एक दुष्चक्र के तहत लोगों ने राफेल के बारे में भ्रम फैलाया है : राम बहादुर राय

राफेल का सच बताने का दावा करती एक किताब… नई दिल्ली। बहुचर्चित और विवादस्पद राफेल सौदे पर तमाम तरह के भ्रम-निवारण करती एक पुस्तक सामने आई है। पुस्तक के लेखक खोजी पत्रकार जितेंद्र चतुर्वेदी हैं। बोफोर्स नहीं राफेल है शीर्षक इस पुस्तक का लोकार्पण यहांनोएडा स्थित हिन्दुस्थान समाचार एजेंसी के कार्यालय में सम्पन्न हुआ।

लोकार्पण के अवसर पर हिन्दुस्थान समाचार के अध्यक्ष एवं राज्य सभा सांसद आर के सिन्हा, हिन्दुस्थान समाचार के समूह संपादक रामबहादुर राय, समाजसेवी एच एन शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार हषवर्धन त्रिपाठी हिन्दूस्थान समाचार के कार्यकारी संपादक जितेन्द्र तिवारी आदि मौजूद रहे। वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय ने कहा कि इस पुस्तक के जरिए राफेल मुद्दे को समझाने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि एक दुष्चक्र के तहत लोगों में राफेल को लेकर भ्रम फैलाया गया।

राज्यसभा सदस्य आर के सिन्हा ने कांग्रेस के इतिहास और आजादी के बाद नेहरू और बाद में नेहरू-गांधी परिवार के दुष्चक्रों पर प्रकाश डाला। समाजसेवी एच एन शर्मा ने पत्रकार जितेन्द्र चतुर्वेदी को बधाई दी एवं कम समय में किये गये महत्वपूर्ण कार्य के लिए लेखक को प्रोत्साहित किया। अपनी किताब पर बात करते हुए जितेन्द्र चतुर्वेदी ने बताया कि राफेल में कुछ पत्रकारों, खासकर एन राम ने प्रोपेगेंडा फैलाया था। उन सभी पर यह किताब तथ्यों के साथ जवाब देती है।

सोतीगंज Live : चोर-सिपाही मिलकर पुलिस चौकी में काट रहे हैं आपकी नई गाड़ी!

सोतीगंज Live : चोर-सिपाही मिलकर पुलिस चौकी में काट रहे हैं आपकी नई गाड़ी! मामला मेरठ का है. यहां गाड़ी कटाई के लिए एक कुख्यात इलाका है सोतीगंज. सोतीगंज में पुलिस चौकी में सिपाही और कबाड़ी मिल कर नई नई चोरी की मोटरसाइकिलें काट डालते हैं. देखें एक लाइव वीडियो. पत्रकारों की छापेमारी के बाद पुलिस ने इस नेटवर्क का भंडाफोड़ किया और फिर लोकल अखबारों में जमकर खबरें छपीं.

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಸೋಮವಾರ, ಏಪ್ರಿಲ್ 15, 2019



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “एक दुष्चक्र के तहत लोगों ने राफेल के बारे में भ्रम फैलाया है : राम बहादुर राय

  • Loon karan Chhajer says:

    बकवास है यह पुस्तक। गोदी मीडिया का खेल है।

    Reply
  • शुभचिंतक says:

    खोजी पत्रकार को खुद राम बहादुर राय ने ही इस विपदा के समय इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया।
    यह तय है की आर के सिन्हा का असली नाक का बाल राम बहादुर राय हैं। जो पूरे लॉकडाउन मस्त रहे अपने संस्थान के कर्मचारियों से रगड़ के काम ले रहे हैं लेकिन 4 महीने से वेतन के नाम पे लारे दे रहे हैं। और सिन्हा को अवकाश पे भेज दिए हैं।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code