पत्रकारों का निःशुल्क बीमा कराएगी श्रमजीवी पत्रकार यूनियन

श्रम न्यायालयों में मजीठिया केसों की सुनवाई में विलंब का मामला उठा, उत्पीड़न व अन्य मामलों में कानूनी सहायता को प्रदेश में होगी लीगल सेल, आईजेयू की लखनऊ में होगी राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक, रूपरेखा तैयार की, पत्रकारों के उत्पीड़न की मुख्य वजह उनका एकजुट न होना : शान्त, विभव शर्मा पीलीभीत के नए जिलाध्यक्ष, सुधीर बरेली मंडल महामंत्री

पीलीभीत में श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की प्रांतीय कार्यसमिति की बैठक में यूनियन के बरेली मंडल अध्यक्ष निर्मल कांत शुक्ला ने उत्तर प्रदेश में मजीठिया के केसों की सुनवाई में हो रहे अनावश्यक विलंब का मामला उठाया।

पीलीभीत। इंडियन जर्नलिस्ट यूनियन (आईजेयू) की राष्ट्रीय कार्य समिति की अगले साल प्रस्तावित बैठक की मेजबानी इस बार उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन करेगी। राष्ट्रीय बैठक लखनऊ में प्रस्तावित है, जिसकी व्यवस्थाओं की रूपरेखा पीलीभीत में रविवार को यूनियन के प्रांतीय कार्यसमिति की बैठक में तय की गई। साथ ही यूनियन में पत्रकारों के उत्पीड़न व अन्य मसलों में कानूनी सहायता मुहैया कराने को लीगल सेल गठित किए जाने का निर्णय लिया। बैठक में यूनियन से जुड़े पत्रकारों को सामूहिक बीमा योजना से लाभान्वित का निःशुल्क सुरक्षा कवच प्रदान करने की घोषणा की गई।

उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की प्रदेश कार्यसमिति की शहर के एक प्रतिष्ठित होटल में रविवार को बैठक हुई जिसमें इंडियन जर्नलिस्ट यूनियन की राष्ट्रीय कार्यसमिति की उत्तर प्रदेश में होने जा रही बैठक के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में इस आयोजन पर आने वाले खर्च, आमंत्रित अतिथियों के ठहरने व अन्य व्यवस्थाओं के बारे में लोगों ने अपने सुझाव दिए। बैठक में यूनियन की स्मारिका के प्रकाशन में प्रदेश के सभी जिलों की भागीदारी सुनिश्चित की गई। स्मारिका का विमोचन राज्यपाल या मुख्यमंत्री के कराने का भी निर्णय लिया गया। स्मारिका के लिए यूनियन से जुड़े लोगों से आलेख आदि भी उपलब्ध कराने को कहा गया। बैठक में यूनियन के बरेली मंडल अध्यक्ष निर्मल कांत शुक्ला व बदायूं जिला अध्यक्ष शरद शंखधार के प्रस्ताव पर प्रदेश स्तर पर लीगल सेल के गठन पर सदन ने सहमति व्यक्त की। बैठक में तय किया गया कि यूनियन पत्रकारों का सामूहिक बीमा कराएगी जोकि निःशुल्क होगा, इस तरह प्रदेश भर के पत्रकारों को एक सुरक्षा कवच प्राप्त होगा।

बैठक में प्रदेश अध्यक्ष सियाराम पांडे “शान्त” ने कहा कि पत्रकार की खबर से उसकी मंशा स्पष्ट होती है। इसीलिए कभी भी खबर में अधिकारी के पक्ष या विपक्ष पर ज्यादा तारीफ या ज्यादा विरोध की खबर न लिखकर सही दिशा में संतुलित खबर लिखना चाहिए। साथ ही यह ध्यान रखना चाहिए कि आप की खबर समाज के लिए हो जिसमें आपकी मंशा स्पष्ट हो। उन्होंने कहा पत्रकारिता के लिए पढ़ना बहुत आवश्यक है। पत्रकारिता के ट्रेंड को जानना आवश्यक है, जिससे हम आत्म चिंतन करके ही एक सफल पत्रकार बन सकते हैं। वर्तमान में पत्रकारों को अपनी दिशा का चयन करने के लिए आत्म चिंतन करना चाहिए। साथ ही कहा कि आप अपनी मांगों को संस्थानों से कहना सीखिए। अगर आप संस्थान से अपनी खबर के एवज में मांग नहीं रखेंगे तो संस्थान आपका शोषण करते ही रहेंगे।

पत्रकार अपने संस्थानों से आग्रह नहीं करते हैं, जिस कारण ही वह शोषण का शिकार होते हैं। साथ ही कहा कि तहसील स्तर पर भी अपने साथियों को प्राथमिकता दें व उनको जोड़ कर रखें। पत्रकारों की समय-समय पर लेखन संबंधी कार्यशाला का आयोजन किया जाना चाहिए ताकि खबरों के माध्यम से मानहानि के शिकार होने से बचा जा सके। प्रदेश अध्यक्ष ने आदिशंकराचार्य के द्वारा कही गई बात को अपने पत्रकारों के लिए कहते हुए कहा कि इस संसार के सभी पत्रकार हमारे बंधु बांधव हैं।जिनके सहयोग के लिए हम सदैव खड़े हैं। वर्तमान में पत्रकारों के उत्पीड़न की मुख्य वजह उनका एकजुट न होना है। हमें बड़े छोटे बैनर से मतलब नहीं, हमारा पेशा पत्रकारिता है, जो हमें एक साथ जोड़े रहती है। इसलिए हम संगठित रहें ताकि कोई हमें हानि न पहुंचा सके। उन्होंने कहा कि अपने ऊपर लगने वाले आक्षेपों से भयभीत न होकर अपना कार्य निष्ठा पूर्वक करना चाहिए। संगठन प्रत्येक सदस्य के साथ मजबूती से सदैव खड़ा था, खड़ा है और खड़ा रहेगा।

यूनियन के प्रांतीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष गंगा प्रसाद पांडे ने कहा कि पदाधिकारी सिर्फ पद की जिम्मेदारी के लिए जाने जाते हैं लेकिन वास्तव में सभी सदस्य एक बराबर होते हैं। संगठन पदाधिकारियों से नहीं बल्कि साथियों से चलता है। बैठक में यूनियन के बरेली मंडल बरेली के अध्यक्ष निर्मल कांत शुक्ला ने मजीठिया वेज बोर्ड के मामले को प्रमुखता से उठाया। उन्होंने बताया कि माननीय उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद उत्तर प्रदेश के श्रम न्यायालयों मैं डेढ़ साल से मजीठिया केसों की सुनवाई में तारीख पर तारीख दी जा रही है जबकि माननीय उच्चतम न्यायालय का छह माह में केस निस्तारित करने का स्पष्ट आदेश है, लिहाजा यूनियन इस मामले में प्रांतीय स्तर पर मुख्यमंत्री व श्रम विभाग के अपर मुख्य सचिव से मिलकर उनका ध्यान आकृष्ट करे कि श्रम न्यायालयों ने डेढ़ साल की समय अवधि में मजीठिया के कितने केस निस्तारित किए हैं, शासन स्तर से उनकी जवाबदेही तय होनी चाहिए।

बैठक में श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के प्रांतीय पदाधिकारी पीयूष बाजपेई, आलोक संघर्षी, बरेली मंडल के अध्यक्ष निर्मल कांत शुक्ला, बदायूं के जिलाध्यक्ष शरद शंखधार, पीलीभीत के जिलाध्यक्ष सुधीर दीक्षित, बरेली के जिलाध्यक्ष अशोक उप्रेती, गीता पंत शर्मा ने विचार व्यक्त किए। बैठक के अंत में प्रांतीय अध्यक्ष सियाराम पांडेय शांत व प्रांतीय महासचिव रमेश शंकर पांडे दुशाला उड़ाकर सम्मानित किया। सभी आमंत्रित अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए। प्रांतीय बैठक का शुभारंभ प्रांतीय अध्यक्ष ने मां सरस्वती की पूजा अर्चना कर दीप प्रज्वलन से किया। सभी का आभार यूनियन के जिलाध्यक्ष सुधीर दीक्षित ने व्यक्त किया।

बैठक में बरेली मंडल के महामंत्री राधा कृष्ण रावत, सौरभ पांडे, विभव शर्मा, रितेश बाजपेई, असित शुक्ला, मुकुल शर्मा विक्रांत शर्मा, विनय कुमार सक्सेना, साकेत सक्सेना, धर्मेंद्र सिंह चौहान, सौरभ दीक्षित, लखीमपुर से आये जेपी मिश्र, राजू गिरी, कौशलेंद्र गुप्ता आदि बड़ी संख्या में पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे। बैठक का संचालन प्रांतीय महासचिव रमेश शंकर पांडे ने किया। बैठक के अंत में प्रांतीय महासचिव रमेश शंकर पांडे को जिलाध्यक्ष सुधीर दीक्षित ने अपना लंबा कार्यकाल बताते हुए स्वेच्छा पूर्वक इस्तीफा दे दिया, जिसे स्वीकार करते हुए श्री पांडे ने पीलीभीत का नया जिलाध्यक्ष सदन की सहमति से विभव शर्मा को घोषित कर दिया। इसी के साथ मंडल महामंत्री राधाकृष्ण रावत को प्रदेश कार्यसमिति में लेते हुए उनके रिक्त स्थान पर सुधीर दीक्षित को मंडल का महामंत्री घोषित किया गया।

https://www.facebook.com/bhadasmedia/videos/2483991401925170/
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “पत्रकारों का निःशुल्क बीमा कराएगी श्रमजीवी पत्रकार यूनियन

  • Tiwari Rangwala Mathura says:

    Insurance वाले matter का स्वागत है मेरा भी सहयोग रहेगा एकता में शक्ति है संगठित होकर ही हम आप कुछ कर सकते हैं विल्कुल सत्य है संविधान का भी नियम है जो संगठित होकर किसी भी कार्य को करते है सफल होते हैं सभी को स्वीकार करना चाहिए Tiwari Rangwala Mathura 9045958851 India rejuvenation initiative

    Reply
  • शाह नूर says:

    Insurance वाले matter का स्वागत है मेरा भी सहयोग रहेगा एकता में शक्ति है संगठित होकर ही हम आप कुछ कर सकते हैं विल्कुल सत्य है संविधान का भी नियम है जो संगठित होकर किसी भी कार्य को करते है सफल होते हैं सभी को स्वीकार करना चाहिए

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *