की हरकतें और उसका नतीजा आचार संहिता लागू होने के दौरान इतवार को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों और पिछले दिनों कर्नाटक, तमिलनाडु तथा आंध्र प्रदेश में आ0यकर छापों और उस पर मचे शोर के मद्देनजर चुनाव आयोग ने राजस्व सचिव को पत्र लिखकर कहा था कि चुनाव के दौरान …

पाकिस्तानी सेना ने पत्रकारों को बालाकोट में ‘नुकसान’ दिखाया, आपको खबर मिली?

2019 के चुनाव का पहला मतदान आज है और कल ऐसी कई घटनाएं हुईं जो पहले पन्ने पर होनी चाहिए। अखबारों की अपनी मजबूरी और पूर्वग्रह हैं जिसकी वजह से और वैसे भी, आज जो खबर छपी है उसकी चर्चा नहीं करके एक ऐसी खबर की चर्चा करता हूं जो नवभारत टाइम्स में पहले पन्ने …

“जिसकी लाठी उसकी भैंस” शैली में “चौकीदारी” का ठेका लेना नहीं है चुनाव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल पहले चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार के अंतिम दिन महाराष्ट्र के लातूर में रैली की और दैनिक भास्कर की खबर के अनुसार पहली बार वोट देने वाले युवाओं से अपील की,‘‘क्या आपका पहला वोट हवाई हमला करने वालों के लिए हो सकता है?’’ अखबार ने इसे इस शीर्षक …

पुलिस ने भाजपा के अकाउंटैंट को आठ करोड़ के साथ पकड़ा, खबर गोल!

चुनाव आयोग की कमजोर कार्रवाई की शिकायत की कोई खबर मिली क्या? रिटायर नौकरशाहों के संगठन कांस्टीट्यूशनल कंडक्ट ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द को पत्र लिखकर शिकायत की है कि प्रधानमंत्री के मामले में चुनाव आयोग कमजोर है। क्या यह खबर आपने पढ़ी। क्या यह छोटी खबर है जो अखबारों में न छपे या ऐसे छपे …

जब सरकार आयकर और ईडी के छापों को अपनी ‘हिम्मत’ बताए…

एक राजनीतिक दल जब सरकारी कार्रवाई को अपनी ‘हिम्मत’ का रंग दे तो चुनाव से संवैधानिक संस्थाओं के दुरुपयोग की ताकत ही मालूम होगी आज ज्यादातर अखबारों में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के करीबियों के यहां पड़े आयकर के छापे और उसमें बरामद धन की खबर तथा फोटो है। मुझे याद नहीं है कि पहले चुनाव …

मिशन शक्ति को खतरनाक बताता नासा और डीआरडीओ का पलटवार

खबर नवोदय टाइम्स में प्रमुखता से छपी थी, खंडन कई अखबारों में लीड/बॉटम है मिशन शक्ति की घोषणा (27 मार्च) आपको याद होगी। आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद कैसे प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को संबोधित किया और एक ऐसी क्षमता हासिल करने की घोषणा की जिसके बारे में बाद में बताया गया कि यह …

थिएटर कलाकारों की अपील – किसी अखबार में दिखी क्या?

हंसी खतरे में है … हमारे भोजन, प्रार्थना और त्यौहारों में घृणा के बीज घुस गए हैं : थिएटर करने वालों की साझी अपील द टेलीग्राफ ने आज इस अपील के अंश को शीर्षक बनाया है। इसके साथ प्रधानमंत्री की फोटो है जिसमें वे हंस रहे हैं और इसके ऊपर लिखा है, हंसी खतरे में? …

चुनाव प्रचार में उपलब्धियां नदारद, झूठ गढ़ने की कोशिश

दैनिक जागरण के मुकाबले में आज टाइम्स ऑफ इंडिया आज के हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने पर एक खबर है, “सरकार ईडी (एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट यानी प्रवर्तन निदेशालय) का दुरुपयोग कर रही है मैंने कभी किसी का नाम नहीं लिया : मिशेल”। क्रिश्चियन मिशेल अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर खरीद घोटाले में विदेशी अभियुक्त हैं और उसे दुबई …

आचार संहिता की चर्चा नहीं और मार्गदर्शक मिसाइल को ‘ठंडा’ करना…

भारतीय जनता पार्टी और उसके नेताओं ने आदर्श आचार संहिता की धज्जियां उड़ा रखी हैं और चुनाव आयोग उनसे अपने ढंग से निपट रहा है। वैसे तो यह खास बात है पर मीडिया की जो हालत है उसमें यह कोई मुद्दा ही नहीं है। इसी का असर हुआ है कि आचार संहिता के उल्लंघन में …

आज के अखबारों में खबरें छोड़कर कांग्रेस के घोषणापत्र पर चर्चा

आज के ज्यादातर अखबारों में कांग्रेस के घोषणा पत्र पर चर्चा को लीड बनाया है। संभवतः यह पहला मौका है जब कांग्रेस के घोषणापत्र से विपक्ष को इतनी परेशानी है और इसे अखबारों में इतना महत्व मिल रहा है। कांग्रेस ने कहा है कि वह सेना को मिले विशेष अधिकार और राष्ट्रद्रोह के कानून को …