यशवंत के माफीनामे पर विनोद कापड़ी ने यूं दिखाई दरियादिली…

Vinod Kapri : प्रिय यशवंत, ये एक जीवन जीने के लिए ही कम है। इसमें नफरत और कड़वाहट की गुंजाइश ही कहाँ होती है ? और वो मेरी तरफ से कभी थी ही नहीं… हाँ… हालात कुछ बने कि बात पुलिस और कोर्ट तक पहुँची… पर जो हुआ सो हुआ…

मैं नोएडा लौटकर वक़ील से बात करूँगा कि कैसे मुक़दमें को ख़त्म कराया जा सकता है।

अपना ख़्याल रखो… ख़ुश रहो…

वरिष्ठ पत्रकार और फिल्मकार विनोद कापड़ी के उपरोक्त एफबी रिप्लाई पर आईं ढेरों प्रतिक्रियाओं में से कुछ प्रमुख यूं हैं….

विकास मिश्र इसे कहते हैं दरियादिली। मुझे विश्वास था कि आप इतनी ही दिलेरी से यशवंत का निवेदन स्वीकार करेंगे। मेरा भरोसा मजबूत हुआ और आपकी इज्जत हम सभी की नजरों मेें और भी बढ़ गई।

Navin Kumar This is the reason that I respect you a lot Sir. This generosity can’t be explain in words but I am the eyewitness of it since last 20 years almost.

Dwarika Prasad Agrawal छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी। नये दौर में लिखेंगे मिल कर नयी कहानी।

Jitarth Jai Bharadwaj Outstandingly Vinod kapri like.

Sumit Kumar Bhartiya क्षमा वीर का आभूषण है… आप वीर हैं…

Yusuf Ansari Thanks a lot Vinod ji. I salute you for your open mind & heart always. You saja true that the one life eis not enough to live. There must not be space of hate of any type and for anybody.

Nishi Bajaj बहुत ही सराहनीय कदम यशवंत जी ! नहीं तो जितनी इगो, अहंकार हम लोगों में बसा है, सबसे ज्यादा मीडिया के साथियों में,  शायद वो कुछ न होते हुए भी खुद को प्रधान सेवक से कम नहीं समझते… तो ऐसे मे खुले तौर पर किसी से माफी मांगना एक अच्छा और सच्चा कदम है… इसे ही इंसानियत कहा जाता है जो जीते जी कायम रहनी चाहिए… लेकिन बहुत कम लोग इंसान के जीने तक मानवता की धरा पर चलते हैं… उसके इस दुनिया से जाते ही मठाधीश बन सोशल मीडिया पर अपने अहंकार को आहुति देते हैं!

Nitin Thakur विनोद जी के साथ मैंने काम नहीं किया लेकिन हमेशा तारीफ सुनी. आज खुद आपने साबित कर दिया कि आप उस तारीफ के काबिल हैं.

Dinesh Goswami विनोद कापड़ी जी पत्रकार कैसे हैं बहुत ज्यादा जानकारी नहीं । मगर इंसान जबर्दस्त हैं ।मान गए Sir आप हम सभी में अनुकरणीय हैं ।

Bheem Agrahari क्षमा के आगे ब्रह्मास्त्र भी अप्रभावी हो जाता है Vinod Kapri and Yashwant Singh आप दोनों वरिष्ठजनों ने जिस तरह की बहादुरी दिखाई है उसे शब्दों में बया नहीं किया जा सकता।

Prashant Srivastava Behtreen sir Vinod Kapri & Yashwant ji..Its a lesson for many other people too in present scenario…!!

पूरे प्रकरण को समझने-जानने के लिए नीचे दिए शीर्षक पर क्लिक करें…

यशवंत ने कापड़ी दम्पति से मांगी माफी, तल्खी खत्म

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *