डीडी एंकर सामने आई, बोली- ”मेरा मजाक उड़ा लो, आगे किसी दूसरे के साथ ऐसा मत करना”

गोवा से डीडी के लिए लाइव देने वाली एंकर / रिपोर्टर Aayenah Pahuja ने सामने आकर पूरे मामले पर अपना पक्ष रखा है. एक वीडियो इंटरव्यू में पाहूजा कहती हैं- “By now all of you know me as a dumb DD anchor. It might be entertaining for you guys, but it’s very depressing for me and lately I have felt suicidal because my career is at stake; my contracts, assignment have been snatched away from me.”

आगे वो कहती हैं- “I am not here to defend myself or neither am I here to blame somebody, but to tell you the truth. First of all, the other day what happened was I was not made to rehearse thoroughly, then I did not know most of the dignitaries present at this prestigious event. Five minutes before the event started, the instruction mike stopped working. Producer did not have any way to tell me who’s coming next, that was one big mistake. Yes, I did make mistake. I apologise for the same.”

मृदुला सिन्हा को गर्वनर आफ इंडिया कहने पर पाहूजा बताती हैं- “The governor of India wasn’t intentional, but I was nervous at that point of time and it was a slip of tongue. There was a massive technical crash out there.”

वीडियो इंटरव्यू के आखिर में पाहूजा अपील करती हैं – “मेरे साथ जो हुआ वो हो गया. आप हंसते रहोगे. मेरा मजाक बन चुका है. आने वाले फ्यूचर में कोई लड़के-लड़की के साथ ऐसा मत करना. (Whatever had to happen to me has happened. I have become a butt of jokes. In the future, please spare boys or girls who commit a similar blunder. Don’t be harsh to them)

आखिर में वो कहती हैं- “My career is at stake I don’t know where I’m headed now,” she signs off.

वीडियो देखने के लिए क्लिक करें:

https://www.youtube.com/watch?v=k24MlS3jkwQ

इनपुट- इंडियन एक्सप्रेस.

संबंधित खबरें….

दूरदर्शन की इस रिपोर्टर का लाइव कवरेज देखिए, हंसे बिना नहीं रह पाएंगे

xxx

डीडी नेशनल की एंकराइन का फूहड़पन छोड़ो, इसे भर्ती करने वाले की तलाश करो

xxx

डीडी एंकर के बचाव में उतरे मुंबई हेड मुकेश शर्मा, लेकिन सीईओ जवाहर सिरकार नाराज, जांच शुरू

xxx

डीडी के मठाधीशों, आने वाली पीढ़ियों की जड़ों में मट्ठा मत डालो

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “डीडी एंकर सामने आई, बोली- ”मेरा मजाक उड़ा लो, आगे किसी दूसरे के साथ ऐसा मत करना”

  • संजीव चौहान says:

    हिंदी में साफ-साफ सुनो मैडम जी सादर
    ———————————————–
    सुनो मैडम हिंदी में…यह तिकड़मबाजी का भाषण बंद करो… एक लाइन में मान लो और समझ जाओ कि तुम मीडिया में नौकरी के लायक नहीं हो….तुमने अपनी फजीहत दुनिया के सामने खुद कराई है….तुम अगर ‘गवर्नगर ऑफ इंडिया’ का राग न सुनाती तो भला दुनिया सुनती ही कैसे तुम्तुहारी श्रीमुख वाणी! तुम कितनी काबिल मीडिया वाली हो…दुनिया जान चुकी है…अब अपने करे की गाद (जिम्मेदारी) का कंबल बाकियों को मत उढ़ाओ…अंग्रेजी में भाषण देकर ….समझ में आया या नहीं…बस इतना बताओ कि तुम्हें डीडी में नौकरी देने वाला कौन था…किससे तुमने लगवाई थी सिफारिश…किसने भेजा तुम्हें गोवा में ‘गवर्नर ऑफ इंडिया’ का राग अलापने के लिए….जब तुम्हारी कुव्वत नहीं थी इतने बड़े फंक्शन या कार्यक्रम का लाइव करने की तो तुमने साफ साफ मना क्यों नहीं किया…क्यों तुम पहुंच गयीं गोवा…किसने तुमसे की जबरदस्ती गोवा जाने की…उसका नाम बताओ……..यह भाषण जो तुम दे रही हो न कि मायक काम नहीं कर रहा था, प्रोग्राम प्रोड्यूसर से तुम्हारा संपर्क नहीं हो पा रहा था, इयरफोन खराब था….24 साल से मीडिया में तुम जैसे अल्प-ज्ञानियों से यही ज्ञान ले रहा हूं..कम से कम तुम तो इस देश के मीडिया को बाकियों का सा ज्ञान देने से चूक जातीं….रहम करतीं…लेकिन नहीं….तुम और तुम्हारेे से पहले जितने भी आये कैमरे पर तुम्हारे जैसा मीडिया की साख का मटियामेट करने उन सबने तुम्हारा सा ही अज्ञानतापूर्ण भाषण परोसा….आज कहीं नहीं है वे सब….गायब है पर्दे से….और परदे के पीछे से भी….अगर तुम दो-चार साल रिपोर्टिंग करके, डेस्क पर काम करके आईं होतीं, बैसाखियों के बजाये अपने दम-दिमाग से मीडिया में पदार्पण किया होता तो…शायद आज तुम हास्य का पात्र न बनती… आज तुम मीडिया-समाज में हास्य का पात्र न बनी तो अपनी कमजोरियों की वजह से..डीडी में बैठे उन ना-काबिलों की वजह से जो तुम्हारे जैसे अनुभवहीनों को इतनी बड़ी जिम्मेदारियां देने में रहम नहीं खाते हैं…न ही आज तुम्हें इपी खराब था, प्रोड्यूसर से ज्ञान नहीं मिल पा रहा था…गर्वनर ऑफ इंडिया जैसा भाषण दुनिया के सामने परोसकर, डीडी की मिट्टी करने का मौका मिला होता….सच लिख रहा हूं और सच ही तुम्हारे गले आसानी से नहीं उतरेगा…क्योंकि तुम खुद से ज्यादा काबिल किसी और को मानने को ही तैयार नही हो…

    Reply
  • संजय कुमार सिंह says:

    मैडम जी आप मान लो कि आपने जो किया वो आपके वश का नहीं था। अच्छे-अच्छे एंकर से नाचने के लिए कहा जाएगा तो नहीं नाच पाएंगे और अच्छे अच्छे नाचने वाले गाने में फेल कर जाएंगे। जो आता है वही करो। रिपोर्टिंग, एंकरिंग तुम्हारे वश का नहीं है, छोड़ दो। कुछ नहीं आता तो घर बैठना ही पड़ेगा या फिर जो चाहो सीख लो तब करना। इत्ती से बात है जितनी जल्दी समझ लो तुम और तुम्हारे भाई बहन बंधु सब का भला होगा। जो हुआ उसके लिए घबराने की कोई जरूरत नहीं है। साइकिल चलाना होगा आसान पहली बार चलाने वाले को तकलीफ होती ही है।

    Reply
  • तुम्हारे जैसे झींगुर को लेने के लिए सैकड़ों योग्य पत्रकारों को लतियाया गया होएगा, क्या इस बात का आभास भी है तुम्हे, वैसे भी गलती तुम्हारी नहीं, उन कुत्तों की है जिन्हे हर सुन्दर लौंडिया पत्रकार दिखने लग जाती है किसी किसी को तो कुछ ही घंटे – मिनट के लिए सही . . . .

    Reply
  • sanjeev singh thakur says:

    Galti ki sajaa warning, suspension ya halke majaak se bhi di ja sakti h. Ab bahut ho gaya. Jyada torture karna bhi theek nahin. Wo pahle hi apni galti maan chuki h. Aur majaak bhi kaafi ud chuka h.

    Reply
  • Aayenah Pahuja जी ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ किसी के साथ। इस इंडस्ट्री में बहुत से ऐसे लोग आये जिस पर लोग शुरू में हंसे या या फ्लॉप साबित हुए लेकिन बाद में उनकी मेहनत ने अपने विरोधियों का भी दिल जीत लिया जैसे सदी के महानायक अमिताभ बच्चन जी की कई फिल्में शुरू में नहीं चलीं, लता मंगेशकर की अवाज को शुरू में रिजेक्ट कर दिया गया था,दीपक चौरासिया जी को भी कभी आज तक ने बाहर कर दिया लेकिन एक वक्त ऐसा आया कि आज तक दीपक जी की वजह से जाना जाने लगा। इसलिए आप रुको नहीं दुनिया तो मनमोहन सिंह पर भी हंसती थी लेकिन 10 साल शासन किया ही। मोदी जी के बारें में लोग गलत कहते थे लेकिन आज उनके विरोधी भी उनकी तारीफ करते हैं। जो आप की मजाक उड़ा रहे हैं वो आपको मिली कामयाबी से जल रहे हैं। आगे बढ़के उनको और जलाओं। बहुत से लोगों के यहां कमेंट पढ़े जो आपको लेक्चर दे रहे हैं पहले अपनी हिंदी तो सुधार लें फिर किसी को दोष दें। अवगुण और गलतियां हर इंसान से होती उस गलतियों से सीख कर आगे बढ़ने वाले को बाजीगर कहते हैं मैदान छोड़कर भागने वाले को कायर कहते हैं। आशा है कि आगे चलकर आप अपनी मेहनत से इनका मुंह बंद करेंगी।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *