बांध टूटने की खबर बड़ी है या अमित शाह द्वारा दिल्ली पुलिस चीफ को तलब करने की?

दरार, रिसाव की पूर्व सूचना और दो ही महीने पहले, कथित मरम्मत के बावजूद सिर्फ 19 साल पुराने बांध का एक तिहाई हिस्सा बह गया। इससे सात गांवों में बाढ़ आ गई 23, लोग बह गए पर नभाटा में शीर्षक है, महाराष्ट्र में रेकॉर्डतोड़ बारिश से बांध में दरार, 7 गांव डूबे, 23 लोग लापता। …

विजयवर्गीय पिता-पुत्र के खिलाफ खबर प्रधानमंत्री की छवि बनाने का हिस्सा तो नहीं?

जर्नलिज्म ऑफ करेज ने इस खबर को लीड बनाया है तो इसे डैमेज कंट्रोल एक्सरसाइज भी कह सकते हैं! प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय के बारे में जो कहा वह पहले पन्ने पर होगा इसका अनुमान तो मुझे था पर इंडियन एक्सप्रेस इस खबर को लीड …

अमर उजाला ने इंदौर की खबर को पहले पन्ने पर नहीं छापा था, तेलंगाना की खबर आज पहले पन्ने पर है

आज के अखबारों में तेलंगाना की एक खबर पहने पन्ने पर है। इंडियन एक्सप्रेस में यह खबर लीड है और इसी से इसपर ध्यान गया। आप कह सकते हैं और अखबार ने लिखा भी है कि यह एक जैसी दूसरी वारदात है इसलिए कहने की जरूरत नहीं है कि खबर महत्वपूर्ण हो गई है। लेकिन …

‘बल्लामार’ के शिकार अफसर से बातचीत सिर्फ इंडियन एक्सप्रेस में पहले पन्ने पर

कई अखबारों में सुषमा स्वराज का बंगला खाली होने की खबर ज्यादा प्रमुखता से है आज के अखबारों में पहले पन्ने पर मध्यप्रदेश के बल्लामार विधायक आकाश विजयवर्गीय जो भाजपा महासचिव और मशहूर राजनेता कैलाश विजयवर्गीय के सुपुत्र भी हैं, को जमानत मिलने की खबर ढूंढ़ते हुए मैंने पाया कि सुषमा स्वराज ने अपना बंगला …

आज इस खबर को आप पत्रकारों की औकात से जोड़कर देख सकते हैं

सर्कुलर एक है सिर्फ प्रस्तुति के अंदाज से भाव बदल जाता है आज द टेलीग्राफ में पहले पन्ने पर एक खबर है जिसके साथ दिल्ली में दीवाली पर बांटे जाने वाले उपहार – तथाकथित ड्राईफ्रूट (मेवे) के डिब्बे की फोटो है। विज्ञापन के साथ दो कॉलम की इस खबर पर नजर नहीं जाती अगर इसके …

आरक्षण पर बांबे हाईकोर्ट का फैसला और अखबारों में इसका कवरेज

आज के अखबारों में छपी सबसे महत्वपूर्ण और सबके मतलब की खबर है, आरक्षण पर बांबे हाईकोर्ट का फैसला। अंग्रेजी अखबारों में तो यह पहले पन्ने पर है लेकिन हिन्दी अखबारों में सिर्फ राजस्थान पत्रिका ने इसे लीड बनाया है जबकि अंग्रेजी में यह टाइम्स ऑफ इंडिया में लीड है, इंडियन एक्सप्रेस में सेकेंड लीड …

विजयवर्गीय की औकात भी तो पूछ लेते

नेता पत्रकारों से औकात पूछे और खबर भी न छपे तो नेताओं का दिमाग खराब होगा ही। भाजपा महासचिव के विधायक पुत्र ने इंदौर नगर निगम के अधिकारी की बल्ले से पिटाई की और इस बारे में जब न्यूज़24 ने कैलाश विजयवर्गीय से बात की तो उन्हीने आपा खो दिया। एंकर ने कैलाश विजयवर्गीय से …

नीति आयोग के स्वास्थ्य सूचकांक की खबर सिर्फ दिल्ली के अस्पतालों के लिए?

आज दिल्ली की एक स्थानीय खबर की चर्चा करता हूं जो पहले पन्ने पर तो नहीं है, फिर भी अलग और अनूठी होने के कारण चर्चा योग्य है। हिन्दुस्तान टाइम्स ने इसे मेट्रो पन्ने पर पांच कॉलम में बॉटम छापा है। अंग्रेजी के इस खबर के शीर्षक का हिन्दी होगा (अनुवाद मेरा), “केंद्र शासित प्रदेशों …

पीएम का भाषण, संपादक की गिरफ्तारी और अखबारों में कवरेज!

आज के अखबारों में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण मुख्य खबर है। भाषण में जो कहा गया वही शीर्षक और खबर है। उस पर आता हूं। उससे पहले, आपको याद दिलाऊं कि नए सांसदों के शपथग्रहण के दिन जयश्रीराम और दूसरे नारों की खबर किसी अखबार में …

संसद में चर्चा हुई तो तबरेज पहले पन्ने पर छपा, पहले उल्टा होता था!

‘उड़ीसा के मोदी’ ने संसद में पूछा, भारत में रहने का अधिकार किसे है – खबर कहीं दिखी? आज के अखबारों में चर्चा करने लायक कई खबरें हैं और इन खबरों के कारण थोड़ी चर्चा बदली राजनीति, बदली पत्रकारिता और खबरों के चयन की बदली नीति पर करनी चाहिए। आज के अखबार इसके लिए आदर्श …

तबरेज पिटाई से नहीं, व्यवस्था की नालायकी से मरा

अखबारों ने दो खबरों को दो तरह का ट्रीटमेंट दिया पर दोनों मामलों में लापरवाही को रेखांकित नहीं किया चोरी के आरोप में पकड़े गए झारखण्ड के खरसावां निवासी तबरेज अंसारी उर्फ सोनू को पीट-पीट कर मार डालने की खबर सोशल मीडिया पर मैंने कल देखी थी। कल ही, राजस्थान के बाड़मेर में राम कथा …

जब दिल्ली में बंगाल की खबरें छपना अनियंत्रित हो गया

आज की कुछ खबरें जो पहले पन्ने पर छप सकती थीं! पश्चिम बंगाल में एक दिलचस्प मामला चल रहा है। आप जानते हैं कि राज्य में तृणमूल कांग्रेस का शासन है और पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अपनी जगह बनाई है। विधानसभा चुनाव में इससे भी बेहतर प्रदर्शन की तैयारी है। इसमें राजनीति और …

राष्ट्रपति के अभिभाषण में एयर स्ट्राइक का ‘जिक्र’ और दैनिक जागरण में आज यह खबर

राहुल ने मेज नहीं थपथपाई तो राजस्थान पत्रिका को एतराज, अमर उजाला में अटकल कि सोनिया ने राहुल को इशारा किया वैसे तो आज आम जनता से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण खबर है जीएसटी कौंसिल की बैठक में लिए गए निर्णय और दैनिक भास्कर ने इसे कायदे से लीड के रूप में पेश किया है। अन्य …

अमर उजाला की पत्रकारीय राजनीति को बूझिये!

हिन्दी के जो अखबार मैं देखता हूं उन सबमें आज 17वीं लोकसभा के गठन के बाद संसद के संयुक्त सत्र को राष्ट्रपति रामनाथ कोविद के संबोधन की खबर लीड है. अलग अलग अखबारों ने इसे भिन्न शीर्षक से छोटी या बड़ी खबर के रूप में लीड बनाया है. दैनिक हिन्दुस्तान में फ्लैग शीर्षक है, राष्ट्रपति …

IPS संजीव भट्ट का परिचय ‘द टेलीग्राफ’ जैसा देने से डर गए बाकी अखबार?

प्रज्ञा ठाकुर को टिकट देने का सत्याग्रह, संजीव भट्ट को सजा और हरेन पंड्या की मौत पर चुप्पी गुजरात की एक अदालत ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को 1990 में हिरासत में हुई मौत के एक मामले में गुरुवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। हिरासत में मौत के मामले में किसी आईपीएस …

बंटे हुए विपक्ष को हिंदुस्तान अखबार ने ‘एक साथ चुनाव पर विपक्ष बंटा’ लिख दिया!

आपने कहीं पढ़ा, मायावती ने कहा है, बैठक ईवीएम के मसले पर बुलाई गई होती तो मैं अवश्य ही शामिल होती देश में भले ही मुजफ्फरपुर के अस्पताल में हो रही बच्चों की मौत की चर्चा या गिनती चल रही हो, लोग नहीं समझ पा रहे हों कि स्वास्थ्य मंत्री ने कार्रवाई के नाम पर …

इस संपादकीय ‘संयम’ को क्या नाम दूं?

आज दैनिक भास्कर में (दूसरे) पहले पन्ने पर खबर है, “लोकसभा में गूंजा ‘जयश्रीराम’, ‘अल्ला हू अकबर’, ‘मंदिर वहीं बनाएंगे’ का नारा”। यह और इससे मिलती जुलती खबर मैं जो अखबार देखता हूं उनमें से किसी में भी पहले पन्ने पर नहीं है। दैनिक भास्कर का दूसरा पहला पन्ना इसलिए देखा कि खबरों के पहले …

प्रधानमंत्री का आदर्शवादी बयान प्रमुखता से और वास्तविकता अंदर के पन्ने पर!

अकेले राजस्थान पत्रिका ने दोनों खबरों को एक साथ पहले पन्ने पर छापा है आज के अखबारों में दो खबरें गौरतलब हैं। एक तो लगभग सभी अखबारों में पहले पन्ने पर प्रमुखता से है पर दूसरी खबर सिर्फ राजस्थान पत्रिका में पहले पन्ने पर है। दैनिक जागरण में यह खबर, “विपक्षी दलों को देंगे पूरी …

एक जैसी खबरें एक साथ छापने वाले अखबार डॉक्टर की हड़ताल और मौत की खबर एक साथ नहीं छाप रहे!

बिहार में बच्चों की मौत की खबर एचटी और नभाटा में पहले पन्ने पर, जागरण में लू से मौत की खबर है पश्चिम बंगाल के आंदोलनकारी जूनियर डॉक्टर के समर्थन में आईएमए की अपील पर आज देश भर में चिकित्सकों की हड़ताल है और इंडियन एक्सप्रेस में पहले पन्ने पर प्रकाशित अपील के अनुसार आज …

बिहार में डॉक्टर ड्यूटी पर हैं फिर भी बच्चे ‘चमकी’ और ‘लू’ से मर रहे, अखबारों में खबर गोल

डॉक्टर्स की हड़ताल और उससे जुड़ी खबरों को मिली प्राथमिकता देखिए अब यह बताने और यकीन दिलाने की जरूरत नहीं है कि पश्चिम बंगाल में चिकित्सकों की हड़ताल उनकी मांग और जरूरतों के लिए कम, राजनीति के लिए ज्यादा है। इस बारे में मैं कई दिनों से लिख रहा हूं और मेरे लिखने के केंद्र …

अपराध राजधानी दिल्ली, 12 घंटे में पांच हत्याएं; पहले पन्ने पर खबर गिनती के अखबारों में

इंडियन एक्सप्रेस ने कोलकाता डेटलाइन की तीन एक्सक्लूसिव बाईलाइन खबरें छापी हैं आज के हिन्दुस्तान टाइम्स में पहले पन्ने पर तीन कॉलम में एक खबर प्रमुखता से छपी है। इसका शीर्षक हिन्दी में लिखा जाए तो कुछ इस तरह होगा, “अपराध राजधानी : दिल्ली में 15 घंटे में 4 हमले , 5 हत्याएं”। पश्चिम बंगाल …

पश्चिम बंगाल में खराब कानून व्यवस्था : दिल्ली में आंदोलन – मौके की रिपोर्ट – समझिए

पहले पन्ने की खबरों के चयन का एंटायर पॉलिटिकल साइंस दिल्ली के अखबारों में आज पहले पन्ने पर खबर है कि पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर के आंदोलन के समर्थन में दिल्ली के डॉक्टर हड़ताल करेंगे। यह हड़ताल क्यों हुई और वास्तविक स्थिति क्या है यह पाठकों को ना बताया जाएगा ना उनकी दिलचस्पी होगी …

मानना पड़ेगा ‘इंडियन एक्सप्रेस’ अब भी सत्ता विरोधी है, देखें ये खबर

मैंने तय किया था कि अपनी तमाम उपलब्धियों के लिए दोबारा सत्ता में आई सरकार के काम-काज पर नजर रखना छोड़ दिया जाए। मैंने मान लिया था कि सरकार से मेरी अपेक्षाएं अलग हैं और आम जनता की अलग। इसलिए उसमें दिमाग खराब नहीं करूंगा। 12 आयकर अधिकारियों को जबरन हटाए जाने की खबर मैंने …

टप्पल की दरिंदगी पर अखबारों की खबरें और शीर्षक देखिए

फिर कठुआ के ऐसे ही एक मामले में अदालत के फैसले की रिपोर्टिंग पर गौर कीजिए आज मैं एक जैसे दो मामलों में अखबारों के शीर्षक पेश कर रहा हूं। कल अलीगढ़ में मासूम की हत्‍या पर अलीगढ़ के पास टपप्ल में उबाल की खबर थी। कातिलों को फांसी देने और जिन्दा जलाने की मांग …

टप्पल की घटना को अखबारों ने कैसे कवर किया, जानें

गुस्सा सिर्फ टप्पल की घटना पर क्यों हैं? दूसरे बलात्कारियों को फांसी और जलाने की मांग क्यों नहीं? वैसे तो मुझे आज पश्चिम बंगाल में भाजपा की राजनीति और अखबारों में उसकी पर रिपोर्टिंग पर लिखना चाहिए लेकिन यह मामला अभी कुछ दिन चलेगा और उसपर लिखने का मौका फिर मिलेगा। पर अलीगढ़ के टप्पल …

दैनिक जागरण में आज एक चौंकाने वाली खबर लीड है

दैनिक जागरण में आज एक चौंकाने वाली खबर लीड है। मुझे किसी और अखबार में यह खबर पहले पन्ने पर इतनी प्रमुखता से छपी नहीं दिखी। खबर का शीर्षक है, सवा लाख अपात्र लोगों के खातों से पीएम किसान योजना का पैसा वापस। यहां सवाल उठता है कि अपात्र लोगों के खातों में पैसा गया …

नीति निर्माण का नेहरूवादी फर्मा हटाना और अब नीति आयोग की ‘निरर्थक’ बैठक

हिन्दुस्तान की ‘खबर’ से क्या आप इस मामले को समझ पाएंगे? द टेलीग्राफ की खबर, “नई सरकार में सिंहासनों का खेल” की चर्चा करते हुए मैंने कल लिखा था, इसके साथ दो कॉलम की दो खबरें हैं। …. दूसरी खबर, नीति आयोग में मंत्री ज्यादा – किसी अखबार में नहीं दिखी। नीति आयोग की खबर …

खबर को खबर की तरह छापने से भी परहेज करते हैं अखबार

अमित शाह को सरकार में नंबर टू बनाने का इशारा अखबार समझ नहीं रहे या बता नहीं रहे? मैंने कल लिखा था कि अंग्रेजी और हिन्दी के ज्यादातर अखबारों ने रोजगार और विकास में तेजी लाने के लिए दो समितियां बनाने की सरकारी खबर को लीड बनाया है। आज के अखबारों में खबर है कि …

मंदी और बेकारी से चिंतित सरकार ने समिति बनाई, अखबारों ने फैला दिया पर इलेक्टोरल बांड पर सन्नाटा!

जागरण ने लिखा, शायद पहली बार … हिन्दुस्तान की नजर में मोदी मोर्चे पर ! आज के अखबारों में कोई बड़ी खबर नहीं है। द टेलीग्राफ, इंडियन एक्सप्रेस में उनकी अपनी एक्सक्लूसिव खबरें हैं पर सरकारी खबरों में लीड बनाने लायक कोई खास खबर न होने से अंग्रेजी और हिन्दी के ज्यादातर अखबारों ने रोजगार …

अखबारों को नई शिक्षा नीति के पुराने मसौदे की खबर ही नहीं मिली

सपा-बसपा की खबर आज भी प्रमुखता से है पर बिहार में भाजपा और नीतिश का मामला? आज हिन्दुस्तान में पहले पन्ने पर स्कंद विवेक धर की एक खबर है, “चूक : हिंदी नहीं थी अनिवार्य अपलोड हुआ था पुराना मसौदा”। कल मैंने लिखा था कि अनिवार्य हिंदी शिक्षण पर मोदी सरकार के पहले यू-टर्न की …