भड़ास की ‘पक्षपाती पत्रकारिता’ का रेट क्या चल रहा है?

-Yashwant Singh-

आज एक दुर्जन का फोन आया।

वे ज्ञान दे रहे थे मुझे कि आप निष्पक्ष पत्रकारिता क्यों नहीं करते हैं?

मैंने कहा कि मैँ पक्षपाती पत्रकारिता करता हूँ। आप भी पैसा दीजिए, आपके पक्ष में भी लिख दूँगा।

उन्होंने कहा- क्या रेट है?

हमने कहा- 15 हजार रुपए प्रति आर्टकिल!

वो बोला- ये आप तो बहुत कम में बिक जाते हैं भाई!

अपन का जवाब- गरीब घर का छोटा मोटा आदमी हूँ भाई, इतने में पेट भर जाता है।

वो हंसकर बोला- चलिए हम बीस हजार देते हैं, एक खबर लिख दो।

हमने फौरन अकाउंट नम्बर भेज दिया!

पैसे के आने का इंतज़ार है!

🙂 😉

#No_बहसonlyपेमेंट

भड़ास एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कुछ कमेंट्स देखें-

Sanjaya Kumar Singh
आपने तो 15,000 रुपए मांगे मैं तो हजार रुपए में तैयार हूं। बहुत पुरानी बात है, एक पत्रकार मित्र ने पूछा कि एडिट पेज के आर्टिकल का अनुवाद करने के कितने पैसे लोगे मैंने शब्द के हिसाब से उस समय शायद 2000 रुपए बताए थे उसने कहा कि इतने तो अंग्रेजी में लिखने के नहीं मिलते। मैंने तब यही कहा था कि मिल रहे होते तो मैं भी लिखता, अनुवाद क्यों करता। आप रेट के मामले में लोगों को गलतफहमी में न डालें। यह लिखने और छापने दोनों का है। सिर्फ लिखने के तो मैं 30 हजार में 50 आर्टिकल या 50,000 शब्द तैयार हूं। खुला ऑफर है। 10 साल से कोई नहीं मिला।

Soumitra Roy
पैसा आये तो बताना। मुझे भी आर्टिकल लिखना है।

Umesh Kumar
हाहाहा , जिसके ख़िलाफ़ लिखना है उस से भी बात कर लें

Yashwant Singh
डबल एजेंट हो सकने की सम्भावना का पता लगाया जाएगा 🙂

Pawan Aagri
खाते में पैसे नहीं आएंगे बल्कि ये खबर आएगी कि भड़ास वाले यशवंत 20 हज़ार में बिके। हा हा

Yashwant Singh
मार्किट में रेट फैलाना ज़रूरी है 🙂

Himanshu Kumar
मैं तो हजार रुपए के लिए भी आर्टिकल लिख देता हूं भाई मेरा अकाउंट नंबर भी दे देना

Aman Kumar Tyagi
एक बात मुझे भी याद आ रही है. 94 या 95 की बात है, विकास मार्ग दिल्ली से एक पत्रिका निकलती थी मैं उसके लिए स्वतंत्र लेखन करता था. एक आर्टिकल के 500 से 1000 तक मिल जाता था. एक बार स्पोर्ट्स पर लिखा आर्टिकल वहां के एडिटोरियल सदस्य ने अपने नाम से छपवा लिया. मेरी स्थिति का अंदाजा लगा सकते हो…मैंने कहा चलो नाम की जाने दो मगर पैसा तो दो….जवाब मिला आपके दो लेख छपते हैं अबकी बार तीन छापकर पेमेंट करा देंगें.. क्या कर सकता था. कुर्सी छोड़कर उठने लगा तो वह धीरे से बोला ..अमन भाई एक लेख मेरे लिए भी तैयार कर देना… प्लीज नौकरी का मामला है…

Sachin Shrivastava
भाई ये क्या बात हुई
हम इधर आपके नाम से 25 हजार का रेट चला रहे हैं 😂😂😂

Yashwant Singh
पहले बताए होते तो हम फेसबुक पर 30 का रेट खोलते न! बड़ा नुकसान हो गया यार

Vineeta Yadav
लोग कहते है की भड़ास में छपने का पैसा देना होता है लेकिन मुझसे तो एक नए पैसे की चर्चा आपने कभी नही की बल्कि मुझ पर जो खबर आपने लिखी वो मुझे ज़रूर चौका गयी हर बार …..

Khalid Nadeem
सर कॉपी पेस्ट का भी कुछ हज़ार पाँच सौ मिल जाता तो।🤔🤔🤔 वो क्या है न पापी पेट का सवाल है।😜😜😜

Anand Choudhary
उस सज्जन को मेरा नंबर भी दे दीजिएगा..😂

Shashi Bhushan
Only payment no debate

Riyaz Hashmi
सच्चा सौदा
बाबा जानें मन की बात
जपनाम!

Kamlesh Sharma
यह राशि सहायतार्थ है, इससे जरूरतमंदों को सेनेटाइजर (एल्कोहल युक्त) वितरित किया जाएगा…😀😀

Adil Zaidi Kavish
यहाँ तो जौनपुर के चार-पाँच नेताओं के लिए पोस्ट तैयार करने पर चाय भी नही पूछी जाती और उनकी पोस्ट पर बड़के लेखक का उन्हें तमगा भी मिलता है । ऐसा कोई ऑफर आये तो बताइएगा 2-4 सौ मे लिख देंगे बाक़ी आप भक्तों में बांट दीजिएगा 😉

नितिन श्रीवास्तव
पैसा आया या नही भइया , जगह बताए तो जाकर ले आये हम….😊😊😊

Atul Tiwari Aakrosh
भैया.. पैसे आने अनुभव भी शेयर किया जाना चाहिए..😊😊

Kumar Devesh
जय भड़ास

Prateek Chaudhary
जय हो गुरुदेव 🙏🙏

Manoj Singh Gautam
बता देना हम भी बिकने के लिए तैयार है

Ãsîf Khåñ
वह आप से भी बड़ा गरीब होगा पैसे क्या अब फोन भी नहीं आएगा🤣🤣🤣

Maheshchandra Kashyap
Is duniya me har insan har roj bikta hai.tabhi nikal padta hai

Avinash Chaudhary
भाई जी इमानदारी कूट कूट के भरी है जितनी चादर उतने पैर

Hemendra Garg
मै डेड सौ में लिख दुंगा,सस्ते वाला मांगे तो मेरा नम्बर दे दिजिए।

Harshendra Singh Verdhan
दादा, GST कटेगा का🤠

Yashwant Singh
हमें पूरा चाहिए! कटा फटा allow न है भाई 🙂

आचार्य चन्द्रशेखर शास्त्री
7 हजार में पब्लिशर पूरी किताब लिखा लेता है और 15 एक आर्टिकल का ले रहे हैं…बहुत नाइंसाफी है यशवंत भाई

Yashwant Singh
ब्रांडेड का रेट हाई तो होता ही है

आचार्य चन्द्रशेखर शास्त्री
Yashwant Singh
ब्रांड कुछ नहीं होता, वही 7 हज़ार वाली किताब पर 3 लाख रुपए देकर अपना नाम लिखाता है और दुनियां में उसकी पब्लिसिटी करने पर खर्च करता है….तब लोग उसे ब्रांड कहते हैं…हमें पूरा भरोसा है कि कम से कम यशवंत सिंह ऐसा नहीं करते…जब कलमों की स्याही सुख जाती है तो ये की बोर्ड तोड़कर उसका जूस निकाल लेते हैं और सब भड़ासियों को पिला देते हैं…जय हो आपकी

Anand Sharma
वो सब छोड़ो ये बताओ हमप्याला को क्या रियायत मिलेगी?

Santosh Singh
यूँ ही मिर्च नहीं लगती कहीं कुछ तो कटा – फटा होगा।😀😃

Himanshu Mishra
bhaiya aapka account number lunga, mujhe bhi khabar likhwani hogi…par apan bhi thode halki jeb waale hain 20 nahi de payenge sir ki tarah.

Yashwant Singh
आपका 10 में ही लिखा जाएगा 🙂

श्रीमंत लंठजी महाराज
हम त तोहरे आइसा वाला हई, हमार खबर केतना में छपी ? 😊😊😊

Yashwant Singh
भारी डिस्काउंट! मात्र 2 हजार रुपए में छप जाएगी।

सुनील गुप्ता
वाह सर घूसखोरी में भी ईमानदारी वाह गरीब घर का बेटा हर चीज में ईमानदार होता है इससे बढ़िया प्रस्तुति नहीं हो सकता

आचार्य चन्द्रशेखर शास्त्री
कॉरोना में सबका रेट गिरा हुआ है…कुछ तो इतना गिर गए कि उनका रेट ही नहीं रहा…रेट रेत हो गया

Manish Etawah
चौथा स्तम्भ ढहने की कगार पर

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *