ब्रज फाउंडेशन के अध्यक्ष ने पूछा- अरबों रुपया खर्च करके भी वृन्दावन-मथुरा बेहाल क्यों?

संजय कुमार सिंह-

विश्व ख्याति के पौराणिक नगर वृन्दावन व मथुरा की तीर्थ सुविधाओं के विस्तार पर योगी सरकार ने पिछले पांच वर्षो में अरबों रुपया खर्च किया है, फिर भी इन नगरों का हाल बेहाल क्यों हैं? ‘उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ में हुई अरबों रुपये की बन्दरबांट की जाँच हो। यह मांग आज देश के जाने माने खोजी पत्रकार और ‘द ब्रज फाउन्डेशन’ के अध्यक्ष विनीत नारायण ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कही।

वृन्दावन व मथुरा वासियों की पीड़ा को रेखांकित करते हुये विनीत ने कहा कि आज पांच वर्ष बाद भी वृन्दावन वासियों को बन्दरों के आंतक से निजात नहीं मिली है जबकि संवेदनशील प्रशासन मात्र दो करोड़ रुपया खर्च करके इस समस्या का हल कर सकता था। आज मथुरा व वृन्दावन नारकीय कूड़े के ढेरों और जगह-जगह जमा बदबूदार गन्दे पानी से अटे पड़े हैं। इन दोनों नगरों की सीवर व्यवस्था ध्वस्त है।

वृन्दावन में नाकारा और अनावश्यक बिजली के खम्बे लगाने पर अस्सी करोड़ रुपये खर्च किये जाने की चर्चा है पर बीस करोड़ रुपये सालाना खर्च करके वृन्दावन को साफ रखने की व्यवस्था नहीं हुई। मथुरा व वृन्दावन की सड़कों का बुरा हाल है और ‘ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ का सारा जोर लाल पत्थर के अनावश्यक निर्माण पर है। दरअसल इस काम में चालीस फीसदी तक कमीशन मिलता है।

वृन्दावन की परिक्रमा पर भी लाल पत्थर का अनावश्यक प्रयोग करके उसे संकरा और मंहगा बना दिया गया है, जिसका सब ने विरोध किया था। आज इस परिक्रमा की कैसी दुर्दशा है यह कोई खोज का विषय नही है, कैमरा घुमाइये और खुद देख लीजिये कि इसका भी हाल बेहाल है। यमुना जी की तो बात ही करना बेकार है।

पांच वर्षों से भाजपा सरकार की घोषणायें सुनते आ रहे है, क्या यमुना जी शुद्ध हुईं? क्या वृन्दावन में यमुना के घाट तीर्थ यात्रियों को प्रभावित करते है? जिन घाटों का जीर्णोद्वार ‘द ब्रज फाउन्डेशन’ के सद्प्रयास से केन्द्र की ‘हदय योजना’ के अन्तर्गत किया गया था उनका भी रख-रखाव नहीं किया गया और वो उपेक्षित पड़े है।

इन तीर्थ नगरों की ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने के लिये ‘ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ ने आज तक क्या किया? ब्रजवासी ही नहीं बाहर से आने वाले तीर्थ यात्री इन नगरों में हर वक्त लगने वाले ट्रैफिक जाम से परेशान होते हैं। पर परिषद के पास न तो कल्पनाशीलता है न इच्छा।

श्री नारायण ने ‘ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ के गैर कानूनी कामों पर तीन वर्ष पहले एक पर्चा जारी किया था जिसमें उठाये गये गम्भीर मुद्दों पर परिषद् आज तक जवाब नही दे पाई है। इन वर्षो में मथुरा जिले के कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने परिषद् से आरटीआई कानून के तहत उसकी परियोजनाओं पर सवाल पूछे है, जिनका उत्तर देने की हिम्मत परिषद् ने आज तक नहीं की।

प्रेस कांफ्रेंस को सम्बोधित करते हुये पद्मश्री मोहन स्वरुप भाटिया ने कहा कि ‘ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ ने ब्रज की संस्कृति की पूरी तरह उपेक्षा की है और बिना विशेषज्ञों की सलाह के मनमाने ढंग से जनता का पैसा बर्बाद किया है। विनीत नारायण ने कहा कि परिषद् के उपाध्यक्ष शैलजा कान्त मिश्रा सीधे मुख्यमंत्री योगी जी को रिर्पोट करते है इसलिये ब्रज तीर्थ विकास परिषद में हुये इन महाघोटालों के लिये सीधे-सीधे मुख्यमंत्री जवाबदेह हैं।



 

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक करें- BWG-1

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code