सुप्रीम कोर्ट में ‘लोकमत’ को साकुरे ने दी मात, एरियर 50 लाख और वेतन 40 हजार मिलेगा

नागपुर। दो साल पहले 61 कर्मचारियों को बिना किसी कारण के अवैध रूप से टर्मिनेट करने और कर्मचारियों के शोषण, अन्याय एवं अत्याचार के लिए कुख्यात महाराष्ट्र के कुख्यात लोकमत समाचार पत्र समूह को सुप्रीम कोर्ट से फिर एक बड़ा झटका लगा है. लोकमत के भंडारा कार्यालय में प्लानर के रूप में कार्यरत महेश मनोहरराव साकुरे को सुप्रीम कोर्ट ने मजीठिया वेतन आयोग के अनुसार वेतन देने और 1998 से लेकर अब तक पालेकर, बछावत, मणिसाना एवं मजीठिया वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार ब्याज के साथ एरियर्स देने का फैसला सुनाया है.

इस आदेश के अनुसार साकुरे का वेतन अब करीब रु. 40 हजार हो जाएगा और उन्हें एरियर्स के रूप में करीब 50 लाख रुपए मिलेंगे. कांग्रेस सांसद और कोयला घोटाला के आरोपी विजय दर्डा एवं महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री राजेंद्र दर्डा के लोकमत समूह को पिछले कुछ महीनों में विभिन्न अदालतों से ऐसे कई झटके लगे हैं, मगर कर्मचारियों के साथ उनके व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया है.

महेश साकुरे लोकमत अखबार के भंडारा कार्यालय में 1.10.96 से टेलीप्रिंटर आपरेटर के पद पर कार्यरत थे. श्री साकुरे प्रति माह 300 रु., 500 रु., 1000 रु. व 2000 रु. पर काम करते रहे हैं. 1.4.1998 को उन्हें टेलीप्रिंटर आपरेटर से प्लानर बना दिया गया, मगर वेतन वही प्रति माह रु. 2000/- ही रहा. उल्लेखनीय है कि समाचारपत्र में प्लानर के पद पर कार्यरत कर्मचारियों को मणिसाना सिंह और मजीठिया अवार्डस् के मुताबिक पत्रकारों की श्रेणी में रखा गया है और उसी के अनुसार उनका वेतन तय किया गया है.

वर्किंग जर्नालिस्ट एक्ट की धारा 6 के अनुसार पत्रकारों के लिए हर सप्ताह 36 घंटे काम निर्धारित है, मगर श्री साकुरे से साप्ताहिक 48 घंटे काम लिया जाता था, लेकित वेतन प्रति माह केवल रु. 2000/- ही दिया जाता था. बार-बार ज्ञापन देने, अनुरोध करने पर भी जब न्याय नहीं मिला तो श्री साकुरे ने वर्ष 2001 में औद्योगिक न्यायालय, भंडारा में अनफेयर लेबर प्रैक्टिस एक्ट के तहत शिकायत दर्ज कराई. करीब 11 साल के संघर्ष के बाद 18.10.11 को न्यायाधीश श्री वी. पी. कारेकर ने साकुरे के पक्ष में फैसला सुनाया और कई आदेश दिए.

न्यायाधीश वीपी कारेकर ने क्या फैसला सुनाया, क्या-क्या आदेश दिए… उसके आगे क्या हुआ… जानने के लिए नीचे क्लिक करके अगले पेज पर जाएं>

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “सुप्रीम कोर्ट में ‘लोकमत’ को साकुरे ने दी मात, एरियर 50 लाख और वेतन 40 हजार मिलेगा

  • Hariom shivhare says:

    Dear Sir
    Majithiya ke bare me jo muhim aapne chalayi hai uske liye mai Shree Yashwant ji ko bhot bhot Dhanyawad krta hu aur Sadar Aabhar pragat krta hu.
    sir aapse ek request hai hum logo tak supreme court me Majithiya case ki date kab hai aur supreme court me case ki date ke din kya hua iski jankari nhi phuch pati kripya aap case se related details update krwa diya kre aur mujhe lgta hai ab hme Majithiya se related news ko aur jyda prsarit krna chahiye qki ye ldai ab bhadas 4 media team ke bina nhi jit sakte Respected yashwant sir ab bhot late ho rha hai kripya koi aisa rasta nikaliye ki supreme court me case run ho aur pariman jald aaye please.
    Regards
    Hariom shivhare

    Reply
  • Yashvant ji, Ek Jagah jo apney likha hai ki Prabandhan ne Sri Sakure ko 25-30 Rupya deker mamle ko Niptaney ki koshish ker rahi hai…. To 25-30 Hazaar me yah Rupya hai ya 25-30 Lakh hai… Kripya Clear Karein… Dhanyabad.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *