मोदी सरकार का सबसे ताकतवर कैबिनेट मंत्री अपनी ही जांच एजेंसी की खुलेआम आलोचना कर रहा है!

गिरीश मालवीय

आखिरकार चन्दा कोचर के मामले में किसे बचा रहे है अरूण जेटली? आपने ऐसा कितनी बार सुना है कि सरकार का सबसे ताकतवर केबिनेट मंत्री अपनी ही जांच एजेंसी की खुलेआम आलोचना कर रहा हो? साफ बात यह है कि मामला जो नजर आ रहा उससे कही अधिक पेचीदा है! धोखाधड़ी के मामले में ICICI बैंक की पूर्व प्रमुख चंदा कोचर के खिलाफ चल रही जांच के मामले में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने सीबीआइ को ही निशाने पर ले लिया….

जेटली ने लिखा, ‘पेशेवर जांच और जांच में दुस्साहस के बीच आधारभूत अंतर है। हजारों किलोमीटर दूर बैठा, मैं जब ICICI केस में संभावित लक्ष्यों की सूची पढ़ता हूं तो एक ही बात मेरे दिमाग में आती है कि लक्ष्य पर ध्यान देने की जगह अंतहीन यात्रा का रास्ता क्यों चुना जा रहा है?’

जेटली ने यह टिप्पणी ऐसे वक्त की है, जब एक ही दिन पहले सीबीआई ने चंदा कोचर के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले में बैंकिंग क्षेत्र के के.वी.कामथ तथा अन्य को पूछताछ के लिये नामजद किया है. ये अन्य कौन है इसके बारे में किसी मीडिया खामोश है! एकमात्र नाम के वी कामथ का सामने आ रहा है के वी कामथ भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के दिग्गज हस्ती है और ICICI बैंक के पूर्व चेयरमैन रह चुके है.

ICICI ग्रुप कभी CEO बनाने की फैक्ट्री था। ICICI में काम करने वाले कई कर्मचारी आज देश में बड़े पदों पर काम कर रहे हैं. कामथ ने ही देश की दो सबसे बड़ी महिला बैंकर्स चंदा कोचर और शिखा शर्मा को ग्रूम किया था. इन दोनों ने ICICI ग्रुप में केवी कामथ की मेंटरशिप में लंबे समय तक काम किया है. शिखा शर्मा पर भी एक्सिस बैंक के सीईओ रहते भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे हैं.

कामथ ने एक बार कहा था ‘मैने जितने लोगों को सिखाया उसमें चंदा मेरी फेवरेट है.’ जब कामथ 2009 में रिटायर हुए तो चंदा कोचर को ही उनका उत्तराधिकारी बनाया गया. कामथ भारतीय उद्योग जगत में बहुत प्रभावशाली हस्ती माने जाते हैं. कहा जाता है कि जब धीरूभाई अंबानी की विरासत का बंटवारा करने का प्रश्न आया तो कोकिला बेन ने दोनों बेटों के बीच मध्यस्थता कराने के लिए जिन लोगों को चुना था उसमें कामथ भी एक थे.

के वी कामथ ने तब यह सुझाया था कि आरआईएल और आईपीसीएल का विलय करके एक कंपनी बनायी जाए और फिर उसे दो हिस्सों में करके दोनों भाइयों मुकेश अंबानी ओर अनिल अंबानी में बराबर बांट दिया जाए. इस सुझाव पर मुकेश अंबानी को आपत्ति थी. लिहाज़ा, आरआईएल और आईपीसीएल मुकेश के हिस्से में आयीं. रिलायंस इन्फोकॉम (कम्युनिकेशन), रिलायंस कैपिटल और रिलायंस एनर्जी की कमान अनिल के हाथों में गयी. उसके बावजूद भी 2005 में हुए बहुप्रचारित बंटवारे के पहले कामथ ने दोनों भाइयों के बीच मध्यस्थता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

साफ है कि कामथ उद्योग और बैंकिंग के क्षेत्र में बहुत तगड़ी पकड़ रखने वाले शख्स है. मोदी सरकार ने के वी कामथ को ‘ब्रिक्स’ देशों द्वारा स्थापित किए जा रहे 50 अरब डॉलर के ‘न्यू डिवेलपमेंट बैंक’ (एनडीबी ) का प्रमुख भी नियुक्त किया है. ब्रिक्स में 5 उभरते विकासशील देश ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं, इन्ही देशों ने पिछले साल एनडीबी स्थापित करने पर समझौता किया था. समझौते के मुताबिक भारत को इस बैंक का पहला अध्यक्ष नियुक्त करने का अधिकार मिला था. इसलिए इस पद पर कामथ की नियुक्ति की गई है और अब उन्हीं कामथ से सीबीआई पूछताछ कर रही है.

इस पत्रकार ने तो बड़े-बड़े अखबारों-चैनलों का ही स्टिंग करा डाला!

इस पत्रकार ने तो बड़े-बड़े अखबारों-चैनलों का ही स्टिंग करा डाला! ('कोबरा पोस्ट' वाले देश के सबसे बड़े खोजी पत्रकार अनिरुद्ध बहल को आप कितना जानते हैं? येे वीडियो उनके बारे में A से लेकर Z तक जानकारी मुहैया कराएगा… Bhadas4Media.com के संपादक यशवंत सिंह ने उनके आफिस जाकर लंबी बातचीत की.)

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಜನವರಿ 25, 2019

लेकिन सीबीआई सही कर है क्योंकि वीडियोकॉन के मालिक वेणुगोपाल धूत से जब चंदा कोचर के बारे में पूछा गया तो धूत ने कहा था कि जिस समिति ने विडियोकॉन ग्रुप के 3,250 करोड़ के कर्ज को मंजूरी दी थी, उसके 12 सदस्यों में से चंदा कोचर मात्र एक सदस्य थीं. उन्होंने यह महत्वपूर्ण दावा भी किया था कि जिस समिति ने यह लोन मंजूर किया है उसके अध्यक्ष केवी कामथ थे और आईसीआईसीआई बैंक के फॉर्मर चेयरमैन केवी कामथ को वह पर्सनली जानते भी थे. वह उनके साथ लंच पर जाया करते थे.

यानी भांग पूरे कुँए में ही घुली हुई थी. इसलिए सबकी जाँच हो. इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है. लेकिन जो रिलायंस के इतने करीबी हो, उसे मोदी के केंद्रीय मंत्री क्यों न बचाएं. चन्दा कोचर का भी रिलायंस से नाता है. चंदा की बेटी आरती रिलायंस इंडस्ट्रीज में काम करती हैं. उनकी शादी आदित्य काजी से हुई है. आदित्य का पूरा परिवार उद्योगपति अंबानी फैमिली का करीबी है. आदित्य और आरती फिलहाल मुंबई में रिलायंस कंपनी में कार्यरत हैं. आदित्य के पिता समीर काजी और मां राधिका को अंबानी परिवार के करीबी माना जाता है.

लेखक गिरीश मालवीय इंदौर के निवासी हैं और आर्थिक मामलों के जानकार हैं.

भड़ासी बाबा गाए- Na Sona Sath Jayega…

भड़ासी बाबा गाए- Na Sona Sath Jayega… (Bhadas4Media.com के एडिटर यशवंत सिंह भड़ास4मीडिया के दस साल पूरे होने के मौके पर नोएडा स्थित होटल रेडिसन ब्लू में आयोजित जलसे में अपना प्रिय भजन गाते हुए.)

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಜನವರಿ 25, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *