Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

लीजिए, तैयार हो गया ‘संपादक चालीसा’ …मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी

हिंदी मीडिया में कुछ साल काम करने के बाद मैंने अनुभव के आधार पर हनुमान चालीसा की तर्ज पर यह संपादक चालीसा लिखी है… इसके नियमित वाचन से वे कनफ्यूज लोग जो नहीं समझ पाते कि आखिर उनका दोष क्या है, सफलता के पथ पर निश्चित ही अग्रसर हो सकेंगे… यह संपादक चालीसा मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी है इसलिए इसका रोजाना वाचन और तदनुसार पालन अनिवार्य है… आइए इस रचना के पाठ के पहले सामूहिक रूप से कहें- आदरणीय श्री संपादक महाराज की जय….

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>हिंदी मीडिया में कुछ साल काम करने के बाद मैंने अनुभव के आधार पर हनुमान चालीसा की तर्ज पर यह संपादक चालीसा लिखी है... इसके नियमित वाचन से वे कनफ्यूज लोग जो नहीं समझ पाते कि आखिर उनका दोष क्या है, सफलता के पथ पर निश्चित ही अग्रसर हो सकेंगे... यह संपादक चालीसा मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी है इसलिए इसका रोजाना वाचन और तदनुसार पालन अनिवार्य है... आइए इस रचना के पाठ के पहले सामूहिक रूप से कहें- आदरणीय श्री संपादक महाराज की जय....</p>

हिंदी मीडिया में कुछ साल काम करने के बाद मैंने अनुभव के आधार पर हनुमान चालीसा की तर्ज पर यह संपादक चालीसा लिखी है… इसके नियमित वाचन से वे कनफ्यूज लोग जो नहीं समझ पाते कि आखिर उनका दोष क्या है, सफलता के पथ पर निश्चित ही अग्रसर हो सकेंगे… यह संपादक चालीसा मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी है इसलिए इसका रोजाना वाचन और तदनुसार पालन अनिवार्य है… आइए इस रचना के पाठ के पहले सामूहिक रूप से कहें- आदरणीय श्री संपादक महाराज की जय….

Advertisement. Scroll to continue reading.

संपादक चालीसा

-राजीव सिंह-

Advertisement. Scroll to continue reading.

जय संपादक अज्ञान गुन सागर
मैनेजर बने तुम्ही हो आकर

मालिक दूत अतुलित बल धामा
डंडा डाल के करावे कामा

Advertisement. Scroll to continue reading.

मीडिया के तुम हो बजरंगी
सुमति निवार कुमति के संगी

कंचन बरन चमकत केसा
कई गुना तुम पावे पैसा

Advertisement. Scroll to continue reading.

हाथ जॉब की ध्वजा बिराजै
जिसको चाहे उसको भगावै

मूर्ख चापलूस चूतिया नन्दन
सब करते हैं तेरा बंदन

Advertisement. Scroll to continue reading.

विद्याहीन अगुनी अति चातुर
मालिक काज करिबे को आतुर

त्रिया चरित्र सुनिबे को रसिया
ऑफिस में लेडी मन बसिया

Advertisement. Scroll to continue reading.

महान रूप धरि करे दिखावा
नीच रूप धरि कंपनी डूबावा

रौद्र रूप धरि कर्मी संहारे
अपना प्रमोशन काज संवारे

Advertisement. Scroll to continue reading.

लाय प्लान कंपनी जियाये
मालिकन को चूतिया बनाये

अच्छे काम की करै न बड़ाई
एक गलती पर चीखता भाई

Advertisement. Scroll to continue reading.

डर से सब तुम्हरो जस गावैं
पीछे में गाली कण्ठ लगावैं

सबको तुमने है ऐसा पीसा
गधे जैसा दस घंटे घीसा

Advertisement. Scroll to continue reading.

तुम कुबेर दिगपाल जहां के
कोई तेरे आगे टिके कहां से

तुम उपकार सब पर कीन्हा
बदले में कम वेतन दीन्हा

Advertisement. Scroll to continue reading.

तुम्हरो मंत्र मालिकन माना
कंपनी चली सब जग जाना

जुग सहस्र झूठी खबर तानु
पेड न्यूज मधुर फल पानु

Advertisement. Scroll to continue reading.

कपट फरेब धरि मुख माहीं
हदें लांघ गए अचरज नहीं

नीच काज तुम कितने करते
तभी तो मालिक पैसे देते

Advertisement. Scroll to continue reading.

उनके दुआरे तुम रखवारे
करत न काम बिनु पैसा रे

सब कोई लहै तुम्हारी सरना
तुम रच्छक काहू को डर ना

Advertisement. Scroll to continue reading.

दूजो क्रेडिट सम्हारो आपै
सहकर्मी कुछ कहते कांपै

भूत पिसाच निकट नहीं आवै
संपादक जब नाम सुनावै

Advertisement. Scroll to continue reading.

होवे रोग भरै सब पीरा
इतना खटावै संपादक बीरा

संकट से तें तुम ही छुड़ावै
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै

Advertisement. Scroll to continue reading.

सब पर हैं वो मालिक राजा
तिनके काज सकल तुम साजा

और मनोरथ जो कोई लावै
सोई बहुत कड़वा फल पावै

Advertisement. Scroll to continue reading.

ऑफिस में परताप तुम्हारा
जिसको जब चाहा फटकारा

कामचोरों के तुम रखवारे
असुरनंदन मालिक दुलारे

Advertisement. Scroll to continue reading.

धूर्तसिद्धि नौ निधि के दाता
जाने कितने बैंक में खाता

कपट रसायन तुम्हरे पासा
सदा रहौ मालिक के दासा

Advertisement. Scroll to continue reading.

तुम्हरो भजन प्रमोशन पावै
जनम जनम के दुख बिसरावै

अंतकाल जहां भी वो जाई
वहां जन्म बॉसभक्त कहाई

Advertisement. Scroll to continue reading.

और किसी को चित्त न धरई
संपादक सेइ सर्ब सुख करई

संकट कटै मिटै सब पीरा
जो सुमिरे संपादक बलबीरा

Advertisement. Scroll to continue reading.

जय जय जय संपादक गोसाईं
कृपा करहु मालिक के नाईं

जो सत बार पाठ कर कोई
ऑफिस में महासुख होई

Advertisement. Scroll to continue reading.

जो यह पढ़ै संपादक चालीसा
होय सिद्ध नौकर हीरा सा

राजीवदास सदा ही चेरा
कीजै नाथ हृदय महं डेरा

Advertisement. Scroll to continue reading.

इस संपादक चालासी के रचयिता युवा पत्रकार Rajeev Singh हैं जिनसे संपर्क [email protected] के जरिए किया जा सकता है.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement