पत्रकार संतोष यादव की रिहाई के लिए सैकड़ों पत्रकारों ने रमन सिंह का घर घेरा

रायपुर। बस्तर के पत्रकार संतोष यादव की गिरफ्तारी के मामले को लेकर पत्रकार संगठनों से जुड़े प्रतिनिधियों ने बैठक कर पत्रकार की रिहाई की मांग की। बैठक में यह प्रस्ताव भी पारित किया गया कि पत्रकारों की सुरक्षा से जुड़ा कानून जल्द से जल्द लागू किया जाए। साथ ही बैठक में पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर उत्पन्ना खतरे पर चिंता जताई गई। बैठक के बाद पत्रकारों ने एक रैली निकाली, जो सीएम हाउस तक गई। इसके बाद सीएम हाउस दफ्तर में मुख्यमंत्री और राज्यपाल के नाम रिहाई की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया। कांग्रेस ने इस मामले को लेकर कहा कि बस्तर में सच्चाई की पत्रकारिता कर रहे पत्रकारों का भाजपा सरकार दमन कर रही है। दरभा क्षेत्र के पत्रकार संतोष यादव को छत्तीसगढ़ विशेष जन सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किए जाने की घटना के बाद सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कांग्रेस ने इसे सरकार की पुलिसिया गुंडागर्दी करार दिया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि बस्तर जैसे सुदूर आदिवासी बहुल घोर माओवादी, नक्सली क्षेत्रों में आम जीवन जीना सच से पर है और ऐसी विपरीत परिस्थितियों में पत्रकार क्षेत्र की समस्या या आम जनजीवन की खबरों को संकलित करते हैं। ऐसे में उनके खिलाफ इस तरह की कार्रवाई निंदनीय है। पूरे प्रकरण को लेकर द हिंदू अखबार में प्रकाशित खबर इस प्रकार है…

RAIPUR : Hundreds of journalists gathered in Raipur on Saturday to protest against the arrest of a Bastar-based journalist under the “draconian” Chhattisgarh Jan Suraksha Adhiniyam for his alleged Maoist links. The scribes also protested in front of Chhattisgarh Chief Minister Raman Singh’s bungalow demanding immediate release of journalist Santosh Yadav and removal of Bastar range Inspector General (IG) of Police S.R.P. Kalluri.

“Mr. Kalluri is known for his brutal ways and highhandedness. By arresting Santosh Yadav and slapping the draconian law on him, he wants to terrorise the journalist community in Bastar, but we will never allow it. Today was the first phase of protest. We know we will have to fight a long battle to secure the release of our journalist brother,” said Mr. Kamal Shukla, the editor of a news weekly.

“If we don’t raise our voice in this case, then it would become difficult for Bastar journalists to report from the restive region. We already face threats and pressures from both sides [police and Maoists]. A few days ago, some Maoist leaders in Bijapur issued a directive to the journalists that they should seek Maoists’ permission before reporting from the interior area of the district. Such dictates cannot be tolerated,” said Yukesh Chandrakar, a reporter based in Bijapur. The journalists have also formed a ‘Patrkar Suraksha Sanyukt Sangharsh Samiti’ to fight for the release of Santosh Yadav.

“This is not the first time a journalist has been targeted in Bastar. Two of our journalist-friends were killed by the Maoists in 2013. Almost every journalist working in Bastar face threats of arrest under the Jan Suraksha Adhiniyam. The resistance against the oppression of journalists in Bastar had to start at some point and the arrest of Santosh Yadav only provided a trigger,” said a scribe based in Jagdalpur.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *