सिपाही ने शादी कर महिला का खूब इस्तेमाल किया, अब उसे छोड़कर नई लौंडिया पटाने में जुटा

SHIVA MAURYA

रायबरेली। जीआरपी थाने में तैनात सिपाही ने पहले एक महिला से शादी रचाई और फिर उसका यौन शोषण किया। अब सिपाही ने महिला को अपनाने से इन्कार कर दिया। महिला का आरोप है कि पुलिस कर्मी दूसरी शादी करने की तैयारी भी कर रहा है। पीड़िता की शिकायत पर जीआरपी सीओ ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

हरदोई जिले के रहने वाले एक पुलिस कर्मी की तैनाती रायबरेली रेलवे स्टेशन स्थित जीआरपी थाने में सिपाही के पद पर है। सिपाही का कुछ समय पहले उन्नाव जिले के हिंदूखेड़ा निवासिनी एक महिला से संपर्क हुआ था। बाद में दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और प्यार हो गया। इसी वर्ष 2 अप्रैल को सिपाही ने कानपुर जिले के मंधना स्थित आर्य समाज मंदिर में महिला के साथ विवाह कर लिया।

महिला का आरोप है कि शादी करने के बाद भी सिपाही उसे अपने घर नहीं ले गया। वह मायके में ही रह रही है जहां सिपाही का आना-जाना था। आरोप है कि शादी करने के बाद सिपाही ने उसका यौन शोषण किया और अब उसे अपनाने से इन्कार कर दिया।

पीड़िता का यह भी आरोप है कि सिपाही दूसरी शादी की तैयारी कर रहा है। उसने जीआरपी थाने के अलावा अन्य अफसरों से शिकायत करके सिपाही के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है। शिकायत पर जीआरपी के लखनऊ सर्किल के सीओ ने जांच शुरू कर दी है।

उधर, जीआरपी के थानेदार अमला सिंह यादव का कहना है कि हरदोई जिले की रहने वाली एक महिला ने जीआरपी थाने में तैनात सिपाही पर शादी करके यौन शोषण करने का आरोप लगाया है। यह मामला उन्नाव जिले का है। फिलहाल इस पूरे प्रकरण से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। जीआरपी सीओ प्रकरण की जांच कर रहे हैं।

सिपाही का कहना है कि उसने महिला के साथ आर्य समाज मंदिर में शादी की थी लेकिन यह शादी महिला ने उसके साथ धोखे से की। महिला की पहले ही किसी से शादी हो चुकी थी। उसे एक बेटा भी है। पति की मौत हो चुकी है। यह बात महिला ने उसे नहीं बताई थी। यही विवाद है। इस मामले में हरदोई न्यायालय में एक केस भी चल रहा है। दूसरी शादी करने की बात पूरी तरह से गलत है।

SHIVA MAURYA
Journalist
shivamaurya50@gmail.com



 

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक करें- BWG-1

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “सिपाही ने शादी कर महिला का खूब इस्तेमाल किया, अब उसे छोड़कर नई लौंडिया पटाने में जुटा”

  • Dr.Ranjan Kumar Shahi says:

    नमस्कार, हेडिंग लगाने में या अन्यत्र शब्दों के चयन में ध्यान देना जरूरी होता है नही तो अच्छी खबर भी स्तरहीनता की शिकार हो जाती है ।
    उम्मीद है आगे से ऐसा पढ़ने को नही मिलेगा।
    धन्यवाद ।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code