अपने मुस्लिम पड़ोसी से परेशान दिल्ली के पत्रकार शिशिर सोनी की आपबीती सुनिए

शिशिर सोनी

Shishir Soni : कुछ धूर्त किस्म के मूर्ख पत्रकारों की एक टोली बनते देख रहा हूँ जो हिंदू-मुस्लिम कोई मामला है, ये मानने को तैयार ही नहीं। सुबह से शाम तक हाय हाय करते रहेंगे। न खुद चैन से बैठेंगे न सोशल मीडिया को चैन लेने देंगे। हिंदू मुस्लिम एक बड़ा मामला है जब तक वो नहीं समझेंगे देश भर में भाजपा, संघ मजबूत होती रहेगी।

हमारे पड़ोसी हैं मोहम्मद सलीम। वर्षों पहले जब ये रहने आये तो clean shaved Gentleman थे। पाँच, छः वर्ष पहले कुछ स्थानीय और कुछ बाहरी मुसलमानो ने मिलकर हमारे घर के पास मस्जिद बनवाई। हम से कई स्थानीय हिंदुओं ने आकर कहा इसका विरोध होना चाहिए। मैंने लोगों को समझाया, पास में मंदिर है, गुरुद्वारा है, मस्जिद भी ही लेकिन एक और मस्जिद बन रहा है तो बनने दो। लोग मान गए।

मस्जिद बनने के बाद की स्थिति देखिये जो मोहल्ला पहले हिंदू बहुल था वो आहिस्ता आहिस्ता मुसलमान बहुल हो रहा है। कैसे, अब वो सुनिये। हमारे पड़ोसी सलीम मियां मस्जिद बनने के बाद मुल्ला बन गए। बकरा दाढ़ी, टोपी और टखने तक का पाजामा कुर्ता धारण करने के बाद उनके तेवर साल दर साल बदलते गए। पहले मैं उनकी करिस्तानी सुनता था अब जब खुद पे बीती तो समझ आया इस कौम से अधिसंख्य हिंदू नफरत क्यों करता है?

तीसरी मंजिल पे मेरा फ्लैट है। छत समेत। दस साल पहले मैंने छत के आधे हिस्से में निर्माण करवाया था। अब उसके फर्श, प्लास्टर की मरम्मत करवाने लगा तो सलीम मियां ने पहले कहा, आप इसे बेच दो। वो किसी मुस्लिम को दिलवाना चाहते थे। मैंने मना कर दिया। दो चार दिन बाद वे तेवर दिखाने लगे। रेपयरिंग के काम को गैरकानूनी बताने लगे। लाख रुपया माँगा। कहा, नहीं दोगे तो रिपोर्ट कर दूंगा।

मैं हैरान। पैसे नहीं दिये। सलीम मियां ने नगर निगम को शिकायत की। शिकायत ये कि मैं गैर कानूनी निर्माण कर रहा हूँ। निगम के अधिकारी आये। शिकायत गलत पाई। चले गए। सलीम मियां ने फिर पुलिस को वही शिकायत की। पुलिस आई। कुछ भी गलत नहीं पाया, चली गई। सलीम मियाँ अब कोर्ट में केस दाखिल करने के बाद धमकी देते हैं case settle करने के अब दो लाख लूंगा। सलीम मियां चाहते हैं मैं परेशान हो कर उन्हे फ्लैट बेच दूँ। खुद परिवार समेत जंगल में चला जाऊँ।

मैंने अपने पड़ोसी सलीम मियाँ के खिलाफ आज थाने में शिकायत की है। अब बताइये ऐसे मुसलमान को क्या गले लगाना चाहिए जो जबरिया दूसरों को घर बेचने को मजबूर कर, हिंदुओं को खदेड़ कर मोहल्ले का मोहल्ला मुल्ला टोला बनाना चाहता है!

ऐसे होता रहा तो हिंदू मुसलमान होता रहेगा। पड़ोसी के खिलाफ थाने में रिपोर्ट लिखवानी पड़ी। मन भारी है क्योंकि मैं हिंदू हूं।

दिल्ली के पत्रकार शिशिर सोनी की एफबी वॉल से.


अयोध्या का ये नौजवान साधु क्या गाता है साहब!

अयोध्या का ये नौजवान साधु क्या गाता है साहब!

Posted by Bhadas4media on Monday, October 21, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “अपने मुस्लिम पड़ोसी से परेशान दिल्ली के पत्रकार शिशिर सोनी की आपबीती सुनिए

  • As per islamic teachings if a muslim afflicts and harass his neighbour he cannot be a true muslim. Second such people are so called muslim who is demeaning islam and maligning its followers. He should show big heart by compromising with the victim.

    Reply
  • As per islamic teachings if a muslim afflicts and harasses his neighbour he/she cannot be a true muslim. Second such people are so called muslims who are demeaning islam and maligning its followers. Salim miyan should show big heart by compromising with the victim.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *