‘आर्या’ वाला दुर्गेश अपने गैंग के साथ मिलकर मीडियाकर्मियों का किस कदर उत्पीड़न करता-कराता है, सुनें ये टेप

एक छुटभैया चैनल है. केवल फेसबुक और यूट्यूब पर. आर्या नाम से. इसके न्यूज वीडियोज के व्यूज आमतौर पर सैकड़ा के उपर नहीं जा पाते. इसी आर्या में काम करने वाले मीडियाकर्मी भयानक उत्पीड़न झेलते हैं. उत्पीड़न भी नए नए तरीके के.

आर्या न्यूज का संचालन दुर्गेश आर सिंह नामक एक मुंहनोचवा व्यक्ति करता है. मुंहनोचवा इसलिए इसे कहा जाता है क्योंकि यह बात बात पर हर किसी को कोर्ट कचहरी नोटिस पुलिस की धमकी देता रहता है, जबकि गल्ती इसकी खुद की होती है पर चोरी और सीनाजोरी वाले अंदाज में ये दूसरों को ही आतंकित करने का खेल खेलता रहता है.

ये शख्स अपने कर्मियों को पैसे देने के मामले में महाकंजूस और महाधूर्त है. जब कोई मीडियाकर्मी इससे अपनी गाढ़ी कमाई की सेलरी की डिमांड करता है तो ये नए नए साजिशों में फंसाकर उसे इतना प्रताड़ित उत्पीड़ित और भयाक्रांत कर देता है कि वह ‘जान बची तो लाखों पाए’ की तर्ज पर सेलरी मांगने की बजाय चुपचाप निकलने में ही भलाई समझता है.

इसके यहां कार्यरत एक लड़की जब सेलरी की मांग करती है तो उस पर चोरी का झूठा इलजाम लगा दिया जाता है. पुलिस की मदद से लड़की को इतना आतंकित किया जाता है को वह रोते हुए चैनल से चली जाती है और फिर मीडिया लाइन ही छोड़ देती है. इस लड़की से भड़ास का जब संपर्क हुआ तो उसने पूरी कहानी फोन पर बताई. सुनें आप भी-

arya durgesh utpidan story audio

भयानक है भाई… छुटभैया चैनलों में काम करने वाले अपनी सेलरी के लिए किस किस तरह के उत्पीड़न झेलते हैं, इसे जानने सुनने के बाद तो मीडिया लाइन से घृणा हो जाती है… अपने बच्चों को ठेला लगवा देना पर मीडिया में न भेजना… यकीन न हो तो नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक कर पढ़ लें… मुंहनोचवा मालिक और उसकी दूसरी पत्नी कितने शातिर हैं और दूसरों के हक के पैसे मारने के लिए किस हद तक गिर जाते हैं, सब कुछ एक भुक्तभोगी द्वारा विस्तार से बताया गया है…

छुटभैया चैनल में काम करने वाले जब सेलरी मांगते हैं तो उनके साथ क्या-क्या होता है, जानिए



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “‘आर्या’ वाला दुर्गेश अपने गैंग के साथ मिलकर मीडियाकर्मियों का किस कदर उत्पीड़न करता-कराता है, सुनें ये टेप”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code