अडानी ग्रुप द्वारा ndtv को खरीदने और रवीश कुमार के इस्तीफ़े की चर्चाओं में कितनी सच्चाई है!

दो चर्चाएँ इन दिनों मीडिया में फैली हुई हैं। एक ये कि अडानी ग्रुप ने ndtv को ख़रीद लिया है। दूसरी ये कि अडानी द्वारा ख़रीदे जाने के बाद रवीश कुमार ने ndtv से इस्तीफ़ा दे दिया है।

रवीश कुमार द्वारा इस्तीफ़े की खबर तो झूठी निकली। भड़ास से बातचीत में रवीश कुमार ने बताया कि वे इस वक्त आफिस में हैं और खबर टाइप कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सम्भव है किसी website ने हिट्स पाने के चक्कर में उल्टी सीधी न्यूज़ चला दी हो।

उधर इकोनामिक टाइम्स ने एक खबर का प्रकाशन कर दिया जिसमें बताया गया है कि अडानी की कम्पनी द्वारा ख़रीदे जाने की चर्चाओं के बीच ndtv के शेयरों में भारी उछाल आया। इस खबर का संज्ञान लेकर मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने अडानी एंटरप्राइजेज से ndtv को ख़रीदने के बाबत नोटिस भेजकर पूछा है।

Adani Group के Media Venture Plan को लेकर BSE ने Clarification Notice भेज दिया है।

ज्ञात हो कि पिछले दिनों Adani Group ने वरिष्ठ पत्रकार संजय पुगलिया को लेकर एक प्रेस रिलीज जारी की थी, जिसमें बताया गया था कि Adani Group ने कंपनी के Upcoming Media Venture के लिए Sanjay Pugalia को chief executive officer & editor-in-chief पद पर नियुक्त किया है।

इस खबर के बाद, शेयर बाजार, राजनैतिक और मीडिया जगत के गलियारों में चर्चा तेजी से शुरु हो गई कि अडानी ग्रुप क्या नया मीडिया वेन्चर लांच कर रहा है या फिर, किसी पुराने मीडिया हाउस को खरीद रहा है।

इस चर्चाओं के बीच ही, Economic Times न्यूजपेपर में 20th Sept 2021 को एक खबर छपी, जिसने चर्चाओं को ना केवल एक दिशा दी बल्कि BSE को भी Adani Group के upcoming media venture के बारे में जानने के लिए उत्सुक कर दिया।

Economic Times के मुताबिक, Adani Group की कंपनी Adani Enterprises Limited द्वारा NDTV को खरीदा जा रहा है। इस खबर के छपते ही, NDTV के शेयर्स में जबरदस्त तेजी देखी गई और यह 10% के Upper Circuit तक चले गए। शेयर बाजार में Adani Group की 6 कंपनियां Listed है और जिनमें से एक है Adani Enterprises Limited.

ऐसे में BSE ने तुरंत ही Adani Group की कंपनी Adani Enterprises Limited को Clarification Notice भेज दिया। अब देखना ये है कि Adani Group कब तक और क्या जवाब देता है।

वैसे, BSE द्वारा Adani Group को भेजा गया Clarification Notice कोई नहीं बात नहीं है। BSE इस तरह के Clarification Notice बाकी कंपनियों को भी भेजता रहता है और ये उसके रूटीन काम का ही हिस्सा है। इसलिए इस Clarification Notice की चर्चा इसलिए ज्यादा है क्योंकि Adani Group के आने वाले जवाब से ये साफ हो जाएगा कि NDTV बिक गया या फिर नहीं बिका? Economic Times में छपी खबर सही थी या नहीं थी?

हालांकि ये अभी तक पता नहीं है कि Adani Enterprises Limited ने मीडिया फील्ड में आने से पहले अपनी कंपनी का Memorandum of Association में बदलाव किया है या नहीं और साथ ही ये भी साफ नहीं है कि इस वेंचर को लांच करने के लिए Board of Directors से इसकी इजाजत ली गई है या नहीं।

Memorandum of Association वो दस्तावेज होता है जिसमें लिखा होता है कि कोई कंपनी क्या क्या बिजनस करेगी। इसको आप किसी कंपनी का संविधान भी मान सकते हैं। यानि कि इसके बाहर जाकर कंपनी कोई नया बिजनस नहीं करेगी। अगर कंपनी को कोई नया बिजनस करना होता है, तो फिर Memorandum of Association में उसको बदलाव करने होते हैं और इसके लिए Companies Act 2013 के मुताबिक ही काम करना होता है।

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करें. वेबसाइट / एप्प लिंक सहित आल पेज विज्ञापन अब मात्र दस हजार रुपये में, पूरे महीने भर के लिए. संपर्क करें- Whatsapp 7678515849 >>>जैसे ये विज्ञापन देखें, नए लांच हुए अंग्रेजी अखबार Sprouts का... (Ad Size 456x78)

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें- Bhadas WhatsApp News Alert Service

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *