सुधीर चौधरी वाले ‘डीएनए’ में क्यों नहीं टिकते योग्य पत्रकार?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘डीएनए’ एक लोकप्रिय कार्यक्रम है. पर्दे पर सुधीर चौधरी अलग-अलग मामलों को अपने अंदाज और अपने विचार में विश्लेषण करते दिख जाते हैं. लेकिन पर्दे के पीछे की कहानी बड़ी गंभीर है. डीएनए तैयार करने वाली टीम में कोई योग्य मीडिया कर्मी देर तक टिक नहीं पाता. इसकी वजह खुद सुधीर चौधरी हैं.

आरोप है कि सुधीर अपने डीएनए टीम के साथ लगातार अभद्र और अमानवीय आचरण करते हैं. साथ ही जिसे जब चाहे फायर कर देते हैं. इसकी वजह से पूरी टीवी इंडस्ट्री में डीएनए की टीम में जाकर काम करने को काला पानी की सजा के तौर पर माना जाने लगा है. यही वजह कि अब डीएनए की टीम में भर्ती के लिए जी न्यूज को विज्ञापन प्रकाशित करना पड़ रहा है.

डीएनए टीम का हिस्सा रह चुके एक टीवी पत्रकार ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि खुद सुधीर चौधरी की हरकतों के चलते ये दिन आ गए हैं कि अब डीएनए टीम में भर्ती के लिए एड का सहारा लेना पड़ रहा है.

दरअसल अब कोई भी डीएनए में सुधीर चौधरी की वजह से काम नहीं करना चाहता. पिछले पांच महीनों में अमित रावत (डिप्टी एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर), सिद्धार्थ त्रिपाठी (एसोसिएट एडिटर), विनय पांडेय (सीनियर प्रोड्यूसर), अतीत मिश्रा (डिप्टी एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर), मुर्तजा (सीनियर प्रोड्यूसर) आदि ने इस्तीफा दे दिया. कुछ लोग अब भी जॉब छोड़ने के सही वक्त का इंतजार कर रहे हैं.

सूत्र का कहना है कि सुधीर चौधरी का इगो बहुत बड़ा है. वह अगर टीपी ठीक से नहीं पढ़ पाते हैं तो इसके लिए पीसीआर से सीधे गाली देने लगते हैं. वे कई दफे अपनी गल्ती छुपाने के लिए टीपी आपरेटर, प्रोड्यूसर और जो भी अगल-बगल हो उसे धमकाने, गरियाने लगते हैं.

सूत्र का कहना है कि एक बार सुधीर ने आन एयर एक बेहद ग़लत शब्द बोल दिया था जिसे उन्होंने फौरन रिपीट में हटवाया. टीवी इंडस्ट्री के हाईयेस्ट पेड मैनेजिंग एडिटर होने के बावजूद सुधीर चौधरी अपनी सात आठ लोगों वाली डीएनए टीम को ठीक से लीड नहीं कर पाते.

वैसे, लोगों के लगातार जाने से नए लोगों के आने का भी मौका बना रहता है.

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “सुधीर चौधरी वाले ‘डीएनए’ में क्यों नहीं टिकते योग्य पत्रकार?

  • Yogita gaur says:

    Sir i worked in pcr cg and i have a experience of 6 month, now i want to work with your news channel and i want to be a part of research work in DNA

    Reply
  • Satyendra mathur says:

    Sir me noida sec-6 f-42 ke channel one news channel me kam krta tha..Vha k logo ne meri 2 months ki salery nhi di he.. Please help me sir.

    Reply
  • Working at the research desk of Aaj Tak for the last 16 years. A new challenge would be very nice. look forward to working for a leading show of the industry

    Reply
  • Abhishek Rai says:

    Bhai mere sath bhi Asia hi khuch Hua hai Amrita rai ki channel mai swaraj Express jo galti nhi thi meri Maine wo bhi except ki punishment bhi sahi Maine uske bhi baad jo hod hai hmare unhone pura mood bna liya mujhe bahar nikalne ka aur krke bhi dikhaya. Naa to FNF ka khuch hua aur naahi diya. 2 mahine punishment krne ke baad HrDep.se call aata hai ki aap kl se mat aana.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *