अपने कर्मियों को पीड़ा में रखने वाले कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत को नींद कैसे आती होगी?

इंडिया न्यूज चैनल के मालिक कार्तिक शर्मा हैं. इसके संपादक राणा यशवंत हैं. दोनों नौजवान हैं. दोनों बातें बनाने में उस्ताद हैं. दोनों दिखावा ऐसा करते हैं जैसे उन-सा संवेदनशील कोई नहीं. पर सच्चाई क्या है, आप इंडिया न्यूज चैनल के किसी भी कर्मचारी से पूछ सकते हैं.

चार चार महीने से सेलरी न मिलने पर एक इंप्लाई की हालत कैसी होती होगी, यह वही इंप्लाई ही जानता होगा. बिना तनख्वाह दिल्ली नोएडा में रहकर परिवार पालना कितना दुश्कर काम होगा, इसकी कल्पना भर की जा सकती है.

इंडिया न्यूज के इंप्लाई अपने बासेज को मेल मैसेज कर कर के अपनी पीड़ा बताते कहते रहते हैं.

पर बासेज सुनकर भी न सुनने का नाटक करते हैं.

आखिर कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत को रात में खाते वक्त अपने पीड़ा से रुंधे कर्मियों के चेहरे याद नहीं आते होंगे?

क्या कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत को रात में सोते वक्त बिना सेलरी बेचैन जीवन जी रहे अपने कर्मियों की उड़ी हुई नींद के बारे में खयाल न आता होगा?

इसका जवाब तो खुद कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत ही दे सकते हैं लेकिन एक बात जरूर उन्हें बताया जाना चाहिए कि भाई, इतना पाप काहें अपने पीठ पर लाद रहे हो. न चला पा रहे हो दुकान तो बंद कर दो. कम से कम लोगों के जीवन व परिवार से तो मत खेलो. काम भी कराते हो और पैसे भी नहीं देते. इतना जालिम इंसान बनने से आखिर क्या मिल जाएगा?

नीचे कुछ मैसेजेज दिए जा रहे हैं जो इंडिया न्यूज के इंप्लाइज ने किन्हीं पुष्कर नामक बॉस को भेजा है…. ये पुष्कर नामक बॉस भी कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत की अगली कड़ी है…. ऐसे बासेज की बदौलत ही शोषण और उत्पीड़न का क्रम चलता रहता है. ये पत्रकार नहीं बल्कि क्रूर सामंत किस्म के ठेकेदार हैं जो बिना दिहाड़ी दिए मजदूरों से काम ले रहे हैं…

इंडिया न्यूज नेशनल से लेकर रीजनल तक में एक ही हाल है…

India News pichhle saal bhar se 3 se 4 maah ki salary late de raha hai… Logo ki EMI bounce kar gayi hai. Makan ka kiraya nahi de pa rahe hain… Office jaane ka bhi kiaraya nahi hai… Jaisa ki Group MSG se aapko pata chal gaya hoga… Ye msg india news up/uk ka official whatsapp group ka hai…

मैसेज एक-

sir सेलरी नहीं आने से आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है जिसके चलते बहुत परेशानी हो रही है. ऑफिस आने के लिए अब जेब में पैसे नहीं है जिसके चलते ऑफिस आने में दिक्कत हो रही है.

ऑफिस आने के लिए ₹50 किराया प्रतिदिन लग रहा है. 2 महीने से कमरे का किराया नहीं दिया हूं. मकान मालिक भी रोज-रोज अपना किराया मांगता है.

आपसे निवेदन है कि कृपया समस्याओं को ध्यान में रखते हुए उचित कदम उठाएं. अगर सैलरी अब नहीं आ जाती है तो ऑफिस आने में असमर्थ रहूंगा.

मैसेज दो-

सर, मेरी आर्थिक स्थिति बहुत दयनीय हो गई है. कई दिनों से इधर उधर से रुपए लेकर मैनेज कर रहा था. लेकिन अब हालात ऐसे हो गए हैं कि अकाउंट में भी मात्र 29 रुपए बचे हैं.

शुक्र है लोन की किस्त पहले से बचा कर रखी थी, तो किस्त बाउंस होने से बच गई.

जैसा कि हर किसी के घर में महीने के खर्चे होते हैं, मुझे भी कई बिल भरने हैं. (दूध का हो, बिजली का, राशन, रोजाना के खर्चे) ये बिल भरने के भी रुपए नहीं बचे हैं.

अब खुद बताओ सर मैं क्या करें.

पुष्कर सर आपसे निवेदन है किसी तरह वेतन दिलवाने का कष्ट करें.

एक निवेदन ये भी है कि कृपया अभी जब तक वेतन नहीं मिल जाता, मेरा ऑफिस आना भी संभव नहीं हो पाएगा. मेरी शिफ्ट ना लगाएं. घर में रह कर कहीं से कुछ रुपयों का जुगाड़ ही कर लूंगा.

मैसेज तीन-

@pushkar sir

मेरा नंबर ऑफ रहता है या आउट ऑफ रिच मिलेगा ……

जुलाई से अक्टूबर हो गया, पैसा दिया नहीं,

जुलाई

अगस्त

सितंबर

और अक्टूबर

4 महीने में 16,000 किराया हो गया । मकान मालिक गाली दे रहा है, बैंक का 4 महिने का लोन हो गया है ,मकान मालिक कमरा बंद कर दिया है, लैपटॉप तक वहीं फंसा है, कोई तो परेशानी समझें, 8-10 हजार में दिल्ली में मैनेज कर रहा हूं, उसपर टाइम से पैसे नहीं मिल रहे , कैसे क्या -क्या करूं, पानी तक खरीद के पीना पड़ता है ।

अभी नहीं आऊंगा, घर में दिक्कत है, ऊपर से टिकट का पैसा तक नहीं । बहुत परेशानी में हूं, मोबाइल खराब हो गया है, बात नहीं हो रहा किसी से, कॉल आया है की बार पर ऑडियो में दिक्कत है, इसलिए कॉल नहीं उठा रहा, उसके लिए क्षमा चाहूंगा पर बहुत दिक्कत में हूं । कोई मदद कर दें, सैलरी मिलते ही वापस कर दूंगा ।

जय भवानी।

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “अपने कर्मियों को पीड़ा में रखने वाले कार्तिक शर्मा और राणा यशवंत को नींद कैसे आती होगी?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *