यूपी, बिहार के व्यापम की तस्वीर तो और अधिक भयावह

जो कुछ “व्यापम” नाम से मध्य प्रदेश में हुआ और जो अन्य प्रदेशों में भी दूसरे नामों, दूसरे प्रकारों, दूसरी सीमा तक हो रहा है वह भयावह है । बिहार में एक बार में ही चौदह सौ अध्यापक स्वयं नौकरी छोड़ ग़ायब हो गये । ये सब अवैध ढंग से नौकरी में आये थे । उत्तर प्रदेश में एक चौथाई प्राइमरी स्कूलों में डुप्लीकेट अध्यापक तैनात हैं (नौकरी किसी के नाम है पढ़ाने कोई और आता है)।

देश के सबसे मशहूर और प्रतिष्ठित दिल्ली के सेंट स्टीफ़न्स कालेज के प्रिसिंपल वालसन थम्पू की पी एच डी की डिग्री के जाली होने के आरोप हैं। वह इलाहाबाद के झूँसी स्थित किसी डीम्ड यूनिवर्सिटी से ली हुई है और theology पर है !

दिल्ली राज्य सरकार का क़ानून मंत्री जाली डिग्री के आरोप में जेल में हैं और केन्द्रीय मंत्रिमंडल समेत राजस्थान महाराष्ट्र के दर्जनों मंत्रियों की Affidavit पर दी गई शैक्षणिक सूचनाएँ ग़लत हैं !

देश की शिक्षा मंत्राणी (एच आर डी मिनिस्टर) कुल सेकंडरी स्तर की शिक्षित हैं और बाकी सब अंड बंड है । वे मोदी जी की “राष्ट्रभक्ति”की प्रतीक हैं कि मोदी जी को देश के जुवाओं की कितनी चिंता है !

देश के आध्यात्मिक नेता आसाराम हैं, उनका अपना व्यापम है जो राष्ट्रव्यापी है । उनके कुकर्मों के गवाह या तो स्वर्ग में ठेले जा चुके हैं या हड्डियाँ तुड़वा चुके हैं, कुछ छुपते घूम रहे हैं । इनकी चरित्र पंजिका डा० सुब्रह्मण्यम स्वामी की यूनिवर्सिटी से जारी हुई है ” आसाराम निर्दोष हैं !”

देश में 90% आबादी की प्राथमिक शिक्षा ऊपर वर्णित कारकुनों के हवाले है । क़रीब ७०% सेकंडरी शिक्षा का भी यही हाल है और क़रीब ९०% उच्च शिक्षा केन्द्र इस हाल में हैं कि वे न भी होते तो सिर्फ ये फ़रक पड़ता कि तमाम स्नातक/परास्नातक/पी एच डी सेकेंडरी पास कहलाते जैसे शिक्षा मंत्राणी !

प्रधानमंत्री परदेस गये हैं और मैं क्या अनाप शनाप भाख रहा हूँ भोरइ भोर ।

शीतल पी सिंह के एफबी वाल से

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “यूपी, बिहार के व्यापम की तस्वीर तो और अधिक भयावह

  • kUMAR sHARMA says:

    Sheetal P. Singh aapne Sant AsharamJi ki tulna in fraud logon se kaise kar di? Aap is case k bare me kuchh jante bhi ho ya fir aise hi bhaunk rahe ho?
    Agar tujhme zara bhi dam hai to tere paas AsharamJi ke khilaf jo bhi proof hain, unhe turant court me pesh kar. Ya to un sabki batti banakar apni ……………….dustbin me daal le.

    Reply
  • raaz yadav says:

    आसाराम संत नही एक अपराधी,सडक छाप गुन्डा है,आसाराम जैसे भेडियो की सही जगह जेल ही है।शर्म की बात है कि ऐसे अपराधी हमारे स समाज मे अाज भी कुछ लोगो द्वारा पूजे जाते है,अंधविश्वास की हद हो गयी है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *