‘हीरावती टाइम्स’ नामक अनाम-सा अखबार लीड हेडिंग के कारण चर्चा में, देखें

सिंगरोली से प्रकाशित एक अनाम-सा अखबार हीरावती टाइम्स के 13 जनवरी का फर्स्ट पेज आजकल सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. हर कोई इसे फेसबुक या ट्विटर या ह्वाट्सअप के जरिए एक दूसरे तक भेज रहा है.

लोग चटकारे लेकर इस अखबार के फर्स्ट पेज की लीड हेडिंग पढ़ रहे हैं. दरअसल अखबार में फर्स्ट पेज की लीड हेडिंग में ‘रोड़ा’ शब्द की जगह ‘लोड़ा’ शब्द छप गया है. अगर यह शब्द कांग्रेस के साथ जुड़ जाए तो भक्त लोगों के लिए एक बैठे बिठाए मसाला मिल जाता है, वायरल करने के लिए. मजेदार है कि अखबार के ईपेपर में अभी तक यह हेडिंग मौजूद है.

इस बारे में एक युवा पत्रकार कुलदीप का कहना है- ”मेरे पास 3 दिन पहले हीरावटी टाइम्स नामक अखबार के फ्रंट पेज की एक पिक पिक एक ह्वाट्सअप ग्रुप के जरिए आई थी. तब मैंने इसे किसी की शरारत समझकर नजरअंदाज कर दिया था। लेकिन जब आज बैठे-बिठाए इस अखबार का ईपेपर खोज लिया तो इस हेडिंग को वहां मौजूद देखकर मैं भी दंग रह गया। अगर कोई देखना चाहता है तो इस लिंक पर क्लिक करे- http://heeravatinewstimes.com/?attachment_id=10451



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “‘हीरावती टाइम्स’ नामक अनाम-सा अखबार लीड हेडिंग के कारण चर्चा में, देखें

  • *ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिदिन कई घंटे और कई दिन तक हो रही अघोषित बिजली कटौती*

    सिंगरौली जिले के चितरंगी तहसील के अंतर्गत बगदरा (कोरावल) क्षेत्र में लाइट की मनमानी ढंग से कटौती की जा रही है। बगदरा क्षेत्र में बिछी पावर हाउस से लाइट सप्लाई किया जाता है, जबकि अमिलिया मेन पॉवर हाउस से बिछी पॉवर हाउस के लिए बिजली सप्लाई तो कि जाती है लेकिन बिछी से पॉवर हाउस के ऑपरेटरों द्वारा बगदरा क्षेत्र के लिए आगे बिजली सप्लाई नहीं की जाती है। जिसकी वजह से बगदरा क्षेत्र के 32 गाँव में बिजली की बहुत ही समस्या हो रही है ना ही लोगों के घरों में प्रकाश के लिए बिजली मिल रहा है और ना ही लोग अपने मोटर ही चला पा रहे हैं इस तरह से पीने के लिए पानी की भी बहुत समस्या हो रहा है ये पूरी समस्या पिछले दो महीने से चलती आ रही है परन्तु अब तक कोई भी समाधान नहीं हो पाया है..

    बगदरा क्षेत्र बिजली की कटौतियो के कारण अधेरे में डूबा रहता है इस क्षेत्र में हमेशा से बिजली की आंख मिचौली होती रहती है लेकिन इन दिनों प्रदेश में मामा जी बैठे हैं फिर भी बिजली की अघोषित कटौती की जा रही है जिससे बगदरा क्षेत्र के लोगों को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शहर में तो तमाम बड़े-बड़े नेताओं का आलीशान महल है वहां बिजली गोल होते ही लाइनमैन को फोन करके बिजली जुड़वा ली जाती है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों का हाल बुरा है वहां ज्यादातर किसान व गरीब निवास करते हैं जिनका कोई सुनने वाला नहीं है। विधायक सांसद को ग्रामीण कई बार लिखित मौखिक शिकायत करते हैं लेकिन परिणाम कुछ खास निकलकर आज तक सामने नहीं आया है। यहां के ग्रामीण क्षेत्रों में कई घंटे अंधेरा छाया रहता है बिजली की अघोषित कटौती से ग्रामीणों में आक्रोश पनप रहा है और शिवराज मामा को कोसने लगे हैं चुनाव के बाद नेता ग्रामीण क्षेत्रों में झांकने तक नहीं जाते कौन जिंदा है कौन मर गया…..? फिलहाल ग्रामीण क्षेत्र में लगातार बिजली की कटौती हो रही है समझ नहीं आता बेबस ग्रामीण अपनी पीड़ा किसे सुनाएं? कौन इनके दर्द पर मरहम लगाएगा ?

    आपसे निवेदन है कि इस समस्या का समाधान जल्द ही कराया जाए और अगर कोई भी समाधान नहीं हुआ तो बगदरा क्षेत्रवासियों के द्वारा पावर हाउस एवं बिजली आफिस का घेराव किया जाएगा जिसकी सारी जिम्मेदारी बिजली बिभाग की होगी… धन्यवाद

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code