मां के मरने की खुशी मना रहे हैं सुब्रत रॉय! (देखें तस्वीरें)

Celebrations of parole on Mother’s supposed natural death…

How cruel.

Plz see these pics and guess whether he is in remorse or Happy that mother’s death got him Parole…

Point to ponder

Also got his brother in law out ( Ashok Roy Chowdhury) with him while old employee Ravi Shankar Dubey ( ED-Accounts) us still lurching behind bars without any consideration when and how he wud see the outside sunshine.

Regds
EX-EMPLOYEE
(harassed & still without any full and final/pf/gratuity payment recd even after 7 months)

CORPORATE HR
LUCKNOW

एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Comments on “मां के मरने की खुशी मना रहे हैं सुब्रत रॉय! (देखें तस्वीरें)

  • संजय कुमार सिंह says:

    इसमें खुशी मनाने जैसा कुछ नजर नहीं आ रहा है। वेतन न मिलने वाले कर्मचारी का दुखी होना स्वाभाविक है पर उसी शीर्षक से प्रकाशित करना अनुचित लगता है। हिन्दुओं में मृत्यु भोज का रिवाज है और हर कोई यह आयोजन अपनी क्षमता और सामर्थ्य से करता है। नहीं करने पर कहा जा सकता था कि सहारा श्री ने नहीं किया। पर यह आयोजन कोई खुशी का तो नहीं लग रहा है। अनुचित तो मृत्युभोज आयोजित करना औऱ उसमें हिस्सा लेना भी है। लेकिन कुछ चीजें परंपरा और रिवाज के रूप में चल रही हैं।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *