Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

वरिष्ठ पत्रकार अजय नाथ झा का हार्ट अटैक से बेंगलोर में निधन

दुखद खबर है. अजय नाथ झा नहीं रहे. बेंगलोर में उनका हार्ट अटैक से निधन हो गया. कुछ समय पहले ही उनकी एंजियोग्राफी हुई थी. बेंगलोर किसी काम से गए थे. हार्ट अटैक के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें बचाया नहीं जा सका.  अजय ने कई अखबारों और न्यूज चैनलों में वरिष्ठ पद पर काम किया. हाल-फिलहाल लोकसभा टीवी और डीडी न्यूज के कंसल्टेंट रहे.  वे एनडीटीवी में लंबे समय तक रहे हैं. अजय करीब 31 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय थे. करियर की शुरुआत हिन्दुस्तान टाइम्स से की थी. आजतक, बीबीसी, दूरदर्शन, एनडीटीवी आदि चैनलों में काम किया. जेएनयू से शिक्षा ग्रहण करने वाले अजय नाथ झा ने लिट्टे प्रमुख प्रभाकरण और चंदन तस्कर वीरप्पन का इंटरव्यू कर काफी नाम कमाया.

दुखद खबर है. अजय नाथ झा नहीं रहे. बेंगलोर में उनका हार्ट अटैक से निधन हो गया. कुछ समय पहले ही उनकी एंजियोग्राफी हुई थी. बेंगलोर किसी काम से गए थे. हार्ट अटैक के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें बचाया नहीं जा सका.  अजय ने कई अखबारों और न्यूज चैनलों में वरिष्ठ पद पर काम किया. हाल-फिलहाल लोकसभा टीवी और डीडी न्यूज के कंसल्टेंट रहे.  वे एनडीटीवी में लंबे समय तक रहे हैं. अजय करीब 31 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय थे. करियर की शुरुआत हिन्दुस्तान टाइम्स से की थी. आजतक, बीबीसी, दूरदर्शन, एनडीटीवी आदि चैनलों में काम किया. जेएनयू से शिक्षा ग्रहण करने वाले अजय नाथ झा ने लिट्टे प्रमुख प्रभाकरण और चंदन तस्कर वीरप्पन का इंटरव्यू कर काफी नाम कमाया.

अजय के असमय गुजर जाने पर उनके जानने वालों में शोक की लहर दौड़ गई है… पत्रकार उमेश चतुर्वेदी Umesh Chaturvedi लिखते हैं : ”कल रात से मन बहुत उदास है..हाल ही के दिनों में अजय नाथ झा से गहरापा हुआ..संपर्क तो पहले से ही था..कम से कम मेरी तरफ से तो था ही..आठ साल पहले नोएडा की फिल्म सिटी में जी न्यूज के दफ्तर के सामने अजय जी से राकेश त्रिपाठी ने चाय की चुस्कियों के बीच मुलाकात कराई थी। मेरे साथ एक दिक्कत है.जानूं-पढ़ूं चाहे जितना, मिल-मिला भी लूं..लेकिन गहरापा मेरी तरफ से कम सामने वाले की प्रतिक्रिया पर ज्यादा निर्भर करता है..हाल के दिनों में भाई कुंदन के साथ उनसे दोबारा भेंट हुई और गहरापा बढ़ता गया.झा जी बेशक अंग्रेजी के पत्रकार थे। भ्रष्ट भाषा के चलन वाली पत्रकारिता के बढ़ते वर्चस्व के दौर में वे अंग्रेजी, हिंदी और संस्कृत के निष्ठावान जानकार थे..उर्दू साहित्य का भी उन्हें ज्ञान था..उनसे मिलकर संस्कृति की परंपरा और आधुनिकता की सामाजिकता दोनों का एक साथ दर्शन होता था..दूरदर्शन से हाल ही में उन्हें मुक्त किया गया था..आठ अक्टूबर को मुक्ति दी गई थी..हालांकि उनकी वापसी तकरीबन सुनिश्चित हो गई थी. पत्रकारिता से परंपरा के ज्ञान की जो विदाई हो रही है, उसमें अजय झा जैसे लोगों की काफी जरूरत थी..लेकिन शायद नियति को यही मंजूर था..अलविदा झा जी..आपकी दिखाई राह कई लोगों को आलोकित करती रहेगी..”

Advertisement. Scroll to continue reading.

एनडीटीवी से जुड़े पत्रकार नदीम अहमद काजमी Nadeem Ahmad Kazmi ने फेसबुक पर लिखा है:  ”Ajay Jha a known face in journalistic fraternity and popular among JNUits passed away in Bangalore this evening. He died of cardiac arrest in Fortis hospital. RIP.”

भड़ास पर लिखे अजय नाथ झा की कुछ पोस्ट / आर्टकिल / विश्लेषण पढ़ने के लिए नीचे दिए गए शीर्षकों पर क्लिक करें….

Advertisement. Scroll to continue reading.

खबरिया चैनलों का सही चेहरा

xxx

झा जी कहिन (1) : 90 फीसदी एंकर और रिपोर्टर उर्दू ज़ुबान के साथ बदसलूकी करने के गुनहगार

xxx

Advertisement. Scroll to continue reading.

झा जी कहिन (2) : भैया, एक नए चैनल में काम करोगे, मालिक तो गाय है!

xxx

झा जी कहिन (3) : काश मैंने प्रोमो नहीं देखा होता तो खबरिया चैनलों के इस छलावे से बच जाता

xxx

Advertisement. Scroll to continue reading.

झा जी कहिन (4) : क्‍या भैंस किसी चैनल मालिक के स्‍वीमिंग पूल में नाज नखरे दिखाएगी?

xxx

झा जी कहिन (5) : ये पत्रकार हैं और इनकी अपने प्रदेश में बहुत चलती है

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement