Connect with us

Hi, what are you looking for?

आयोजन

शालिनी श्रीनेत के ‘मेरा रंग’ का तीन साल पूरा

टीवी न्यूज एजेंसी एशियन न्यूज इंटरनेशनल यानि एएनआई ANI को नई दिल्ली कार्यालय के लिए कॉपी एडिटर (प्रिंट) और सब एडिटर्स (प्रिंट/सोशल मीडिया) की तलाश है. कापी एडिटर पद के लिए तीन साल अनुभव की जरूरत है. अंग्रेजी भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिए. खबरों की ठीकठाक समझ हो. सब-एडिटर पद के लिए अनुभव की कोई बाध्यता नहीं है. बायोडाटा jaibans@aniin.com पर भेजें.

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>टीवी न्यूज एजेंसी एशियन न्यूज इंटरनेशनल यानि एएनआई ANI को नई दिल्ली कार्यालय के लिए कॉपी एडिटर (प्रिंट) और सब एडिटर्स (प्रिंट/सोशल मीडिया) की तलाश है. कापी एडिटर पद के लिए तीन साल अनुभव की जरूरत है. अंग्रेजी भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिए. खबरों की ठीकठाक समझ हो. सब-एडिटर पद के लिए अनुभव की कोई बाध्यता नहीं है. बायोडाटा jaibans@aniin.com पर भेजें.</p>

जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक अभय कुमार दुबे ने कहा कि अगर राजनीति में महिलाएं आ रही हैं तो उन्हें एक वैकल्पिक राजनीति के बारे में भी सोचना होगा। नहीं तो पितृसत्ता को कोई चुनौती मिलेगी और एक महिला भी परोक्ष रूप से पितृसत्ता को ही मजबूत बनाती रहेगी। इसके लिए यह जरूरी है कि इस वैकल्पिक राजनीति का सैद्धांतिक सूत्रीकरण भी किया जाए।

अभय दुबे ‘मेरा रंग फाउंडेशन ट्रस्ट’ के वार्षिक समारोह में ‘राजनीति और महिलाएं’ विषय पर उपस्थित श्रोताओं को संबोधित कर रहे थे। गांधी शांति प्रतिष्ठान में आयोजित इस कार्यक्रम में महिलाओं की राजनीतिक भूमिका और भागीदारी पर विचार-विमर्श हुआ। वक्ताओं ने कहा कि एक महिला का राजनीति में आना ही साहसिक कदम है। राजनीति में बने रहना उससे भी अधिक कठिन है। सबसे यह स्वीकार किया कि बदलाव आ रहा है और आने वाले समय में इस प्रश्न पर ज्यादा गहराई से विचार-विमर्श करना होगा कि महिलाओं की राजनीतिक भागीदारी कैसे बढ़ाई जाए।

‘मेरा रंग’ की संस्थापक शालिनी श्रीनेत ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मुख्यधारा की पत्रकारिता में स्त्री मुद्दों को जगह नहीं मिलती इसलिये मेरा रंग जैसे वैकल्पिक मीडिया की ज़रूरत पड़ी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आयोजन की विशिष्ट अतिथि कथाकार व पत्रकार गीताश्री ने कहा कि ‘मेरा रंग’ ने महिला मुद्दों पर वीडियो बनाने से शुरुआत की थी और शालिनी के सतत प्रयासों से आज यह एक स्त्री विमर्श का एक प्रमुख मंच है। उन्होंने कहा कि भारतीय राजनीति में महिलाओं की भागीदारी आज के समय में एक बहुत जरूरी विषय है।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता रागिनी नायक ने कहा कि बिना किसी पोलिटिकल बैकग्राउंड के राजनीति में आना बहुत मुश्किल होता है, वह भी एक स्त्री के लिए। उन्होंने कहा कि जब एक स्त्री राजनीति मे आती है तो उस पर उम्मीदों का बहुत बड़ा बोझ भी लाद दिया जाता है। वो बदलाव तभी लाएंगी जब वह कुर्सी पर आसीन होंगी। महिला मुद्दों पर महिला ज्यादा संवेदनशील तरीके से सोच सकती है।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक तथा स्त्री मुद्दों पर मुखर लेखक तारा शंकर ने कहा कि बड़े अफसोस की बात है कि बहुत बुनियादी हक भी हमें आजादी के बहुत साल बाद मिले हैं। राजनीतिक भागीदारी तो बहुत दूर की चीज लगती है। शीबा असलम फ़हमी ने कहा कि महिलाओं में राजनीतिक चेतना का विकास न हो इसकी शुरुआत घर से ही होने लगती है। क्योंकि अगर लड़की के भीतर विवेक पैदा होगा तो वह इसकी शुरुआत सबसे पहले अपने घर से ही करेगी। वह सवाल करेगी, अधिकार मांगेगी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सपा नेता तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय की पहली महिला छात्रसंघ अध्यक्ष रिचा सिंह ने कहा कि जब एक लड़की राजनीति में आना चाहती है तो घर से लेकर बाहर तक उसके मनोबल को तोड़ने का पूरा प्रयास किया जाता है। अगर कहीं वह सफल हो जाती है तो माना जाता है कि वह अपनी प्रतिभा के दम पर सफल नहीं हुई है बल्कि उसने कुछ शॉर्टकट तलाशे हैं।

जेएनयू से अध्यक्ष पद की छात्र राजद प्रत्याशी प्रियंका भारती ने कहा कि जब हम सदन में महिलाओं के 33 प्रतिशत आरक्षण की बात कहते हैं तो इस बात पर गौर करना होगा कि कहीं यह एक खास वर्ग तक तो नहीं सिमटकर रह जाएगा। उन्होंने फूलन देवी का जिक्र करते हुए कहा कि फूलन से हमें हथियार उठाना नहीं सीखना है मगर शोषण के खिलाफ आवाज उठाना जरूर सीखना है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

कार्यक्रम का संचालन आँचल बावा ने किया और अंत में जाने-माने आर्टिस्ट सीरज सक्सेना ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।

Advertisement. Scroll to continue reading.
1 Comment

1 Comment

  1. Anil pandey

    December 7, 2018 at 12:00 pm

    अनिल पाण्डे

    में पूर्व में के न्यूज के लिए उत्तराखण्ड में काम कर चुका हूं। वर्तमान में उत्तराखण्ड में प्रिंट मीडिया में संवाददाता के पद पर कार्यरत हु।
    उम्र : 30 । शिक्षा – एम ए संस्कृत । मीडिया में पिछले चार सालों का अनुभव
    उत्तराखण्ड के दूरस्थ क्षेत्रो में होने वाली घटनाओं को में ANI के लिए कवरेज करना चाहता हु। ANI मीडिया हॉउस मुझे अगर अपने ग्रुप में काम करने का मौका देता है तो में ग्रुप के लिए मेहतन पूर्वक काम करूंगा। धन्यवाद मो. न. 7055338282

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement