Connect with us

Hi, what are you looking for?

आयोजन

आईएफडब्‍ल्‍यूजे के नेताओं ने किया रायपुर में नंगा नाच, हेमन्‍त और कलहंस की करतूत से पत्रकार समुदाय शर्मसार

: जैनी धर्मशाला में पर्यूषण के दौरान हड्डियां और बोतलों के साथ हंगामा : यह आपके अध्‍यक्ष महोदय हैं। उप्र मान्‍यता प्राप्‍त पत्रकार समिति के। ये समिति के ठेकेदार हैं और पुलिस में उनकी दलाली बेहिसाब है। इसलिए जितना भी कुकर्म कर सकते हैं, कर लेते हैं। नाम है हेमन्‍त तिवारी। फिलहाल तो उनके चेहरे पर कुकर्म एक नया काला धब्‍बा जुड़ गया है। ताजी सूचना ये है कि छत्‍तीसगढ़ के रायपुर में जैन समुदाय की निरंजनी धर्मशाला ने हेमन्‍त तिवारी और सिद्धार्थ कलहंस आदि अराजक पत्रकारों की करतूत पर खफा होकर 50 हजार रुपयों का जुर्माना लगाने की धमकी दी लेकिन बीच-बचाव कर मामला निपटा दिया गया। इन पत्रकारों पर आरोप है कि उन्‍होंने जैन समुदाय के पर्युषण अवसर पर जैन समुदाय की निरंजनी धर्मशाला के चार कक्षों में जमकर मदिरा और मांसाहार किया।

: जैनी धर्मशाला में पर्यूषण के दौरान हड्डियां और बोतलों के साथ हंगामा : यह आपके अध्‍यक्ष महोदय हैं। उप्र मान्‍यता प्राप्‍त पत्रकार समिति के। ये समिति के ठेकेदार हैं और पुलिस में उनकी दलाली बेहिसाब है। इसलिए जितना भी कुकर्म कर सकते हैं, कर लेते हैं। नाम है हेमन्‍त तिवारी। फिलहाल तो उनके चेहरे पर कुकर्म एक नया काला धब्‍बा जुड़ गया है। ताजी सूचना ये है कि छत्‍तीसगढ़ के रायपुर में जैन समुदाय की निरंजनी धर्मशाला ने हेमन्‍त तिवारी और सिद्धार्थ कलहंस आदि अराजक पत्रकारों की करतूत पर खफा होकर 50 हजार रुपयों का जुर्माना लगाने की धमकी दी लेकिन बीच-बचाव कर मामला निपटा दिया गया। इन पत्रकारों पर आरोप है कि उन्‍होंने जैन समुदाय के पर्युषण अवसर पर जैन समुदाय की निरंजनी धर्मशाला के चार कक्षों में जमकर मदिरा और मांसाहार किया।

हालांकि हेमन्‍त तिवारी और सिद्धार्थ कलहंस ने छत्‍तीसगढ के दौरे पर गये आईएफडब्लूजे यानी श्रमजीवी पत्रकार संगठन के प्रतिनिधि मंडल से क्षमा-याचना की है। लेकिन खबर है कि इस प्रतिनिधिमंडल ने इस माफी की याचना को मंजूर करने से साफ मना कर दिया है। सूत्र बताते हैं कि इस यात्रा से लौटने के बाद आईएफडब्लूजे हेमंत और कलहंस पर कड़ी अनुशासनिक कार्रवाई कर सकता है। हेमन्‍त और सिद्धार्थ की इस हरकत को लेकर लखनऊ के पत्रकारों में भी खासी नाराजगी का माहौल है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आपको बता दें कि लगातार अपनी गुण्‍डागर्दी और अराजकता हरकतों के चलते यह दोनों जोड़ीदार लगातार चर्चाओं में बने रहते हैं। कभी लखनऊ में शराब में धुत्‍त होकर हेमन्‍त कभी एक थानाध्‍यक्ष  की सरेआम पिटाई कर देता है तो कभी किसी चौराहे पर आम आदमी को पीट देते हैं। चंद अफसरों और पुलिसवालों के चहेते दलाली की दलाली राजनीति के गलियारों में भी खासी चर्चित हो चुकी है।

रायपुर से मिली खबरों के मुताबिक आईएफडब्‍ल्‍यूजे यानी श्रमजीवी पत्रकार संघ के अधिवेशन में यहां आये हेमन्त तिवारी तिवारी और कलहंस आदि अनेक पत्रकारों ने शराब के नशे मे जमकर बवाल किया और महिलाओं के सामने नंगा-नाच किया। इस दौरान कई महिलाएं भी घटनास्‍थल पर मौजूद थीं। ज्ञातव्‍य है कि हेमन्‍‍त तिवारी श्रमजीवी पत्रकार संघ के सचिव हैं। हैरत की बात तो यह है कि इस घटना के वक्‍त आईएफडब्‍ल्‍यूजे के अध्‍यक्ष के विक्रमराव भी मौजूद थे। इतना ही नहीं, इन लोगों ने श्री राव के साथ भी बेहद बेहूदगी की।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आईएफडब्लूजे के रायपुर मे हो रहे अधिवेशन मे हेमन्त तिवारी और सिद्धार्थ कलहंस ने रायपुर के पास परसगाव के विश्राम गृह मे जम कर दारू पी और उत्पात मचाया।  वहाँ रात्रि भोजन के लिये रुके आईएफडब्लूजे अध्यक्ष के विक्रम राव महासचिव परमानन्द पांडे एवं उनकी पत्नी, यूपी यूनियन के अध्यक्ष हसीब सिद्दीक़ी एंव उनकी पत्नी उड़ीसा के उपेन्द्र पादी एवं उनकी पत्नी बिहार के देबाशीष बोस ने जब इसका विरोध किया तो उन सभी के साथ अभद्रता की। नशे मे धुत हेमन्त को जब विश्वदेव राव (के विक्रम राव का पुत्र एव लखनऊ मे कार्यरत पत्रकार) ने समझाने की कोशिश की तो वह उस से गाली गलौज पर उतर आया और धमकी देने लगा की उसको जेल मे बन्द करवा देगा। हेमंत ने गालियां देते हुए कहा कि यूपी में राव की नहीं, हेमंत तिवारी का राज चलता है और यूपी सरकार मेरे इशारे पर चलती है। नशे में धुत्‍त हेमन्त ने कहा की छत्तीसगढ़ के न्यायाधीश और केन्द्रीय मन्त्री राजनाथ सिंह से उसके बहुत निकट सम्बन्ध है। घटना के साक्षी रहे सूत्रों ने बताया कि हेमन्‍त ने देबाशीष बोस के साथ भी बेहद बदतमीजी की, जो अपने कैंसर की बीमारी के बावजूद इस अधिवेशन में शामिल होने आये थे। बता दें कि श्री बोस इस समय चौथे दौर के कैंसर से पीड़ित हैं।

बताते हैं‍ कि इस घटना को लेकर छत्‍तीसगढ के पत्रकारों में खासा रोष है। उन लोगों ने तो यहां तक फैसला कर दिया था कि हेमन्‍त तिवारी और सिद्धार्थ कलहंस को पहले जम कर पीट दिया जाए और फिर पुलिस को खबर देकर हेमन्‍त और कलहंस को हवालात की हवा खिला दी जाए। लेकिन कई पत्रकार नेताओं ने इस आग्रह का विरोध किया कि पुलिस मे मामला जाने से संगठन की बहुत बदनामी होगी। इस बात पर यह तय हुआ की बस्तर पहुँच कर हेमन्त पर संगठन की कार्यकारिणी उन पर कार्यवाही करेगी और उसे तत्काल प्रभाव से निलम्बित करेगी। लखनऊ मे भी इस बात से हड़कम्प मच गया है। मुख्यमन्त्री और शिवपाल तक इस बात की ख़बर पहुँच चुकी है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

लेखक कुमार सौवीर उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ और बेबाक पत्रकार हैं. उनसे संपर्क 09415302520 के जरिए किया जा सकता है.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

0 Comments

  1. Kamta Prasad

    September 16, 2015 at 9:45 am

    मेरा असली नाम कामता प्रसाद है। 09996865069 और मैं आदरणीय कलहंस जी को जानता हूं। वे प्रो-पीपुल पत्रकार हैं। लोग उनके पीछे क्यों पड़े हैं, समझ से परे है।
    भाई, काहे अपनी निजी खुन्नस को बहाने से सार्वजनिक करते हो।

  2. sanjib

    September 20, 2015 at 7:18 pm

    Lagta hai Kamta Prasad ya to tum Andh-Bhakti dikhla rahey ho ya phir in dono ko sahi dhang se nahi jantey… Apni Jankari Pahley Pukhta karo…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement