साहेब के लिए ‘अलजज़ीरा’ न मिला तो ‘जलज़ीरा’ पकड़ लाए भक्त!

अश्विनी कुमार श्रीवास्तव-

Jalzeera, The Daily Guardian और The Australia Today के बाद अंध भक्तों को उम्मीद है कि जल्द ही ये बड़े इंटरनेशनल मीडिया संस्थान, जिनके नाम नीचे लिखे हैं, वे भी मोदी की तारीफ में कुछ न कुछ छापेंगे… आप भी नजर बनाए रखिए…जैसे ही कुछ मिले, तुरंत शेयर कीजिए.

इस कोरोना काल में इससे बड़ी देशभक्ति का काम कोई और हो ही नहीं सकता…. हालांकि आपने इसे शेयर न भी किया तो केंद्र सरकार के मंत्री, भाजपा के बड़े से बड़े नेता तो इसे शेयर करेंगे ही…आखिर इतनी इंटरनेशनल बेइज्जती के बाद मोदी जी की इमेज सुधारने के लिए इतना फर्ज तो उनका भी बनता ही है…

  1. The New Yorker Times.
  2. The Wall Stree Journal.
  3. The Washington Post Office.
  4. Daily Male.
  5. Paan Hub.

समीरात्मज मिश्रा-

कुछ देर पहले ‘The Washington Dost’ वालों का फ़ोन आया. कहने लगे- “सर आपका एक लंबा इंटरव्यू छापना है.”

मैंने कहा, “भाई, हमने ऐसा क्या कर दिया है कि इंटरव्यू छापोगे? वो भी लंबा.”

वो बोले, “सर, यही तो बात है. आप ख़ुद नहीं जानते कि आपने क्या कर दिया है, लेकिन हम जानते हैं.”



पवन सिंह-

अरे IT CELL वालों पता है विदेशी मीडिया भारत में इतनी मौतें देखने के बाद जमकर “बोलवचन” की बजा रहा है…अब वहां के मीडिया को तो धमका नहीं सकते और न ही वहां का मीडिया भारतीय मीडिया की तरह लतखोर व बे-गैरत है…फर्जी ट्वीटर एकाउंट बना कर “बोलवचन” की तारीफ करवाना बुरी बात नहीं है लेकिन कम से कम “अल जजीरा”..चैनल की स्पेलिंग तो ठीक कर लेते…..

भाई एक फोटो “निक्करियों’ की भी वायरल हो रही है कि वो आक्सीजन सिलेंडर ढो रहे हैं। …उसे भी ठीक करा लें भाई….वो आक्सीजन सिलेंडर नहीं हैं….इनका कोई भरोसा नहीं है…..”गाय आक्सीजन छोड़ती है और गोबरास्नान से कोविड नहीं होता है”….के लेबल वाले लोग हैं। अगर किसी के मुंह में LPG‌ का‌ सिले़डर ठूंस दिया तो वो निपट जाएगा….भाई जरा दिखवा लें….

शीतल पी सिंह-

फोटोफिनिश… RSS की बड़ी आलोचना हो रही थी कि महामारी के दौर में दुनिया का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन कहाँ है? कुछ फ़ोटो आए जिनमें स्वयंसेवक दिखाई दिये /दिखलाए गये। ऐसा ही एक चित्र साथ संलग्न है।

इसमें स्वयंसेवक दो सिलिंडरों को कहीं ले जाते हुए दिख रहे हैं जो किसी अस्पताल के वरांडे जैसा लग रहा है। उसमें कोई स्वास्थ्य कर्मी भी झलक रहा है। पहली नज़र में पिक्चर परफ़ेक्ट और इंप्रेसिव है।

लेकिन संघियों के साथ एक अनवरत दिक़्क़त है कि उनकी डिग्री एंटायर पालिटिकल साइंस की है।

चित्र में जो सिल्वर कलर का सिलिंडर है वह लो प्रेशर कार्बन डाइऑक्साइड का है आक्सीजन का नहीं और जो दूसरा है वह हाई प्रेशर इंडस्ट्रियल कार्बन डाइऑक्साइड का है (भूरा / काला)।

किसी को बताना चाहिए था कि मेडिकल आक्सीजन सिलिंडर काले रंग का होता है जिस पर ऊपर की ओर सफ़ेद घेरा बनाया हुआ रहता है! @Tirangawasi ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी!

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *