शुक्र है, शशि थरूर साहब आप कामरेड न हुए वरना टीआरपीखोर कविता कृष्णन अब तक चुप न बैठती

Samar Anarya : कामरेडों के खिलाफ बिना किसी पीड़िता या पुलिस शिकायत के बलात्कार का किस्सा बना देने वाली श्रीमती कविता कृष्णन को सुनंदा पुष्कर की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज की गयी एफआईआर का नोटिस लेकर एक ट्वीट तक करने की फुर्सत नहीं मिली है. शुक्र है, शशि थरूर साहब आप कामरेड न हुए वरना…. पूछिये आपकी लिस्ट में हो तो कामरेडों की इस सुपारी किलर से https://www.facebook.com/kavita.krishnan (मेरे ऊपर मानहानि का मुकदमा कर सकती है, स्वागत है). मधु किश्वर की उस चेली को, टीआरपीखोर को, खुर्शीद मामले की साजिशकर्ता को मैं वही कहता हूँ जो वह है. मधु किश्वर का बनवाया वीडिओ बंटवाया था इस टीआरपीखोर ने. ये देखें: http://www.countercurrents.org/shukla130814.htm

xxx

कोची एसईज़ेड की एक कंपनी की टॉयलेट में सैनिटरी नैपकिन मिलने से नाराज स्त्री सुपरवाइजर्स ने ‘गुनाहगार’ का पता लगाने के लिए महिला कर्मचारियों को निर्वस्त्र कर तलाशी ली. प्राइम टाइम फेमिनिस्ट जी, टीवी चैनलों में चिल्लाने से आप जितनी चाहे टीआरपी कमा लें, स्त्रीद्वेष के खिलाफ लड़ाई यहाँ तक लड़नी है. यहाँ, जहाँ आप की नजर तक नहीं पँहुचती।

xxx

‘असली’ कम्युनिस्ट कथा: अनुशासन का मतलब है जब पार्टी पोलित ब्यूरो का आदेश हो तब सीपीएम सीपीआई को संशोधनवादी कहो, तापसी मलिक का बलात्कारी कहो। फिर पार्टी पोलित ब्यूरो लाइन बदल ले तो उसी सीपीएम के साथ गठबंधन करो और उसे सीट शेयरिंग कहो। फिर पोलित ब्यूरो यू टर्न मार दे तो सीधे गठबंधन कर लो।
बाकी उस पूरे समय में सीपीएम के साथ बिरादराना रिश्ता रखने वाले कामरेडों को गाली दो, उनके खिलाफ साज़िश रचो।

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारवादी अविनाश पांडेय समर उर्फ समर अनार्या के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “शुक्र है, शशि थरूर साहब आप कामरेड न हुए वरना टीआरपीखोर कविता कृष्णन अब तक चुप न बैठती

  • samar bhai kahan gaye apke chacha Madan Tiwary Gaya wale aur bhatija Mohammad Anas Gandhoo? sune hain aajkal facebook pe Ajit singh aur Niaz Ahmed Siddique ke piche lota le ke pade hain ??waise apko chini log kitna paisa dete hain des ki waatt lagaone ko hongkong se

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *