साधना ग्रुप के डायरेक्टर बने आलोक अवस्थी

श्री न्यूज़ के सीईओ रहे आलोक अवस्थी ने अपनी नई पारी साधना न्यूज़ के साथ शुरू की है। आलोक अवस्थी को प्रभातम ग्रुप का डायरेक्टर बनाया गया  है। आलोक को प्रभातम ग्रुप के चैनेल्स की रीलांचिंग की ज़िम्मेदारी दी गई है। उन पर खास तौर से चैनल को उत्तर प्रदेश में मज़बूती दिलाने की ज़िम्मेदारी होगी। प्रभातम ग्रुप को उम्मीद है की आलोक अवस्थी के अनुभव का इस्तेमाल करके वो उत्तर प्रदेश में साधना न्यूज़ के पैर जमाने में कामयाब होगा।
 
इससे पहले आलोक अवस्थी श्री न्यूज़ को लांच करा चुके हैं। आलोक अवस्थी लॉन्चिंग के वक्त से श्री न्यूज़ की टीम का हिस्सा थे। उन्हीं की अगुवाई में श्री न्यूज़ की लांचिंग हुई थी। श्री न्यूज़ चैनल को कामयाबी की राह पर ले जाने और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में पहचान बनाने का श्रेय उन्हें ही जाता है। आलोक के इस्तीफा देने के बाद से श्री न्यूज़ की पकड़ कमज़ोर हुई है। अनुभवहीन लोगों के कारण श्री न्यूज़ अब तक पुरानी साख वापस नहीं हासिल कर पाया है।  
 
भड़ास तक अपनी बात पहुंचाने के लिए bhadas4media@gmail.com पर सूचनाएं मेल कर सकते हैं
 

एके गांगुली के खिलाफ तेजपाल की तरह स्वतः एफआईआर दर्ज करने की मांग

मैंने बीते 26 नबम्बर को उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से आग्रह किया था कि वे इंटर्न के यौन उत्पीड़न मामले में आरोपी का नाम सार्वजनिक कर प्रकरण को जांच एजेंसी को सौंप दें. आरोपी का नाम सार्वजनिक हो चुका है अतः मैंने आज पुनः अनुस्मारक भेजकर उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से आग्रह किया है कि वे अब तो इंटर्न के यौन उत्पीड़न मामले में प्रकरण को जांच एजेंसी को सौंप दें.
 
बीते 26 नबम्बर को ही मैंने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्षा से भी आग्रह किया था कि वे कद्दावर लोगों के मामले में आयोग की मात्र शो पीस बने रहने की अवधारणा को तोड़कर मामले की स्वतः जांच आरम्भ कर दिल्ली पुलिस से मामले की प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने की कार्यवाही करें. कोई कार्यवाही न होने पर आज उनको भी अनुस्मारक भेजा है.
 
इसी प्रकार मैंने बीते 26 नबम्बर को  ही दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से भी आग्रह किया था कि वे तरुण तेजपाल प्रकरण में गोआ पुलिस द्वारा दर्ज की गयी FIR की तर्ज पर आरोपी पूर्व जज के खिलाफ FIR दर्ज करें पर अभी तक ऐसा नहीं हुआ है और आज मैंने उनको भी अनुस्मारक भेजा है. सुप्रीम कोर्ट, महिला आयोग और दिल्ली पुलिस को भेजे ज्ञापनों की प्रतियां निम्नानुसार हैं.
 
 
Reminder 1 : Re: Intern dissatisfied with Supreme Court probe, Demand to immediately hand over the probe to investigating and intelligence authorities.
 
urvashi sharma
<rtimahilamanchup@gmail.com>    Sat, Nov 30, 2013 at 9:26 AM
To: supremecourt@nic.in
Cc: presidentofindia@rb.nic.in, sec-jus@gov.in
 
Dear sir,
Though the name of the accused has been put before the world but probe has not been handed over to investigating and intelligence authorities.
 
please immediately hand over the probe to investigating and intelligence authorities.
 
regards
Urvashi sharma
 
On 11/26/13, urvashi sharma <rtimahilamanchup@gmail.com> wrote:
 
To,
Hon'ble Mr. Justice P. Sathasivam
Hon’ble The Chief Justice of  Supreme Court of India
Through The Registrar, Hon’ble The Supreme Court of India,Tilak Marg,
New Delhi-110 001 (India)
e-mail at : supremecourt@nic.in
 
Sub.: Intern dissatisfied with Supreme Court probe, Demand to immediately hand over the probe to investigating and intelligence authorities.
 
Sir,
It refers to media-reports that intern having levelled serious charges of molestation by a Supreme Court judge (now retired) expressing dissatisfaction and humiliation with the three-judge Supreme Court panel looking at the complainant with suspicion. In such circumstances, for a proper and unbiased probe the matter needs to be  handed over to investigating and intelligence agencies also to save honour of judges firstly because the complainant has expressed dissatisfaction on Supreme Court probe. Secondly and more importantly, immediate disclosure of name of the concerned Supreme Court judge (now retired) will prevent other retired judges from being unnecessarily defamed because several names are going in whispers and speculations amongst journalists and in corridors of Supreme Court. Early disclosure of name of concerned judge in a time-bound period of say three days will also tend to prevent any future such incident.
 
Since Supreme Court appointing probe-panel with which victim-intern is totally dissatisfied, is purely an administrative step and not at all the judicial which may stop other concerned agencies to probe in the serious matter. So we are approaching you thru this mail  with demand to immediately hand over the probe to investigating and intelligence authorities for a proper and unbiased probe.
 
Regards,
 
Date : 26-11-2013
 
Yours Sincerely
Urvashi Sharma
Social Activist
Secretary- Yaishwaryaj Seva Sansthaan
F-2286,Rajajipuram,Lucknow-226017
Mobile – 9369613513 e-mail rtimahilamanchup@gmail.com
 
Copy to :
1-  Sri Pranav Mukharjee
Hon’ble the President of India
Rashtrapati Bhavan, New Delhi, India – 110 004
presidentofindia@rb.nic.in
with the request that as the head of the nation he should  personally
take cognizance of highly shameful  llegations by the young girl
associated as intern with the said Supreme Court retired judge.
 
2-      Ministry of Law and Justice thru its Secretary
Ms. Anita Kaul ( IAS, KN..1979 ) sec-jus@gov.in
to look into the matter and do the needful in best capacity possible.
 

Reminder 1 : Re: Request to take all necessary steps to get the FIR

filed by Delhi Police on basis of news-reports in the matter of Sexual
Harrasment of Intern who is dissatisfied with ongoing Supreme Court
probe
 
urvashi sharma
<rtimahilamanchup@gmail.com>    Sat, Nov 30, 2013 at 9:28 AM
To: ncw@nic.in, complaintcell-ncw@nic.in, chairperson-ncw@nic.in
Cc: "secy.wcd" <secy.wcd@nic.in>
 
On 11/26/13, urvashi sharma <rtimahilamanchup@gmail.com> wrote:
By E-mail
 
To,
Ms. Mamta Sharma
The NCW Chairperson
National Commission for Women
e-mail ncw@nic.in , complaintcell-ncw@nic.in , chairperson-ncw@nic.in
 
Sub. : Request to take all necessary steps to get the FIR filed by
Delhi Police on basis of news-reports in the matter of Sexual Harrasment of Intern who is dissatisfied with ongoing Supreme Court probe
 
Madam,
It refers to media-reports that intern having levelled serious charges of molestation by a Supreme Court judge (now retired) expressing dissatisfaction and humiliation with the three-judge Supreme Court panel looking at the complainant with suspicion.
 
In such circumstances the matter needs to be probed  in accordance with law by   investigating and intelligence agencies for a proper and unbiased probe to provide justice to the victim and also to save honour of judges firstly because the complainant has expressed dissatisfaction on Supreme Court probe. Secondly and more importantly, immediate disclosure of name of the concerned Supreme Court judge (now retired) will prevent other retired judges from being unnecessarily defamed because several names are going in whispers and speculations amongst journalists and in corridors of Supreme Court. Early disclosure of name of concerned judge in a time-bound period of say three days will also tend to prevent any future such incident.
 
If Goa police can sue-motto file FIR against Tehelka editor Tarun Tejpal, Delhi Police should also take similar step by sue-motto taking cognizance of news-reports. Supreme Court appointing probe-panel with which victim-intern is totally dissatisfied, is purely an administrative step and not at all the judicial which may stop other concerned agencies to probe in the serious matter.
 
As yet , Delhi Police has not taken any such action , so We are requesting  National Commission for Women  through you,  to come out of its  ‘Showpiece’ image,  prove its  worth by taking courage to take all necessary steps to get the FIR filed by Delhi Police on basis of news-reports.
 
Regards,
 
Date : 26-11-2013
 
Yours Sincerely
Urvashi Sharma
Social Activist
Secretary- Yaishwaryaj Seva Sansthaan
F-2286,Rajajipuram,Lucknow-226017
Mobile – 9369613513 e-mail rtimahilamanchup@gmail.com
 
Copy to  Ministry of Women & Child Development Government of India thru  its Secretary Ms. Nita Chowdhury secy.wcd@nic.in  to look into the matter and do the needful in  best capacity possible.
 

Reminder 1 : Re: Request to get FIR filed by Delhi Police on the basis

of news-reports in the matter of Sexual Harrasment of Supreme Court
Intern who is dissatisfied with ongoing Supreme Court probe
 
 
urvashi sharma
<rtimahilamanchup@gmail.com>    Sat, Nov 30, 2013 at 9:29 AM
To: cp.bsbassi@nic.in, delpol@vsnl.com
Cc: seclg@nic.in, cmdelhi@nic.in, csdelhi@nic.in
 
On 11/26/13, urvashi sharma <rtimahilamanchup@gmail.com> wrote:
By E-mail
 
To,
Sri  B. S. Bassi
Commissioner of Delhi Police
Delhi
e-mail cp.bsbassi@nic.in , delpol@vsnl.com
 
Sub. : Request to get FIR filed by Delhi Police on the basis of
news-reports in the matter of Sexual Harrasment of Supreme Court Intern who is dissatisfied with ongoing Supreme Court probe
 
Sir,
It refers to media-reports that intern having levelled serious charges of molestation by a Supreme Court judge (now retired) expressing dissatisfaction and humiliation with the three-judge Supreme Court panel looking at the complainant with suspicion.
 
In such circumstances the matter needs to be investigated  in accordance with law by   investigating and intelligence agencies for a proper and unbiased probe to provide justice to the victim and also to save honour of judges firstly because the complainant has expressed dissatisfaction on Supreme Court probe. Secondly and more importantly, immediate disclosure of name of the concerned Supreme Court judge (now retired) will prevent other retired judges from being unnecessarily defamed because several names are going in whispers and speculations amongst journalists and in corridors of Supreme Court. Early disclosure of name of concerned judge in a time-bound period of say three days will also tend to prevent any future such incident.
 
If Goa police can sue-motto file FIR against Tehelka editor Tarun Tejpal, Delhi Police should also take similar step by sue-motto taking cognizance of news-reports and file FIR against the accused.
 
We also want this to bring to your kind notice that Supreme Court appointing probe-panel with which victim-intern is totally dissatisfied, is purely an administrative step and not at all the judicial which may stop Delhi Police to register FIR and  probe in the serious matter.
 
As yet , Delhi Police has not taken any such action , so We are requesting  you to come out of your  ‘a Bare Spectator’ image,  prove Delhi Police’s  worth by taking courage to take all necessary steps to get the FIR filed by Delhi Police on basis of news-reports and also ensure further investigation as per law of the land.
 
Regards,
 
Date : 26-11-2013
 
Yours Sincerely
Urvashi Sharma
Social Activist
Secretary- Yaishwaryaj Seva Sansthaan
F-2286,Rajajipuram,Lucknow-226017
Mobile – 9369613513
e-mail rtimahilamanchup@gmail.com
 
Copy to look into the matter and do the needful in  best capacity
possible.:
1- SHRI NAJEEB JUNG
Hon’ble Lt. Governor of Delhi
Through
Smt. Nutan Guha Biswas- Principal Secretary to LG
Email : seclg@nic.in
 
2- Smt. Sheila Dikshit
Hon’ble Chief
Minister, Govt. of NCT of Delhi
Email : cmdelhi@nic.in
 
3-Shri Deepak Mohan Spolia
Chief Secretary of Delhi
Email :       csdelhi@nic.in
 

निशिकांत ठाकुर और उनके साथियों ने डॉक्टर के साथ मारपीट की

जागरण के चीफ जनरल मैनेजर निशिकांत ठाकुर और उनके साथ के लोगों ने डॉक्टर से मारपीट की है. घटना बिहार के सहरसा जिले की है. निशिकांत ठाकुर ने कुछ लोगों के साथ सहरसा के एक हास्पिटल में डॉक्टर के लेट आने की वजह से मारपीट की जिसमें डॉक्टर को काफी चोटें आई हैं.
 
निशिकांत ठाकुर अपनी बेटी की शादी के लिए अपने घर सहरसा गए हुए थे. वहां उनकी पत्नी की तबीयत अचानक खराब हो जाने पर निशिकांत और उनके साथ के कुछ लोग सहरसा में ही डॉक्टर आईडी सिंह के यहां इलाज के लिए गए. आईडी सिंह उस समय अपनी ड्यूटी पर नहीं थे. तब हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ नवीन निशांत के कहने पर डॉक्टर को बुलवाया गया. 
 
जब डॉक्टर आये तो निशिकांत के साथ वालों ने डॉक्टर से कहा कि इतनी लेट क्यूं आये हो. डॉक्टर ने बताया कि मेरी टाइमिंग नहीं थी लेकिन मैं आप लोगों के लिए ही आया हूं. डॉक्टर के सफाई देने के बाद भी निशिकांत के साथ वाले डॉक्टर से बदतमीजी करते रहे. जब डॉक्टर ने इसका विरोध किया तो इन लोगों ने डॉक्टर को मारा पीटा. जिले के डॉक्टर इस घटना से बहुत नाराज हैं और सभी इन सभी के खिलाफ पुलिस से कार्रवाई करने की मांग पर अड़े हुए हैं.

तेजपाल की जमानत अर्जी खारिज, क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

महिला सहकर्मी के यौन शोषण के आरोपों में घिरे तरुण तेजपाल को आज पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. आज गोवा सेशन कोर्ट के द्वारा 8:15 बजे तेजपाल की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी गई जिसके बाद गोवा पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने तेजपाल को गिरफ्तार कर लिया. अब उन्हें कल कोर्ट में पेश किया जायेगा. कल पुलिस उनकी रिमांड मांग सकती है. कोर्ट ने अपने आदेश में उन्हें दिन में केवल एक बार अपने वकील और परिवार से मिलने की इजाजत दी है.
 
दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनुजा प्रभुदेसाई ने तेजपाल को गिरफ्तारी से राहत देने से इंकार कर दिया. अभियोजन पक्ष ने जोरदार ढंग से तेजपाल की जमानत का विरोध किया. अभियोजन पक्ष का कहना था कि तेजपाल तब तक पुलिस के समक्ष नहीं पेश हुए जब तक उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट नहीं जारी कर दिया गया. उन्होंने पीड़िता पर दबाव बनाने की भी कोशिश की ऐसी स्थिति में उनका बाहर रहना ठीक नहीं होगा. वकील ने कहा कि तेजपाल गिरगिट की तरह रंग बदल रहे हैं. वे बार-बार अपना बयान बदल रहे हैं.
 
इसके पहले तेजपाल के वकीलों को कोर्ट ने फटकार लगाई. कोर्ट का कहना था कि आपकी बातों से ऐसा लग रहा है कि पीड़ित लड़की ही दोषी है. ये बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. न्यायाधीश ने तेजपाल की वकील द्वारा पीड़िता का नाम सुनवाई के दौरान सार्वजनिक तौर पर लेने पर वकील को जमकर फटकार लगाई.
 
उधर जब तेजपाल कोर्ट से सुनवाई के बाद बाहर आ रहे थे तब भीड़ में से किसी ने उनकी कार पर चप्पल फेंकी. हालांकि चप्पल किसी को लगी नहीं लेकिन घटनास्थल पर अफरातफरी का माहौल बन गया. तेजपाल को क्राइम ब्रांच के दफ्तर में रखा गया है. गिरफ्तारी के बाद उन्हें उनके परिवार से नहीं मिलने दिया गया.

तिरूपति से पशुपति तक प्रचंड पराजय के बाद माओवाद

बस्तर का एक धुर नक्सल प्रभावित पहुंच विहीन गांव. नक्सलियों ने स्याही लगी अंगुलियों को काट डालने की धमकी दी हुई है. उसके अलावा पर्चे आदि बांट कर मतदान से दूर रहने की हिदायत या फिर अंजाम भुगतने की धमकी भी बस्तर के आदिवासी बंधुओं को मिली है. लेकिन बावजूद उसके लोगों में कोई डर या परवाह न देख नक्सली नया पैतरा गढ़ते हैं. उस गांव को दुनिया से जोड़ने वाले एकमात्र साधन ‘नाव’ को डुबो दिया जाता है ताकि जनता उस पार जा ही नहीं पाए वोट डालने. फिर भी आदिवासी युवा निकलते हैं. गहरे पानी में पैठ कर नाव को निकाला जाता है. दमदार लोग तैर कर तो बुजुर्ग और महिलायें उस नाव पर बैठ कर मतदान करने निकलती हैं. 
 
केरल से भी बड़े बस्तर में 75 प्रतिशत से ज्यादा मतदान होता है. चप्पे-चप्पे पर चुनाव आयोग समेत देश-विदेश के मीडिया के कैमरों की नज़र है. इतनी पारदर्शिता के बाद किसी भी तरह की धांधली की बात करने का बहाना नहीं मिलता नक्सल समर्थक बुद्धिजीवियों को और बस्तर जीत जाता है. लोकतंत्र को फतह हासिल होती है. राजनीतिक दलों की जीत-हार भले 8 दिसंबर को तय हो लेकिन दुनिया की सबसे कम बुरी प्रणाली जनतंत्र तुरत ही फतह हासिल कर लेता है और इस फतह के सेनापति होते हैं बस्तर के वही आदिवासीगण जिन्होंने कभी गुन्डाधुर के नेतृत्व में बदमाशों के दांत खट्टे किये थे तो कभी ‘कोई’ विद्रोह समेत दर्ज़नों विद्रोह की अगुआई कर अपनी वीरता और देश भक्ति का पताका फहराया था. 
 
हथियारबंद गुरिल्लाओं के मूंह पर निहत्थे युवको का यह तमाचा ऐसा है जिसकी गूंज सदियों तक सुनाई पड़नी है. इसके अलावा यह मतदान उन मुट्ठी भर आततायी दुर्जनों-सफेदपोशों को भी मुहतोड़ जबाब देने वाला है जिन्हें दरभा हमला अनुशासित हिंसा लगता है. झीरम दुष्कृत्य जिन्हें जनता का प्रतिशोध नज़र आता है. यह सवाल पूछने पर इन बुद्धिजीवियों को हाथ ही मलते रह जाना है कि देश में सबसे ज्यादा मत प्रतिशत के साथ लोकतंत्र के पक्ष में मत देने निकलते हैं बस्तर के आदिवासी. चुनाव परिणाम हमेशा पक्ष में जाता है सत्ताधारी दल के. खुर्दबीन लेकर खड़े देशी-विदेशी मीडिया को कहीं भी कोई धांधली की शिकायत भी नहीं मिलती. फिर वो कौन सी जनता है जो नक्सलियों के पक्ष में सरकार के खिलाफ खड़ी है? ब्रेख्त की कविता जैसे अपनी जनता खुद चुन लेने वाले ऐसे लोगों को बस दण्डित कर दीजिये, उनका बहिष्कार कीजिये. तय मानिए इतने से ही राष्ट्र की आन्तरिक सुरक्षा पर सबसे बड़े खतरे के रूप में परिभाषित माओवाद का भारत में सफाया होना सुनिश्चित होगा. समस्या कहीं से भी छग के बाहर से आये मुट्ठी भर आतंकी नहीं हैं. समस्या हैं तो पाकिस्तानी ‘फाई’ के पे-रोल काम करने वाले चंद भाड़े के टट्टू. बहरहाल.
 
आइये अब तिरुपति से हटकर ज़रा ‘पशुपति’ की ओर, मूर्खों के स्वर्ग कथित लाल गलियारा के दूसरे छोर की तरफ का रुख करें. वहां भी साथ ही चुनाव हो रहे थे. बस फर्क इतना था की ‘स्याही लगी’ अंगुली काट लेने वाले लोग वहां अपनी अंगुली दमदारी से आगे किये हुए थे कालिख लगाने को. अजीब विरोधाभास है कि भारत में लोकतंत्र के खिलाफ लड़ने वाले गिरोह वहां लोकतंत्र के लिए ही संघर्षरत रहे हैं. कमजोर राजशाही के कारण वहां उनको लोकतंत्र मिला भी. लेकिन चंद साल भी उसे सम्हाल कर रख नहीं पाए वे. माओ आन्दोलन के अगुआ रहे नेता ‘प्रचंड’ के हाथ ही सत्ता आयी. प्रधानमंत्री बनने के बाद प्रचंड अगर जाने गए तो बस अपनी विलासिता और पांच लाख के पलंग के कारण ही. सत्ता हासिल करने के बाद सबसे प्रसिद्ध बयान उनका यही आया था की ‘गुरिल्ला आन्दोलन चलाना काफी आसान है लेकिन लोकतंत्र में सत्ता चलाना काफी कठिन.’ यानी आबादी के हिसाब से छग से भी छोटे देश का सत्ता नहीं चला पाने वाले अक्षम लोग जब सवा सौ करोड़ वाले देश में चल रहे दुनिया के सबसे अच्छे लोकतंत्र की आलोचना करते हैं, इसे बदलने भारत में खून की होली खेलने को तैयार होते हैं तो इनसे आप केवल तर्कों से पेश तो नहीं आ सकते. खैर. चुनाव परिणाम नेपाल में भी आ गए हैं. वहां भी परिणाम बस्तर की तरह ही माओवाद के खिलाफ ही गए हैं. खुद प्रचंड की तो करारी हार हुई ही है, उनकी बेटी रेणु ने भी प्रचंड हार का रिकार्ड अपने नाम किया है.
 
तो तिरुपति से पशुपति तक के इन दोनों उदाहरणों ने यही तो समझाया है कि माओवाद के साथ और जो कुछ हो कम से कम जनता तो नहीं है. लेकिन आश्चर्य यह की जहां भी इनकी दूकान है वहां ये ‘जनता’ को ही अपना ग्राहक और गरीबी को ही अपना उत्पाद मानते हैं. आज अगर चीन भी इनके बावजूद वहां विकास कर रहा है या वहां उनकी सत्ता कायम है तो महज़ इसलिए कि एक तो वहां लोकतंत्र नहीं है और दूसरा सबसे पहले उन्होंने माओ विचार से अधिकृत-अनधिकृत तौर पर पीछा छुड़ाते पूंजीवाद और प्रखर राष्ट्रवाद को अपनाया है.
 
सवाल महज़ इतना है की तर्कों का जबाब तो तर्क से दिया जा सकता है. विचार विमर्श तो निश्चय ही लोकतंत्र की प्रमुख शर्त भी है. लेकिन अगर कोई आपके कनपटी पर बंदूक सटा कर अपनी बात जबरन मनवाने को खड़ा रहे तो क्या किया जा सकता है? और उससे भी आपत्तिजनक बात यह कि तमाम तर्कों को खुद के खिलाफ जाते दिखने के बाद भी पेड बुद्धिजीवी तमाम तरह के कुतर्क के साथ गोलियों की आवाज़ को सही बताएं. दरभा घाटी में एक राजनीतिक दल की पूरी पीढ़ी को ही खत्म कर देने का जश्न मनाएं. ताड़मेटला, रानीबोदली, मदनवाड़ा आदि में किये गए जनसंहार को अपनी उपलब्धि बतायें. एर्राबोर में डेढ़ वर्ष की बच्ची ‘ज्योति कुट्टयम’ को ज़िंदा जला दिए जाने समेत साठ से अधिक निरपराध जनता की निर्ममता पूर्वक ह्त्या को जनक्रांति बतायें. ऐसे में विकल्प क्या रह जाता है आखिर? निश्चय ही राज्य को चाहिए की ऐसे गुरिल्लाओं से गुरिल्ला तौर-तरीके अपना कर ही निपटा जाय. Fight Gurilla like A Gurillaa को मूलमंत्र बनाया जाए.
 
पुलिस महानिदेशकों के चल रहे सम्मलेन में आईबी प्रमुख ने ठीक ही कहा है की ‘नक्सलियों के शीर्ष नेतृत्व को निशाना बनाया जाना ज़रूरी है.’ निश्चय ही खुफिया तन्त्र को मज़बूत कर एक हिट-लिस्ट बनाया जाना चाहिए. विचार-विमर्श में समय खोने की ज़रुरत नहीं बची है अब. ऊपर के सारे उदाहरण इस तथ्य की पुष्टि करते हैं की माओवादी आतंक कम से कम कोई जनयुद्ध नहीं है और न ही यह कोई आन्दोलन है. ढेर सारे आंकड़े इस तथ्य की पुष्टि करते हैं कि यह सिर्फ और सिर्फ एक संगठित गिरोह और धंधा बन गया है. इसे निपटाना भी उसी तरीके से संभव है. निश्चय ही आईबी को अपना टार्गेट न केवल हार्डकोर नक्सलियों को रखना चाहिए बल्कि उन्हें बौद्धिक समर्थन देने वाले प्रचारकों पर भी उन्हें कड़ी नज़र रखने की ज़रुरत है. यही वो समय है जब नक्सल समस्या के खात्मे के लिए सर्वानुमति बना कर इस चुनौती से पार पाया जा सकता है. कल को कहीं देर न हो जाय. छत्तीसगढ़ की आदिवासी जनता और नेपाल की गरीब कमज़ोर जनता ने भी माओवाद के खिलाफ जो एकजुटता दिखाई है उस पर अभी गौर ना कर हम निश्चय ही इस संकट से पार पाने को तमाम राजनीतिक विरोध को ताक पर रख कर एकजुट नहीं हुए तो इतिहास हमें माफ़ नहीं करेगा. हम अपने ही नागरिकों के भविष्य से खिलवाड़ करने के भागी माने जायेंगे. तो हमें यह तय करना होगा कि लोकतंत्र और माओवाद में छिड़ी है जंग, आप है किसके संग. 
 
लेखक पंकज झा पत्रकार और बीजेपी नेता है. वर्तमान में वे दीपकमल पत्रिका के संपादक हैं. इनसे jay7feb@gmail.com के जरिए संपर्क किया जा सकता है.

इंसेफेलाइटिस के गढ़ पूर्वी उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल

पूर्वी उत्तर प्रदेश में मच्छर व जल जनित बीमारियों का प्रकोप जिस तरह बढ़ता जा रहा है, उससे यह पता चलता है कि सरकारी तंत्र के साथ-साथ नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग अपने बुनियादी दायित्वों के निर्वहन के प्रति सजग-सचेत नहीं है। राज्य सरकार के विभागों के काम-काज की पोल खुल चुकी है। मच्छरों के उन्मूलन की जिम्मेदारी निभाने वाले राज्य सरकार के विभाग किस तरह से निष्क्रिय हो गये हैं, वह बढ़ती हुई इन बीमारियों का प्रकोप से अन्दाजा लगया जा सकता है। नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग अपने बुनियादी दायित्यों के निर्वहन के प्रति सजग-सचेत नज़र नहीं आ रहे हैं। मच्छरों के उन्मूलन की जिम्मेदारी निभाने वाले राज्य सरकार के विभाग जिस तरह निष्क्रिय व नाकारा साबित हो रहे हैं, इससे स्पष्ट पता चलता है, कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिन जिलों में जापानी इंसेफेलाइटिस (दिमागी बुखार) की बीमारी कहर बरपा रही है, उनमें मच्छरों का प्रकोप कम होने के बजाय बढ़ रहा है। जबकि इस स्थिति से राज्य सरकार और उसका स्वास्थ्य विभाग भली भांति अवगत है कि गोरखपुर समेत आस-पास के अन्य जिलों में इंसेफेलाइटिस दिमागी बुखार किस तरह प्रति वर्ष सैकड़ों लोगों की जान ले रहा है। 
 
पिछले 37 वर्षों में एक लाख से ज्यादा लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं, इस जल जनित बीमारी से रोज औसत 3 से 4 बच्चे मौत के गाल में समा जाते है, इस वर्ष जनवरी से अक्टूबर तक करीब पांच सौ बच्चों की मौत हो चुकी है। साल दर साल यह बढ़ रहा है। मरने वालों के आंकड़े यह बताते हैं कि राजनेताओं में राजनैतिक इच्छाशक्ति ना होने के कारण इस तरह की घटना एक महामारी की शक्ल में तब्दील हो चुकी है। यह विचित्र बात है कि राज्य सरकार की ओर से एक तरफ तो यह दावा किया जाता है कि वह इंसेफेलाइटिस पर काबू पाने के लिए प्रतिबद्ध है, और दूसरी ओर एक सर्वे में यह सामने आया कि मानसून शुरु होते ही मच्छरों की संख्या बढ़नी शुरु हो गई। मालूम हो कि यह वही मौसम है जब इंसेफेलाइटिस पूर्वी उत्तर-प्रदेश में दस्तक देता है। इससे तो यही साबित होता है कि इंसेफेलाइटिस पर अंकुश लगाने के शासन-प्रशासन के दावे नितांत खोखले हैं। 66 वर्षों की आजादी के बाद एक तय शुदा बीमारी से हमारी सरकारें क्यों नहीं निजात पा रही हैं। पूर्वाचंल में ले दे कर बीआरडी मेडिकल कालेज है जहां एक पंलग पर दो-दो मरीजों को लिटा कर इलाज हो रहा है, वहीं अब तक लाखों मरीज इस बीमारी से दम तोड़ चुके हैं, तथा पिछले 35 वर्षों मे करीब 117106 से अधिक मरीज विकलांगता झेल रहे हैं। 
 
ये आकड़े उनके हैं जो बीआरडी मेडिकल कालेज में भर्ती हुए तथा बहुतों को तो अस्पताल नसीब ही नहीं हुआ पता नहीं कितने मरीज तो इलाज व अस्पताल के अभाव में घर पर ही दम तोड़ चुके होंगे। जानकारों की माने तो सन् 1978 से यह कहर अभी भी बदस्तूर जारी है। महामारी लगातार मासूमों की बलि ले रही है। दिमागी बुखार से ग्रसित पूर्वाचंल के लोग पूरी तरह से टूट चुके हैं, इस रोग में 35 से 40 प्रतिशत के लगभग मानसिक रोगी हो जाते हैं। खून की कमी, कुपोषण गरीबी व चिकित्सा सुविधाओं के अभाव में यह वीभत्स स्थिति हो जा रही है। मानवाधिकार के पुरोधाओं का ध्यान इस ओर क्यों नहीं गया? डब्लूएचओ ने इस जानलेवा बीमारी से निपटन के लिए क्या किया? हर वर्ष जब ये महामारी फैलती है तब मंत्रियों के दौरे शुरु हो जाते हैं। वाहनों का काफिला फल एवं कुछ धनराशि देकर इसका कर्तव्य पूरा हो जाता है यदि समाजशास्त्री इस पर अध्ययन एवं शोध करें तो इस महामारी का सामाजिक वीभत्स रुप पता चलेगा जिसमें अनेक परिवारों का एक मात्र शिशु मृत्यु का शिकार हो जाता है। अनेक परिवार में एक से अधिक शिशु विकलांगता का शिकार हो जाते हैं। कई परिवार के रोजी-रोटी कमाने वालों की मृत्यु हो जाती है। उनके सामने भुखमरी आ जाती है। कितनी महिलाओं का सुहाग उजड़ जाता है। कई परिवार में बच्चे अनाथ हो जाते हैं, जिनके माता-पिता दोनों मृत्यु के शिकार हो जाते हैं. बाद में कई परिवारों में भुखमरी से मृत्यु हो जाती है। 
 
यदि परिवार में एक विकलांग बच्चे की दवा, इलाज व विशेष देखभाल पर खर्चों का अनुमान लगाया जाय तो चार से पांच हजार रुपया प्रतिमाह आएगा। उन परिवारों में जिनको एक वक्त की रोटी नसीब ना हो, जो मजदूर हैं, किसान हैं। वे इस खर्चे को कैसे वहन कर सकते हैं. इसके परिणामस्वरुप यह बच्चे जो परिवार व समाज पर बोझ हैं। यदि 37 वर्षों के दौरान फैली महामारी पर शोध किया जाए व आंकलन किया जाए तो ज्ञात होगा कि इस महामारी के परिणामस्वरुप बड़ी संख्या में लोगों की मृत्यु हो गई. लाखों लोग विकलांगता का अभिशाप झेल रहे हैं। सरकारी अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग जिनको इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है, का कहना है कि हमारे पास इलाज हेतु बेहतर इन्तजाम है डाक्टरों और संसाधनों की कमी नही है. किन्तु हकीकत तो कुछ और ही बयां कर रही है कि रात में तो डाक्टर नदारत रहते हैं. मरीज कराहता रहता है. तीमारदार उन डाक्टरों को ढूढते रह जाते हैं और मरीज दम तोड देता है किन्तु डाक्टर ढूढ़ने से भी नही मिलते। एक-एक बिस्तर पर 2-3 मरीजों को लिटाया जाता है जगह न मिलने पर जमीन पर ही मरीज इलाज कराता है। दवाइयों के नाम पर डाक्टर साहब तीमारदार को एक दवाइ का पर्चा पकड़ाते हुए कहते हैं कि ये दवाइयां यहां उपलब्ध नहीं है, बाहर से जल्दी लाओ देर मत करना वर्ना कुछ भी हो सकता है, मरीज के डर से तीमारदार दवाइयों का इन्तजाम करता है। परन्तु ये राज्य सरकार बड़े-बड़े दावे करने से नहीं चूकती है, कि हमारे पास किसी भी संसाधनों की कमी नहीं है. पिछले तीन दशक से लगातार सरकार के सारे संसाधनों के दावों की सारी कलई खुलकर सामने आ गई है, और इसे पूरा भारत देख रहा है कि संसाधनों की कमी के कारण ही गोरखपुर में मच्छरों के कारण इंसेफेलाइटिस (दिमागी बुखार) बच्चों को अनगिनत संख्या में लीलता जा रहा है, और सरकार तमाशबीन की तरह अपने उपलब्धियों को गिनाने में पीछे नहीं हटती। जबकि इस बीमारी से सरकार सवालों के कटघरे में है। 
 
जापानी इंसेफेलाइटिस की वजह सिर्फ गन्दगी ही है, सफाई के नाम पर नगर-निगम का अता-पता नहीं रहता। जल भराव, कूड़े का ढेर मच्छरों का घर बन चुका है। मच्छरों को मारने के लिए कोई दवाइ नहीं डाली जाती ग्रामीण इलाकों तथा नालियों की साफ-सफाई तो केवल कागजों का हिस्सा बन कर रह गए हैं। सरकार सफाई अभियान में नए-नए शोध कर रही है। एक शोध के दौरान पता चला कि वायरसों का संक्रमण पूर्वांचल में बहुत तेजी से फैलता है। इस जानकारी के बावजूद सरकार इसके खिलाफ सख्त कदम उठाने में सकिय क्यों नही? यह एक अति संवेदनशील मुद्दा है, जिस पर हमारी सरकारें मौन साधे बैठी हैं. वोट बैंक की राजनीति के चलते करोडों के लैपटाप बांटे जा रहे हैं। एम्स रायबरेली में खोला जा रहा है जबकि रायबरेली के लोगों के लिए पीजीआई लखनऊ पहले से ही है, तो फिर एम्स रायबरेली में क्यों? फूड प्रोसेसिंग फैक्ट्री, रेल कोच फैक्ट्री इत्यादि यह क्षेत्रवाद, जातिवाद व वोट बैंक की राजनीति नहीं है तो क्या है? आज पूर्वी उत्तर-प्रदेश की सबसे बड़ी जरुरत है मच्छर जनित बीमारी इंसेफेलाइटिस का उन्मूलन व गोरखपुर में एम्स। जब इंसेफेलाइटिस सरीखी गम्भीर बीमारी की रोकथाम के लिए सरकारी तंत्र की सक्रियता का यह हाल है तो यह अनुमान सहज ही लगाया जा  सकता है कि अन्य बीमारियों पर अंकुश लगाने के लिए कितनी सक्रियता का परिचय दिया जा रहा होगा। इसे सरकार की संवेदहनहीनता नहीं तो और क्या कहा जाएगा कि जानलेवा इंसेफलाइटिस पर अंकुश नहीं लगाया जा पा रहा है, जो प्रति वर्ष एक निश्चित समय पर दस्तक देती है और जिसकी रोकथाम के लिए धन की भी कहीं कोई कमी नहीं, केवल कमी है तो एक इच्छाशक्ति की। 
 
चुनाव के वक्त राजनीतिक दल इस महामारी से उबरने का मद्दा क्यों नहीं बनाते, एक तरफ सरकार लगातार यह खोखला दावा कर रही है कि "बचपन बचाओ"। किन्तु पूर्वांचल में मरने वाले बच्चे उस आन्दोलन का हिस्सा नहीं है। विगत 37 सालों से मौत का तांडव चल रहा है, इस पर अनेक समाचार, लेख, आलेख लिखे गये किन्तु हमारी देश की सरकारें बिलकुल सुन्न हो गयी है। एक इंसान के लिए पांच मूलभूत सुविधाओं की आवश्कता होती है- रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा और चिकित्सा। सरकार की मूलभूत सुविधाओं से सारा ध्यान भटक सा गया है उसका ध्यान केवल वोट बैंक की राजनीति, खेलखिलाड़ी, खिलाड़ियों का सम्मान व एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप इत्यादि तक सीमित रह गया है। ऐसे में हमारे देश का भविष्य कहां तक सुरक्षित है। आजाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री ने एक नारा दिया था कि बच्चे देश के भविष्य है। जवाहर लाल नेहरु का यह नारा स्मरणहीन हो चुका है इसलिए स्वास्थ्य विभाग बीमारियों को गम्भीरता से लेकर उस पर अंकुश नहीं लगा रहा है, जबकि स्वास्थ्य विभाग को बखूबी मालूम है कि यह बीमारी एक निश्चित तय समय सीमा पर ही आती है, फिर रोकथाम में विभाग के साथ-साथ सरकार की भी लापरवाही क्यो?
 
                                                             
लेखक सुनील कुमार पाण्डेय स्वतंत्र पत्रकार हैं. इनसे सम्पर्क 07379400006 के जरिए किया जा सकता है.
 

पीटीआई ने मुख्यमंत्री के बारे में ही गलत खबर चला दी

देश की सबसे महत्वपूर्ण और विश्वसनीय माने जाने वाली समाचार एजेंसी का हाल बड़ा खराब है. उत्तर प्रदेश के इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग द्वारा ई-उत्तर प्रदेश कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने किया लेकिन पीटीआई ने अपने हिन्दी संस्करण भाषा पर खबर चला दी कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ई-उत्तर प्रदेश कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री का बयान भी दे दिया कि मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश बड़ी तथा छोटी सूचना कम्पनियों के पसंदीदा स्थल के रूप में उभर रहा है.
 
दरअसल इस उद्घाटन कार्यक्रम में मु्ख्यमंत्री अखिलेश यादव को आना था लेकिन मुख्यमंत्री किसी कारणवश नहीं आये और कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने किया. इससे पता चलता है कि लखनऊ में पीटीआई के रिपोर्टर किस तरह काम कर रहे हैं. अब कोई पीटीआई का रिपोर्टर यहां होता तो पता चलता कि मुख्यमंत्री नहीं आए लेकिन एजेंसी के रिपोर्टर मीडिया सेंटर में बैठे रहते हैं और खबरों के लिए वहीं से बैठै-बैठे जानकारी लेकर एजेंसी को खबरें भेज देते हैं.
 
पीटीआई ने जो खबर चलाई थी वो ये है-
 
सूचना प्रौद्योगिकी कम्पनियों के पसंदीदा स्थल के रूप में उभर रहा है उत्तरप्रदेश : मुख्यमंत्री
 
लखनऊ, 29 नवम्बर :भाषा: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज सूबे को सूचना-प्रौद्योगिकी का गढ़ बनाने के मकसद से राज्य के आईटी तथा इलेक्ट्रानिक्स विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम 'ई-उत्तर प्रदेश' का उद्घाटन किया।
 
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि इस आयोजन के लिए सरकार का मुख्य उद्देश्य दुनिया को यह बताना है कि उत्तरप्रदेश दुनिया की बड़ी तथा छोटी सूचना प्रौद्योगिकी कम्पनियों के पसंदीदा स्थल के रूप में उभर रहा है।
 
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सूचना-प्रौद्योगिकी उद्योग के विकास तथा उसमें निखारने लाने का माहौल बनाने के लिए जरूरी ढांचे के निर्माण तथा निवेश आकर्षित करने पर विशेष ध्यान दे रही है।
 
दो दिवसीय कार्यक्रम में राज्य सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश को सूचना प्रौद्योगिकी हब के रूप में दुनिया के मानचित्र पर लाने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में बताया जाएगा।
 
मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी नीति-2012 में अनेक मौद्रिक तथा गैर-मौद्रिक प्रोत्साहनों की घोषणा की गई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि 'ई-उत्तर प्रदेश' कार्यक्रम से अच्छा माहौल बनेगा।
 
इस कार्यक्रम में एचपी, इंटेल, माइक्रोसाफ्ट, एएमडी, सिस्को, टाटा रियलिटी इंफ्रास्ट्रक्चर, मेट्रो सेल, अर्नेस्ट एण्ड यंग, केपीएमजी, ग्लोबल हेल्थकेयर सिस्टम्स, रीको, ऐरे नेटवर्क तथा आईडीबीआई बैंक समेत अनेक कम्पनियां शिरकत कर रही हैं।

 

पूर्व मंत्री के गनर ने की पत्रकार के साथ मारपीट

तरनतारन: पंजाब के पूर्व मंत्री जत्थेदार रणजीत सिंह के गनर जसविंदर सिंह ने पत्रकार हरिंदर सिंह से मारपीट की. गनर ने पत्रकार की आंख में मु्क्का मार दिया जिससे पत्रकार को ज्यादा चोट आ गई. पत्रकार को जान से मारने की धमकी भी दी. शुक्रवार को कबड्डी विश्वकप की तैयारियों के सम्बन्ध में अकाली कार्यकर्ताओं की मीटिंग बुलाई गई थी. श्री गुरु अर्जुन देव निवास स्थान पर चल रही इस मीटिंग में किसी बात पर पर पूर्व मंत्री के गनर ने पत्रकार के साथ मारपीट शुरू कर दी.
 
घटना से रोषित पत्रकारों ने तरन तारन प्रेस क्लब के जिला अध्यक्ष धर्मवीर मल्हार व चंडीगढ़ यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट के जिलाध्यक्ष जसमेल सिंह चींदा के नेतृत्व में गनर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए. धरने के दौरान डीएसपी दलजीत सिंह ढिल्लों व सिटी प्रभारी लखवीर सिंह मौके पर पहुंचे तथा हेड कांस्टेबल को हिरासत में ले लिया. डीएसपी ने पत्रकारों को बताया कि हेड कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है. पत्रकार पर धारा 323, 504, 506 के तहत मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी गई है. मंत्री ने पत्रकारों से इस घटना पर अफसोस प्रकट किया. इस मौके पर कई सारे पत्रकार मौजूद थे.
 

मंत्री जी ने पत्रकारों के लिए अलग-अलग बजट बना रखा है

उत्तर प्रदेश का एक मंत्री ऐसा है जिसके पीछे पूरी प्रदेश सहित उसके गृह जनपद अमेठी की मीडिया घूमती है, आखिर घूमे भी क्यूं ना जब मंत्री जी चैनल और समाचार पत्र में खबर छापने और न छापने पर मीडिया कर्मियों को पैसे बांटते है. दरअसल ये मंत्री है गायत्री प्रसाद प्रजापति, जिन्हें सरकार में भूतत्व एव खनिजकर्म राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार बनाया गया है. विधायक से मंत्री बनने में जितनी मेहनत गायत्री प्रसाद ने की उससे कम मीडिया वालों ने भी नहीं की हाल ये रहा कि पीपली लाइव फ़िल्म की तरह अमेठी की इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया गायत्री प्रजापति के पीछे पीछे चलने लगी. मंत्री जी से पैसा लेने और उनका ख़ास बनने के चक्कर में कई बार तो प्रदेश मुख्यालय और मंत्री के गृह जनपद अमेठी में प्रिंट और इलक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों के बीच कहा सुनी भी हो चुकी है.
 
मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने भी, किसी रेस्टोरेंट में रखी खाने की सूची में जैसे खाने का मूल्य निर्धारित होता है, उसी प्रकार प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारों का भी मूल्य निश्चित कर दिया है इन सब में ख़ास बात ये है कि मंत्री जी कि आवभगत में कई बड़े चैनलों के लोग मंत्री के अपने क्षेत्र में आने का इन्तजार करते हैं. मंत्री ने इन सभी पत्रकारों के लिए विशेष मूल्य सूची बनाई है जिसमें लखनऊ के मीडिया कर्मियों को पांच-पांच हजार रूपए और अमेठी के इलेक्ट्रानिक मीडिया के लोगों को तीन-तीन हजार और प्रिंट मीडिया के सभी पत्रकारों को डेढ़ डेढ़ हजार रूपए बांटने का एक अलग बजट बना रखा है. 
 
अब जब पत्रकारों की जेबें गरम रहती हैं तो मंत्री जी गलत काम भी करें तो ठीक है क्योंकि किश्त तो बराबर मिल ही रही है अगर खबर छापी तो किश्त से भी हाथ न धोना पड़ जाए इस बात का भी डर रहता है. वैसे मंत्री जी अब खुले मंच से ये साफ़ कहते दिखाई देते हैं कि मुझे मीडिया ने विधायक से मंत्री बना दिया. हम इनका ध्यान रखते हैं तभी ये हमारा ध्यान रखते हैं. और तो और मंत्री का ये भी कहना होता है कि प्रचार प्रसार होने से इंसान का महत्व होता है. लगता है तभी मंत्री जी को प्रचार प्रसार से इतना प्रेम है.

टाइम पत्रिका के चुनाव में दिलचस्पी है तो पहले मूट को जानिए

राजनेताओं द्वारा सोशल मीडिया में और ऑनलाइन प्रचार के लिए पब्लिक रिलेशन कंपनियों का इस्तेमाल कोई नई बात नहीं है और यह भी अक्सर सुनने में आता है कि कई कंपनियां अपने ग्राहक को अधिक लोकप्रिय दिखने के लिए फ़र्ज़ी तौर-तरीक़े अपनाती हैं. कोबरा पोस्ट के खुलासे के बाद ऐसी चर्चाओं को अब ठोस आधार भी मिल गया है. 
 
नई तकनीक के आने के पहले नेताओं की लोकप्रियता का पैमाना या तो चुनाव हुआ करता था या कुछ पत्रिकाएं/चैनल सर्वेक्षण द्वारा बताते थे कि कौन कितने पानी में है. सोशल मीडिया और ऑनलाइन के कारण अब यह हर दिन का मामला बन गया है. संयोग से, कोबरा पोस्ट का यह 'खुलासा' उसी समय आया है जब दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित पत्रिका टाइम अपने चर्चित 'वर्ष का व्यक्ति' चुनने की प्रक्रिया में है. अंतिम चयन तो पत्रिका के सम्पादकों द्वारा ही किया जाता है और उस प्रक्रिया में ऑनलाइन मतदान का कोई मतलब नहीं होता है लेकिन 1998 से शुरू इस मत-प्रक्रिया ने एक ख़ास मुक़ाम बना लिया है और हर बार मत-प्रक्रिया के दौरान के उतार-चढ़ाव और अंत में सबसे अधिक मत पाये हुए लोगों को लेकर चर्चा होती रहती है. हमारे समय की हर चर्चा की तरह इसमें भी विवादों का बड़ा हिस्सा होता है और वे अक्सर आधारहीन भी नहीं होती हैं. 
 
टाइम के इस चुनाव-प्रक्रिया में जो अंतिम नाम चुने गए हैं, उनमें गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा की ओर से 2014 में होने वाले चुनाव में प्रधानमंत्री पद के उमीदवार भी हैं. मोदी का नाम आने से इस मत-प्रक्रिया में भारतीय मीडिया की दिलचस्पी स्वाभाविक भी है. इसी पत्रिका द्वारा निकाली जाने वाली वार्षिक सूची विश्व के 100 सर्वाधिक प्रभावशाली व्यक्ति की 2012 की सूची में नरेंद्र मोदी का नाम शामिल हुआ था किन्तु उसके ऑनलाइन मतदान में लम्बे समय तक पहले स्थान पर बने रहने के बावज़ूद कंप्यूटर हैकर-कार्यकर्ताओं के अंतरार्ष्ट्रीय समूह एनॉनमस ने आख़िरी कुछ घंटों में तेज़ी से बढ़त बनाते हुए भारी अंतर से पहला स्थान हथिया लिया था. तब कांग्रेस पार्टी ने यह आरोप लगाया था कि मोदी के समर्थन में बड़े सुनियोजित और प्रायोजित ढंग से मतदान कराया जा रहा है. उधर मोदी के पिछड़ने के बाद उनके समर्थकों ने टाइम पत्रिका से चेंजडॉटओआरजी पर जारी ऑनलाइन याचिका के तहत यह मांग की थी कि एनॉनमस की बढ़त को खारिज़ कर दिया जाये क्योंकि उस समूह ने इस प्रक्रिया में तकनीकी घपला किया था जो अनैतिक है. उस याचिका में यह भी कहा गया था कि मोदी के विरोध में मत देने की घृणापूर्ण अपील भी की गई थी. याचिका की एक मज़ेदार बात यह थी जिसमें याचिकाकर्ता ने कहा था कि नरेंद्र मोदी जैसे महान प्रशासक और राजनेता के लिए ऐसे ऑनलाइन मतदानों का कोई महत्व नहीं है लेकिन 'ईमानदारी और आदर्शों' के लिए इनमें शुचिता सुनिश्चित करना ज़रूरी है. यह भी मज़ेदार बात है कि नरेंद्र मोदी को जहां उस मतदान में ढाई लाख से अधिक मत मिले थे, वहीं किशोर त्रिवेदी नामक व्यक्ति द्वारा जारी इस याचिका में सिर्फ़ 470 लोगों का समर्थन ही मिल सका था. ख़ुद को मोदी-समर्थक कहने वाले एक व्यक्ति ने इंटरनेट से जुड़े मसलों की लोकप्रिय साइट मैशेबल पर दिए बयान में भी एनॉनमस पर घपले का आरोप लगाया था. इस व्यक्ति ने अपनी असली पहचान नहीं बताई थी और वह ट्विटर पर सत्यभाषणम् के नाम से सक्रिय है और उसके परिचय में दिए गए वेबसाइट पर इस्लाम-विरोधी दुष्प्रचार होता है. एनॉनमस ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज़ कर दिया था. 
 
पिछले साल के इस टाइम 100 के बाद और कोबरा पोस्ट के 'खुलासे' से पहले भी नरेंद्र मोदी को लेकर ऐसा एक विवाद सामने आया था. अंग्रेज़ी अखबार द हिन्दू के एक लेख में इस साल अक्टूबर में माहिम प्रताप सिंह ने यह बताया था कि ट्विटर पर नरेंद्र मोदी के अनुयायियों की बड़ी सख्या फर्ज़ी है. बहरहाल, हम वापस लौटते हैं टाइम के 'वर्ष का व्यक्ति' चुनाव पर. अगर सच में नरेंद्र मोदी का प्रचार-तंत्र उन्हें इस प्रतियोगिता में शीर्ष पर पहुंचाने की कवायद में लगा है तो उसे पिछले साल के अनुभव के कारण बार-बार एक खास नाम डरा रहा होगा. मजे की बात यह है कि यह डर सिर्फ मोदी-प्रचार-तंत्र को ही नहीं, बल्कि टाइम की तकनीकी टीम को भी डरा रहा होगा. इंटरनेट और सोशल मीडिया के इतिहास में चर्चित नाम तो कई हैं लेकिन इनकी किवदंतियों के नायकों की संख्या बहुत थोड़ी है. क्रिस्टोफर पूल उन्हीं गिने-चुने लोगों में हैं. इंटरनेट की तरंगों में उनका छद्म नाम मूट गूंजता है. मोदी समर्थकों और विरोधियों के आलावा जिस किसी को भी इस पत्रिका के इस वार्षिक चुनाव में रूचि है, उसे मूट के बारे में ज़रूर जानना चाहिए. 6 दिसंबर को प्रकाशित होने वाले ऑनलाइन मतदान के परिणाम पर मूट की कोई भूमिका हो या न हो, लेकिन हर बार की तरह फिर उनका नाम ज़रूर आएगा. इंटरनेट और सोशल मीडिया और उसके पब्लिक स्फेयर में जिनकी दिलचस्पी है, उन्हें तो पूल उर्फ़ मूट को ज़रूर जानना चाहिए. मूट को जानना हमारे लिए इसलिए भी ज़रूरी है कि जहां इंटरनेट और सोशल मीडिया का इस्तेमाल ख़तरनाक इरादों, बेईमानी और स्वार्थ-सिद्धि के लिए किया जा रहा है, वहीं मूट जैसे नौजवान इसका इस्तेमाल बड़ी ताक़तों के विरुद्ध और इंटरनेट की व्यापक स्वतंत्रता के लिए कर रहे हैं. जब थोड़ा सा तकनीक का ज्ञान लेकर कुछ युवा बाज़ार में पैसे की हवस बुझाने के लिए खड़े हैं, वहीं पूल जैसे निपुण और मेधावी युवा अपने ज्ञान का इस्तेमाल बहुजन हिताय करने का संकल्प लेकर खड़े हैं. 
 
न्यूयॉर्क निवासी क्रिस्टोफर पूल ने अपने सोने के कमरे में बैठकर 2003 में किशोरों के लिए एक वेबसाइट 4चान डॉट ओआरजी शुरू की थी जिस पर बिना किसी पंजीकरण के और पहचान बताये तस्वीरें, चुटकुले, टिप्पणियां आदि का आदान-प्रदान क्या जा सकता था. तब पूल की उम्र सिर्फ 15 साल थी और ऑनलाइन की दुनिया में उसे मूट के नाम से जाना जाता था. ऐसा माना जाता है कि अकेली कामकाजी मां के साथ रहते हुए पूल ने कुछ कमाई के इरादे से यह साइट शुरू की थी. देखते-देखते यह साइट बहुत लोकप्रिय हो गई. एक ओर जहां यह साइट आम किशोरों के मनोरंजन का अड्डा बनी, वहीं हैकरों और प्रयोगधर्मी किशोरों ने इसे कर्मस्थली भी बनाया जिसके निशाने पर बड़े-बड़े साइट आए. ऐसा माना जाता है कि एनॉनमस की शुरूआती प्रयोगशाला यहीं बनी और विरोधियों, बैंकों, सरकारों आदि के साइट हैक कर 4चान के उपयोगकर्ताओं ने विकिलीक्स तथा दुनिया के विभिन्न हिस्सों में चलने वाले आन्दोलनों को भी बहुत समर्थन दिया. वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार इंटरनेट के इतिहास के सबसे बड़े और चर्चित ऑनलाइन हमलों में से कई इसी साइट के उपयोगकर्ताओं ने अंजाम दिए. गार्जियन अखबार ने एक दफ़ा इनको 'पागल, बचकाना, प्रतिभाशाली, बेतुका और ख़तरनाक' कहा था. इस साइट के प्रभाव का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि 2008 में ब्राज़ील के एक बड़े पत्रकार लियोपोल्दो गोदोय ने इसे पाश्चात्य वेब संस्कृति का नाभि-केंद्र कहा था. आज इंटरनेट पर इस्तेमाल होनेवाले बहुत से शब्द, चित्र-भंगिमाएं, स्टाईल आदि की शुरुआत इसी साइट के विभिन्न पन्नों से हुई थी. तबतक इसके कर्ता-धर्ता मूट की असली पहचान किसी को नहीं मालूम थी. 9 जुलाई 2008 को वाशिंगटन पोस्ट और टाइम ने अलग-अलग रिपोर्टों में पहली बार मूट के असली नाम क्रिस्टोफर पूल से लोगों का परिचय कराया.  
 
अगले साल यानि 2009 के शुरू में टाइम ने विश्व के सर्वाधिक प्रभावशाली लोगों की वार्षिक सूची 'टाइम 100' में पूल की ऑनलाइन पहचान 'मूट' को शामिल किया. यहां से मूट, और 4चान के साथ टाइम के इन दो वार्षिक सूचियों का विवादस्पद सम्बन्ध शुरू होता है जो आजतक जारी है. 4चान के उपयोगकर्ताओं ने आपस में यह निर्णय लिया और देखते-देखते मूट उस सूची में भारी मतों के अंतर से पहले स्थान पर जा पहुंचा. इतना ही नहीं, इनलोगों ने सामूहिक कार्रवाई करते हुए अगले बीस स्थान भी अपनी मर्जी से निर्धारित कर दिए. इसी तरह 2012 के 'टाइम 100' के मतदान में नरेंद्र मोदी की लगातार बढ़त को लांघते हुए एनॉनमस ने भारी अंतर से पहला स्थान ले लिया था. यह करामात बस चंद घंटों में कर दिखाया गया था. 2012 के 'वर्ष का व्यक्ति' के मतदान में हैकरों ने मज़ा लेते हुए उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन को पहले स्थान पर ला दिया और साथ ही अगले 13 स्थान भी अपने हिसाब से निर्धारित कर दिया. कुछ रिपोर्टों में इस साल के अभी चल रहे मतदान में मिली साइरस की बढ़त के पीछे भी इनका हाथ माना जा रहा है लेकिन हमें यह भी याद रखना चाहिए कि साइरस पूरे साल भर चर्चा में रही हैं जिसका लाभ उन्हें मिल सकता है. 
 
इन पंक्तियों के लिखे जाने तक तुर्की के प्रधानमंत्री एर्दोआं दूसरे और मिस्र के फ़ौज़ी कौंसिल के मुखिया फ़तह अल-सिसी तीसरे स्थान पर हैं. नरेंद्र मोदी पहले स्थान से लुढ़कते-लुढ़कते तीन दिन में चौथे स्थान पर आ गए हैं. जैसा कि पहले कहा जा चुका है कि अंतिम चुनाव पत्रिका के सम्पादकों द्वारा होता है और उसमें इस मतदान प्रक्रिया का कोई मतलब नहीं होता. लेकिन अगर इसमें मोदी पहले स्थान पर आ जाते हैं तो आगामी चुनावों को देखते हुए प्रचार महिमा से आक्रांत मोदी-समर्थकों के लिए बड़ी बात होगी. वैसे सम्पादकों द्वारा मोदी को चुने जाने की सम्भावना न के बराबर है. मेरे हिसाब से ईरान के नए राष्ट्रपति हसन रूहानी के 'वर्ष का व्यक्ति' चुने जाने की प्रबल सम्भावना है. 
 
                                           लेखक प्रकाश के रे bargad.org के सम्पादक हैं. इनसे संपर्क pkray11@gmail.com के जरिए किया जा सकता है.

संतोष मानव हरिभूमि भोपाल के संपादक

दैनिक भास्कर जमशेदपुर के संपादक रहे संतोष मानव हरिभूमि भोपाल के संपादक होंगे। वे दिसंबर में भोपाल में कार्यभार संभालेंगे। भोपाल में लंबे समय तक दैनिक भास्कर में समाचार संपादक रहे संतोष मानव के लिए नया चैलेंज होगा। नए साल में आधुनिक प्रिटिंग मशीन और बेहतर संसाधनों के साथ हरिभूमि भोपाल से नए संस्करण की लांचिंग की तैयारी जोरशोर से कर रहा है।

वहां भास्कर, पत्रिका समेत कई जमे जमाए अखबार के बीच हरिभूमि की महत्ता बरकरार रख पाने की चुनौती होगी। हरिभूमि समूह ने मध्यप्रदेश में पहले जबलपुर संस्करण लांच किया था। समूह ने दिल्ली के नेशनल संस्करण को नए तेवर के साथ फिर से नए लुक देने के लिए दिल्ली आफिस में भर्ती अभियान चला रखा है। जब ज्यादातर मीडिया समूह से पत्रकारों की छंटनी हो रही है वैसे समय में हरिभूमि ने नए-पुराने पत्रकारों को अपने साथ जोड़कर नया ठौर देने की शुरुआत की है।
 

राजेंद्र तिवारी की वजह से प्रभात खबर छोड़ा स्वयं प्रकाश ने?

: कानाफूसी : प्रभात खबर में इन दिनों संपादक राजेंद्र तिवारी की बदमजगी से माहौल रांची से लेकर पटना तक लगातार खराब हो रहा है। बिहार में दैनिक भास्कर के दस्तक देने से बने माहौल से निपटने को तिवारी को प्रमुख संपादक हरिवंश जी ने रांची से पटना भेजा था। मगर, उनके पटना आगमन के साथ ही प्रभात खबर के अंदर का माहौल इतना विषाक्त हो गया कि लंबे समय से समूह में काम करने वाले बिहार के स्टेट हेड स्वयंप्रकाश को इस्तीफा देना पड़ा।

उन्होंने गुरुवार को ही अपना इस्तीफा राजेंद्र तिवारी के लगातार खराब, अमर्यादित व्यवहार से क्षुब्ध होकर मैनेजमेंट को सौंप दिया है। स्वयंप्रकाश के साथ ही कई वरिष्ठ साथी भी मौके की तलाश खत्म होते ही इस्तीफे की तैयारी में हैं। बरसों तक जम्मू-कश्मीर के गली-मोहल्लों से निकलने वाले कुछ लोकल अखबारों में काम करने वाले राजेंद्र तिवारी को दैनिक भास्कर ने जम्मू-कश्मीर से बाहर निकाला था। कुछ ही महीने में दैनिक भास्कर ने इन्हें रद्दी मानते हुए कूड़ेदान में डाल दिया था।

सेटिंग-गेटिंग में माहिर खिलाड़ी तिवारी ने शशि शेखर को साधा और हिंदुस्तान रांची में जगह बनाई, मगर कुछ ही समय में शशि शेखर ने जैसे ही समझा कि उनसे गलती हो गई उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। कुछ समय बाद रांची में उन्होंने हरिवंश जी को अपने चंगुल में लिया। तब से अब तक प्रभात खबर राजेंद्र तिवारी की चंगुल से बाहर निकलने को छटपटा रहा है। उम्मीद है कि प्रभात खबर के मैनेजमेंट को जल्द सदबुद्धि आएगी।

कानाफूसी कैटगरी की यह खबर प्रभात खबर के एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित है.

आईटी कंपनियों द्वारा सोशल साइट्स के दुरुपयोग पर एफआईआर

उत्तर प्रदेश कैडर के आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने आईटी कंपनियों द्वारा सोशल मीडिया के आपराधिक दुरुपयोग के सम्बन्ध में कोबरापोस्ट के स्टिंग से प्राप्त तथ्यों के आधार पर थाना गोमतीनगर, लखनऊ में एक एफआईआर दर्ज कराया है.
 
एफआईआर के अनुसार कई आईटी कम्पनियां फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफोर्म का इस प्रकार भारी, अनुचित और आपराधिक दुरुपयोग कर रहे हैं कि इससे आम नागरिकों और विशेषकर मतदाताओं को गलत तथ्य प्रस्तुत कर उन्हें भरमाया जा रहा है, उनके साथ धोखा किया जा रहा है. ये कम्पनियां कुछ हज़ार से कुछ लाख रुपये ले कर नेताओं और कोरपोरेट घरानों के लिए फर्जी एकाउंट बनाने, फर्जी लाइक करने, दूसरों के लिए फर्जी नकारात्मक टिप्पणियाँ करने, धार्मिक भावनाएं भड़काने जैसे तमाम आपराधिक कृत्य कर रहे हैं.
 
कम्पनियां इसके लिए ऑफशोर आईपी, इन्टरनेट आधारित मेसिजिंग सिस्टम का उपयोग आदि करते हैं. इन आईटी कंपनियों के ये कृत्य भारतीय दंड संहिता, आईटी एक्ट 2000 तथा जनप्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 में आपराधिक कृत्य हैं. अतः इनके सम्बन्ध में थाने पर धारा 419, 420 तथा 465 आईपीसी, धारा 66ए आईटी और धारा 125, जन प्रतिनिधित्व अधिनियम में एफआईआर दर्ज किया गया है जिसकी विवेचना उपनिरीक्षक संतोष कुमार सिंह द्वारा की जायेगी.
 

हरिवंश के करीबी स्वयं प्रकाश ने दिया इस्तीफा, हिंदुस्तान जाने की चर्चा

बिहार में प्रभात खबर को गहरा झटका लगा है। अखबार के प्रधान संपादक हरिवंश के सबसे करीबी माने जाने वाले बिहार के स्टेट हेड स्वयं प्रकाश ने इस्तीफा दे दिया है। वे हिन्दुस्तान के संग हो गये है। हिन्दुस्तान पटना में उन्हें आरई स्पेशल प्रोजेक्ट बनाने की खबर है। उनका वेतन प्रभात खबर में मिलने वाली सैलरी से दुगुनी बतायी जाती है। प्रभात खबर के प्रिन्ट लाइन में आज से स्वयं प्रकाश का नाम गायब है। उनकी जगह अभी किसी का नाम नहीं जा रहा है।

वैसे चर्चा है कि अखबार के कारपोरेट एडीटर राजेन्द्र तिवारी अपने किसी खास व्यक्ति को स्टेट हेड बनायेंगे। स्वयं प्रकाश पहले हिन्दुस्तान की रांची यूनिट में थे। बाद में वे प्रभात खबर में आये और हरिवंशजी के कृपा पात्र बनने के बाद जल्दी ही प्रोन्नति पाकर स्टेट हेड की कुर्सी तक आ पहुंचे। इससे प्रभात खबर में लंबे समय तक असंतोष का माहौल रहा। इससे पहले प्रभात खबर के आरई पटना प्रमोद मुकेश अपना पल्ला झाड़ भास्कर के आरई के पद पर ज्वायन कर चुके हैं। कुछ और लोग लाइन में लगे हैं। बताते हैं कि अखबार के पूरी तरह से नीतीशमुखी हो जाने के कारण वहां कार्यरत लोग अपने को असहज महसूस कर रहे हैं। कम वेतन का रोना तो रोते ही हैं।

तो अब नामवर सिंह को कोई भी अगवा कर सकता है

इन दिनों पप्पू यादव की किताब द्रोहकाल के पथिक का विमोचन करके नामवर सिंह विवाद के बोफ़ोर्स पर सवार हैं। यह वही नामवर सिंह हैं जिन के ७५ वर्ष के होने पर देश भर में घूम-घूम कर समारोह करवाए थे प्रभाष जोशी ने। जीते जी इतना बड़ा सार्वजनिक सम्मान ७५ का होने पर किसी और हिंदी लेखक का देश भर में हुआ हो, यह मेरी जानकारी में नहीं है। हालांकि नामवर के यह सम्मान समरोह भी हलके विवाद में आए थे तब। लेकिन नामवर को तो जैसे ऐसे विवादों का शगल है। लोग लाख विरोध करें उन को फ़र्क नहीं पड़ता। क्यों कि वह सचमुच के नामवर हैं और रहेंगे भी।
 
फ़ेसबुक पर भी इसको लेकर घमासान जारी है। नामवर सिंह द्वारा इस लोकार्पण की जितनी निंदा की जाए कम है। माना कि वाद, विवाद, संवाद उनका प्रिय विषय है लेकिन पतन की भी एक सीमा होती है। पतन के नित नए प्रतिमान गढ़ते नामवर अपनी नामवरी का इस कदर दुरुपयोग करेंगे, यह बात लोग शुरु से जानते रहे हैं। किसी के लिए यह आश्चर्य का विषय नहीं है। विवाद और नामवर का चोली-दामन का साथ है। एक समय राज्य सभा में जाने के फेर में वह भ्रष्टाचार के प्रतिमान और भारतीय राजनीति में सामंती लहज़े को ठसके के साथ उपस्थित करने के लिए जाने जाने वाले लालू प्रसाद यादव फ़ेज़ में अपनी फ़ज़ीहत करवा चुके हैं। अब दूसरी बार वह हत्यारे पप्पू यादव फ़ेज़ में फंस गए हैं। पप्पू की किताब का लोकार्पण कर खुद पप्पू बन गए हैं। हालांकि भाजपाई नेता जसवंत सिंह की किताब का जब उन्होंने लोकार्पण किया तो उन्हें ठाकुरवाद से जोड़ा गया था। फिर यही पुनरावृत्ति आनंद मोहन सिंह के साथ हुई। ज्योति कुमारी के कथा-संग्रह के लोकार्पण में उन्होंने उस किताब में छपी अपनी ही भूमिका पर सवाल खड़ा कर दिया और कहा कि दस्तखत पर मेरे दस्तखत नहीं हैं। फिर कुछ दिन बाद उनका बयान आया कि मुझसे बातचीत के आधार पर भूमिका लिखी गई। फिर कुछ दिन बाद उन्होंने लिख कर बयान जारी किया कि तब मेरे हाथ जाड़े के मारे कांप रहे थे, इसलिए बोल कर लिखवाया। 
 
ऐसे और भी बहुतेरे विवाद हैं जो नामवर के साथ नत्थी हैं। कुछ व्यक्तिगत तो कुछ साहित्यिक विमर्श के। बहुत दिन नहीं बीते हैं जब परमानंद श्रीवास्तव ने उन्हें तानाशाह आलोचक घोषित किया था। यह वही परमानंद थे जो नामवर के सेकेंड लाइनर कहलाते थे। बहुत लोग उन्हें नामवर का मुंशी भी कहते थे। आलोचना पत्रिका में नामवर ने परमानंद श्रीवास्तव को ही अपने साथ संपादक बनाया था। और वही परमानंद श्रीवास्तव उन्हें तानाशाह आलोचक कह गए तो बहुत आसानी से तो नहीं कहा होगा। अब परमानंद जी नहीं हैं तो भी सच यही है कि हिंदी जगत ने नामवर की तानाशाही खूब भुगती है और उन की तानाशाही के विवाद भी। अब यह ताज़ा विवाद पप्पू यादव की किताब का न सिर्फ़ उनके द्वारा लोकार्पण है बल्कि उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा भी की है। 
 
नामवर ने अपनी नामवरी में बता दिया है कि पप्पू और उनका लेखन हाथी है, बाकी सब चींटी हैं। किताब एक सांस में पढ़ जाने की कवायद आदि-आदि भी वह कर गए हैं। जो भी हो अब यह पूरी तरह स्पष्ट है कि नामवर अब एक छोटे बच्चे सरीखे हैं, जिनको कोई भी अगवा कर सकता है, अपनी सुविधा से। उन को चाकलेट खिला कर या कुछ भी लालच दे कर, दिखा कर उन से कुछ भी बुलवा और लिखवा सकता है। ८७ साल के नामवर अब बालसुलभ अदाओं के मारे हुए हैं। तो क्या इस सब को उस मनोविज्ञान के आलोक में भी देखा जाना चाहिए कि बच्चे और वृद्ध एक जैसे होते हैं। एक समय था कि नामवर जल्दी किसी को पहचानते नहीं थे, अब सब को पहचानते हैं। यह उनके 'मौखिक ही मौलिक' का विस्तार है। यह होना ही था। विष्णु खरे ने नामवर की इस प्रतिभा को बहुत पहले ही से पहचान लिया था, बतर्ज़ फ़िराक बहुत पहले से तेरे कदमों की आहट जान लेते हैं, पर तब विष्णु खरे को लोगों ने नहीं सुना। उन्हें उनकी कुंठा में ढकेल कर सो गए लोग। लेकिन नामवर तो निरंतर जाग रहे हैं। अपने अध्ययन, अपनी विद्वता और अपने व्यक्तित्व का निरंतर दुरुपयोग करते हुए। 
 
प्रकाशकों के बंधक बन चुके नामवर एक बार तब और विवाद में आए थे जब राजा राममोहन ट्रस्ट की खरीद समिति के सर्वेसर्वा थे और करोड़ों की खरीद एक ही प्रकाशक को थमा दी। तब वह सीबीआई जांच के भंवर में आए थे। लेकिन तब अशोक वाजपेयी ताकतवर प्रशासक थे दिल्ली के सत्ता गलियारे में। नामवर अशोक वाजपेयी की शरण में गए। अशोक वाजपेयी ने सहिष्णुता दिखाई और नामवर बच गए। तो जीवन भर अशोक वाजपेयी को कोसने वाले नामवर ने भी अशोक वाजपेयी को साहित्य अकादमी दिलवाने में पूरी ताकत लगा दी और दे दिया। नामवर की नामवरी का अंदाज़ा इसी एक बात से लगा लीजिए कि नामवर को साहित्य अकादमी पुरस्कार पहले मिला और उनके गुरु हजारी प्रसाद द्विवेदी को उन से दो साल बाद। वह भी आलोचना पर नहीं, उपन्यास पर। अनामदास का पोथा पर। खैर अभी तो आन रिकार्ड, आफ़ रिकार्ड हर जगह पप्पू यादव के रंग में नामवर रंगे मिल रहे हैं। अब जाने नामवर नाम के इस बच्चे को प्रकाशक ने टाफी दे कर फुसलाया है कि माफ़िया और हत्यारे पप्पू यादव ने। कहना कठिन है। पर यह जानना भी दिलचस्प है कि नामवर न सिर्फ़ कम्युनिस्ट हैं बल्कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के टिकट पर बनारस से चुनाव लड़ चुके हैं। कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार जनयुग के संपादक भी रह चुके हैं। और यह पप्पू यादव बिहार में कम्युनिस्ट पार्टी के ही एक विधायक अजित सरकार का भी हत्यारा है। उस हत्या को ले कर सज़ा काट रहा है। अभी वह पेरोल पर है। फ़ेसबुक पर यह घमासान भी अलग-अलग रंगों में जारी है। मैंने खुद अपनी वाल पर लिखा है : 
 
पतन के नए प्रतिमान 
बरास्ता द्रोहकाल का पथिक, पप्पू यादव
-नामवर सिंह
और फिर एक दूसरी टिप्पणी भी है:
 
यह भी क्या स्वर्णिम समय है? प्रणाम कीजिए इस समय को भी। भारत रत्न सचिन तेंदुलकर, पत्रकार शिरोमणि तरुण तेजपाल और अब महान लेखक राजेश रंजन ऊर्फ़ पप्पू यादव। वो गाना है न आ जा तुझे भी सैर करा दूं, तमंचे पे डिस्को! तमंचे पे डिस्को! अब देखिए न कि एक से एक भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य, सब के सब नत हैं इस डिस्को के आगे और नाच रहे हैं। दुर्योधन, दुशासन समेत। आमीन बुलेट राजा, आमीन!
 
इस पर ले कर बहुतेरी टिप्पणियां हैं, लाइक हैं।
हमारे प्रिय कथाकार और मित्र उदय प्रकाश भी इसको ले कर तंज और रंज में हैं। हिंदी साहित्य की नामवरी प्रवृत्ति पर उन के 'कोडेड फार्मूला'  पर गौर कीजिए :
 
'जब लेखक और प्रकाशक के बीच विवाद हो तो प्रकाशक के साथ रहो, जब प्रशासन और स्टूडेंट के बीच विवाद हो तो प्रशासन का साथ दो, जब अफ़सर और मातहत की बात हो तो हमेशा अफ़सर के पक्ष में रहो, जब जातिवाद और उसके विरोध के बीच झगड़े हो तो सवर्णवाद का साथ दो, जब उत्कृष्टता और मीडियाकिरी के बीच चुनना हो तो दूसरे को ही चुनो… जब बंदूक और कलम के बीच बहस चले तो बंदूक के साथ रहो ….सामंतवाद और लोमड़ चतुराई यही सीख देते हैं।'
 
एक हमारे मित्र हैं चंद्रेश्वर जी। कवि हैं। बहुत सरल भी हैं। कि कोई गाली भी दे तो प्रतिवाद या विरोध नहीं करेंगे। कहेंगे क्या करना है, उसी का मुंह गंदा हो रहा है। इस हद तक सीधे हैं। लेकिन कभी कोई बात ज़्यादा हो जाती है तड़क जाते हैं। फ़ुल बिहारी अंदाज़ में। तो वह भी इस प्रसंग को ले कर बहुत आहत हैं। वह भी फ़ेसबुक पर बहस चलाए हुए हैं। लेकिन नामवर की नामवरी देखिए कि उन के विवाद को ले कर भी कई विवाद खड़े हो जाते हैं। और साहित्य में जाति के अलंबरदार लोग अपनी जाति का झंडा यहां भी अपनी सुविधा से गाड़ लेते हैं। बहस कोई भी हो, विषय कोई भी हो इन मित्रों को बस एक ही चश्मा सूझता है और एक ही राग। वह है जाति राग। इस विवाद पर चंद्रेश्वर जी की वाल पर मेरी भी कुछ फ़ेसबुकिया गुफ़्तगू का जायजा लीजिए:
 
चंद्रेश्वर जी, लाल जी निर्मल ने गलतबयानी कर दी और आप उन के दबाव में आ गए? नामवर ने ऐसा कोई बयान लखनऊ में नहीं दिया था। मैं था उस कार्यक्रम में। नामवर ने मायावती की अमीरी का ज़िक्र किया था, प्रकारांतर से और पूछा था कि इनको आरक्षण की ज़रुरत कहां है? और कहा था कि गांवों में एक से एक निर्धन ब्राह्मण और ठाकुरों के लड़के हैं उन्हें भी आरक्षण दिया जाना चाहिए। जो बात बाद के दिनों में मायावती भी वोट के चक्कर में कहने लगीं। तो यह सामाजिक न्याय के ठेकेदार जो आरक्षण की मलाई चाट रहे हैं, नामवर को घेर लिए। अपने स्वार्थ में। तब नामवर गलत थे और आज उस हत्यारे पप्पू यादव के कसीदे काढ़ने वाले नामवर अच्छे हो गए? सांप के मुंह में तो दो ही जुबान होती है लेकिन आदमी के मुंह में अनगिनत जुबान होती है। चंद्रेश्वर जी, प्रगतिशील बनने के चक्कर में गलतबयानी के दबाव में मत आया कीजिए। बल्कि इन को कस कर लताड़ दिया कीजिए। सच्चे प्रगतिशील यही करते हैं। जैसे राम विलास शर्मा।
 
चंद्रेश्वर जी, जो बात मैंने कही आप उसे टाल गए हैं। आप की प्रगतिशीलता की बात पर कोई सवाल नहीं था, सवाल था लाल जी निर्मल द्वारा नामवर को गलत कोट करने का। कि 'चंद्रेश्वर जी जब नामवर सिंह ने लखनऊ में यह बोला था कि आरक्षण समाप्त नहीं हुआ तो बाभन ठाकुर के लड़के भीख मांगेगे ,तब नामवरजी आपको कैसे लगे थे।' नामवर ने प्रगतिशील लेखक संघ के लखनऊ सम्मेलन में ऐसा कुछ नहीं कहा था, जैसा कि लाल जी निर्मल बता रहे हैं, अगर इस मीटिंग के मिनिट्स हों तो निकलवा कर देख लें। और आप उसे स्वीकार करते हुए उसे कंडेम कर रहे हैं। यह लिख कर कि, 'तब भी नामवर जी अच्छे नहीं लगे थे ,निर्मलजी।' मेरा ऐतराज इसी बात पर है। सवाल यहां पांडेय यादव आदि का भी कहां से आ गया? यह मेरी समझ से परे है।
 
चंद्रेश्वर जी, मेरे पास टेप नहीं है। लेकिन अपने कान पर पूरा भरोसा है। और याददाश्त पर भी। रही बात आप के कुछ 'मित्रों' की तो उन 'मित्रों' ने तो नामवर सिंह को दूसरे दिन बीच बोलने में रोक कर ज्ञापन भी दिलवा दिया था। आप के यह 'मित्र' लोग डरे हुए लोग हैं। इन 'मित्रों' को अपने कुतर्क और फ़ासिज़्म से फ़ुर्सत नहीं है। यह 'मित्र' लोग साहित्य में भी आरक्षण के हामीदार हो चले हैं और कौवा कान ले गया की तर्ज़ पर बहस करते हैं। कामतानाथ तो अब नहीं हैं, नहीं आप को सही स्थिति बताते। लेकिन हां, शेखर जोशी हैं, हरिचरन प्रकाश हैं, श्रीप्रकाश शुक्ल हैं यह लोग बता सकते हैं आप को सही स्थिति। और खुद नामवर बता सकते हैं। कि उन्होंने क्या कहा। मिनिटस बता सकती है। बाकी जो 'मित्र' आप को बताए हुए हैं, गलत बताए हैं। फ़ासीवाद का विरोध करते-करते यह नए फ़ासिस्ट हैं। यह लोग साहित्य पर नहीं, जाति पर चलने वाले लोग हैं।
 
आप देखिए न कि इन 'मित्रों' में से कोई एक नामवर के इस कृत्य का विरोध नहीं कर रहे। नहीं कोस रहे, न सवाल उठा रहे कि नामवर ने एक हत्यारे की किताब का विमोचन क्यों किया? क्योंकि यह हत्यारा पप्पू यादव है और इनकी जातिगत चौहद्दी में फ़िट बैठता है। हां उनको नामवर का वह कहा याद है जिसमें उन्होंने मायावती की अमीरी का ज़िक्र करते हुए कहा था कि अब मायावती को आरक्षण की क्या ज़रुरत है? तो इसलिए कि इन्हें साहित्य में भी आरक्षण की ज़रुरत पड़ गई है। धन्य हैं आपके यह 'मित्र' लोग भी। जातिवाद की भी एक हद होती है और कि शर्म भी जो यह लोग पी गए हैं। कुतर्क पर जी रहे इन लोगों का अब कोई कुछ नहीं कर सकता। इन को इन के हाल पर छोड़ दीजिए। खुद समाप्त हो जाएंगे। पानी के बुलबुले की तरह।
 

लेखक दयानंद पांडेय वरिष्ठ पत्रकार और उपन्यासकार हैं. उनसे संपर्क 09415130127, 09335233424 औरdayanand.pandey@yahoo.com के जरिए किया जा सकता है. यह लेख उनके ब्‍लॉग सरोकारनामा से साभार लिया गया है.


दयानंद पांडेय के लिखे अन्य विचारोत्तेजक लेखों और उनसे जुड़े आलेखों को पढ़ने के लिए क्लिक करें…

भड़ास पर दनपा

 

पटना में डीटीओ बन वसूली करता राष्ट्रीय सहारा का पत्रकार गिरफ्तार

गलत कारनामों को लेकर पूरे देश में मीडिया पर उठ रही उंगलियों में एक नाम बिहार के एक पत्रकार का भी उभरा है। राष्ट्रीय सहारा के बिहार एडीशन के पटना सिटी कार्यालय के ब्यूरो चीफ रजनीश को पटना की पुलिस ने छदम वेश में नकली डिस्ट्रिक ट्रांसपोर्ट अफसर बन कर रात के अंधेरे में पीली बत्ती में घूम हाइवे पर वसूली करने के आरोप में धर दबोचा है। पटना के अखबारों में इस पर बड़ी-बड़ी रिपोर्ट छपी है।

खबरों के मुताबिक 26 नवंबर को पटना जिले के बख्तियारपुर में चंपापुर नेशनल हाइवे के पास रजनीश सहित चार लोगों को पुलिस ने पकड़ा है। पीली बत्ती लगी बोलेरो बीआर10पीबी 8271 पर ये लोग सवार थे। पटना के एसएसपी मनु महाराज के निदेश पर एसपी ग्रामीण बीएन झा के निदेशन में बख्तियारपुर के थानाध्यक्ष मृत्युंजय कुमार ने चेकिंग के दौरान इन लोगों को पकड़ा।

राष्ट्रीय सहारा के पत्रकार रजनीश के अलावा अन्य लोगों में राहुल, चंदन और कन्हैया के नाम हैं। ग्रामीण एसपी बीएन झा के अनुसार जिला परिवहन पदाधिकारी और मोटर यान निरीक्षक बन कर चारो गुर्गे नेशनल हाइवे पर वसूली कर रहे थे। अन्य संभावनाओं पर भी तहकीकात की जा रही है। इनके अतीत को भी खंगाला जा रहा है। खबरों के मुताबिक पत्रकार रजनीश पटना के बेउर आदर्श कारा में बंद दुर्नाम अपराधी नागा सिेह का निकट का रिश्तेदार है। राष्ट्रीय सहारा के पटना प्रबंधन ने इसके खिलाफ क्या कारवाई की है यह अभी तक पता नहीं चला है।

पटना से भास्कर के प्रकाशन की तैयारी क्या शुरू हुई पटना की अखबारी मंडियों में भगदड़ मची हुई है

बिहार की राजधानी पटना से भास्कर के प्रकाशन की तैयारी क्या शुरू हुई पटना की अखबारी मंडियों में भगदड़ मची हुई है। नये तो नये पुराने पत्रकार भी मुंह बाये खड़े हैं। अखबारों का मैनेजमेंट तो सकते में है ही। पहले तीनों हिन्दुस्तान, जागरण और प्रभात खबर प्रबंधन की मनमानी चलती थी। पत्रकारों के हितों पर प्रबंधन की राय अलग-अलग रहती है लेकिन अखबार का दाम तय करना हो तो सब एकजुट हो जाते है। अर्थात पाठकों का दोहन करने में एक साथ।

भास्कर ने इन लोगों की खैरियत खबर लेनी शुरू कर है बड़े-बड़े यह बोर्ड लगाकर– देश में सबसे महंगे अखबार पटना में क्यों! यह तो हुई यहां मठाधीश से बन चुके अखबारों के प्रबंधन को औकात दिखाने की एक छोटी सी पहल। तीनों अखबारों ने अपना रेट ढाई रूपया कर दिया है।उस पर से नाना प्रकार की स्कीम । सवाल है कि इतने वर्षों तक पाठकों का आर्थिक शोषण क्यों किया हिन्दुस्तान, जागरण और प्रभात खबर के प्रबंधन ने।

बात अब अखबारों में चल रही आपाधापी के संबंध में। प्रायः सभी अखबारों के विभिन्न डिपार्टमेंटों में भगदड़ मची हुई है। सबके पांव भास्कर की ओर हैं। अभ्यर्थियों की सबसे ज्यादा संख्या हिन्दुस्तानियों की है। अपने पालिटिकल एडीटर की कारगुजारियों और तानाशाही रवैये से आजिज एक दर्जन से अधिक एडीटोरियल स्टाफ भास्कर की ओर मुखतिब है। कइयों की मुलाकात भास्कर प्रबंधन के लोगों से यहां के मौर्या होटल में हो चुकी है। किसी भी वक्त ये हिन्दुस्तान को बाय-बाय बोल सकते हैं।

राष्ट्रीय सहारा में छंटनी की भनक पा कई वरिष्ठ लोग कतार में लगे हैं। एक-दो की बात पक्की भी हो चुकी है। वेतन देने में महा कंजूस प्रभात खबर को बड़ा झटका लग सकता है। भास्कर के आरई प्रमोद मुकेश यहां से एक साथ बड़ी फौज को तोड़ कर लाने की जुगत में हैं। प्रमोद मुकेश पहले प्रभात खबर में आरई थे। मुकेश के हटने के बाद बाहर से आये प्रभात खबर के नये आरई से अखबार सम्हल नहीं रहा है या पुराने कर्मी सहयोग नहीं कर रहे हैं। कुल मिला कर सबसे ज्यादा नुकसान पीके को ही होने की संभावना है।

पटना से एक पत्रकार की रिपोर्ट.

एक था तहलका

देश की सबसे धारदार मैगजीन के एडिटर इन चीफ तरुण तेजपाल अपनी एक गलती के कारण सबसे बड़ी परेशानी में फंस गये हैं। सिर्फ उनकी विरोधी पार्टी भाजपा ही नहीं बल्कि मीडिया के लोग भी उन पर जबरदस्त तरीके से हमला कर रहे हैं। सबको लग रहा है कि तहलका को निपटाने का इससे बेहतर तरीका कोई दूसरा नहीं हो सकता। जाहिर है सबकी कोशिश है कि किसी भी तरह तहलका को खत्म किया जाए या उसकी विश्वसनीयता को ही तार-तार कर दिया जाए। देखना यह है कि इतने हमले झेलने के बाद क्या तहलका संस्थान बचेगा या फिर उसकी धारदार पत्रकारिता अब अतीत का हिस्सा बन जाएगी।
 
तरुण तेजपाल की गिनती वर्षों से देश के सबसे ताकतवर पत्रकार के रूप में होती रही है। तहलका ने उस समय देश भर में तहलका मचा दिया था जब एनडीए के शासनकाल में उसके एक स्टिंग आपरेशन में भाजपा के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण फंस गये थे। बंगारू हथियारों के एक फर्जी सौदे में एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए कैमरे पर देश भर में दिखायी दिये। भारी हंगामे के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण को न सिर्फ इस्तीफा देना पड़ा बल्कि कई महीने जेल में भी रहना पड़ा।
 
मगर तहलका का यह अंतिम हमला ही नहीं था। कारगिल शहीदों के लिए मंगाये जा रहे ताबूतों में भी कमीशन लेने की बात तहलका सामने लाया और तत्कालीन रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडिज को इस्तीफा देना पड़ गया था।
 
हिन्दुस्तान में यह पहली बार हुआ था कि किसी मीडिया संस्थान की रिपोर्ट के चलते सत्ताधारी पार्टी के अध्यक्ष को जेल तक का सफर तय करना पड़ा हो और उसके रक्षा मंत्री को इस्तीफा देना पड़ा हो। भाजपा तहलका की टीम से तिलमिला गई थी। सरकार के इशारे पर तहलका से जुड़े कई लोगों की घेराबंदी करने के लिए कई प्रकार की साजिशें रची गयीं मगर कामयाबी नहीं मिल सकी। पिछले दिनों गुजरात दंगों का सच जानने के लिए तहलका ने फिर स्टिंग आपरेशन किया और साबित कर दिया कि यह दंगे सरकार द्वारा प्रायोजित थे। पीलीभीत के सांसद वरुण गांधी के जहरीले भाषणों का मामला भी खत्म हो जाता अगर तहलका इस मामले की तह तक जाकर पड़ताल न करता। स्वाभाविक था कि तहलका के यह हमले भाजपा का वह चेहरा सबके सामने ला रहे थे जिन्हें भाजपा हमेशा छिपाना चाहती है। लिहाजा भारतीय जनता पार्टी मौका ढूंढ़ रही थी जिससे तहलका को ठिकाने लगाया जा सके। तरूण तेजपाल इतनी आसानी से यह मौका दे देंगे इसकी कल्पना भाजपा ने भी कभी नहीं की थी। गोवा में एक सम्मेलन के दौरान तरूण तेजपाल अपनी बेटी की उम्र की युवती के साथ वह हरकत कर बैठे जिसका पछतावा शायद उन्हें जिंदगी भर रहेगा। तरूण तेजपाल ने अपनी महिला सहकर्मी के साथ दो बार यौन शोषण करने की कोशिश की।
 
महिला ने इसका तीखा विरोध किया। उसने तहलका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी को मेल लिखकर पूरे मामले की जानकारी दी। शुरूआती दौर में तो शोमा चौधरी और तेजपाल ने मामले को दबाने की कोशिश की मगर मामले ने तूल पकड़ लिया। बड़े-बड़े मीडिया संस्थान भी तरूण तेजपाल पर जबरदस्त हमला करने में जुट गये। दरअसल तहलका ने देश के कई बड़े पूंजीपतियों और सरकार के गठजोड़ पर हमला किया था। कारपोरेट जगत के लोग तहलका को मैनेज नहीं कर पा रहे थे। लिहाजा वह भी तेजपाल को सबक सिखाना चाह रहे थे। मीडिया जगत के कई बड़े नाम ऐसे भी थे जो तेजपाल की प्रसिद्धी से खासा चिढ़ते थे। इन मीडिया संस्थानों को यह डर था कि अगर तरूण तेजपाल की यही रफ्तार रही तो कभी न कभी तहलका कारपोरेट जगत से उनके रिश्ते से जुड़ी कोई स्टोरी कर सकता है। लिहाजा लगभग सभी बड़े मीडिया संस्थान तेजपाल के ऊपर भंयकर हमला करने में जुट गये।
 
हालांकि कुछ सोशल साइट पर इस खेल का भी खुलासा हुआ। भड़ास4मीडिया के संस्थापक यशवंत सिंह ने अपनी साइट पर न सिर्फ यह खबरें लगाईं बल्कि कई रिपोर्ट छापी जिससे साबित हुआ कि किस तरह तेजपाल को घेरने की कोशिशें की जा रही हैं। जाहिर है आने वाले दिनों में यह संघर्ष और तेज होगा।
 
लेखक संजय शर्मा लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और वीकएंड टाइम्स हिंदी वीकली के संपादक हैं.  यह स्टोरी वीकएंड टाइम्स में प्रकाशित हो चुकी है.

संजय के अन्य लेखों, विश्लेषणों, रिपोर्टों को पढ़ने के लिए क्लिक करें: भड़ास पर संजय
 

 

सम्पादक जी, जो आपने लिखा वही परम-अंतिम सत्य वाला जमाना गया

Nadim S. Akhter : सम्पादक जी, ये फेसबुक का काल है, वो जमाना गया, जो आपने लिखा, वही छपा और वही परम-अंतिम सत्य था. अजीब बात है. सम्पादक लोग भी फेसबुक पर निष्पक्ष होकर नहीं लिख पाते. सीधे-सीधे दिल्ली में शीला दीक्षित की वापसी की बात कह रहे हैं. बोलते हैं कि बहुमत मिल जाएगा.

समझ नहीं पा रहा हूं कि ये सेटिंग-गेटिंग वाली पोस्ट है या उनकी ईमानदार भविष्यवाणी. कहते हैं कि अनुभव बोलता है लेकिन यहां मुझ जैसे नौसिखिए का अनुभव ज्यादा सटीक लग रहा है. जमीन पर एक लहर है जो शायद लोगों को नजर नहीं आ रही. मैं अरविंद केजरीवाल की पार्टी -आप- के बहुमत में आने का दावा नहीं करता लेकिन इतना लगता है कि ये पार्टी कोई कमाल जरूर कर सकती है. फिर भी जनता का मूड भांपना बेहद मुश्किल है, खासकर मूड के वोट में तब्दील होने की गारंटी कोई नहीं दे सकता.

लेकिन शीला दीक्षित का बयान आस जगाता है. अन्ना हजारे और अरविंद केजरीवाल के आंदोलन को चुटकी में रफा-दफा करने वाली शीला कल कह रही थीं कि वह चुनाव बाद अरविंद की पार्टी से गठबंधन करने में संकोच नहीं करेंगी. मतलब साफ है. कांग्रेस को भी अंदरूनी फीडबैक है कि अरविंद केजरीवाल की पार्टी कोई नया गुल खिला सकती है. लेकिन सम्पादक जी का आंकलन अलग है. उन्हें ये सब नहीं दिख रहा.

बस, एक ही बात कहना चाहूंगा कि सम्पादक जी, वो दिन गए जब आप अखबार में जो चाहे, छाप देते थे. जो चाहे, सम्पादकीय लिखवा दिया करते थे. अब तो सोशल मीडिया का जमाना है. फेसबकु और टि्वटर पर पोल खुल जाती है. मिनटों में. देर नहीं लगती. सिर्फ पोस्ट पर बड़ी-बड़ी बात लिखने से कुछ नहीं हो जाता. असली बात बीच-बीच में कभी-कभार दिल से निकलकर कीबोर्ड के मार्फत फेसबुक पर आ ही जाती है. आपका आंकलन आपको मुबारक. कांग्रेस की पैरवी आपको मुबारक. लेकिन जनता की नब्ज तो कुछ और ही कह रही है. और यकीन मानिए, अगर इस बार चुनाव में दिल्ली ने इतिहास बदला, तो देश में राजनीति की दिशा बदलेगी. (इस उम्मीद के साथ कि केजरीवाल एंड पार्टी का वही हश्र नहीं होगा जो जेपी आंदोलन से निकले लालू-नीतीश-शरद यादव और बाकियों का हुआ)

तेजतर्रार पत्रकार नदीम एस. अख्तर के फेसबुक वॉल से.

राजनीतिक पार्टियों की शह पर आपके लाइक्स खरीद रही हैं आईटी कंपनियां, आपका सिस्टम हो रहा है हैक…

Nadim S. Akhter : कोबरा पोस्ट ने शानदार खुलासा किया है. इंटरनेट की दुनिया में बहुत बड़ा रैकेट और फ्रॉड चल रहा है सोशल नेटवर्किंग साइट्स के माध्यम से. राजनीतिक पार्टियों की शह पर आपके लाइक्स खरीद रही हैं आईटी कंपनियां… आपका सिस्टम हो रहा है हैक… ये नई शताब्दी है, सो अब चुनाव के नतीजे भी सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से प्रभावित करने के तरीके अपनाए जा रहे हैं. लाइक्स और फोलोवर ढूढे जा रहे हैं. आपके लैपटॉप हैक किए जा रहे हैं और आपको पता भी नहीं चल पा रहा है.

और ये सब बहुत सुनियोजित तरीके से किया जा रहा है. बड़ी आईटी कंपनी पॉलिटिकल पार्टियों-नेताओं से ठेका लेती हैं और छोटी कंपनियों को आउटसोर्स कर देती हैं. कई कंपनियां तो विरोधी खेमे के नेताजी को ठिकाने लगाने के लिए जासूसी तक करवा रही हैं. कई आईपी एड्रेस से काम हो रहा है, कई लेवल पर. कार्टून बनाने, टिप्पणी लिखने से लेकर उसे लाखों-करोड़ों लोगों तक पहुंचाने तक का. Trajon जैसे वायरस की मदद ली जा रही है जो बिना बताए आपके सिस्टम में घुसकर आपकी राय चुराती है और उनको देती है. अगर तगड़ा अपडेटेड एंटी वायरस आपके सिस्टम में नहीं हैं, तो गए आप काम से. आपके दूसरे गोपनीय डेटा भी इनके हाथ लग सकते हैं.

सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर नेताजी का इमेज मेकओवर करने के लिए ये कंपनियां सबकुछ करने को तैयार हैं. बताया जा रहा है कि बीजेपी के नेता इसमें सबसे आगे हैं. दूसरी पार्टियों के भी हैं. कुछ कंपनियों ने ऐसा सॉफ्टवेयर बनाया है जो बूथ वाइज ये बता सकती हैं कि कहां किस धर्म-जाति के कितने लोग हैं. एक मामले में तो अल्पसंख्यकों को बूथ पर जाने से रोकने के लिए हल्के धमाके भी कराए गए ताकि वो घरों से बाहर ना निकलें. और उनको घर से बाहर नहीं निकलने का मैसेज सोशल साइट्स पर ये कम्पनियां छद्म रूप में दे रही हैं.

इन आईटी कंपनियों के गोरखधंधे का सरकार को तुरंत संज्ञान लेना चाहिए और साइबर कानून में जरूरी बदलाव किए जाने चाहिए. ये एक खतरनाक ट्रेंड की शुरुआत है, जिस पर लगाम नहीं लगा तो कल को सरकार को इसी बहाने सोशल नेटवर्किंग साइट्स को भी कंट्रोल करने का बहाना मिल जाएगा, जो सरकार चाहती भी है. वह अलग-अलग कारण गिनाकर पहले भी कह चुकी है कि इनका गलत इस्तेमाल हो रहा है. अगर ऐसा हुआ तो (हालांकि हो नहीं पाएगा) फिर आप यहां भी लिखने के लिए स्वतंत्र नहीं होंगे.

परमिशन लेकर लिखना होगा और अगर हाकिम को लगा कि आपका लेखन गलत है तो आप बुरे फंसे. अभिव्यक्ति की आजादी के लिए यह बहुत बुरा होगा. आप भी कोबरापोस्ट का स्टिंग पढ़िए और खुद फैसला कीजिए. किसी भी राजनीतिक पार्टी का पक्ष लिए बगैर सोचिए कि ऐसी आईटी कंपनियों पर तुरंत शिकंजा कसा जाना चाहिए या नहीं. मेनस्ट्रीम मीडिया को इस मामले में लंबी-चौड़ी बहस और खबर करनी चाहिए, जैसा वो तरुण तेजपाल के मामले में कर रही हैं.

तेजतर्रार पत्रकार नदीम एस. अख्तर के फेसबुक वॉल से.

जादूगोड़ा पुलिस ने कमल का मामला उठाने पर सामाजिक कार्यकर्ता को भेजा जेल

अपराधियों को पकड़ने में नाकाम जादूगोड़ा पुलिस प्रशासन ने पुलिसिया कार्यशैली के खिलाफ आवाज उठाने वाले आजसू नेता और सामाजिक कार्यकर्ता सोनू कालिंदी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, सोनू कालिंदी का कसूर सिर्फ इतना है कि वे जनता के हित में आवाज़ उठाते रहे हैं.
 
जादूगोड़ा कमल सिंह प्रकरण में कमल सिंह, दीपक सिंह एवं बीसियों फरार वारंटियों को गिरफ्तार करने में नाकाम जादूगोड़ा पुलिस प्रशासन ने एक सामाजिक कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर यह दिखा दिया है कि उनकी कार्यशैली क्या है. जादूगोड़ा पुलिस का कहना है कि विशेष अभियान के तहत सोनू को गिरफ्तार किया गया है, जबकि इसी थाने में पिछले पांच माह से आसनबनी के मुखिया धीरेन्द्र नाथ टूडू सहित कई लोगों का वारंट पड़ा हुआ है, लेकिन प्रशासन का विशेष अभियान सिर्फ उन्हीं लोगों पर चलता है जो गलत के खिलाफ आवाज उठाते हैं या पैसे नहीं देते हैं.
 
सोनू कालिंदी ने दस अक्टूबर २०१३ को जादूगोड़ा थाना से सूचना के अधिकार के तहत मांग की थी कि कमल सिंह प्रकरण में अभी तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की है एवं कितने लोगों ने मामला दर्ज करवाया है और कितने लोगों का मामला दर्ज किया गया है? इस सवाल से बौखलाकर एक पुराने मामले में सोनू को १२ अक्टूबर २०१३ को जादूगोड़ा थाना के सुशिल डांगा ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, सोनू के सवालों का पुलिस के पास कोई जवाब नहीं था सो जादूगोड़ा पुलिस ने सवाल का जवाब इस प्रकार से दिया है कि सूचना अधिकार अधिनियम की धारा आठ के अंतर्गत सूचना नहीं दी जा सकती है. सोनू कालिंदी ने कमल सिंह मुद्दे पर प्रधानमन्त्री को सौपने के लिए हस्ताक्षर अभियान भी चला रखा है यह भी एक वजह है प्रशाशन की आंखों की किरकिरी बनने की.
 
जादूगोड़ा थाना क्षेत्र में एक होटल है होटल राहुल. इस होटल के सबसे उपरी मंजिल में लॉज बना हुआ है, इस लॉज के मालिक से थाना के छोटा बाबू सुशिल डांगा का बहुत दोस्ती है और इनका बराबर इस होटल में आना–जाना रहता है. सोनू कालिंदी के बयान से १० नवंबर २०१३ को अखबार में समाचार छपा था कि अनुमंडल के सभी होटलों की नियमित जांच करे प्रशासन, होटलों में सीसीटीवी लगाया जाएं. जादूगोड़ा के होटल राहुल में बड़ी संख्या में युवक युवती आते हैं जो होटल के एकदम ऊपर बने लॉज में ठहरते है लेकिन होटल से लॉज जाने का रास्ता बिलकुल अंधेरा और गुफा नुमा है जो इस होटल को संदेहास्पद बना रहा है एवं कई संदिग्ध लोग यहां ठहरते है. इसकी जांच की मांग वे अनुमंडल अधिकारी से करेंगे.
 
बस इसी बात से खीझकर सोनू कालिंदी को पांच साल पुराने (२००८) मामले में गिरफ्तार किया गया. इस मामले में सोनू से कभी भी पूछताछ तक नहीं की गई. सोनू को किसी बड़े अपराधी की तरह रात के बारह बजे उसके घर से गिरफ्तार किया गया, गिरफ्तार करते वक्त सोनू की पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता रेखा कालिंदी से बदसलूकी की गई, रेखा कालिंदी के अनुसार रात के बारह बजे बिना वर्दी के जादूगोड़ा पुलिस के सुशिल डांगा उनके घर पहुंचे सुशिल डांगा के साथ एक अधिकारी एवं कई सिपाही थे. सुशिल डांगा बोल रहे थे की 'राहुल होटल' का बारे में गलत बोलता है और उनके सामने उनके पति से मारपीट की गई एवं सुशिल डांगा एवं उनके साथ मौजूद अधिकारी ने उनके साथ भी बदसलूकी की, फिर सोनू को पुलिस अपने साथ ले गई और सुबह ही जेल भेज दिया.
 
सोनू कालिंदी की पत्नी रेखा कालिंदी ने पुरे मामले में वरीय आरक्षी अधीक्षक को जानकारी देकर कार्रवाई की मांग की है.
 
जादूगोड़ा के पत्रकार सह व्यापारी संतोष अग्रवाल ने कहा कि सुशिल डांगा खुद अपराधी है और उसपर गैरजमानती धारा के अंतर्गत जादूगोड़ा थाने में मामला दर्ज है इसके बावजूद भी वो जादूगोड़ा थाने में है. यह पुलिसिया कार्यशैली के दोहरे चरित्र को उजागर करता है, आगे संतोष अग्रवाल ने कहा कि सुशिल डांगा का राहुल होटल के मालिक बिरेन्द्र सिंह से बहुत दोस्ती है और वह बराबर होटल जाता रहता है. राहुल होटल के मालिक के साथ मिलकर उसने फर्जी मामले में मुझे फंसाया है जिसके खिलाफ मुख्यमंत्री, डीजीपी, डीआईजी, से शिकायत की गयी है.
 
संतोष अग्रवाल ने कहा कि सोनू मामले में इस बात की जांच होनी चाहिए कि सुशिल डांगा किसके आदेश से सोनू को गिरफ्तार करने उसके घर गया था जबकि केस की जांच अधिकारी ठाकुर कर रहे हैं.
 
इधर जादूगोड़ा थाना के कुछ स्टाफों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जादूगोड़ा के थानेदार नन्द किशोर दास सोनू को अरेस्ट करने से मना कर रहे थे, लेकिन सुशिल डांगा ने थानेदार की भी एक नहीं मानी और सोनू को गिरफ्तार कर लिया.
 
सोनू के साथ हुए अन्याय पर आक्रोश व्यक्त करते हुए जिला परिषद सदस्य करुनामय मंडल ने कहा कि पूरे मामले को जिला योजना समिति की मासिक बैठक में मंत्री राजेन्द्र प्रसाद के समक्ष उठाया जाएगा. उन्होंने प्रशासन की कार्रवाई पर कड़ा विरोध जताते हुए कहा कि एक सामाजिक कार्यकर्ता को रात के बारह बजे अपराधियों की तरह गिरफ्तार करना पुलिस प्रशासन की दोहरी मानसिकता को उजागर करता है. जादूगोड़ा में और भी कई वारंटी है, पुलिस प्रशासन के इस कार्रवाई से जन प्रतिनिधियों में आक्रोश है.
 
एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

जादूगोड़ा से जुड़ी अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- भड़ास पर जादूगोड़ा

 

 

Rule of Law Yes: Witch Hunting, No- DUJ

The Delhi Union of Journalists (DUJ) and its Gender and Ethics Council, strongly condemn the vigilantism of some BJP workers led by Vijay Jolly. These self appointed custodians of morality arrived at Tehelka’s ex-Managing Editor Shoma Chaudhary’s residence and in full view of TV cameras Jolly painted the word ‘Accused’ on her nameplate, also painting a thick arrow pointing to her name. The fact is that Shoma Choudhary is not an accused in the case of sexual assault by Tehelka owner Tarun Tejpal on a young journalist.
 
Had it not been for the intervention of the the Delhi Police Shoma Choudhary would have been attacked by the mob of BJP workers led by Vijay Jolly. Vijay Jolly told the cameras that he was enraged at the way Choudhary had failed to protect the dignity of a woman, completely losing sight of the fact that he was outraging the dignity of another woman.
 
We hope the statement by Sushma Swaraj condemning the vigilantism of Vijay Jolly will be the template for the future.
 
The subsequent “apology” of Vijay Jolly for “hurting sentiments” has to be taken with a pinch of salt. The DUJ wishes to underline that this is not a matter of hurt sentiments but that of rowdyism, hooliganism and lumpenism. After the protest at Tehelka office, the needless attack on Choudhary’s residence was a cheap publicity stunt.
 
While not overlooking the inept handling of the complaint of sexual assault filed with her, Shoma Choudhary’s contribution to Indian Journalism and the cause of gender and class justice cannot be forgotten.
 
The DUJ also urges the media to curb its ‘over the top’ coverage of the issue, avoid sensationalism and desist from conducting a medial trial of Tejpal and Chaudhary. We note with dismay a TV anchor actually demanding that Tejpal appear on TV as he owes the ‘people of India’ an explanation. Even in the heat of the moment one must not lose sight of the citizen’s right to not answer questions raised by the media. .
 
The DUJ believes that the law should be allowed to take its course impartially, without excessive pressure from either the media or politicos.
 
(Sujata Madhok)                                               
President        
 
(S.K.Pande)
General Secretary
 
PRESS RELEASE

पढ़िए, क्या कहते हैं अरुण पुरी और विनोद मेहता तेजपाल के बारे में

तहलका के पूर्व एडिटर-इन-चीफ तरुण तेजपाल पर अपनी महिला सहकर्मी के द्वारा लगाए गए यौन शोषण के आरोपों पर मीडिया जगत के दो बड़े दिग्गजों इंडिया टुडे के अरुण पुरी और आउटलुक के विनोद मेहता ने अपनी-अपनी पत्रिका में तेजपाल के बारे में लिखा है. दोनों ने तरुण के अपने साथ काम किए जाने का भी जिक्र किया है.
 
गौरतलब है कि तहलका शुरू करने से पहले तरुण तेजपाल इंडिया टुडे और आउटलुक में काम कर चुके हैं. इंडिया टुडे में उनके पास बुक पेज का चार्ज था जबकि आउटलुक में तेजपाल मैनेजिंग एडिटर रहे थे. इंडिया टुडे के ताजा अंक में तरुण तेजपाल को पत्रिका के फुल कवर पेज पर जगह मिली है जबकि आउटलुक ने उन्हें कवर पेज पर ही किनारे जगह दी है. पढ़िए क्या कहते हैं अरुण पुरी और विनोद मेहता तेजपाल के बारे में-
 
Aroon Purie, editor-in-chief of India Today:
 
“Tarun Tejpal worked in this magazine 25 years ago for six years. Dare I say I liked him. He was a talented writer and knew it. In today’s terms, a ‘real dude’.
 
“Even at the age of 25 when I interviewed him for the job of a senior sub-editor he had an intellectual swagger about him and unabashed literary ambitions…. When he resigned in July 1994, Tarun was honest enough to say that there ere “only so many essays and reviews I can churn out before ennui drowns me.
 
“Everyone has their own theory on why a man of such intellect, talent and success ended up being charged with sexual assault. Mine is a simple one. It is the ‘God’ complex which I have seen in so many talented men. They reach such heights of success that they live in their own world and think the normal rules of social behaviour don’t apply to them, neither do the laws of the land.”
 
Vinod Mehta, editorial chairman, Outlook:
 
“TarunTejpal was my deputy at Outlook for nearly six years. Professionally, his contribution to the magazine was immense….
 
“To say I do not endorse Tarun’s conduct would make me sound like a lunatic.  How can I, even tangentially, defend sexual molestation? Tarun has committed a horrific blunder and compounded it with clumsy efforts to vilify the victim….
 
“The abuse of power in the media, especially in the higher echelons, is rampant. Editors sexually exploit and harass trainees and junior staff with a crudity which is unbelievably cynical. The threat is always the same: if the girl “cooperates” she not only keeps her job but enjoys rapid promotion. If she doesn’t she is shown the door.
 
“It is the worst kept secret in our profession but it dare not speak its name. Some of the biggest luminaries in Indian journalism stand accused. Who they are is known both inside and outside the trade. The shameful silence needs to be broken.”

कानून का चला हथौड़ा, डेन संचालक दीनू के खिलाफ कुर्की का आदेश

वाराणसी। शहर के बहुचर्चित पुष्कर शुक्ला हत्याकांड में कानून का शिकंजा डेन संचालक हत्यारोपी धर्मेन्द्र कुमार सिंह 'दीनू' पर कस गया है। लगभग एक साल से कानून को धोखा दे रहे दीनू के खिलाफ सीजेएम वाराणसी ने कुर्की का आदेश जारी कर दिया है। कुर्की का आदेश जारी होने से पुष्कर शुक्ला हत्याकांड एक बार फिर चर्चा में आ गया है। दरअसल केबल आपरेटर पुष्कर शुक्ला की हत्या 16 दिसंबर 2012 को शिवपुर थाना क्षेत्र के इंद्रपुर इलाके में पीट पीट कर दी गई थी।
 
मृतक पुष्कर शुक्ला के भाई अभिषेक शुक्ला के तहरीर पर डेन संचालक धर्मेन्द्र कुमार सिंह दीनू, राहुल श्रीवास्तव सहित आधा दर्जन लोगों के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास सहित विभिन्न धाराओ में मुक़दमा पंजीकृत हुआ था। हत्यारोपी धर्मेन्द्र कुमार सिंह, राहुल श्रीवास्तव को छोड़कर बाकी अभियुक्तो के खिलाफ पुलिस आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कर चुकी है। लेकिन नामजद होने के बाद से हत्यारोपी धर्मेन्द्र कुमार सिंह 'दीनू ' ने अपने को बचाने के कई आपराधिक साजिशें रचीं। सबसे पहले दीनू ने मृतक की मां माया शुक्ला के फर्जी प्रार्थना पत्र पर जांच सिविल पुलिस से सीबीसीआईडी में शासन से स्थानांतरण करा दिया। माया शुक्ला ने सीबीसीआईडी जांच के खिलाफ उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की। उच्च न्यायालय ने दिनांक 27.05.2013 के आदेश में सीबीसीआईडी जांच को निरस्त करते हुए जांच पुनः वाराणसी पुलिस को सौप दिया। धर्मेन्द्र सिंह 'दीनू' ने उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में अपील की। उच्चतम न्यायालय ने अपने आदेश में दीनू की याचिका ख़ारिज कर दी। 
 
इधर पुलिस द्वारा कार्यवाही ना होने से माया शुक्ल ने पुनः उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। उच्च न्यायालय ने अपने आदेश दिनांक 5/8/2013 में वाराणसी पुलिस की गम्भीर लापरवाही मानते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वाराणसी से व्यक्तिगत शपथपत्र मांगा। दीनू ने उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ एक बार फिर उच्चतम न्यायालय गुहार लगाई लेकिन उच्चतम न्यायालय ने हत्या जैसे गम्भीर आरोप को देखते हुए दीनू की याचिका ख़ारिज कर दी। अब वाराणसी पुलिस के पास भी दीनू के खिलाफ कार्रवाई करने के अतिरिक्त कोई चारा नहीं था क्योंकि उच्च न्यायालय में एसएसपी वाराणसी को शपथ पत्र देना है। आखिरकार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के आदेश पर शिवपुर पुलिस सक्रिय हुई और विवेचक थानाध्यक्ष श्याम सुन्दर पाण्डेय ने सीजेएम कोर्ट में फरार घोषित करते हुए दिनांक 26/11/2013 को कुर्की के आदेश की मांग की। जिस पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अमरनाथ कुशवाहा ने दीनू को फरार घोषित करते हुए कुर्की का आदेश दिनांक 27/11/2013 जारी कर दिया है।
 
साभार-लाइव वीएनएस

सम्बंधित खबर-

 

क्या नकली नोटों का भी धंधा करते हैं समृद्ध जीवन वाले

भुवनेश्वर : लाइव इंडिया न्यूज चैनल, अखबार, पत्रिका संचालित करने वाले समूह समृद्ध जीवन परिवार की कोआपरेटिव सोसाइटी, के दो वरिष्ठ अधिकारियों को नकली नोटों का रैकेट चलाने के शक में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने समृद्ध जीवन के कैशियर के पास से पांच-पांच सौ के 57 नकली नोट बरामद किये गए हैं. ये नकली नोट लेकर समृद्ध जीवन समूह का कैशियर स्टेट बैंक में जमा करने गया था जहां स्टेट बैंक के कर्मचारी ने नकली नोट पहचान लिए.
 
गुरूवार को समृद्ध जीवन का एजेन्ट 49110 रूपये स्टेट बैंक में जमा करने गया था जिसमें 28500 रूपये नकली पाये गये. सभी नोट 500 के थे. बैंक द्वारा भारी मात्रा में नकली नोट की सूचना पुलिस को दी गई जिस पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए समृद्ध जीवन कोआपरेटिव सोसाइटी के कैशियर और ब्रांच मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया गया है. 
 
पुलिस को शक है कि कोआपरेटिव सोसाइटी के माध्यम से नकली नोटों का धंधा चल रहा है. पुलिस अधिकारी तारिक अहमद ने कहा कि हम पकड़े गये लोगों से पूछताछ कर रहे हैं. नकली नोट कहां से आ रहे हैं और इन्हें किस तरह फैलाया जा रहा है इसकी जांच की जा रही है. प्रथमदृष्टया ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अधिकारी नकली नोटों के प्रचालन में संलिप्त हैं.
 
समृद्ध जीवन परिवार के द्वारा जनता से गलत तरीके से पैसे उगाहने को लेकर पहले से ही सेबी की जांच चल रही है. जांच में कम्पनी के खातों में कई विसंगतियां पाई गई हैं. सेबी ने कम्पनी पर निवेशकों और जनता से पैसे उगाहने पर रोक लगा दी है और साथ ही जनता से उठाये गए पैसों से बनाई गई किसी भी सम्पत्ति के क्रय विक्रय पर रोक लगा दी है. समृद्ध जीवन एक चिट फंड कम्पनी है जो हाल के दिनों में बड़े पैमाने पर मीडिया के क्षेत्र में सक्रिय हुई है.

 

पत्रकारों की भगदड़ में बिहार डायरी के प्रकाशन में हो सकता है विलंब

पटना : दिसंबर का महीना सरकारी प्रकाशन विभाग के महत्वपूर्ण होता है। इसी महीने में विभागीय डायरी का भी प्रकाशन होता है। बिहार में बिहार विधान सभा, बिहार विधान परिषद और बिहार सरकार की डायरी अलग-अलग प्रकाशित होती है। सभी में अपनी-अपनी जरूरत के लोगों और संस्थाओं के नंबर प्रकाशित होते हैं। 
 
जानकारी के अनुसार, जनवरी से प्रकाशित होने वाले दैनिक भास्कर में नई नियुक्तियों का दौर शुरू हो गया है। इस कारण थोक भाव से पत्रकारों के अखबार बदलने की संभावना बताई जा रही है। फिलहाल प्रभात खबर के तीन लोगों ने हिंदुस्तान में नई पारी की शुरुआत की है, जिसमें एक बड़े पदधारी भी हैं, जबकि आगामी दो दिसंबर तक हिंदुस्तान से कई लोगों के भास्कर से जुड़ने की संभावना है। इसमें भारी पद वाले लोग भी शामिल हैं। प्रभात खबर से भी कई लोग भास्कर में जा सकते हैं। 
 
पत्रकारों की इस आवाजाही ने डायरी प्रकाशकों के लिए समस्या खड़ी कर दी है। दिसंबर महीने में विधान सभा और विधान परिषद के लिए प्रेस सलाहकार समिति का गठन भी किया जाना है और इसमें अखबारों के हिसाब से सदस्य बनाए जाते हैं। इस वजह से इन डायरियों के प्रकाशन में भी विलंब की आशंका जताई जा रही है। हालांकि इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि प्रकाशन के समय तक जितनी सूचनाएं उपलब्ध हो सकेंगी, उन्हें जोड़ लिया जाएगा।
 
बीरेन्द्र कुमार यादव की रिपोर्ट

जीएम द्वारा नोटिस ना लेने पर हिन्दुस्तान के पीड़ित कर्मचारियों ने सीईओ को भेजा पत्र

हिन्दुस्तान, कानपुर प्रबंधन द्वारा मनमाने तरीके से निकाले गए कर्मचारियों संजय दूबे, नवीन कुमार, पारस नाथ साह एवं अंजनी प्रसाद ने हिन्दुस्तान के सीईओ को पत्र लिखकर कानपुर जीएम द्वारा पीड़ितों के पत्रों को ना स्वीकार किये जाने की शिकायत करते हुए मामले में न्याय दिये जाने की मांग की है. इन चारों कर्मचारियों को पहले इनके मूल काम से अलग करके इन्हें दूसरे डिपार्टमेंट में ट्रांसफर कर दिया गया. बाद में इन्हें सेवा से अलग कर दिया गया. 
 
अब इनकी द्वारा भेजी गई नोटिस को कानपुर के जीएम नहीं ले रहे और कर्मचारियों के खिलाफ रोज नई नोटिस भेज दे रहे हैं. अतः इन चारों कर्मचारियों की तरफ से एचटी मीडिया कर्मचारी संघ ने हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को पत्र भेजा गया है. इस पत्र की एक कॉपी लेबर कमिश्नर को रिसीव करा दी गई है तथा मेल से प्रबंधन के अन्य अधिकारियों को भी भेज दी गई है. नीचे पूरा पत्र दिया जा रहा है.
 

सम्बंधित खबरें…

जब हिन्दुस्तान अखबार चल निकला तो प्रबंधन ने निकाल बाहर कर दिया

xxx

हिन्दुस्तान अखबार ने पीड़ितों के खिलाफ ही जांच बिठा दी

xxx

हिंदुस्तान अखबार के 22 छोटे कर्मियों का दूर-दराज तबादला… (देखें लिस्ट) …उत्पीड़न चालू है…

xxx

सात करोड़ रुपये बचाने के लिए शोभना भरतिया और शशि शेखर ले रहे हैं अपने 22 बुजुर्ग कर्मियों की बलि!

xxx

दो पीड़ित हिंदुस्तानियों ने लेबर कमिश्नर शालिनी प्रसाद से की लिखित कंप्लेन (पढ़ें पत्र)

xxx

हिंदुस्तान, कानपुर के मैनेजर और पीड़ित कर्मियों के बीच श्रम विभाग ने बैठक कराई, कोई नतीजा नहीं

xxx

हिंदुस्तान, कानपुर के चार कर्मियों ने अखबार मैनेजमेंट के खिलाफ श्रम विभाग को लिखा पत्र

 

Vishwanath Pratap singh- the prophet of social justice in South Asia

Vishwanath Pratap singh- the prophet of social justice in South Asia is regarded one of the  great political and social emancipator after Jyotirao Phule, Babasaheb Ambedkar and Periyar. He was the real king of masses and lies in the threads of 'Grand King'- Gautam Buddha, Chhatrapati Shivaji and Shahuji Maharaj who all committed for justice, peace, and equality. India has seen many changes after his prime ministership.

He implemented long-waited Mandal commision's 13 recommendation for Socially and Educationally Backward Classes where his predecessor Mrs. Gandhi and Rajeev Gandhi were not so concerned for this report. The prime ministers Gandhis encouraged notables/professionals, rich businessmen and land owning castes and garner support for  their governments. But Raja Manda alias VP Singh was never worried  about the future  his politics and government. He proudly said, "though my leg was broken, i have goaled." He was an iconoclast for fundamentalist and feudal forces.

He earned defame among notables/professionals, rich businessmen and land owning castes and India has experienced  many anti-Mandal, anti-masses policies related to polity, society, industry and welfare state. The reactionary  forces open industry, university, hospital to private forces to counter VP singh's come-to-be an egalitarian India. He was a true leader of shoshits/peasants and he restructured Jan Morcha after his retirement from active politics to make a platform for landless masses and non-notables. He fought against corruption and exposed India's ugly Boforce scam.

He was a true secularist. He stood against religious extremists, The Hindutva and Jamat forces. He warned many times that communal and divisive forces are opponent of social justice and egalitarian society. He introduced 'ration card' for masses under BPL. The Dalit Sikhs and Nav Bauddhs indentified as SCs in his tenure. His government awarded Bharat Ratna to Babasahb Bhimrao Ambedkar for his emancipatory and revolutionary role in making Modern India. Now It is high time to allot a 'just space' for his memorial park in New delhi and award Bharat Ratna for his emancipatory role on the upliftment of Socially and Educationally Backward Classes, more than 50 percent India's population.

Anoop Patel

Research Scholar
School of International Studies
Jawaharlal Nehru University, New Delhi
Contact- 9999277878


ये भी पढ़ें….

वीपी सिंह को उनकी पुण्यतिथि पर याद करते हुए…

मुझे राजनीतिक कारणों से परेशान किया जा रहा है: सु्ब्रत रॉय

कोलकाता : आजकल हर कोई जब किसी भी गलत गतिविधि में फंसता है तो मामले को राजनीतिक रंग देकर बचने की कोशिश करता है चाहे आसाराम हो या तरुण तेजपाल. आज इसी कड़ी में सहारा प्रमुख सु्ब्रत रॉय का नाम भी आ गया है. सुब्रत रॉय ने कोलकाता में आज कहा कि उन्हें राजनीतिक कारणों से परेशान किया जा रहा है. सोनिया गांधी का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा है कि मैं एक भावुक व्यक्ति हूं. मैने प्रधानमंत्री पद के लिए विदेशी मूल का मुद्दा उठाया था और किसी भारतीय के ही पीएम होने की बात की थी जिसकी कीमत मेरी कम्पनी को चुकानी पड़ रही है.
 
उन्होंने कहा कि आज के दौर में कोई उद्योगपति उभर नहीं सकता. मैने तीस साल पहले काम शुरू किया था और मैने सफलता अर्जित की लेकिन आज के दौर में मैं कुछ नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि सेबी का व्यवहार उनके साथ ऐसा नहीं है जैसा दूसरी कम्पनियों के साथ और इसकी वजह राजनैतिक है.
 
रॉय ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट से अनुमति लेने जा रहे हैं कि ऐसे हालात में हम अपने दस्तावेज सेबी के बजाय राष्ट्रीयकृत बैंकों को सौंपना चाहते हैं. उत्तराधिकार के मुद्दे पर पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि भविष्य में कम्पनी ट्रस्ट द्वारा संचालित करेगी. 
 
जब उनसे पूछा गया कि कम्पनी की छवि खराब हो रही है तो उन्होंने कहा कि हमारे लिए देनदारी कोई बड़ी चिन्ता की बात नहीं हैं. हमें बैंकों और देनदारों को कुल चालीस से पैंतालीस हजार करोड़ ही देने हैं जबकि चल व अचल सम्पत्तियों की कीमत एक लाख बीस हजार करोड़ रूपये है. 
 

खनन माफिया के खिलाफ लिखने वाले पत्रकार की डंपर से कुचलकर हत्या

अवैध खनन के खिलाफ लगातार मुहिम चलाने वाले वाले पत्रकार अब्दुल सईद की डम्पर से कुचलकर हत्या कर दी गई. घटना के बाद इलाके में जबर्दस्त तनाव फैल गया. घटना के विरोध में गुस्साई भीड़ ने बाजार बन्द करवा दिया तथा षणयंत्रकारियों को गिरफ्तार करने के लिए धरना दिया. डंपर चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है तथा उससे पूछताछ की जा रही है.
 
राजस्थान के बारां जिले के थाना हरनादवां के सारथल कस्बे के निवासी अब्दुल सईद एक दैनिक अखबार का संवाददाता थे. इन्होंने इलाके के खनन माफिया के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी थी. उन्हें खनन माफियाओं से धमकियां मिल रही थीं. मंगलवार की रात अब्दुल सईद मोटरसाइकिल से घर जा रहे थे तभी खनन ठेकेदार के डंपर ने उन्हें कुचल दिया. जैसे ही गांववालों को घटना का पता चला लोग रात में सड़कों पर आ गये और प्रदर्शन करने लगे. लोगों का  कहना था कि ये एक्सीडेंट नहीं है बल्कि ये सोच समझकर की गई हत्या है.
 
गुस्साई भीड़ ने जयपुर के एक खनन माफिया के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार करते हुए हाइवे जाम कर दिया. भीड़ ने डंपर आग के हवाले कर दिया. मौके पर आकर पुलिस अधिकारियों ने खनन माफिया के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई का आश्वासन दिया तब पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा. घटना के अगले दिन भी लोगों ने बाजार बंद करा दिए तथा खनन ठेकेदार को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर धरना दिया. इलाके में भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

मानसिक मैथुनरत मिडिल क्लास और सिस्टम कब्जाए प्रभुओ के देश में…

Yashwant Singh :  मिडिल क्लास को अपने मुद्दे, अपने सुख-दुख इतने प्रामिनेंट, इतने जरूरी, इतने महत्वपूर्ण लगते हैं कि उसे देश में दूसरा कोई नहीं दिखता.. न भूमिहीन मजदूर, न किसान, न गांव से शहर पलायन, न आदिवासी, न जंगल, न जमीन… लगे रहो चिरकुटों अपने सेफजोन में बैठकर मानसिक मैथुन करने-कराने में…

Yashwant Singh : ये जो मीडिया जनित धुन हिस्टीरिया है इसी पर थिरकता है मिडिल क्लास…. इसी पर रोता, कलपता, हंसता, लोटता, चिल्लाता, भनभनाता है मिडिल क्लास.. और, इसी बेहूदे, जड़, जंग लगे मिडिल क्लास को पटाने-मनाने-समझाने में लगा रहता है करप्ट सिस्टम… नेता, मंत्री, संतरी, अफसर, पत्रकार, जज, व्यवसायी, धंधेबाज, दलाल, ब्रोकर आदि इत्यादि प्रभु लोग वैसे तो अपने-अपने और एक-दूसरे के एलीट-सुंदर इलाके में खूब मिल-जुलकर काम, नाम, इनाम, फेवर, विशेज, थैंक्यू आदि करते रहते हैं और अपनी तरफ आती मिडिल क्लास की आवाजों में निहित अन्याय को न्याय, दुख को सुख में तब्दील करने को तत्पर दिखते हैं.. लेकिन ये सब मिलाकर जब खुद को पूरा 'देश' समझ लेते हैं तो फिर काहे को कोई बलात्कारी फौजियो, यौन उत्पीड़क पुलिस अफसरों, खुदकुशी करते किसानों, पैसे कमाने शहर भागते भूमिहीनों, जाड़े में ठिठुरते गरीबों जैसी हाशिए की समस्याओं पर बोले, सोचे, लिखे, चिल्लाए… जब 'देश' खुश है तो बाकी बचा ही कौन है यहां.. जो बचे हैं, वो शायद सदियों से चली आ रही उस गुलाम परंपरा के प्रतिनिधि लोग हैं जिनकी नियति देशों, प्रभुओं, एलीटों, सिस्टमों, न्यायों आदि की सेवा टहल में बिना कुछ चूं बोले मर खप जाना है….

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.

हिंदी पत्रकारों के राजनेताओं के साथ संपर्क बनाने की शुरुआत दिनमान के श्रीकांत वर्मा ने ही की थी

Pramod Joshi : तहलका की राजनीतिक पृष्ठभूमि पर संशय कभी नहीं था। तरुण तेजपाल के साथ उच्चभ्रू पत्रकारों की एक टोली थी, जिनके साथ बड़े राजनेताओं और कारोबारियों के रिश्ते थे। कपिल सिब्बल ने स्वीकार किया है कि उन्होंने तेजपाल की मदद में एक राशि दी, बावजूद इसके कि वे उनसे परिचित नहीं थे। हाँ एक कारण यह हो सकता है कि एनडीए सरकार के उस दौर में तेजपाल को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा था। ऐसे में कांग्रेस से जुड़े राजनेताओं ने उनकी मदद की तो गलत कुछ नहीं किया। इस प्रकार की पक्षधरता वाली पत्रकारिता भी पत्रकारिता ही है। और तहलका ने अनेक अच्छी रिपोर्टों को प्रकाशित किया।

तेजपाल के व्यक्तिगत आचरण के कारण संस्थान को नष्ट नहीं होना चाहिए। जहाँ तक तहलका या तेजपाल के नैतिक पक्ष की बात है, वह दूसरी तरफ है। पवित्रतावादी या दूध का धुला होना भी एक भ्रम है। सच यह है कि कोई अत्यंत पवित्र भाव से दाएं-बाएं देखे बगैर सत्य की राह पर चलने वाला अखबार निकालने की कोशिश करे तो उसे न तो किसी राजनेता से चंदा मिलेगा और न कोई निवेशक उसपर पैसा लगाएगा। तहलका जैसी कुछ पत्रिकाएं अंग्रेजी में हों या न हों, हिंदी में ज़रूर होनी चाहिए। ज़रूरी नहीं कि सबका मिज़ाज तहलका जैसा हो। हिंदी में दिनमान साधारण पत्रिका थी, उसमें सनसनी का तत्व नहीं था। पर उसने ऐसे समय में जब हिंदी के पाठक को जागृत विश्व से जोड़ने की ज़रूरत थी, सार्थक काम किया। हिंदी पत्रकारों के राजनेताओं के साथ संपर्क बनाने की शुरूआत दिनमान के श्रीकांत वर्मा ने ही की थी।
दिनमान को उसके मालिकों ने कारोबारी कारणों से चलाना उचित नहीं समझा। उसके मुकाबले रविवार में सनसनी थी और उसके पत्रकारों के भीतर राजनेताओं से याराना रखने की प्रवृत्ति थी। उसकी प्रकृति वैश्विक या सार्वभौमिक नहीं थी। पर अच्छी नेटवर्किंग न हो पाने के कारण वह नहीं चली। इंडिया टुडे के पास साधन और नेटवर्क है। कभी-कभार वह अच्छी सामग्री देती है, पर उसकी कारोबारी समझ उसे हल्का बनाती है। हिंदी आउटलुक खराब नेतृत्व के कारण कभी महत्वपूर्ण नहीं बन पाया। हिंदी में दिल्ली प्रेस जैसा संस्थान है, जिसने हिंदी की सफल पत्रिकाएं निकाली और मेरे विचार से पत्रिकाओं के मामले में देश का सबसे बड़ा संस्थान है। पर उसने सरिता के दायरे को बढ़ाने की कोशिश नहीं की। कुछ समय पहले ऐसा लगा कि शायद वह रास्ता बदल रही है, पर वह अनुमान गलत साबित हुआ। इसके विपरीत इस संस्थान ने कैरेवान को महत्वपूर्ण पत्रिका बनाने में कामयाबी हासिल की।

पत्रिकाओं के मामले में ओपन और संडे इंडियन का जिक्र भी होना चाहिए। ओपन पर अच्छा निवेश हुआ है और वह सफल भी है। संडे इंडियन जल्दबाज़ी और अस्पष्ट फोकस का शिकार हुई। हिंदी में सार्थक पत्रकारिता की ज़रूरत है, पर निवेशकों और प्रकाशकों की ओर से आशा की किरण नज़र नहीं आती। हिंदी के दैनिक अखबार विचार, सूचना और संवाद का जैसा कचूमर निकाल रहे हैं, उसपर विस्तार से तथ्यों के साथ लिखने का मन कर रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार प्रमोद जोशी के फेसबुक वॉल से.

विक्रम राव से लेकर हेमंत तिवारी तक, सब स्वार्थों का गठजोड़ कायम कर पत्रकारिता को नीलाम कर रहे हैं..

Yashwant Singh : लखनऊ में पत्रकार नहीं हैं.. सब लायजनर और दलाल हैं… एकाध फीसदी जो ठीकठाक पत्रकार होंगे, वे भी प्रदेश सरकार के खिलाफ खुलकर नहीं लिखते बोलते क्योंकि उनकी पूंछ मकान, दुकान, मान्यता, भ्रमण, अनुदान, नौकरी आदि चीजों के तले दबी है.. यही कारण है कि इतने बड़े प्रदेश की राजधानी में प्रदेश की जनता की जेनुइन प्राब्लम्स को तो छोड़िए, खुद मीडिया वालों की समस्याओं तक पर कोई आवाज नहीं उठती, किसी की कलम नहीं चलती..

याद होगा आप लोगों को, नोएडा में महुआ न्यूज के कर्मियों का आफिस पर कब्जा और सेलरी की मांग वाला आंदोलन.. लखनऊ से किसी पत्रकार न किसी पत्रकार संगठन ने न तो बयान जारी किया और न ही अफसरों, नेताओं, सीएम से मिले… सब चुप्पी साधे रहे… जुआ, दारू, दलाली, पीआर, टूर एंड ट्रैबल में मस्त रहे…

लखनऊ के अखबार वाले सरकार के खिलाफ लिखते नहीं क्योंकि उनको विज्ञापन से लेकर बिजली-पानी तक बंद हो जाने का खतरा सताता रहता है… दो तीन जो पत्रकार संगठन हैं, वो मुलायम-अखिलेश की छाया तले खुद को पाकर धन्य धन्य हुए जा रहे हैं.. विक्रम राव से लेकर हेमंत तिवारी तक, सब स्वार्थों का गठजोड़ कायम कर पत्रकारिता को नीलाम कर रहे हैं… इन्हें खुद नहीं एहसास हो रहा कि ये क्या कर रहे हैं.. न कोई इनसे सवाल पूछने वाला है और न कोई इन पर सवाल उठाने वाला..

सभी पत्रकारों को लगता है कि वे इन बड़े मगरमच्छों से पंगा लेकर, सवाल उठाकर अपना करियर जीवन क्यों खराब करें… देखते हैं, लखनऊ की सड़ियल, दलाल, घटिया, बौनी पत्रकारिता का लंबा व बुरा दौर बदलता है या यूं ही सब कुछ चलता रहेगा.. प्रदेश के किसी कोने में कुछ हो जाए, सब चुप्पी साधे रहते हैं क्योंकि सबको डर लगता है कि कहीं नेता जी आंख न तरेर दें.. सबको डर लगता है कि कहीं उनके सरकार के नेताओं रहनुमाओं से अच्छे रिश्ते खराब न हो जाएं.. यही कारण है कि ढेर सारी खबरें हम लोगों तक पहुंच ही नहीं पाती… ऐसे में अगर किसान सुसाइड कर जाए तो करे.. गरीब तो हैं ही मरने के लिए… साहब लोग, सरकार लोग, पत्रकार लोग अपने-अपने काम में मस्त हैं.. लखनऊ में राहत और आराम है.. बाकी किसी को किससे काम है…

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


संबंधित खबर…

यूपी में किसान मर रहा है तो मरे, प्रदेश सरकार तो 'बड़े-बड़ों' में व्यस्त है

यूपी में किसान मर रहा है तो मरे, प्रदेश सरकार तो ‘बड़े-बड़ों’ में व्यस्त है

यूपी में चीनी मिल चलाने न चलाने को लेकर जारी रस्साकशी के बीच लखीमपुर में एक गन्ना किसान ने सुसाइड कर लिया. एक चीनी मिल पर उसके दो ढाई लाख रुपये बाकी थे, उसे वे रुपये नहीं दिए जा रहे थे. खेत में खड़ी गन्ने की फसला चीनी मिलों की पेराई शुरू न होने से सूख गई… खेती से लेकर अन्य घरेलू व जरूरी कार्यों के लिए लाखों रुपये ब्याज पर ले लिया था जिसके ब्याज की सुई तेजी से उपर भाग रही थी… आखिर में घर वालों के दुख, संकट, मुश्किल, मजबूरी देख उस किसान ने जान दे दी…

किसान की लाश को चीनी मिल के गेट पर रखकर सैकड़ों लोग प्रदर्शन कर रहे हैं और उन प्रदर्शनकारी ग्रामीणों-किसानों को पुलिसवाले भगाने के लिए कंकड़-पत्थर से लेकर पानी की तेज धार तक बरसा रहे हैं… ट्रांसफर, पोस्टिंग, वसूली, चुनाव, समीकरण आदि 'जरूरी' चीजों में फंसी यूपी की सपा सरकार के पास वक्त नहीं कि वह आम किसानों के बारे में सोचे.. किसान चाहते हैं कि गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़े क्योंकि खाद बिजली पानी मेहनत आदि मिलाकर जो गन्ना वह तैयार कर रहे हैं उससे वर्तमान समर्थन मूल्य पर तो लागत भी निकाल पाना मुश्किल होगा.. लेकिन लालची चीनी मिल मालिक समर्थन मूल्य घटाने के लिए कह रहे हैं..

सपा सरकार कहने को तो किसानों की हितैषी है लेकिन अंदरखाने चीनी मिल मालिकों से उसकी जोरदार सेटिंग है क्योंकि चुनाव चंदा रिश्ता पीआर भी तो पुराना है इनसे… सो याराना है इनसे.. बड़ी विकट स्थिति है यूपी की.. लॉ एंड आर्डर के नाम पर शून्य… किसान-मजदूरों के हितों की देखभाल के नाम पर शून्य.. काहे की समाजवादी है ये सरकार… सच कहें तो बसपा राज के करप्शन से उबकर जनता ने सपा को पूरा यूपी सौंपकर बड़ी भूल कर दी है… अब सबको समझ में आ रहा है कि ये समाजवादी नहीं पूरी तरह अराजकतावादी सरकार है.. मुलायम दिन-रात पीएम बनने के ख्वाब में मस्त हैं.. 75 साल की उम्र की दुहाई देकर लोकसभा की 75 सीटें यूपी वालों से मांग रहे हैं… अखिलेश बेचारे बच्चा सीएम की छवि से उबर नहीं पा रहे क्योंकि उनके घर के बड़ों ने उन्हें दाब रखा है… शिवपाल, रामगोपाल, आजम खान जैसी त्रिमूर्ति के कहने क्या … इनकी जितनी 'प्रशंसा' की जाए उतनी कम है..

इनके अलावा सैकड़ों पॉवर सेंटर हैं… जो इन पंचमूर्तियों की पैतरेबाजी करके प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों पर अपना राज कायम किए हुए है… लग रहा है जैसे पूरा प्रदेश लुटेरों के हाथों में खंड-खंड विभाजित हो चुका है… इस प्रदेश को भी अब किसी केजरीवाल की जरूरत है… किसी बड़े आंदोलन की जरूरत है.. वरना ये जड़ता टूटेगी नहीं…

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


यूपी की मीडिया का हाल भी पढ़ें….

विक्रम राव से लेकर हेमंत तिवारी तक, सब स्वार्थों का गठजोड़ कायम कर पत्रकारिता को नीलाम कर रहे हैं..

करप्शन की बहती गंगा में डुबकी लगा राजीव शुक्ला भी तर गए

राजीव शुक्ला की कहानी भी देर सबेर आनी ही थी. आखिर करप्शन की बहती गंगा में वो भी डुबकी क्यों न लगाएं. पता नहीं फिर मौका मिले या न मिले. पत्रकार से नेता बने और जोरदार लायजनर के रूप में कुख्यात राजीव शुक्ला की कंपनी को कौड़ियों में दे दिए गए करोड़ों रुपये के प्लॉट. मामला मुंबई का है. बीएफईएस यानि बैग फिल्म्स एजुकेशन सोसाइटी को करोड़ों रुपये के प्लाट करीब 35 साल पुराने रेट पर आवंटित कर दिए गए. इस बारे में मुंबई मिरर ने खबर प्रकाशित की है. अब यह खबर सोशल मीडिया पर फैलने लगी है.

केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला की बैग फिल्म्स एजुकेशन सोसायटी (बीएफईएस) को करोड़ों के बेशकीमती सरकारी प्लॉट करीब 35 साल पुराने रेट पर कौड़ियों के मोल देने का मामले सामने आया है. 2008 में महाराष्ट्र सरकार ने बीएफईएस को एक प्लाट जहां मामूली कीमत पर बेचा, वहीं उसी दिन दूसरा प्लाट महज 6309 रुपये में 15 साल के लीज पर दे दिया गया.

हाल में जारी किए गए सरकारी दस्तावेजों के मुताबिक अंधेरी में स्थित प्राइमरी स्कूल के लिए रिजर्व 2821 स्क्वेयर मीटर के प्लॉट को बीएफईएस को 2008 में 98735 रुपये की मामूली सी कीमत पर बेचा गया. दस्तावेजों से पता चलता है कि पहले प्लाट के ठीक बगल के दूसरे प्लॉट को बीएफईएस को 15 साल की लीज पर महज 6309 रुपये में दे दिया गया. ये दूसरा वाला प्लाट एक प्ले ग्राउंड के लिए रिजर्व था लेकिन अब राजीव शुक्ला का हो गया है. हैरान कर देने वाली बात यह है कि इन दोनों प्लॉट्स की मार्केट वैल्यू 100 करोड़ रुपये से ऊपर बैठती है.

2007 में जब इन प्लॉट्स के लिए आवेदन किया गया था तब अनुराधा प्रसाद इस सोसाइटी की अध्यक्ष थीं जबकि उनके पति और सांसद राजीव शुक्ला इसके सेक्रेटरी.  महाराष्ट्र के राजस्व विभाग ने सितंबर 2008 में बीएफईएस का आवेदन स्वीकार किया था. शुक्ला के ऑफिस के अजीत देशपांडे ने बताया कि 2007 में जब प्लॉट के लिए आवेदन किया गया था, तब राजीब शुक्ला इसके सेक्रेटरी थे. उन्होंने आठ दिन बाद ही इससे इस्तीफा दे दिया था. 2008 में आवेदनों को सरकार ने स्वीकार कर लिया था.

बीएफईएस को प्लॉट्स आवंटित करते समय सरकार ने 1976 के हिसाब से 140 रुपये/स्क्वेयर मीटर का मूल्य लगाया और महज 98, 735 रुपये वसूले. इसमें शर्त रखी गई कि इसका इस्तेमाल प्राइमरी स्कूल के लिए ही किया जाए. इसी तरह प्ले ग्राउंड के लिए रिजर्व प्लॉट को उसी दिन 15 साल की लीज पर दिया गया. इसकी लीज अमाउंट 1976 में इसकी कीमत की 10 पर्सेंट यानी 6,309 रुपये लगाई गई. आखिर राज्य सरकार ने शुक्ला पर इतनी मेहरबानी क्यों दिखाई, यह अभी तक रहस्य है.


इसे भी पढ़ सकते हैं…

मौकापरस्ती, धोखा और बेशर्मी जैसे शब्द भी राजीव शुक्ला से शर्मा जाएंगे

हिंदी चैनल की पत्रकार होती तो खुद रुक जाती या रोक दी जाती

Vikas Mishra : आज ऐसे ही दफ्तर में मैंने कहा- ''बहुत हो गया तेजपाल-तेजपाल..। कितने तेजपाल मुंह पोंछकर बैठे हैं, और एक बेचारा फंस गया तो पीछे ही पड़ गए हैं, जैसे वही एक दरिंदा है। तेजपाल को फांसी दे देने के बाद देश की सारी लड़कियां सुरक्षित हो जाएंगी क्या? चलो तेजपाल को सपोर्ट किया जाए..।'' मेरे ही बगल में थीं हमारी चैनल की एक ऐंकर। उन्होंने कहा- ''एक को तो भीतर जाने दीजिए… क्या जरूरी है कि ये भी इस नाते बच जाए कि बाकी सारे बच गए थे..।'' क्या कहें आपसे… उनके इस जवाब से मैं लाजवाब हो गया।

Namita Pathak : मैं सोच रही थी कोई। हिंदी चैनल की पत्रकार होती तो भी क्या बात इतने आगे तक बढ़ पाती। शायद नहीं…

Vikas Mishra : Namita Pathak उससे बड़ा सच ये है कि हिंदी चैनल की पत्रकार होती तो इतना आगे बात बढ़ा भी नहीं पाती। खुद रुक जाती या रोक दी जाती।

पत्रकार विकास मिश्रा के फेसबुक वॉल से.

अरविंद की शख्सियत शीला पर भारी पड़ते देखकर मैं खुद इतना खुश क्यों हो रही हूं

Pashyanti Shukla : कहां लोग झाड़ू को घर में छुपाकर रखते थे आज उसे सिर पर सजा कर घूम रहे हैं.. दिल्ली में आपको हर जगह आप चाहें ना चाहें लोग मोर पंख की तरह झाड़ू को सिर पर सजाए मिल जायेंगे…कुछ तो है मिस्टर केजरीवाल..!!! सच्चाई सामने देखकर आंखे बंद नहीं की जा सकती.. आम आदमी पार्टी का असर दिल्ली में गली मुहल्लों सड़क किनारे की उन दुकानों से लेकर बड़े बड़े ऑफिसों में नज़र आ रहा है.. आम आदमी पार्टी वास्तव में एक आम मुद्दा बन गई है..कट्टर कांग्रेसी और बीजेपी को छोड़ दीजिए तो आम लोग अरविंद केजरीवाल में अपना प्रतिनिध देखते हैं…

मैं किसी की क्या कहूं जब मै खुद से ये उत्तर नहीं ढूंढ पा रही कि Economic Times के सर्वे और News Express के लाइव ओपीनियन पोल में अरविंद की शख्सियत शीला पर भारी पड़ते देखकर मैं खुद इतना खुश क्यों हो रही हूं…चेहरे पर मुस्कुराहट क्यों आ जाती है जब कहीं किसी फुटओवर ब्रिज पर तो कहीं किसी बस स्टैंड पर कहीं किसी सिग्नल से रोजी कमाने वालों के सिर पर वो टोपी देखती हूं…

मैंने वास्तव में घर से निकलकर देखा… AAP के टोपी वालों में आपको सरलता दिखेगी… वो किराए के भाड़े के सैलरी पाने वाले लोग नहीं है… वो वास्तव में एक आम आदमी है… 20-50 लाख का सालाना पैकेज पाने वाले भी और 20-50 रुपए ही मात्र रोज़ कमाने वाले भी… उन लोगों का समझाने का अंदाज़ अलग है जिसमें तत्परता सच्चा मन और परिश्रम दिखाई देता है… जो सिर्फ पर्चे बांटना अपना काम नहीं समझते बल्कि पूरे मन से आपको मोटिवेट करते हैं…. कहीं और ना सही लेकिन नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र में मुझे लगता है इस बार इतिहास बदलेगा… ज़रूर बदलेगा और अगर इस बार नहीं बदला तो शायद अगले कई दशकों में नहीं बदलेगा… Let's cross fingers.. !!!

पत्रकार रहीं पश्यंती शुक्ला के फेसबुक वॉल से.

दिल्ली फतेह के बाद ‘आप’ वाले पूरे देश पर कब्जे के लिए कांग्रेस-भाजपा से भिड़ेंगे

Dayanand Pandey : दिल्ली तो बस अंगड़ाई है, आगे और लड़ाई है ! कांग्रेस और भाजपा के लिए खतरे की घंटी है अब 'आप' और अरविंद केजीवाल। आप चाहे जो आरोप लगाइए 'आप' के लोगों पर लेकिन अब तो सच यही है कि अगर खुदा न खास्ता दिल्ली पर जो 'आप' ने फ़तेह कर ली, जो करती दीखती भी है। तो भाजपा और कांग्रेस की छाती पर चढ़ कर वह देश में भी बिगुल बजा देगी।

समय की दीवार पर लिखी इबारत यही है। कांग्रेस और भाजपा के कुतर्क अपनी जगह पड़े -अड़े सड़ जाएंगे यह तय है। ४ दिसंबर की प्रतीक्षा कीजिए। बस। और वह नारा याद कीजिए और सच मान लीजिए कि दिल्ली तो बस अंगड़ाई है, आगे और लड़ाई है!

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार दयानंद पांडेय के फेसबुक वॉल से.

रवीश की रिपोर्ट देखकर समझ जाएंगे कि ‘आप’ के पक्ष में दिल्ली में जबरदस्त माहौल है

Nadim S. Akhter : रवीश की रिपोर्ट का सच… पिछले दिनों मैंने अपनी वॉल पर दिल्ली की चुनावी जंग पर कुछ लिखा था. अभी रवीश की रिपोर्ट देखी. आप भी देखिए कि मैंने जो लिखा था, रवीश की इस रिपोर्ट में वही सब बातें वीडियो की शक्ल में हैं. बस लोगों के चेहरे और स्थान बदल गए हैं. रिपोर्ट देखकर आपको ये पता चल जाएगा कि आप पार्टी के पक्ष में दिल्ली में जबरदस्त माहौल है.

लोग परम्परागत राजनीतिक पार्टियों के कर्मों से ऊब गए हैं. वे बदलाव चाहते हैं. मैंने लिखा था कि दिल्ली की जिस चमक-धमक की बात शीला दीक्षित करती हैं, वह असल में है नहीं. और रवीश की इस रिपोर्ट में इसका वीडियो भी देख लीजिए. गंदगी और जीवन की बेसिक जरूरतों को पूरा करने के लिए जूझते दिल्ली के नागरिक. इस देश की राजधानी के वासी.

एक बात और. पत्रकारिता के छात्रों और चुनावी रैलियों को कवर कर रहे पके-पकाए पत्रकारों के लिए भी रवीश की ये रिपोर्ट (Prime Time) देखकर सीखना चाहिए कि टीवी में जमीन की सच्चाई कैसे दिखाई जाती है, कैसे स्टोरी बुनी जाती है. बिना किसी लाग-लपेट और तामझाम के. कैसे कैमरा हिलता-डुलता रहता है तब भी विजुअल खराब नहीं होते. कैसे चुनावी राजनीतिक रिपोर्टिंग में -चेन की मरम्मत- करने वाले घुमंतु की साउंड बाइट लगाकर बदलते समाज का आइना भी दिखाया जा सकता है और कैसे कार्यकर्ताओं-पब्लिक से interact किया जाता है. बिलकुल देसी स्टाइल में. कैमरा चालू है, उसकी परवाह किए बगैर. विशुद्ध देसी रिपोर्टिंग, रवीश की स्टाइल में, जिससे मेरे ख्याल से नए लोगों को जरूर सीख लेनी चाहिए.

फिलहाल तो आप ये रिपोर्ट देखिए और जरा अंदाजा लगाइए कि मैंने जो -आप- पार्टी के बारे में लिखा था, रवीश की इस रिपोर्ट से उस पर कितनी मुहर लगती है…

http://www.ndtv.com/video/player/prime-time/video-story/299554

तेजतर्रार पत्रकार नदीम एस. अख्तर के फेसबुक वॉल से.

कानपुर में महिला बैंक मैनेजर ने सीनियर सीनियर जीएम पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया

Zafar Irshad : नारी शक्ति की जय हो…नया मामला कानपुर का है, एक महिला बैंक मैनेजर ने अपने सीनियर जनरल मैनेजर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए पुलिस में मामला दर्ज कराया है…और कहा है कि उन्होंने अपने कमरे में बुलाकर सम्बन्ध बनाने की कोशिश की.. मैंने एसजीएम से बात की, तो उन्होंने कहाँ कि मेरे कमरे में सीसीटीवी कैमरा लगा है, आप देख लें, मामले की जांच करा लें, अगर मैं दोषी हूँ तो मुझे सजा दी जाए…

मैंने पूछा मामला क्या था, तो उन्होंने बताया कि उस महिला बैंक मैनेजर ने बैंक में कुछ नियमों के विरुद्ध काम किया था, मैंने उसकी शिकायत बैंक के आला अधिकारियों से कर दी, बस मेरे ऊपर ऐसा घिनौना आरोप जड़ दिया…

अब मैं न तो एसजीएम साहिब को बेकसूर मान रहा हूँ..और न महिला को कसूरवार..यह काम पुलिस और अदालत का है..लेकिन इस सिलसिले में जब एक पुलिस अधिकारी से बात हुई, तो उसने पते की सलाह दी..कि यदि आपके साथ कोई महिला काम करती है, तो उसके सही गलत काम को देखो ही मत.. नज़र अंदाज़ करो, अगर ज़यादा गड़बड़ वो महिला साथी कर रही हो, और आपको लगता है की आपकी गर्दन फँस जायेगी…तो भलाई इसी में हैं कि अपना ट्रान्सफर करवा लो..वरना अगर आप बोले, तो कोई मुकदमा झेलने को तैयार रहो….

कानपुर के पत्रकार जफर इरशाद के फेसबुक वॉल से.

वो लोग भी बोल रहे हैं जो हर महिला के चरित्र पर सवाल उठाया करते थे

Pashyanti Shukla : तेजपाल के व्यक्तित्व का पोस्टमॉर्टम आज कुछ वो लोग भी कर रहे हैं जिन्हें खुद नहीं पता होगा कि दिल्ली की जिन सड़कों पर खड़े होकर आज वो लाइव दे रहें है उन्ही सड़कों पर उन्होंने अपने ही साथ काम करने वाली कितनी महिलाओं के चरित्र का कैसा कैसा अध्ययन किया होगा… कितना चरित्र हनन किया होगा… मुझे आश्चर्य लगा एक ऐसे रिपोर्टर को इस मुद्दे पर बोलते हुए जिसने मेरे ही सामने कभी कांग्रेस ऑफिस 24, अक़बर रोड पर खड़े होकर किसी और महिला पत्रकार के लिए कहा था कि ''लटके झटके दिखाकर मैडम को खबर मिल जाती है..अरे इनके रिश्तों की चर्चा तो प्रमोद महाजन से थी..सफलता की सीढियां इन्होने उसी के ज़माने में चढ़ी..'' … धन्य है दोगलापन.. (पत्रकार रह चुकीं पश्यंती शुक्ला के फेसबुक वॉल से.)

Mukesh Kumar :  तमाम चैनलों, अख़बारों और दूसरे दफ़्तरों में यौन उत्पीड़न को रोकने के मक़सद से कमेटी बनाने के लिए अभियान चलाया जाना चाहिए। हालाँकि ये कानूनन ज़रूरी किया जा चुका है मगर अधिकांश जगह ये हैं ही नहीं या फिर इन्हें गंभीरता से नहीं लिया जाता। अगर ये बन जाएं और सक्रिय रूप से काम करने लगें तो कुछ भी करके बच निकलने की नीयत रखने वालों में थोड़ा डर पैदा होगा और प्रबंधन को अपनी जि़म्मेदारी का एहसास भी। क्या पत्रकारों का कोई संगठन इसकी शुरूआत कर सकता है या हम कुछ पत्रकार ही मिलकर इसमें लग सकते हैं? (वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के फेसबुक वॉल से.)

Sanjay Tiwari : ऐसा लगता है तेजपाल के बहाने तहलका को खत्म करने की गहरी साजिश चल रही है। यह मीडिया की सेहत के लिए अच्छा संकेत नहीं है। ईश्वर तहलका की रक्षा करें। (वेब जर्नलिस्ट संजय तिवारी के फेसबुक वॉल से.)

Dinesh Choudhary : नंगे विज्ञापन परोसने वाले समाचार चैनलों को स्त्रियों की अस्मिता की क्या सचमुच इतनी ही चिंता है? एक मालिक द्वारा पत्रकार के यौन-शोषण की खबर सभी समाचार चैनलों में है। हजारों मालिकों द्वारा लाखों पत्रकारों के शोषण की खबर किसी समाचार चैनल में चल रही हो तो बताने की किरपा बरसायें। (सोशल एक्टिविस्ट दिनेश चौधरी के फेसबुक वॉल से.)

अपराधी का लिखा पढ़ लेने में कौन गुनाह घटित हो जाता है : ओम थानवी

Om Thanvi : राजेंद्र यादव तब हमारे बीच थे। उन्होंने मुझे फोन किया कि 'कुख्यात पप्पू यादव' की किताब पर हम लोग चर्चा करेंगे। नामवरजी तैयार हैं, आप भी आइए। मैं बिना हर्ष तैयार हो गया। लिखने का अधिकार सबको है। कोई "कुख्यात" शख्स किताब जैसी पवित्र चीज पर हाथ आजमाए, क्या यह उसका कायांतरण है? मुझे लगा कि जरूर यह किताब पढ़नी चाहिए; अपने को और दुनिया को यह व्यक्ति अब कैसे देखता है, लेखकों-पाठकों के बीच इसकी चर्चा करने में हर्ज क्या है?

राजेंद्रजी के देहावसान के बाद, स्वाभाविक है, वह कार्यक्रम स्थगित हो गया। दुबारा जो तय हुआ, उसमें नेताओं का पलड़ा भारी हो गया था। इसमें मेरी सहमति न थी, पर यह कार्ड देखकर ही जाना और अंततः नहीं गया।

पर इस पर आपत्ति उठी है कि मैंने स्वीकृति ही क्यों दी? क्यों साहब, यह कैसी स्वाधीनता है जहां लिखने, छपने, आने-जाने पर भी नजर रखी जाती है? मैं पप्पू यादव से कभी नहीं मिला। लेकिन उन्हें अपनी बात कहने का हक है। और मुझे अपनी। नहीं है? अगर नेताओं की भीड़ न हो (उस भीड़ से मुझे कोफ्त होती है) और इस किताब पर चर्चा हो तो मैं अब भी जाने को तैयार हूं। अपने निर्णय पर मुझे न कोई पछतावा है, न कोई सफाई देने की जरूरत। अनेक निरपराध लेखकों की बक-झक हम रोज देखते-पढ़ते हैं, अपराधी (हाल-फिलहाल तो जिस पर कोई अपराध भी नहीं) का लिखा पढ़कर देखने में कौन गुनाह घटित हो जाता है? [बाय द वे, कोई यह भी समझाए कि आवाजाही पर जब-तब सफाई मांगने वाली पवित्र आत्माएं हमारे-आपके बीच कहाँ से और किस हक से आ टपकती हैं?]

जनसत्ता अखबार के संपादक ओम थानवी के फेसबुक वॉल से.

दीपक चौरसिया और अनुरंजन झा की ‘सुपारी पत्रकारिता’ पर कुमार विश्वास ने किया वीडियो जारी

Dr. Kumar Vishwas : एक पत्रकार मित्र ने किसी के माध्यम से यह वीडियो भेजा है। वे सचमुच के पत्रकार हैं। व्यथित हैं, चिंतित हैं, ऐसा उनके वीडियो से भी प्रतीत होता है। पत्रकारिता की साख को लेकर चिंतित हैं, और मुझ पर लगे मिथ्या-आरोपों से दुखी हैं। मेरा उनसे सिर्फ इतना ही कहना है, कि समय हर व्यक्ति की, हर संस्थान की, हर रिश्ते की, हर शै की परीक्षा लेता है। यह पत्रकारिता के लिए परीक्षा की घड़ी है।

उम्मीद रखिये, कि भारत माँ की गोद अब भी दुर्यधनों से ज़यादा कृष्ण पैदा करती हैं। पत्रकारिता में भी जीत उनकी ही होगी, जो सच की तरफ रहेंगे। दलालों और बेईमानों की मुट्ठी में इतना दम नहीं, कि ज़यादा देर तक सच्चाई को दबोच कर रख सकें। रही मेरे खिलाफ षड़यंत्र और दुष्प्रचार की बात, तो इस वीडियो में दिखाया गया सच देश के सामने आ चुका है।

मैं ऐसे हमलों के लिए तैयार हूँ, क्योंकि मैं बुराई के खिलाफ लड़ रहा हूँ। सच की राह में कठिनाई आती ही है। लेकिन यह भी तय है, कि सच कभी परास्त नहीं होता। इस विडियो के माध्यम से आपने मेरे और पत्रकारिता के लिए जो चिंता जाहिर की है, उसके लिए अनेक धन्यवाद! ख़ुशी का विषय है, कि तमाम षड्यंत्रों को नकार कर देश सच के साथ खड़ा है। धन्यवाद! जय हिन्द!

http://www.youtube.com/watch?v=Zi6VWtUlMFg

कवि, गीतकार और आम आदमी पार्टी के नेता डा. कुमार विश्वास के फेसबुक वॉल से.


इसे भी पढ़ें…

'इंडिया न्यूज' चैनल में 'भड़ास' पर पाबंदी

xxx

कांग्रेसी चैनल की दलाली करने वाले अनुरंजन झा को डा. कुमार विश्वास ने दिया ज्ञान

xxx

सुपारी पत्रकारों और कांग्रेसी चैनल मालिक के खिलाफ मुकदमा ऐतिहासिक

xxx

अनुरंजन झा ही नहीं, विनोद शर्मा और दीपक चौरसिया पर भी मुकदमा

xxx

'पेड स्टिंग' के सरताज दीपक चौरसिया और अनुरंजन झा के काम की हकीकत देखिए

xxx

आप को बदनाम करने के लिए मीडिया में 1400 करोड़ रूपये बंटे

xxx

दीपक चौरसिया और अनुरंजन झा यानि सुपारी पत्रकार!

xxx

कांग्रेसी मालिक ने अपने पालतू पत्रकार दीपक चौरसिया को 'आप' को बदनाम करने के मिशन पर लगाया!

xxx

बहुत घटिया पत्रकार निकला अनुरंजन झा, देखिए स्टिंग की सच्चाई…

xxx

ये बलात्कारी सेकुलर है या कम्युनल?

Deepak Sharma : ये बलात्कारी सेकुलर है या कम्युनल? दाहिने तरफ खड़े लोग अब तेजपाल को सूली पर चढ़ाना चाहते हैं क्यूंकि कुछ साल पहले उन्होंने बीजेपी के प्रमुख बंगारू लक्ष्मण का रिश्वत लेते स्टिंग आपरेशन किया था. इस घटना से बीजेपी को बेहद शर्मिंदगी हुई थी. बाएँ तरफ खड़े लोग तेजपाल के गुनाह पर पानी नही फेर सकते क्यूंकि मामला एक महिला के घोर उत्पीड़न का है. इसलये वो स्केंडल की जगह तेजपाल की सेकुलर पत्रकारिता की याद दिला रहे हैं.

पाकिस्तान की मीडिया दो कदम आगे है. सरहद पार तेजपाल की तुलना एक ऐसे व्हीसल ब्लोअर से की जा रही है जिसे सच बोलने की सज़ा में बीजेपी की सरकार ने फंसा दिया है. मार्क्सवादी विचारधारा के बुद्धिजीवी और पत्रकारों का कहना है की बेहतर हो जांच सीबीआई से कराई जाए क्यूंकि गोवा के मुख्यमंत्री मोदी के मोहरे है…और मोदी अब तेजपाल से पुँराना हिसाब बराबर करना चाहते हैं.

उधर बीजेपी का हाल ये है की उनके एक नेता ने तेजपाल तो तेजपाल उनकी सहयोगी शोमा चौधरी को भी गिरफ्तार करने की मांग कर दी है. मांग ही नही की शोमा के घर पर वो कालिख भी पोत आये. इस बीच तेजपाल के बदते साम्राज्य से विचलित कुछ अखबार मालिक तहलका को मिले विज्ञापन/कारपोरेट लाभ का लेखा जोखा छाप रहे हैं. उनका आरोप हे कि तेजपाल ने ब्लेकमेल करके अपने साम्राज्य का विस्तार किया.

मित्रों सच ये है कि इस मामले में संतुलित कोई नही है. सच यही है कि खबर तेजपाल के हाथों किसी की बेटी की अस्मत लूटना नही रही. अब खबर देश की दो प्रमुख राजनैतिक दलों के प्रति तेजपाल की निष्ठां या नफरत के सांचे में ढली है. जो तेजपाल को फांसी पर चढ़ाना चाहते हैं उनकी रगों में इंतकाम का लहू दौड़ रहा है . जो तेजपाल के गुनाहों पर पर्दा डालना चाहते हैं वो सेकुलरिज्म की दुहाई दे रहे हैं भले ही वो अपनी हर धडकन से कम्युनल हों.

दोस्तों हर घटना को सियासी चश्मों से ना देखा जाए….वरना बलात्कारी भी इस देश में सेकुलर या कम्युनल कहलाएंगे. वक्त आ गया हम अपने ख्यालात बदलें.

फूल तो फूल..कांटो से भी खुशबू जागे
तुम अपने ख्यालात बदल कर तो देखो

आजतक न्यूज चैनल से जुड़े पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक वॉल से.

इस्तीफा नहीं दिया होता तो ‘जी सर जी सर…’ करती रहती : अमृता सोलंकी

Amrita Solanki : yadi maine istifa nahi diya hota to itna khul kar bat nhi kar pati, bas karti rahti ……ji sir sir sir ji ji ji sir ……. mere istife ne mujhe aajadi di ki mai kah saku ki mai aajad hindustani hu, angrejo ke jamane ki police nahi…..

aaj bhi police regulation angrejo ke samay ka hai jisme badlav hona chahiye.. police bhi insan hai aur dard hamko bhi hota hai, ye pta jamane ko hona chahiye.. police sab ki madad karti hai to police ki madad janta ki honi chahiye…… rahi istife ki to koi bat nahi, kahi bhi rahugi to aisi hi rahugi…

एक अधिकारी के दुर्व्यवहार से नाराज होकर इस्तीफा देने वाली महिला इंस्पेक्टर अमृता सोलंकी के फेसबुक वॉल से.


मूल खबर…

चुनाव आयोग के बदतमीज अधिकारी से नाराज महिला इंस्पेक्टर ने दिया इस्तीफा

अर्नव selective journalism करते हैं?

Nadim S. Akhter :  अपने वादे के मुताबिक क्या इस ईमानदार महिला पुलिस अफसर को न्याय दिलाने की मुहिम छेड़ेंगे अर्नव? कल टाइम्स नाऊ पर 'मेधावी वाक योद्धा' अर्नव गोस्वामी खूब जुगाली कर रहे थे. मामला तरुण तेजपाल और यौन शोषण का था. पैनल में बैठे लोग भी चहक-बहक रहे थे. सुहैल सेठ और महिला अधिकारों पर काम करने वाली कवित कृष्णन ने अच्छा बोला. कविता ने तो अर्नव को बगलें झांकने को मजबूर कर दिया.

हुआ यूं कि अपनी हमेशा की आदत की तरह जब अर्नव अपने 'फिक्स्ड लाइन' के खिलाफ बोलने वालों को 'बोलती बंद' करने की कोशिश कर रहे थे (ये काम वह लगातार गेस्ट को टोककर और अपनी बात बार-बार दुहराकर करते हैं) तो कविता ने बहुत जायज सवाल उठाया. कविता ने कहा कि आप आसाराम और तेजपाल पर स्टैंड ले रहे हैं, लगातार कवरेज कर रहे हैं, ये अच्छा है लेकिन असम से लेकर कई ऐसे मामले हैं, जहां न्याय दिलाने का आपका यह 'युद्ध' दिखाई ही नहीं पड़ता. जब सेना के जवान रेप करते हैं, पुलिस वाले इसमें शामिल होते हैं और भी कई मामले हैं, जहां पीड़िता के प्राइवेट पार्ट्स में गोली मारी गई, तब आप लोग क्यों चुप रहते हैं. निर्भया के मामले में तो बहुत बड़ी-बड़ी बातें कर रहे थे सारे टीवी चैनल्स. तेजपाल पर भी कर रहे हैं लेकिन बाकी महिलाओं के साथ जब ऐसा ही अन्याय होता है इस देश में, तब उन खबरों को आप तवज्जों क्यों नहीं देते अर्नव? उसकी लगातार कवरेज क्यों नहीं करते, उनको न्याय क्यों नहीं दिलाते? क्या वे मामले तेजपाल और निर्भया-आसाराम के मामले से कम वजदार हैं, news worthy हैं??!!

कविता के इन सवालों पर अर्नव को जवाब नहीं सूझ रहा था क्योंकि वह एक आंधी की तरह बहस सिर्फ और सिर्फ तेजपाल पर कराना चाह रहे थे. कविता को टोकने लगे, मुद्दे पर बात करने को कहने लगे. लेकिन जब कविता ने जोर डाला तो अर्नव को कहना पड़ा कि हां, जितने मामले आपने बताए हैं वो सब news worthy हैं. उन सबको भी वैसे ही तवज्जो मिलनी चाहिए. हम सभी मामलों में ऐसा करते हैं और फिर तुरंत तहलका-तेजपाल विषय पर आ गए.

अभी जब भड़ास पर एक बहादुर महिला पुलिस अधिकारी की खबर पढ़ी कि किस तरह ईमानदारी से ड्यूटी करते वक्त चुनाव आयोग के एक अफसर ने उन्हें जलील किया और उन्हें हटवा दिया. मानसिक और सार्वजनिक रूप से प्रताड़ित इस महिला पुलिस अफसर ने विरोध में अपना इस्तीफा भेज दिया है. उम्मीद करता हूं कि अर्नव के असाइनमेंट डेस्क और इनपुट वालों को ये खबर मिल गई होगी और उन्होंने इसे अपने आज के न्यूज एजेंडे में शामिल कर लिया होगा. और ये भी उम्मीद करता हूं कि ईमानदार अफसर अशोक खेमका को कवरेज देने वाले अर्नव इस ईमानदार महिला पुलिस अफसर की खबर को भी उतनी ही तवज्जो देंगे. आज का News hour debate इस मुद्दे पर भी होगा.

और अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर ये माना जाएगा कि अर्नव selective journalism करते हैं. खेमका को उन्होंने तवज्जो इसलिए दी कि मामले में रॉबर्ट वड्रा का नाम आ गया था. आसाराम-तेजपाल जैसे हाई-प्रोफाइल लोग ही उनके एजेंडे में होते हैं. और यदि ऐसा नहीं है, वो वाकई में true spirit में पत्रकारिता करते हैं तो इस ईमानदार महिला अफसर की पीड़ा भी देश के सामने रखी जानी चाहिए. और ये उम्मीद सिर्फ अर्नव से नहीं है, उन सभी सम्पादकों से है, जो स्क्रीन पर पत्रकारिता और सरोकार पर बड़ी-बड़ी बातें करते हैं. देखते हैं कि उनका सरोकार इस मामले को कितनी शिद्दत से उठाता है और इस बहादुर महिला पुलिस अफसर को न्याय दिलाने के लिए कितने दिन का अभियान चलाता है, जैसा उन्होंने तेजपाल के मामले में पीड़ित लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए चलाया हुआ है. पूरी खबर इस लिंक पर पढ़ें

http://bhadas4media.com/article-comment/16175-2013-11-28-10-46-16.html
चुनाव आयोग के बदतमीज अधिकारी से नाराज महिला इंस्पेक्टर ने दिया इस्तीफा

स्टिंग में खुलासा : सोशल मीडिया के सहारे नेताओं को मश‍हूर या बदनाम बनाने का ठेका लेती हैं आईटी कंपनियां

नई दिल्ली : यह तो होना ही था. सोशल मीडिया का जलवा जब चरम पर हो तो क्यों न कुछ कंपनियां इसके जरिए अपना हित साधें. सोशल मीडिया पर कुछ आईटी कंपनियां नेताओं को मशहूर और बदनाम करने का काम करती हैं. इसके लिए वह इनसे भारी भरकम रकम वसूलती है. यह खुलासा खोजी वेबसाइट कोबरा पोस्ट ने एक स्टिंग ऑपरेशन के जरिए किया है और इन आईटी कंपनियों का पर्दाफाश किया है.

ऑपरेशन 'ब्लू वायरस' नाम के इस स्टिंग ऑपरेशन में तकरीबन दो दर्जन ऐसी कंपनियों का भंडाफोड़ किया गया है जो सोशल मीडिया के जरिए लोगों को बदनाम या मशहूर करने के लिए भारी-भरकम रुपए लेती हैं. इस खुलासे में यह दावा किया गया है कि आईटी कंपनियों के द्वारा यह काम नेताओं के लिए किया जा रहा है ताकि चुनावों में उन्हें उसका फायदा मिल सके. ऐसी आईटी कंपनियां मौजूद हैं जो फेसबुक, ट्विटर और दूसरी सोशल नेटवर्किंग साइट्स के जरिए लोगों को बदनाम या मशहूर करने के लिए लाख रुपये से करोड़ रुपये तक वसूलती हैं.

स्टिंग के दौरान यह खुलासा किया गया है कि इस काम के लिए ये आईटी कंपनियां फर्जी फेसबुक पेज बनाकर उन्हें अपने कर्मचारियों से लाइक करवाती हैं या फिर लाइक्स खरीदती हैं. कंपनियों ने एक वायरस की मदद से लाइक्स बढ़ाने का भी प्रस्ताव रखा. स्टिंग के मुताबिक इस वायरस के जरिए फेसबुक और ट्विटर पर फैन्स की संख्या कई गुना तक बढ़ाई जा सकती है.

जर्नलिस्ट झूठ बोलते हैं! (देखें वीडियो)

हरियाणा की प्रिंसिपल फाइनैंस कमिश्नर मैडम नवराज नैन संधू ने स्वास्थ विभाग के कई अधिकारियों समेत अंबाला जिला सिविल अस्पताल का देर शाम को औचक निरीक्षण किया| खबर लगते ही कुछ खबरनवीस भी मौके पर पहुंचे| अस्पताल में कई खामियां मिलीं| पत्रकारों ने भी अस्पताल में अव्यवस्था और खामियों को लेकर धुआंधार सवालों की बौछार की| मैडम ने बड़े इत्मिनान से उनके सवालों के जवाब दिए|

इस बीच पत्रकारों ने मैडम जी को बताया कि अब अंबाला के सरकारी अस्पताल में दवाइयों की कोई कमी नहीं है| मैडम जी भी खुश हो गयी| बोलीं- चलो कुछ तो अच्छा है| बस अभी तारीफ खुशी ठीक से संभली नहीं कि तभी कुछ मरीजों के परिजन व रिश्तेदारों ने भी मैडम जी के सामने डॉक्टर्स की पोल पट्टी खोली| सकपकाई मैडम जी ने तभी स्थानीय पत्रकारों के प्रशंसा का हवाला देकर पल्ला झाड़ने का प्रयास किया| बस, तभी मरीजों के संबंधियों ने पत्रकारों की प्रशंसा को सिरे से खारिज करते हुए उन्हें झूठा करार दे डाला और कहा कि- जर्नलिस्ट तो झूठ बोलते हैं| मैडम जी इतना सुनते ही चलती बनीं| इस प्रकरण से संबंधित वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें…

http://www.youtube.com/watch?v=uKJ3e9QQrOo

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


(देखें वीडियो)

लॉ इंटर्न के यौन उत्पीड़न के आरोपी जज का नाम है एके गांगुली

एक लॉ इंटर्न के यौन उत्पीड़न के आरोप की जांच कर रही कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है. कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में रिटायर्ड जज एके गांगुली का नाम आरोपी के रूप में लिया है. मामले की जांच कर रही तीन-सदस्यीय समिति ने कल ये रिपोर्ट कोर्ट में मु्ख्य न्यायाधीश को सौंप दी. इससे पहले समिति ने छह बैठकें की. घटना के संदर्भ में पहली बार न्यायाधीश के नाम का खुलासा किया गया है.

रिपोर्ट में नाम सार्वजनिक हो जाने पर रिटायर्ड जज एके गांगुली ने यौन उत्पीड़न मामले से इंकार किया है. उनका कहना है कि वे बेगुनाह हैं और हालात के शिकार हैं. उन्होंने कहा है कि उनके मामले की तुलना तेजपाल से ना की जाए. उन्होंने कहा कि अपनी जिन्दगी में मैने कई इंटर्न के साथ काम किया है. वे आज अच्छी जगहों पर हैं. मैं उनसे अपने बच्चों की तरह बर्ताव करता हूं.

हाल ही में पीड़िता ने एक रिटायर्ड जज पर उसके साथ यौन शोषण का आरोप लगाया था. पीड़िता ने कहा था कि उसके साथ ये घटना तब हुई थी जब वह आरोपी जज के साथ इंटर्न के तौर पर काम कर रही थी. घटना पिछले दिसम्बर की है. पीड़िता ने अपने ब्लाग में आरोपी के तौर पर केवल हाल ही में रिटायर जज कहा था. पीड़ित युवती इस समय कनिष्ठ वकील है.

इंडिया टीवी के रिपोर्टर अंकित जौहर पर जानलेवा हमला

शाहजहाँपुर में दिन के ठीक 10 बजे इंडिया टीवी के रिपोर्टर अंकित जौहर पर अपने आफिस जाते वक्त जानलेवा हमला हुआ है. प्रदेश की क़ानून व्यवस्था को ठेंगा दिखाते हुए गुंडों ने बीच सड़क पर अंकित को रोककर हाकी और लात घूंसों से बुरी तरह पिटाई की. जब अंकित बेहोश हो गए तो गुंडे अंकित को मरा समझ कर भाग गए. 
 
उत्तर प्रदेश सरकार पत्रकारों के सुरक्षा के लिए तमाम दावे कर रही है लेकिन प्रदेश सरकार के दावे महज हवा हवाई ही साबित हो रहे हैं जिसका जीता जागता उदाहरण अब शाहजहाँपुर में देखने को मिला है. सबसे खास बात ये है कि अंकित की गुंडों द्वारा की गई पिटाई के बारे में शाहजहाँपुर के थाना सदर बाज़ार पुलिस को तहरीर दी गई लेकिन पुलिस ने अभी तक मामला दर्ज तक नहीं किया है. 
 
शाहजहांपुर में पत्रकारों पर हमले बढ़ते जा रहे हैं. अब तक शाहजहाँपुर में पिछले 5 वर्षों में एक दर्जन से अधिक पत्रकारों की अलग-अलग तरीके से हत्या की जा चुकी है और पुलिस अब तक किसी भी पत्रकार की हत्या का खुलासा नहीं कर सकी है.

अजय कुमार की वजह से मैं आत्महत्या के कगार पर

पटना स्थित एक एडवरटाइजिंग कम्पनी के चेयरमैन अजय कुमार पर भागलपुर के एक व्यक्ति ने आत्महत्या के लिए मजबूर कर देने का आरोप लगाया है. भागलपुर निवासी शोभना नंद मजूमदार ने एम्पल मीडिया के चेयरमैन अजय कुमार पर उनका पैसा हड़पने का आरोप लगाया है. मजूमदार ने पुलिस और मीडिया को संबोधित एक ई-मेल लिखकर उसे अजय कुमार को भेजने के बाद कई जगहों पर भेजा है.
 
मेल में उन्होंने लिखा है कि एम्पल मी़डिया के चैयरमैन अजय कुमार ने मुझे बेवकूफ बनाकर लाइव टुडे न्यूज चैनल के भागलपुर ब्यूरो के लिए मुझसे एक लाख रूपये बतौर सिक्योरिटी ले ली. लेकिन ना तो चैनल शुरू हुआ और ना ही मेरे रूपये वापस किए. उन्होंने कहा कि उनके पास अजय कुमार से बातचीत के सारे पत्र और मेल रिकॉर्ड रखे हुए हैं. इसके बाद पैसों के लिए मैने उन्हें लगातार फोन किए पर उन्होंने कभी भी जवाब नहीं दिया
 
उन्होंने लिखा है कि तमाम तरह की मुश्किलें होने के बावजूद मैने अजय कुमार पर भरोसा किया था कि वे मेरा पैसा वापस कर देंगे. लेकिन वे पैसा देना तो दूर मुझसे बात भी नहीं करते. इसकी वजह से मैं बहुत कर्ज में दब गया हूं और मैं आत्महत्या के कगार पर पहुंच गया हूं. मजूमदार ने इसे अपना आखिरी मेल कहा है. उन्होंने कहा है इस वजह से लोगों का उन पर से विश्वास खो गया है.
 
मजूमदार ने लिखा है कि मैं इस जिन्दगी से बहुत निराश हो गया हूं और मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं. उन्होंने कहा है कि लेकिन मैं मरने से पहले अजय कुमार, संजय सुमन, राहुल आनंद, नूतन और गौरव का नाम पत्र में लिख कर आत्महत्या करूंगा ताकि इन लोगों को सजा मिल सके. उन्होंने पुलिस और मीडिया से अपील की है कि वे अजय कुमार को ना छोड़ें क्यूंकि अगर ये बच गया तो मेरे जैसे और भी बहुत से लोगों को ये लोग धोखा देते रहेंगे और अन्त में वे लोग भी सुसाइड कर लेंगे. उनके पास अजय कुमार के खिलाफ केस करने तक के लिए भी पैसे नहीं हैं.

तरुण तेजपाल को लेकर पुलिस गोवा रवाना

अपने सहकर्मी के यौन शोषण के आरोपी तहलका के संपादक तरुण तेजपाल पूरे वाकये के बाद आज पहली बार दिल्ली एयरपोर्ट पर नजर आए. वे गोवा कोर्ट में पेश होने के लिए आज दिन में 2:30 बजे एयरपोर्ट से रवाना हो गए. सूचना मिलते ही गोवा पुलिस की टीम भी एयरपोर्ट पहुंच गई. हालांकि कोर्ट से गिरफ्तारी पर रोक होने की वजह से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया है लेकिन पुलिस उन्हें साथ लेकर गोवा जा रही है.
 
गोवा पुलिस ने आज सुबह छह बजे तरुण तेजपाल के दिल्ली स्थित घर पर उन्हें गिरफ्तार करने के लिए छापा मारा था. कल पुलिस के समक्ष पेश ना होने की वजह से तेजपाल के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी कर दिया गया था. आज उसी वारंट को लेकर गोवा पुलिस दिल्ली पहुंची थी.
 
आज सुबह जब तेजपाल के घर पुलिस पहुंची तो तेजपाल घर पर नहीं मिले. पुलिस ने घर की तलाशी ली और परिवार के सदस्यों से उनके संभावित ठिकाने के बारे में जानकारी मांगी. तेजपाल की पत्नी ने पुलिस को कुछ भी बताने से इंकार कर दिया. गोवा पुलिस के साथ दिल्ली की क्राइम ब्रांच की टीम भी साथ में थी.
 
तेजपाल ने उत्तरी गोवा के जिला एवं सत्र न्यायालय में अग्रिम याचिका दायर कर दी है. इस याचिका पर आज 2:30 बजे सुनवाई होनी थी. इसी कोर्ट से कल तेजपाल के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया गया था. तेजपाल ने याचिका में गैरजमानती वारंट को खारिज करने की भी अपील की है.

हिन्दुस्तान के पत्रकार पर लड़की ने लगाया यौन शोषण का आरोप

हिन्दुस्तान, बदायूं में कार्यरत पत्रकार श्याम मिश्रा पर एक लड़की ने शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोप लगाया है. पीड़ता दलित परिवार की है और डिग्री कालेज में पढ़ाई कर रही है. पीड़िता ने कोर्ट में याचिका देकर पत्रकार पर यौन शोषण करने और दलित के साथ मारपीट करने का मुकदमा दर्ज कर जांच किए जाने की मांग की है.
 
याचिका में पीड़िता ने कहा है कि विगत कुछ दिन पहले उसकी मुलाकात श्याम मिश्रा से हुई थी और धीरे-धीरे गहरी दोस्ती हो गई. श्याम मिश्रा ने उसे शादी का झांसा देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाये. अब वह ना उसका फोन उठाता है ना बात करता है. पिछले दिनों पीड़िता जब अपने पिता के साथ उसके दफ्तर पहुंची तो वह उसे देखकर भाग गया.
 
पीड़िता ने आरोप लगाया है कि दफ्तर जाने से नाराज आरोपी दीपावली के एक दिन पहले अपने दो दोस्तों के साथ आया उसके साथ मारपीट की. शोर मचाने पर पीड़िता के भाई और परिवार के सदस्य आ गए और उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. लेकिन पुलिस वालों ने अखबार के दबाव में रिपोर्ट नहीं लिखी.

तहलका के मेनहोल पर से ढक्कन उठा तो या खुदा यह कैसे कैसे निकले तेजपाल

पिछले दिनों एक ऐसी घटना घटी जो ऊपर से देखने पर मात्र यौन शोषण की लगती है लेकिन असल में वह राजनीति, मीडिया और अपराध की साझी दुनिया की भयावह तस्वीर पेश करती है. यह घटना अंग्रेजी और हिन्दी में प्रकाशित होने वाली एक पत्रिका तहलका के मालिक संस्थापक और मुख्य सम्पादक तरुण तेजपाल से सम्बधित है. तेजपाल ने अपनी पुत्री समान ही नहीं बल्कि अपनी पुत्री की सखी पर, जो तहलका में ही काम करती थी, गोवा के एक पांच सितारा होटल की लिफ़्ट में ही ७-८ नवम्बर को अर्ध रात्रि में दो बार यौन शोषण का प्रयास किया.
 
पीड़िता द्वारा तहलका की प्रबन्ध निदेशक शोमा चौधरी के पास मुख्य सम्पादक की इस हरकत की विभागीय शिकायत करने पर तेजपाल के व्यवहार का अहम देखने लायक है. वह आशीर्वाद देने की मुद्रा में एक ऊंचे आसन पर जा बैठा. घोषणा कर दी कि मुझे सचमुच अपनी इस हरकत पर दुख है और एक साधक की तरह मैं अब इसका प्रायश्चित्त भी ज़रुर करूंगा. फिर स्वयं ही अपने लिये प्रायश्चित की घोषणा भी कर दी. मैं छह मास के लिये तहलका नाम की पत्रिका के मुख्य सम्पादक के आसन पर नहीं बैठूंगा. शायद तेजपाल को लगता था कि उसके इस व्यवहार से लिफ़्ट वाली पीड़िता अभिभूत हो जायेगी और आंखों में आंसू भर कर उससे प्रार्थना करेगी कि आप स्वयं को इतना कठोर दंड न दें. मैंने क्षणिक उत्तेजना में किये आपके उस व्यवहार को क्षमा कर दिया है. तेजपाल के अहंकार और दंभ की यह पराकाष्ठा है. लेकिन असली बात यह है कि अपने इस यौन शोषण के प्रयास के तेजपाल केवल हंसी ठिठोली का नाम देता है. पीडिता को भेजे गये संदेश में भी उसने इसी प्रकार की शब्दावली का प्रयोग किया है. 
 
ताज्जुब है जिससे किसी लड़की का जीवन बर्बाद हो सकता है, तेजपालों के क्रिया कलापों में वह केवल हंसी ठिठोली है. पंजाबी में एक कहावत है. तेजपाल सिंह पंजाबी तो समझता ही होगा और उसके वे दोस्त भी जरुर पंजाबी जानते होंगे जिनका दावा है कि उन्होंने क़ानून को घोंट कर पी लिया है. कहावत है – "चिड़ियों की मौत और गंवारों की हंसी ठिठोली, इसकी व्याख्या करने की जरुरत नहीं है." तेजपाल के इस पाखंड से पीड़िता तो अभिभूत नहीं हुई अलबत्ता शोमा चौधरी ज़रुर टसवे बहाने लगी. शोमा चौधरी का यह कर्तव्य था कि जैसे ही उन्हें एक महिला सहकर्मी पर यौन आक्रमण की शिकायत प्राप्त हुई, तो वह तुरन्त पुलिस के पास इसकी शिकायत दर्ज करवाती. लेकिन उसने तेजपाल के इस छह महीने के प्रायश्चित संन्यास को ही शील्ड की तरह लहराना शुरु कर दिया और यह प्रचार प्रसार भी करना प्रारम्भ कर दिया कि पीड़िता भी तेजपाल की माफी से पिघल गई है और संतुष्ट है. तेजपाल ने पीडिता को इमेल से एक प्रारुप भेजकर, उसे ही माफीनामा मान लेने का आग्रह किया. तेजपाल के दंभ और तथाकथित राजनैतिक ताकत पर भरोसे का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि उसने अपनी इस कुकृत्य पर सार्वजनिक रुप से माफी मांगने से भी इंकार कर दिया. तहलका की प्रबन्ध निदेशक शोमा चौधरी की हिमाकत की तो इन्तहा हो गई जब उसने इस विषय पर चर्चा करने वालों को डांटा कि जब पीडिता कुछ नहीं कह रही है तो आप इस व्यक्तिगत मामले में रुचि लेने वाले कौन होते हैं? स्वर कुछ इस प्रकार था मानो तहलका संस्थान की महिला सहकर्मियों का यौन शोषण या उसका प्रयास भी इस संस्थान की घरेलू नीति का ही हिस्सा हो.
 
जिस समय शोमा चौधरी यह प्रचार करती हुई घूम रही थी कि पीडिता संतुष्ट और चुप है उस समय तेजपाल के घर के कुछ लोग पीड़िता के परिवार को समझाने के लिये धमकाने की शैली में उसके पारिवारिक घर में पहुंचे हुए थे. जब तक तेजपाल और उसकी विभागीय सहयोगी शोमा चौधरी को लग रहा था कि पीड़िता या तो डर जायेगी या फिर उसको समझा बुझा लिया जायेगा, तब तक तो वे इस कृत्य को हंसी ठिठोली या फिर अन्तरंगता के क्षण कहते रहे. इस समय तक तेजपाल के दूसरे सहयोगी भी उसके समर्थन में प्रकट होने लगे थे. जावेद अख़्तर का समर्थन तो देखने लायक है. वे तेजपाल के साहस के लिये उसको बधाई देते घूम रहे हैं. बकौल अख़्तर, तेजपाल में इतना साहस तो है कि उसने अपने इस कारनामे को स्वीकार किया पुरानी कथा है. गांव में एक बदमाश रहता था. किसी की भी बहू बेटी से ज़बरदस्ती करता था और बाद में चौपाल पर इसे स्वीकारता ही नहीं था अपनी बहादुरी के किस्से भी सुनाता था. खुदा का शुक्र है उन दिनों वहां जावेद अख़्तर नहीं हुए, नहीं तो उसे वीरता पुरस्कार के लिये नामांकित किये बिना न मानते. शायद वे उसी की पूर्ति अब तेजपाल सिंह के साहस की प्रशंसा करके कर रहे हैं. मानवाधिकारों के हनन को लेकर जिनकी चिन्ता कभी समाप्त ही नहीं होती, ऐसी वृन्दा ग्रोवर जावेद भाई से भी दो क़दम आगे निकल गईं हैं. उनका कहना है यदि पीड़िता चाहे तो चली जाये पुलिस के पास. यदि वह नहीं जाती तो कोई क्या कर सकता है? शायद ग्रोवर भी अच्छी तरह जानती हैं कि यही मानसिकता तेजपालों के साहस को बढ़ाती है और बाद में जावेद अख्तरों को उनके साहस की प्रशंसा करने का सुअवसर प्रदान करती है. अख़बारों में खबर छपी है कि तेजपाल शराब व्यवसाय के बादशाह रहे पोंटी चड्ढा के साथ मिल कर एक क्लब खोलना चाहता था. उसकी अब की हरकतों को देख कर लगता है कि अंतरंगता के क्षणों का अवसर प्रदान करने की प्रस्तावित व्यवस्था थी.
 
इस प्रकार की हंसी ठिठोली करने वाला व अंतरंगता के क्षणों को भोगने वालों की समर्थक मंडली कितनी ज़्यादा फैली हुई है और तेजपाल को बचाने के लिये कैसे कैसे तर्क दिये जा रहे हैं, इसे देख कर आश्चर्य तो होता ही है लेकिन समाज के पतन पर दुख भी. कहा जा रहा है कि तेजपाल लम्बे अरसे से भ्रष्टाचार से लड़ रहा है. साम्प्रदायिकता को तो देख कर ही नहीं, सूंघ कर ही दूर से फैकने लगता है. लम्बे अरसे से स्टिंग आपरेशन करता कराता रहा है. प्रगतिवाद का लाकेट गले से एक क्षण के लिये नहीं उतारता. विचारों से उदारवादी है. ऐसे आदमी को इस छोटी सी घटना में फंसाया जा रहा है. सब राजनीति है. तेजपाल जैसे प्रगतिवादी आदमी के साथ इस देश में यह सलूक हो रहा है. इन लोगों की दृष्टि में शायद लड़कियों का यौन शोषण भी इनकी राजनीति का हिस्सा है और लिफ़्ट में अकेली लड़की को घेर लेना ही वर्ग संघर्ष का सर्वश्रेष्ठ नमूना है. इनके तर्कों का लद्दो लुआब तो यह है कि तेजपाल जैसे मीडिया मुगलों को यौन शोषण की अनुमति दे दी जानी चाहिये. तेजपाल जैसे लोग समाज के लिये इतना कुछ कर रहे हैं, क्या समाज इनका इतना थोड़ा सा सहयोग भी नहीं कर सकता. यह तर्क नया नहीं है. पंजाब में जब उस समय के पुलिस प्रमुख कंवरपाल सिंह गिल ने एक महिला कर्मी के साथ अभद्र व्यवहार किया था तो उस समय के जाने माने वक़ील और पंजाब के राज्यपाल सिद्धार्थ शंकर राय भी यही तर्क दे रहे थे कि गिल देश को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं, इसलिये इस छोटी सी घटना को भुला दिया जाना चाहिये.
 
लेकिन अब जब तेजपाल और उसके दोस्तों ने देखा कि पीड़िता इस घटना को छोटी सी नहीं मान रही और न ही वह तेजपाल की प्रत्यक्ष और परोक्ष ताक़त से आतंकित हो रही है तो तेजपाल ने एक बार फिर प्रगतिवादी पैंतरा बदला. अब उसने इस यौन शोषण के कुकृत्य को परस्पर सहमति का कृत्य बताना शुरु कर दिया. अब जावेद अख़्तर चुप हैं. अब वे तेजपाल के साहस को लेकर व्याख्या नहीं कर रहे. पीड़िता ने त्यागपत्र ही नहीं दे दिया बल्कि मजिस्ट्रेट के सामने दफ़ा १६४ में बयान भी दर्ज करवा दिया. दरअसल तेजपाल का किस्सा मीडिया और अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर छिपे उन भेड़ियों का किस्सा बन रहा है जो महिला सहकर्मियों को अपना आसान शिकार ही नहीं समझते बल्कि बाद में उसे हंसी-ठिठोली का नाम भी देते हैं. पीड़िता ने अपना त्याग-पत्र देते हुए तहलका की प्रबंध संपादिका शोमा चौधरी को जो लिखा वह आंखें खोलने वाला है उसने कहा- ऐसे समय में जब मैं अपने को ऐसे अपराध में पीड़िता के रूप में पा रही हूं तब यह देखकर मैं बुरी तरह हिल गयी हूं कि तहलका के प्रधान संपादक और आप मुझे धमकाने, मेरा चरित्र हनन करने और मुझ पर लांछन लगाने जैसे हथकंडे अपना रहे हैं.
 
​तेजपाल सिंह ने अपनी अग्रिम जमानत करवाने के लिये जो तर्क दिये हैं वे और भी इस प्रकार के लोगों की मानसिकता को नंगा करते हैं तेजपाल का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी उसे इस केस में इसलिये फंसा रही है क्योंकि वे पंथनिरपेक्षता से अपने आप को प्रतिबद्धित मानते हैं और भाजपा की सांप्रदायिकता से मीडिया के माध्यम से आज तक लड़ते रहे हैं. यह जानकर हैरानी होती है कि महिलाओं के यौन शोषण को भी शायद तेजपाल और उसके संगी साथी सैक्ल्यूरिज्म का ही हिस्सा मानते हैं. कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह अत्यंत बेशर्मी से तेजपाल के पक्ष में खड़े दिखाई दे रहे हैं. दिग्विजय यौन शोषण की इस पूरी घटना को तेजपाल और पीड़िता का आपसी अंदरूनी मामला बता रहे हैं. और अंत में एक और टिप्पणी. तेजपाल सिंह ने यह मांग की है कि उनके केस को गोवा से कहीं अन्यत्र स्थानांतरित किया जाये. देखना केवल यह है कि वे कहीं इसे इटली में स्थानांतरित करने की मांग तो नहीं करते.
 
लेखक कुलदीप चन्द अग्निहोत्री से kuldeepagnihotri@gmail.com के जरिए संपर्क किया जा सकता है.
 
 
 

राजीव कुमार, वेद प्रकाश यादव, धनंजय तिवारी, पवन मिश्र की नई पारी

चंदौली से खबर है कि राजीव कुमार श्री टाइम्स के साथ जुड़ गए हैं. उन्हें चन्दौली का जिला संवाददाता नियुक्त किया गया है. इसके पहले राजीव बतौर ब्यूरो राष्ट्रीय सहारा, पंजाब केसरी, युनाइटेड भारत आदि अखबारों मे अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वे मुगलसराय से प्रकाशित अखबार स्पीक द वर्ल्ड में बतौर उपसम्पादक काम कर चुके हैं.
 
अमर उजाला गोरखपुर से खबर है कि उपसंपादक वेद प्रकाश यादव ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने दैनिक जागरण गोरखपुर में बतौर सीनियर सबएडिटर अपनी नई पारी शुरू की है. बताया जा रहा है कि वे गोरखपुर अमर उजाला के संपादक प्रभात सिंह के रवैये से नाराज चल रहे थे और माना जा रहा है कि इसी कारण उन्होंने इस्तीफा दिया है. अमर उजाला से जल्द ही और लोगों के भी छोड़कर जाने की खबर है.
 
गोंडा से सूचना है कि दैनिक जागरण कार्यालय में तैनात वरिष्ठ रिपोर्टर धनंजय तिवारी ने जागरण छोड़ अमर उजाला ज्वाइन कर लिया. यही नहीं यहां तैनात रहे पवन मिश्र भी अमर उजाला चले गए हैं. इसके पहले गत दो माह पहले अरुण मिश्र अमर भी उजाला जा चुके हैं.

मुख्यमंत्री के शाही भोज में पत्रकारों को कीड़े वाले खाने की सौगात

देहरादून। उत्तराखण्ड के 13 वर्ष पूरे होने पर मुख्यमंत्री द्वारा विकास पुस्तिका के आयोजन के उपलक्ष्य में आयोजित किए शाही भोज में पत्रकारों को खिलाए गए खाने में कीड़े निकलने से हड़कम्प मच गया। शाही भोज का इंतजाम सूचना एवं लोकसम्पर्क विभाग द्वारा देहरादून के प्रसिद्ध कैटरर्स कुमार द्वारा किया गया था। उत्तराखण्ड की मीडिया पर आपदा के दौरान सरकार की चरण वन्दना किए जाने के पूर्व में ही बातें सामने आ चुकी हैं।
 
राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर देहरादून में पत्रकारों को शाही भोज पर आमंत्रित किया गया था, शाही भोज के दौरान जब देहरादून की मीडिया के लोग भोजन मुर्ग मसल्लम से लेकर शाही फिश का स्वाद अपनी उंगलियों पर लेकर चख रहे थे तभी देहरादून के उत्तर उजाला के पत्रकार भगीरथ शर्मा की वैजिटेरियन प्लेट में खाने के अदर कीड़े मौजूद मिले। इस बात का पता जैसे ही मीडिया के अन्य लोगों को चला तो उन्होंने काफी देर तक कीड़े निकली प्लेट की वीडियाग्राफी से लेकर फोटोग्राफी तक करनी शुरू की लेकिन कोई भी पत्रकार कीड़े वाले खाने की खबर लिखने की हिम्मत नहीं जुटा पाया जबकि मुख्यमंत्री द्वारा पत्रकारों को राज्यस्थापना दिवस के अवसर पर आमंत्रित किया गया था। 
प्रदेश में आपदा के चलते भले ही केदारघाटी सहित आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राज्य सरकार मूलभूत सुविधाओ को पूरा नहीं कर पाई है लेकिन मीडिया मैनेजरों के जरिए पत्रकारों को शाही भोज मुर्ग मसल्लम के साथ जरूर परोसा जा रहा है। देखना होगा कि खाने में कीड़े निकलने के बाद सूचना एवं लोकसम्पर्क विभाग कुमार कैटरर्स का बिल भुगतान रोककर भविष्य में कोई कार्यवाही कर पाता है या नहीं।
 
लेखक राजेश जोशी पत्रकार हैं. इनसे rajeshjoshigdr@gmail.com के जरिए संपर्क किया जा सकता है.

बाहुबली वो है जो पराक्रम से रचनात्मक कार्य करे एवं समाज को बदले: राम बहादुर राय

1950 में हमने जिस लोकतंत्र को अपनाया वह अपना है या नहीं यह बुनियादी सवाल है। 1950 के संविधान में एक नागरिक की परिभाषा है। इस संविधान में एक नागरिक सिर्फ एक वोटर है। भारतीय समाज में नागरिक, एक स्वतंत्र व्यक्ति नहीं, बल्कि जाति, धर्म एवं समुदाय में रहने वाला और उससे प्रभावित होने वाला है। नागरिकता इस बात को ध्यान में रखकर परिभाषित की जानी चाहिए। वरिष्ठ पत्रकार और यथावत पाक्षिक पत्रिका के संपादक रामबहादुर राय ने 27 नवम्बर, 2013 को मालवीय स्मृति भवन, दीनदयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली में ‘साथी’ संस्था द्वारा प्रकाशित हिन्दी मासिक पत्रिका ‘‘पाँचवाँ स्तंभ’’ के वार्षिकोत्सव समारोह के अवसर पर ‘‘लोकतंत्र में मतदाता एवं पांचवां स्तंभ (स्वैच्छिक क्षेत्र)’’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के रूप में कहा।
 
उन्होंने कहा कि हमारे जनतंत्र में कई विकृतियां हैं। धन और बल का बोलबाला है। इसका दुरूपयोग कर चुनाव जीतने वाले के लिए अक्सर बाहुबली शब्द का इस्तेमाल किया जाता है। मुझे आश्चर्य होता है क्योंकि बाहुबली तो वही हो सकता है जो पराक्रम से रचनात्मक कार्य करे एवं समाज को बदले। 
उन्होंने आगे कहा कि अभी भी हमारा संविधान विदेशी ही है। इसी से देश चल रहा है। यह आयातित है। हिन्दुस्तान में लोकतंत्र 1950 से नहीं, बल्कि यह दुनिया का सबसे पुराना लोकतंत्र है। क्या हमने अपने पुराने लोकतंत्र को जानने या समझने का प्रयास किया? जयप्रकाश नारायण ने संविधान पूरी बनने से बहुत पहले ही समझ लिया था कि हमारे संविधान द्वारा अपनाया जाने वाला लोकतंत्र हमारे जमीन से उपजा मौलिक लोकतंत्र  नहीं है। यही ढूंढ़ना पांचवां स्तंभ का काम है। 
  
समारोह के मुख्य अतिथि पब्लिक इंट्रेस्ट फाउंडेशन (स्वैच्छिक क्षेत्र) के निदेशक नृपेन्द्र मिश्र ने अपने वक्तव्य में कहा कि अभी तक हम लोकतंत्र के पांचवें स्तंभ (स्वैच्छिक क्षेत्र) की परिभाषा पर एकमत नहीं हो पाए हैं। इसके गुण कुछ पहचाने जा सकते हैं। कार्यपालिका एवं विधायिका समझौता परस्त है। न्यायपालिका बदलाव की दिशा में कुछ आशा जगाती है। मीडिया का कार्य मिला-जुला है। सत्यता आज के व्यावसायिक माहौल में छिप जाता है। ऐरोगेन्स कहीं न कहीं संवेदनशीलता को कम करता है। पारदर्शिता को आने नहीं देता। पाँचवाँ स्तंभ को और अधिक सक्रिय होना है।
 
विषय प्रवर्तन करते हुए कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि विकास भारती संस्था, रांची के अध्यक्ष अशोक भगत ने कहा कि सरकार लोकतंत्र की भावना के अनुकूल नहीं है। जो लोग रांची भी नहीं गए वे लोकतंत्र और दिल्ली को क्या जाने। हम जिनके बीच काम करते थे (आदिवासी क्षेत्र) उन्हें यह भी नहीं मालूम कि सरकार क्या होती है। पंचायती राज नहीं चला। सांसद और विधायक नहीं चाहते कि पंचायत मजबूत हो। जिसे हम निचला स्तंभ कहते हैं उसकी मजबूती नहीं हो पाई। अब बाहुबलियों की सरकार चलने लगी। सबकुछ पैसे की ताकत पर नियंत्रित होने लगा। 
 
उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी ताकत है जनता को ताकत देना, वही नहीं हो पा रहा है। यही काम है पांचवें स्तंभ का। जरूरत यह है कि सब मिला के चौखंभा राज्य पंचायती राज कायम होना चाहिए।
 
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए ‘‘पाँचवाँ स्तंभ’’ की संपादक एवं सुप्रसिद्ध लेखिका मृदुला सिन्हा ने कहा कि पांचवां स्तंभ पत्रिका का उद्देश्य लोकतंत्र के पांचों स्तंभों के बीच संबंध और समरसता को खंगालते रहने का है। जिस सत्ता का हम निर्माण करते हैं उसमें मतदाता का बहुत महत्त्व है। मतदाता को जागृत करना बहुत आवश्यक है। पांचवां स्तंभ (स्वैच्छिक क्षेत्र) का भी दायित्व है मतदाता जागरण। 
 
उन्होंने कहा कि आज भी हमारी पाँचवाँ स्तंभ पत्रिका बचपन अवस्था में है। इसे संवारने में सबका सहयोग अपेक्षित है। लेखक, पाठक और विज्ञापनदाताओं का। 
 
कार्यक्रम में पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. रामकृपाल सिन्हा, सहित कई जाने-माने राजनेता, वरिष्ठ पत्रकार, वरिष्ठ साहित्यकार एवं समाज के गण्यमान्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का कुशल संचालन सुश्री संगीता सिन्हा एवं धन्यवाद ज्ञापन साथी संस्था के समन्वयक अमित कुमार ने किया। 
 
गौरबेश सिंह
 
प्रेस रिलीज

सोनभद्र के पत्रकार सुल्तान शहरयार पर स्थानीय अखबार ने लगाए गंभीर आरोप

सोनभद्र से निकलने वाले एक स्थानीय साप्ताहिक अखबार कूटचक्र में  महेन्द्र अग्रवाल ने सोनभद्र के पत्रकार सुल्तान शहरयार खान के बारे में एक खबर लिखी है जिसमें शहरयान खान पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. महेन्द्र अग्रवाल कूटचक्र के सम्पादक भी हैं.
 
अखबार में लिखा गया है कि शहरयार खान ने अपने पत्रकारिता के प्रमाणपत्र के नवीनीकरण के लिए लेटरपैड पर पायनियर के संपादक का जाली हस्ताक्षर बनवाया था. उन पर गलत तरीके से उत्तर मध्य रेलवे की एडवाइजरी कमेटी का सदस्य बनने का आरोप भी लगाया गया है. अखबार ने लिखा है कि खबरें छापने पर उन्होंने कूटचक्र के सम्पादक को धमकियां भी दीं. शहरयार खान पर कूटचक्र के जाली लेटरपैड पर संपादक के जाली हस्ताक्षर कर निदेशक, सूचना आयोग को भेजने का आरोप भी लगाय गया है. अखबार के हवाले से कहा गया है कि सम्पादक ने शहरयार खान के इन कारनामों पर अंकुश लगाने के लिए अनपरा थानाध्यक्ष को रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई करने के लिए सबूतों के साथ पत्र भेजा है. 
 
शहरयार खान पर वसूली करने का भी आरोप लगाया गया है. अखबार लिखता है कि शहरयार ने एक सपा नेता को जिलाध्यक्ष बनाने, तथा नौकरी दिलाने के एवज में लाखों रूपये की वसूली की है. इसमें उन पर पैसे लेकर पत्रकार संगठनों का सदस्य बनाने का भी आरोप लगाय गया है.
 
इन आरोपों के बारे में जब सुल्तान शहरयार खान से भड़ास4मीडिया ने बात की तो उन्होंने कहा कि ये आरोप बिल्कुल झूठे और निराधार हैं. पायनियर के संपादक के जाली हस्ताक्षर का आरोप बिल्कुल गलत है. इसकी सत्यता की पुष्टि पायनियर से की जा सकती है. उन्होंने महेन्द्र अग्रवाल पर लोगों को ब्लैकमेल और छवि खराब करने के लिए अखबार का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया.

​सचिन ने ‘विराट वैभव’ छोड़ा, भविष्य त्यागी ‘जिया न्यूज’ से जुड़े

हिंदी दैनिक समाचार पत्र विराट वैभव को झटका देते हुए चीफ सब एडिटर सचिन कुमार ने भी विराट वैभव का दामन छोड़ दिया है। सुनीत निगम के इस्तीफे के बाद सचिन कुमार ही डेस्क इंचार्ज थे। सचिन चार साल से विराट वैभव के साथ जुड़े थे.
 
खबर है कि भविष्य त्यागी ने जिया न्यूज के साथ जुड़कर नई पारी की शुरूआत की है. उन्होंने चैनल में बतौर पैनल प्रोड्यूसर ज्वाइन किया है. इसके पहले वे साधना न्यूज में थे.
 
भड़ास तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए bhadas4media@gmail.com पर मेल भेज सकते हैं.

भास्कर के ब्यूरो चीफ पर मंत्री ने लगाया गलत रिपोर्टिंग का आरोप

हरियाणा के सहकारिता मंत्री सतपाल सांगवान ने दैनिक भास्कर, पानीपत के चरखी दादरी ब्यूरोचीफ सोमेश चौधरी पर उनके बारे में गलत रिपोर्टिंग का आरोप लगाया है. मंत्री ने भास्कर के पानीपत संस्करण के प्रधान संपादक शिव कुमार विवेक को पत्र लिखकर इसकी शिकायत की है तथा ब्यूरो चीफ पर कार्रवाई करने की मांग की है.
 
मंत्री ने संपादक को भेजे पत्र में कहा है कि संवाददाता ने 21 नवम्बर को 'मंत्री ने पहले झोली फैलाई, फिर आंख दिखाई' शीर्षक से प्रकाशित समाचार को गलत ढंग से पेश कर कैबिनेट मंत्री की छवि को ठेस पहुंचाई है. संवाददाता ने कैबिनेट मंत्री के बारे में एसडीओ स्तर के अधिकारी के सामने झोली फैलाकर विकास परियोजनाओं को पूरा करने की गुहार करने की जो खबर लगाई है वह पूरी तरह गलत है. मैने इस तरह की कोई बात नहीं कही है. संवाददाता ने गलत रिपोर्ट लिखकर मेरी छवि को नुकसान पहुंचाया है.
 
मंत्री ने उक्त बातचीत की रिकार्डिंग की सीडी भी उपलब्ध कराने की बात कही है. मंत्री का कहना है कि इस संबंध में अन्य अखबारों की रिपोर्टिंग भी देखी जा सकती है. किसी भी अखबार में इस तरह की कोई खबर नहीं छपी है. ऐसा लगता है संवाददाता की मेरे प्रति व्यक्तिगत रंजिश है. मंत्री ने पत्र में भास्कर द्वारा सोमेश चौधरी पर कार्रवाई ना करने पर कोर्ट जाने की बात कही है.

भारत रत्न सचिन तेंदुलकर, पत्रकार शिरोमणि तरुण तेजपाल, महान लेखक पप्पू यादव…

Dayanand Pandey : यह भी क्या स्वर्णिम समय है… प्रणाम कीजिए इस समय को भी.. भारत रत्न सचिन तेंदुलकर… पत्रकार शिरोमणि तरुण तेजपाल… और अब महान लेखक राजेश रंजन ऊर्फ़ पप्पू यादव! वो गाना है न.. आ जा तुझे भी सैर करा दूं, तमंचे पे डिस्को! तमंचे पे डिस्को! अब देखिए न कि एक से एक भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य, सब के सब नत हैं इस डिस्को के आगे और नाच रहे हैं… दुर्योधन, दुशासन समेत… आमीन बुलेट राजा, आमीन!

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार दयानंद पांडेय के फेसबुक वॉल से.

इंस्पेक्टर के सुसाइड नोट में पत्रकारों के नाम!

अम्बाला के पड़ाव पुलिस स्टेशन में आज हरियाणा पुलिस के एक इंस्पेक्टर करण ने खुद को गोली मारकर आतमहत्या कर ली। उसने ये कदम तब उठाया जब उसके खिलाफ कल एक महिला न यहाँ के बराड़ा कसबे के थाने में उसके खिलाप रेप का मामला दर्ज कराया।

इस इंस्पेक्टर ने आज सुबह खुद को गोली मरते हुए सुसाइड नोट छोड़ा कि इस कसबे के तीन पत्रकारों और तीन पुलिस वालों ने साजिश रचकर उसके खिलाप झूठा मामला दर्ज कराया है। हरियाणा में पत्रकारिता के सबसे पुराने गढ अम्बाला में सबकी नजर इस बात पर है कि कौन हैं वो तीन पत्रकार। फ़िलहाल पुलिस उन नामों को मीडिया को नहीं बता रही।

चंडीगढ़ प्रेस क्लब में विवाद को लेकर कोषाध्यक्ष ने भी जारी किया पत्र

Being the Treasurer of Chandigarh Press club,  I feel that its my duty to share the truth with all of you. I was busy in paternal home at Amritsar after October 31, 2013, So  I could not bring the truth in your notice,  Now I am free for all respected members.

Respected  all member of CPC for intimation.

Friends, though I was present in the Governing Council Meeting of CPC held on October 31 , 2013 , but I don’t agree with the Part A of resolution No-1 . This resolution is say that the amount of rupees 63,274  related to bill generated on the eve of last club election remained  pending due to an oversight , but according to me it was pending intentionally as I had raised issued of pending bill in the previous governing council meeting more than one, but is was deferred every time .

Friends, I want to make it clear once again that I don’t agree resolution. I also fully agree to the complain filled under the arbitration to advisory committee against the governing Council members of Mr Sukhbir Singh Bajwa Panel, by the Mr Anil Bhardwaj, Mr Ramesh Handa and others.

I also promised to the all members of CPC that will shortly send to the balance sheet of the press club in the period of six month.

Thanks & Regds

Jagtar Singh Bhullar

Treasurer ,

Chandigarh Press Club
 

विनय पाण्डेय, विजय मौर्य, और राजन कैंथ के बारे में सूचनाएं

न्यूज एक्सप्रेस से खबर है कि विनय पाण्डेय चैनल के साथ नई पारी शुरु करने जा रहे है. वे एक दिसम्बर से न्यूज एक्सप्रेस में बतौर एसोसिएट प्रोड्यूसर ज्वाइन करेंगे. अभी तक वे समाचार प्लस चैनल में काम कर रहे थे. वहां वे असिस्टेंट प्रोड्यूसर के पद पर थे.
 
दैनिक भास्कर, लुधियाना से खबर है कि दैनिक जागरण से लाये गए चीफ रिपोर्टर विजय मौर्या भास्कर मैनेजमेंट से परेशान होकर वापस दैनिक जागरण में चले गए हैं. मौर्या मात्र दो महीने के लिए भास्कर में रहे. अब क्राइम रिपोर्टर राजन कैंथ को संपादक ने रिपोर्टिंग से डेस्क पर ट्रांसफर कर दिया है. राजन के बदले डेस्क के कौशल को रिपोर्टिंग में लाया गया है.
 
भड़ास तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए  bhadas4media@gmail.com पर मेल भेज सकते हैं
 

संदीप शास्त्री का ‘अग्निबाण’ के सीईओ पद से इस्तीफा

मध्यप्रदेश के इन्दौर, उज्जैन और भोपाल से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र अग्निबाण के सीईओ संदीप शास्त्री ने इस्तीफा दे दिया है. बताया जा रहा है कि शास्त्री ने निजी कारणों से इस्तीफा दिया है. वे पिछले 11 वर्षो से अग्निबाण समाचार पत्र के साथ जुड़े हुए थे. 
 
श्री शास्त्री इसके बाद किस समाचार संस्था से जुड़ेंगे इसको लेकर मध्य प्रदेश की मीडिया में चर्चाएं तेज हो गई है. शास्त्री 11 वर्ष पहले अग्निबाण से जुड़े थे और मेहनत व काबिलियत के बल पर समाचार पत्र के शीर्षस्थ पद तक पहुंचे. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने अग्निबाण को एक नई पहचान दिलाई.
 
भड़ास तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए bhadas4media@gmail.com पर मेल भेज सकते हैं

जनमत सर्वेक्षणों पर वर्कशॉप, विनोद दुआ होंगे ख़ास मेहमान

सी-वोटर फाउंडेशन आगामी 30 नवंबर को जनमत सर्वेक्षणों पर वर्कशॉप का आयोजन करने जा रहा है। इस वर्कशॉप में मीडिया के छात्रों को जनमत सर्वेक्षण से जुड़े सभी पक्षों की जानकारियाँ दी जाएंगी। साथ ही इसमें प्रतिभागियों को सर्वेक्षण करने के तौर-तरीकों का व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

वर्कशॉप  में  वरिष्ठ  टीवी  ऐंकर  विनोद  दुआ के साथ भारत में चुनावी पत्रकारिता और जनमत सर्वेक्षणों पर खुला संवाद भी आयोजित होगा। इस में  श्री दुआ अपने अनुभव तो साझा करेंगे ही, प्रतिभागी उनसे सवाल-जवाब भी कर सकेंगे।

ये तो स्पष्ट है कि सर्वेक्षण के माध्यम से सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक शोध का चलन मीडिया में तेज़ी से बढ़ता जा रहा है। ख़ास तौर पर चुनाव के दौरान सभी न्यूज़ चैनल जनमत सर्वेक्षणों के ज़रिए  मतदाताओं की नब्ज़ टटोलने की कोशिश करते हैं, जो कि बेहद देखे भी जाते हैं। लेकिन इसका दूसरा पहलू ये भी है कि सर्वेक्षणों को लेकर बहुत सारी भ्रांतियाँ बनी हुई हैं और उन्हें हमेशा शक़ की नज़रों से देखा जाता है। बहुत से लोग इसकी विधियों से अनभिज्ञ भी हैं, जिसके चलते वे इस वैज्ञानिक औजार को ज्योतिष जैसी कोई चीज़ समझने लगते हैं।

देश के जाने-माने सर्वेक्षणकर्ता संजय कुमार (सीएसडीएस), धनंजय जोशी एवं जाने-माने चुनाव विश्लेषक यशवंत देशमुख वर्कशॉप में उपरोक्त भ्रांतियों को तो दूर करेंगे ही, सर्वेक्षण की प्रक्रिया से भी अवगत कराएंगे। वे ये भी बताएंगे कि भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में इसकी आवश्यकता एवं उपयोगिता क्या है। वर्कशॉप में मीडिया और सर्वेक्षण के रिश्तों पर भी रोशनी डाली जाएगी। विशेषज्ञ बताएंगे कि पत्रकार और पत्रकारिता के छात्र किस तरह से सर्वेक्षणों का इस्तेमाल शोध के लिए कर सकते हैं।

प्रेस रिलीज

चुनाव आयोग के बदतमीज अधिकारी से नाराज महिला इंस्पेक्टर ने दिया इस्तीफा

सिस्टम ऐसा हो गया है कि ईमानदार और स्वाभिमानी लोग सरकारी नौकरियों में घुटन महसूस करते हैं. जिनके पास जितना अधिक पॉवर है, वो उतने अधिक बददिमाग और करप्ट होते जा रहे हैं. एक चौंकाने वाले घटनाक्रम के तहत राजगढ़ जिले में एक महिला इंस्पेक्टर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. उनके साथ एक बड़े अधिकारी ने बदतमीजी की और ऐसे वाक्य कह डाले जिसे सुनकर किसी भी स्वाभिमानी व्यक्ति का खून खौल सकता है.

अमृता सोलंकी जितना साहस सभी के पास नहीं होता इसलिए बाकी ईमानदार व स्वाभिमानी अफसर चुपचाप अपनी नौकरी करते रहने को मजबूर होते हैं. लेकिन अमृत सोलंकी ने जो कदम उठाया है, उससे यह पता चलता है कि अब भी सिस्टम में ऐसे ईमानदार व संवेदनशील लोग हैं जो अपने कर्तव्य का पालन पूरी मुस्तैदी से करते हैं और जब उनके स्वाभिमान को चोट पहुंचाया जाता है तो वे इस्तीफा देने में नहीं हिचकते.

अमृता सोलंकी को जरूर प्रणाम कहना चाहिए हम सभी को. पूरा प्रकरण क्या था, इसे आप नीचे दिए गए पीयूष दीक्षित के फेसबुक स्टेटस को पढ़कर जान सकते हैं. साथ है अमृता सोलंकी का इस्तीफानामा और अमृता के एक पुराने कार्यकाल को लेकर अखबार में छपी खबर की कतरन. -एडिटर, भड़ास4मीडिया


Piyush Dikshit : राजगढ़ जिले में ड्यूटी पर तैनात एक महिला इंस्पेक्टर अमृता सोलंकी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उनकी ग़लती इतनी थी कि सड़क पर गाड़ियों को चेक करते वक़्त उन्होंने चुनाव आयोग के प्रेक्षक की गाडी रोक ली। साहब तिलमिलाए…. कहा- "दिखा नहीं कि मैं चुनाव आयोग का अधिकारी हूँ," उस महिला इंस्पेकटर ने कहा ,"सर नहीं दिखा", जवाब आया….अंधी हो क्या….? रिश्वत देकर पुलिस में भर्ती हुई थी….? अभी तेरी अक्ल ठिकाने लगाता हूँ|"

बस कुछ देर बात उस दिलेर महिला अधिकारी को लाइन अटैच कर दिया गया। यानि उसे नालायक साबित करने की कोशिश की गई। उसने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया। ये चुनाव आयोग वाले भगवान् होते हैं क्या……? कहाँ है महिला आयोग ….? महिलाओं को बराबरी का दर्ज़ा दिलाने को लेकर वर्क शॉप और सेमिनारों में बौद्धिक जुगाली करने वाले एन जी ओ….?

पीयूष दीक्षित के फेसबुक वॉल से.


भड़ास तक सूचनाएं bhadas4media@gmail.com के जरिए पहुंचा सकते हैं.

तहलका से तेजपाल की पूरी फैमिली ने पैसा कमाया, सिब्बल और जेठमलानी के भी शेयर

Nadim S. Akhter : तहलका को लेकर जबरदस्त खुलासा. इसमें ना सिर्फ कांग्रेसी मंत्री कपिल सिब्बल (80 शेयर) का पैसा लगा है, बीजेपी और नरेंद्र मोदी से नजदीकी रखने वाले राम जेठमलानी (165 शेयर) का भी पैसा लगा है. साथ ही ये भी पता चला है कि कैसे इस कंपनी के शेयर सारे नियम कायदे ताक पर रखकर खरीदे-बेचे गए और कैसे तरुण तेजपाल की बीवी-पिता-मां-बहन-भाई ने गलत तरीके से शेयर बेचकर पैसे कमाए. शोमा चौधरी ने भी 5 हजार रुपये के शेयर से 66 लाख रुपये बना लिए.

ये भी बताया गया है कि राजस्थान पत्रिका और तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा एमपी केडी सिंह ने भी इसमें पैसे लगाए हैं. और जानते हैं कि तहलका का मालिक कौन है. किसके शेयर इसे चलाने वाली कंपनी में सबसे ज्यादा है. जी हां, तरुण तेजपाल नहीं, तहलका के कर्ताधर्ता-मालिक ममता दीदी की पार्टी से राज्यसभा सांसद केडी सिंह हैं. और अब केडी सिंह कह रहे हैं कि तहलका से वह अपना हाथ खींच लेंगे. तो तहलका की मौत तय है. फिलहाल तो यही लग रहा है.

और कौन जाने. जिस तरीके से कई investor इसमें अचानक से आते हैं, पैसा लगाते हैं और फिर घाटा सहकर अचानक गायब हो जाते हैं. केडी के जाने के बाद फिर कोई 'investor' तहलका को मिल जाए. तरुण तेजपाल ने पत्रकारिता में जो भी अच्छे काम किए हैं, उन सब पर अब एक गंभीर सवाल उठ रहा है. First Post की इस रिपोर्ट से तो यही लग रहा है.

और कल तो जो कपिल सिब्बल गाल फाड़-फाड़ कर ये कह रहे थे कि तहलका में उनका पैसा नहीं लगा है, अब वो कह रहे हैं कि उन्होंने तो सिर्फ 5 लाख रुपया बतौर चंदा तहलका को दिया था. उन्हें नहीं मालूम कि तहलका ने इसके एवज में कब और कैसे उनके नाम से 80 शेयर जारी कर दिए. ओफ्ओह..कितने भोले हैं कपिल सिब्बल जैसे बड़े वकील-नेता और केंद्रीय मंत्री. उन्हें कुछ नहीं पता. धीरे-धीरे परतें खुल रही हैं. और कई और चेहरे बनेकाब होने बाकी हैं. इंतजार कीजिए.

पत्रकार नदीम एस. अख्तर के फेसबुक वॉल से.

नई दुनिया, रायपुर से राजीव शर्मा का इस्तीफा, नीलकण्ठ भट्ट छोड़ेंगे सहारा

नई दुनिया, रायपुर से राजीव कुमार शर्मा ने इस्तीफा दे दिया है. डेढ़ साल पहले उनका ट्रांसफर दैनिक जागरण, अलीगढ़ से नई दुनिया, रायपुर बतौर सबएडिटर कर दिया गया था. वे वहां डेस्क और रिपोर्टिंग दोनों सम्भाल रहे थे. दूर होने की वजह से उन्हें काफी दिक्कतें आ रही थी इसलिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया. अलीगढ़ में उन्होंने काफी अच्छी पालिटिकल रिपोर्टिंग की थी इसलिए कुछ लोग उनसे अन्दर-अन्दर जलते थे और उनका ट्रांसफर रायपुर कर दिया गया था. 
 
सहारा, देहरादून से खबर है कि नीलकण्ठ भट्ट जल्द ही सहारा को अलविदा कह सकते हैं. जल्द ही वे मिडडेएक्टिविस्ट देहरादून के साथ अपनी नई पारी शुरू करने वाले हैं. नीलकण्ठ उन स्टिंगरों में थे जो सहारा देहरादून द्वारा अगस्त में आयोजित परीक्षा में बैठे थे. सहारा की इस परीक्षा में केवल एक ही स्टिंगर सफल हुआ था. सहाराकर्मी प्रबंधन के इस परीक्षा लिए जाने से नाराज चल रहे हैं. खबर है कि जल्द ही और लोग इस्तीफा दे सकते हैं.
 
भड़ास तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए bhadas4media@gmail.com पर मेल भेज सकते हैं

विजय जोली की हरकत से बीजेपी का महिलाओं के प्रति रुख पता चलता है

Sanjay Sharma : बीजेपी महिलाओं के प्रति कितनी उदार है आज दिख गया …बीजेपी नेता विजय जोली ने आज शोमा चौधरी के घर जाकर उनकी नेम प्लेट पर और उनके घर पर कालिख पोती ..क्या शोमा चौधरी महिला नहीं है ..शर्मनाक ..जोली साहेब आपके सबसे बड़े नेता और उनके चेले सारे नियम तोड़ कर एक महिला का सालों तक पीछा करवाते रहे, क्या उनके ऊपर कालिख नहीं पोतेंगे?

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और वीकएंड टाइम्स के संपादक संजय शर्मा के फेसबुक वॉल से.

टीआरपी : एबीपी न्यूज नंबर दो पर, इंडिया न्यूज फिर चौथे पोजीशन पर

47वें हफ्ते की टीआरपी में दो महत्वपूर्ण बदलाव हुए हैं. इंडिया टीवी नंबर दो से तीन की पोजीशन पर पहुंच गया है. एबीपी न्यूज ने दूसरे नंबर के चैनल की कुर्सी हासिल कर ली है. आजतक हमेशा की तरह नंबर एक पर कायम है. उसे कोई दूर-दूर तक चुनौती देने वाला नहीं हैं.

इंडिया न्यूज ने अच्छी बढ़ते लेते हुए जी न्यूज और न्यूज24को पीछे धकेलते हुए नंबर चार की कुर्सी फिर हथिया ली है. एनडीटीवी ने नए चैनल न्यूज नेशन की बढ़त रोक दी है. हालांकि न्यूज नेशन अब भी आईबीएन7, समय और डीडी जैसे चैनलों से आगे है. पूरा आंकड़ा ये है….

WK 47 2013, (0600-2400)
Tg CS 15+, HSM:
Aaj Tak 17.0 dn 0.7
ABP News 14.5 up 1.2
India TV 13.8 up 0.3
India news 8.5 up 0.2
ZN 8.5 dn 0.6
News 24 7.7 dn 0.8
NDTV 7.0 up 0.8
News Nation 7.0 up 0.2
IBN 5.7 dn 0.3
Samay 4.5 same
DD 3.2 dn 0.4
Tez 2.6 up 0.1

Tg CS M 25+ABC
Aaj Tak 16.4 dn 0.9
ABP News 14.1 up 1.7
India TV 13.9 same
India news 9.4 up 1.0
ZN 9.0 same
NDTV 8.5 up 0.7
News Nation 7.1 up 0.7
News24 6.7 dn 1.8
IBN 6.1 dn 0.7
Samay 4.0 up 0.2
DD 2.5 dn 1.1
Tez 2.4 up 0.2
 


इससे पहले वाले हफ्ते का पढ़ें…

रजत शर्मा के स्क्रीन पर आने से इंडिया टीवी की टीआरपी में उछाल

सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार ने कहा- मुज़फ्फरनगर दंगे गुजरात दंगों की तरह नहीं

सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा मुज़फ्फरनगर सहित समाजवादी पार्टी के कार्यकाल में हुए सभी दंगों की सीबीआई जांच कराये जाने सम्बन्धी पीआईएल में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के दायर हलफनामे में कहा गया है कि मुजफ्फरनगर दंगों की तुलना 2002 के गुजरात दंगों से नहीं की जा सकती है. गृह सचिव कमल सक्सेना द्वारा दायर हलफनामे में राज्य सरकार के कार्यों का बचाव करते हुए इस बात से इनकार किया गया है कि सरकार के कर्मचारियों ने किसी धर्म-विशेष के प्रति पक्षपात किया है.

राज्य सरकार ने इस बात को भी पूरी तरह गलत बताया है कि मुज़फ्फरनगर दंगे 27 अगस्त 2013 के छेड़छाड़ और तिहरे हत्याकांड से जुड़ा हुआ है. यहाँ तक कि मृतकों की अंत्येष्ठी के बाद पथराव और आगजनी,  30  अगस्त को जुमे की नमाज़ के बाद शहीद चौक पर भारी भीड़ के जमा होने तथा 31 तारीख को जाट समुदाय द्वारा पंचायत आयोजित किये जाने जैसे अभिलेखों पर उपलब्ध तथ्यों को भी राज्य सरकार ने हलफनामे पर इनकार किया है.

डॉ ठाकुर के इस आरोप कि मार्च 2012 के बाद राज्य में कई साम्प्रदायिक दंगे हुए हैं, के विषय में हलफनामे में कहा गया है कि “उत्तर प्रदेश राज्य के देश के सबसे बड़े राज्यों में होने के कारण क़ानून व्यवस्था सम्बंधित कई सारी घटनाएं होती ही रहती हैं” और उनसे “अंततोगत्वा और तेजी के साथ”  निपटा जाता है, यद्यपि उनके द्वारा मथुरा, प्रतापगढ़, बरेली, फैजाबाद सहित कई दंगों के सम्बन्ध में प्रस्तुत ढिलाई के बारे में हलफनामे में कोई भी तथ्यपरक बात नहीं बतायी गयी हैं

इसी प्रकार से इस हलफनामे में लखनऊ पुलिस द्वारा 18 अगस्त 2012 को म्यांमार और असम में मुस्लिमों पर किये गए उत्पीडन के विरोध में आयोजित प्रदर्शन में बुद्ध पार्क में किये गए भारी तोड़फोड़ और जुलाई 2013 में शिया-सुन्नी दंगों में की गयी कमजोर कार्यवाही के सम्बन्ध में भी स्थिति स्पष्ट नहीं की गयी है.
 

पंजाब केसरी के पत्रकार का कैमरा तोड़ा, जान से मारने की धमकी

धर्मशाला: कांगड़ा के पंजाब केसरी के पत्रकार अविनाश वालिया का कैमरा तोड़ने व अभद्र व्यवहार और जान से मारने की धमकी देने पर पुलिस ने आई.पी.सी. की धाराओं 341, 506 और 504 के तहत मामला दर्ज किया है। बुधवार को जिला के पत्रकारों ने धर्मशाला प्रैस कल्ब अध्यक्ष राकेश पठानिया के नेतृत्व में पुलिस से मिलकर शीघ्र ही अपराधियों को गिरफ्तार करने की मांग की.
 
पुलिस थाना प्रभारी मोहिंद्र सिंह मन्हास ने बताया कि पत्रकार अविनाश की शिकायत पर पुलिस ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। टूटा हुआ कैमरा पुलिस ने कब्जे में लिया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। उन्होंने कहा कि इस मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी और दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा.
 
धर्मशाला प्रेस क्लब के अध्यक्ष राकेश पठानिया, महासचिव शशि भूषण पुरोहित सहित जिले के कई वरिष्ठ पत्रकारों ने घटना की निंदा की और पत्रकारों की सुरक्षा के लिए सरकार से सख्त कदम उठाने की मांग की.
 
 

आज नहीं पेश होंगे तेजपाल, मांगा शनिवार तक का वक्त

तेजपाल के गोवा पुलिस के सामने पेश होने की समय सीमा भले ही आज तीन बजे तक समाप्त हो रही है लेकिन तेजपाल आज गोवा पुलिस के समक्ष पेश नहीं होंगे. तेजपाल ने गोवा पुलिस को पत्र लिखकर शनिवार तक का वक्त मांगा है. तेजपाल ने कहा है कि उन्हें पुलिस का सम्मन देरी से मिला है अतः इतनी जल्दी गोवा आना सम्भव नहीं है. गोवा पुलिस ने इस पत्र की पुष्टि की है. हालांकि पुलिस ने अभी कोई जवाब नहीं दिया है.
 
कल पीड़िता का बयान दर्ज करने के बाद गोवा पुलिस ने तेजपाल को तीन बजे तक पुलिस के सामने पेश होने का आदेश दिया था. लेकिन तेजपाल के इस पत्र से स्पष्ट हो गया है कि तेजपाल आज पुलिस के सामने पेश नहीं होने वाले हैं. अब उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट भी जारी किया जा सकता है.
 
इसके पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत की याचिका को खारिज करते हुए फैसला 29 नवम्बर तक टाल दिया था. तेजपाल कोर्ट का फैसला आने के पहले पुलिस के सामने पेश होने से बचना चाह रहे हैं. उन्हें डर है कि पेश होने पर पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर सकती है.

आनलाइन शॉपिंग कम्पनी होमशॉप 18 का फ्रॉड देखिए

यशवंत जी, मैंने दिनांक 11 नवंबर को होमशॉप 18 की वेबसाइट से एक गीजर आर्डर किया था. उस वक़्त बताया गया कि उत्पाद 20 नवंबर तक पहुंचा दिया जाएगा, परन्तु 21 नवंबर कि शाम 8 बजे तक उत्पाद की शिपमेंट भी नहीं हुआ था. जब मैंने ग्राहक देखभाल सेवा में फ़ोन लगाया तो उन्होंने कहा कि देरी के लिए क्षमा चाहते हैं. आपका सामान हमारे एंड से डिलीवरी के लिए निकल चुका है और 23 नवंबर तक आपके घर पहुंचा दिया जाएगा। बात ख़त्म होने के 10 मिनट के अंदर होमशॉप 18 के मेरे अकाउंट में शिपमेंट की डिटेल अपडेट कर दी गई. साथ ही मेरे मोबाइल फ़ोन पर इससे सम्बंधित एक एसएमएस भी प्राप्त हुआ, जिसमे बताया गया था कि उत्पाद रेड एक्सप्रेस नमक कूरियर से भेजा गया है, जिसका एडब्लूबी नंबर 17292 है. जब मैंने उपरोक्त कूरियर कंपनी कि वेबसाइट पर जाकर ट्रैक किया तो उसमे किसी पुराने शिपमेंट/डिलीवरी कि डिटेल दिख रही थी. मैंने  पुष्टि के लिए सम्बंधित कूरियर कंपनी की ग्राहक सेवा में फ़ोन करके पूछा तो उन्होंने बताया कि गलत एडब्लूबी नंबर दिया गया है, आप सम्बंधित कंपनी से संपर्क करें। 
 
जब मैंने होमशॉप 18 की ग्राहक देखभाल अधिकारी को बताया तो उन्होंने कहा कि अगले 24 घंटे में आप शिपमेंट ट्रैक कर पाएंगे। मैंने विश्वास करके फ़ोन रख दिया। फिर 22 नवंबर कि रात को ट्रैक किया तो भी वही पुराना डिटेल दिख रहा था. जब मैंने पुनः होमशॉप 18 की ग्राहक देखभाल अधिकारी से बात की तो उन्होंने कहा कि भले ही आप ट्रैक नहीं कर पा रहे हैं, लेकिन कल शाम तक उत्पाद आपके घर तक जरूर पहुँच जाएगा। मैंने फिर से विश्वास कर लिया, परन्तु 23 नवंबर को भी मुझे सामान नहीं मिला। जब मैंने फिर से होमशॉप 18 की ग्राहक देखभाल अधिकारी से बात की तो उन्होंने कहा कि दरअसल आपका उत्पाद मैन्युफैक्चरर सेल्फ डिलीवरी सर्विस के माध्यम से भेजा गया है, इसी वजह से आप शिपमेंट की स्टेटस चेक नहीं कर पा रहे हैं. हम एक बार फिर आपसे देरी के लिए माफ़ी चाहते हैं और आपको विश्वास दिलाते हैं कि आपका सामान 25 नवंबर तक जरूर पहुंचा दिया जाएगा। 
 
जब मैंने कहा कि अब मुझे गीजर नहीं चाहिए, आप आर्डर कैंसिल करके मेरा पैसा रिफंड कर दीजिये, तो उन्होंने कहा कि, हम क्षमा चाहते हैं, इस स्टेज पर आर्डर कैंसिल नहीं किया जा सकता, इसलिए यदि आपको प्रोडक्ट नहीं चाहिए तो जब यह आपको डिलीवरी की जायेगा, तो आप उसे एक्सेप्ट नहीं कीजियेगा। मैंने उनसे जब ब्याज हानि की बात की तो उन्होंने कहा कि हमारी पालिसी इस तरह के किसी भी हानि के लिए मुआवजा देने के लिए बाध्य नहीं है. आप कल तक इंतज़ार कर लीजिये, आपका प्रोडक्ट बेसिस पर डिलीवर करवाने के लिए यहाँ से मेल कर दिया गया है. आजिज आकर मैंने फेसबुक पर यह लिखा कि इस फ्रॉड कंपनी से सामान न खरीदें। बावजूद इसके आज भी डिलीवरी नहीं मिली। जब मैंने आज फिर होमशॉप 18 की ग्राहक देखभाल अधिकारी से बात की तो उन्होंने फिर से कहा कि अगले दो दिन में सामान आपके घर तक पहुंचा दिया जाएगा। अब आप लोग ही बताएं कि क्या यह कंपनी फ्रॉड नहीं है? नीचे बिल के कुछ स्क्रीनशाट दिये जा रहे हैं।
 
चैतन्य चन्दन 
सम्पर्क- 09654764282
 

पत्रकार सुरेश गांधी को एनएचआरसी चेयरपरसन ने दिया शीघ्र न्याय का आश्वासन

भदोही के पत्रकार सुरेश गांधी सोमवार को जनसुनवाई के लिए वाराणसी आये राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के चेयरपरसन जस्टिस एसएच केजी बालाकृष्णन से मिलकर अपनी समस्या बताई। उन्हें सौंपे आवेदन के जरिए उत्पीड़नात्मक कार्रवाई को विस्तार से बताया। चेयरपरसन और आयोग के सचिव श्री परासर जी ने आश्वासन दिया है कि आयोग ने मामले को गंभीरता से लिया है। जांच एवं पूछताछ चल रही है, आपको न्याय मिलेगा। दोषी अफसरों को बख्शा नहीं जायेगा। 
 
गौरतलब है कि इसके पहले आयोग के असिस्टेन्ट रजिस्ट्रार(ला) ने आईजी को पूर्व में भेजे गए नोटिस का जबाब न देने पर रिमाइंडर भेजा है। जिसमें कहा गया है कि नियति तिथि 9 दिसम्बर तक जवाब न मिलने पर कार्रवाई होगी। धारा 113 एनएचआरसी के तहत कार्रवाई होगी। उल्लेखनीय है कि श्री गांधी को पुलिस ने हाईकोर्ट के रोक व जिला न्यायालय से अंतरिम आदेश तक जमानत मिलने के बावजूद कोतवाल संजयनाथ तिवारी व उनके हमराहों ने सरेराह बेइज्जत कर मारा-पीटा और फर्जी मुकदमा दर्ज कर चार्जशीट लगाई है और कोतवाल ने मकान मालिक विनोद गुप्ता व सुमित गुप्ता निवासी काजीपुर रोड भदोही के साथ साजिश कर न सिर्फ रंगदारी मांगने की झूठी रपट दर्ज कर दी बल्कि कमरे का ताला तोड़कर सारा सामान लुटवा दिया है। जिसमें विवाह मिले व 15 सालों में कमाई की गृहस्थी के सारे सामान, दो कम्प्यूटर सेट, कैमरा, विडियों कैमरा, आज तक लोगो, आलमारी, फ्रिज, वाशिंग मशीन, रंगीन टीवी, पंलग, कपड़े व कमरों में रखे अन्य सभी कीमती लगभग 20 लाख के सामान उठा ले गये। 
 
श्री गांधी के प्रशासनिक व पुलिस उत्पीड़नामक कार्रवाई के मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने डीएम, एसपी व कोतवाल समेत प्रमुख गृह सचिव को नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है। इसके अलावा पुलिस द्वारा दर्ज मुकदमों पर रोक लगा दी है। इधर श्री गांधी ने आईजी जोन से मिलकर कहा है कि मकान मालिक के खिलाफ न्यायालय से रपट दर्ज होने के बावजूद पुलिस न ही लूट के सामानों की बरामदगी और ना गिरफतारी ही कर रही है। इससे इस ठंड में बच्चों की पढाई लिखाई, रहन-सहन प्रभावित तो हो ही रहा है प्रार्थी अपनी पत्रकारिता भी नहीं कर पा रहा है।

शोमा चौधरी के इस्तीफा देने के बाद तेजपाल सेक्स स्कैंडल में नया मोड़

तरुण तेजपाल सेक्स कांड में नया मोड़ तब आ गया जब तहलका पत्रिका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने अपने पद से आज सुबह इस्तीफ़ा दे दिया. यौन शोषण का आरोप लगाने वाली क्लिक करें महिला पत्रकार व कुछ और पत्रकार भी तहलका से इस्तीफ़ा दे चुके हैं. तहलका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी पर तरुण तेजपाल को बचाने के आरोप लग रहे हैं. उन पर तेजपाल के खिलाफ यौन उत्पीड़न मामले को दबाने की कोशिश के भी आरोप लगे हैं.

इस मसले पर शोमा ने कहा है कि मामले को दबाने के या पीड़ित एवं उसके परिवार को धमकाने का के आरोपों से मैं दुखी हूं. शोमा चौधरी ने अपने इस्तीफे में कहा है कि पिछले एक हफ्ते से मुझ पर लीपापोती (मामले में) करने के प्रयास और महिलावादी रुख नहीं अपनाने का आरोप लग रहा है. मैं स्वीकार करती हूं कि मैं कई चीजों को अलग ढंग से कर सकती थी और अधिक नपे तुले ढंग से, लेकिन मैं लीपापोती के आरोपों को खारिज करती हूं. उन्होंने कहा कि अपने महिलावादी रुख को लेकर मेरा मानना है कि मैंने हर चीज पर अपनी सहकर्मी की बात को प्राथमिकता देकर उसी के अनुरुप काम किया.
 
शोमा ने इस्तीफे में लिखा है कि मेरे प्रयासों के बावजूद पिछले कुछ दिनों में मेरी ईमानदारी पर हमारी बिरादरी और जनता द्वारा बार-बार सवाल उठाए जाते रहे हैं. मैं इसका संज्ञान लेना चाहूंगी. उन्होंने कहा कि मैंने कई साल तक तहलका के लिए कड़ा परिश्रम किया है. मैं तहलका की छवि को कलंकित होने से बचाने के लिए अपनी ईमानदारी पर सवाल नहीं उठने देना चाहती. शोमा ने लिखा है कि इसलिए, मैं तत्काल प्रभाव से प्रबंध निदेशक पद से इस्तीफा देती हूं. तहलका में शेयर धारक और तेजपाल द्वारा शुरू की गई कंपनियों से जुड़ी शोमा पर मामला सामने आने के बाद आरोप लगा कि उन्होंने इस इस पर परदा डालने का काम किया और मामले में उचित कार्रवाई नहीं की.

मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी ने दिया तहलका से इस्तीफा

तहलका कांड की आंच कम होने का नाम नहीं ले रही है. अब तहलका की मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी ने विवाद बढ़ता देख तहलका से इस्तीफा दे दिया है. आज सुबह पांच बजे ई-मेल से शोमा ने अपना इस्तीफा भेज दिया. शोमा पर तेजपाल को बचाने के आरोप लग रहे थे. शोमा के इस इस्तीफे से पत्रिका पर संकट के बादल छा गये हैं.
 
तेजपाल के केस को मैनेजमेंट के द्वारा हैंडल किये जाने के तरीके पर चारों तरफ सवाल उठ रहे थे. कहा जा रहा था कि महिला अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाली शोमा चौधरी अभी तक इस मसले पर चुप क्यों हैं. पीड़िता ने भी शोमा चौधरी पर शिकायत दबाने का आरोप लगाया था.
 
शोमा ने इस्तीफे को भेजे ई-मेल में लिखा है कि "तहलका से जुड़े सभी लोगों के लिए ये वक्त बेहद मुश्किल भरा है. हालांकि मैं इस मामले को कुछ और बेहतर तरीके से संभाल सकती थी, लेकिन मैं इसे दबाने के किसी भी तरह के आरोपों को खारिज करती हूं. महिला अधिकारों की समर्थक होने के नाते मैंने इस मामले में साथी पत्रकार की बात को पूरी तरह से सामने रखा."
 
उधर शोमा के इस्तीफा देते ही इस मसले पर राजनीति भी तेज हो गई. बीजेपी ने शोमा के घर के बाहर प्रदर्शन किया है तथा इस मसले में तरुण तेजपाल को बचाने का आरोप लगाते हुए शोमा चौधरी की गिरफ्तारी की भी मांग की. पार्टी का कहना है कि शोमा ने पीड़िता का साथ देने के बजाय उससे ही मामले को दबाने को कह दिया जो कि अपराध है.

बनारस के पत्रकारपुरम में अवैध धनउगाही का मामला हुआ उजागर

अच्छाई का जामा ओढ़कर भ्रष्टाचार और अन्याय के खिलाफ लड़ाई के जरिये शोहरत बटोरने वाले तहलका डॉट कॉम के संपादक तरुण तेजपाल द्वारा अपनी मातहत महिला रिपोर्टर का यौन शोषण के आरोप ने उनके के अच्छाई के चोले को ऐसा सरकाया कि वे बिल्कुल नंगे हो गये। कुछ ऐसा ही हुआ है बनारस के पत्रकारपुरम में। पत्रकारों के हक और हुकूक की लड़ाई लड़ने और पत्रकारपुरम में विकास का दावा करने वाले दो पत्रकार संगठनों के कुछ पूर्व व वर्तमान पदाधिकारियों पर अवैध धनउगाही के आरोप लगे हैं। 
 
पत्रकारपुरम में रहने वाले पत्रकारों में इस बात की जोरदार चर्चा है कि इन लोगों ने पत्रकारपुरम में विभिन्न प्रयोजनों से मंगाई जाने वाली मिट्टी से लदे ट्रक्टरों से 50-50 रुपये अवैध वसूली करने के अलावा यहां के खाली मैदान को वैवाहिक समारोहों के लिए देकर अवैध धनउगाही की। यही वजह थी कि पत्रकारपुरम में रहने वाले पत्रकारों की अपनी संस्था पत्रकारपुरम आवासीय समिति का गठन हुआ जिसका काशी पत्रकार संघ के पूर्व अध्यक्ष योगेश कुमार गुप्त, वर्तमान अध्यक्ष कृष्णदेव नारायण राय, महामंत्री राजेंद्र रंगप्पा और उपजा की स्थानीय इकाई के निवर्तमान अध्यक्ष विनोद बागी ने जोरदार विरोध किया पर उन्हें मुंह की खानी पड़ी। क्योंकि इसके पीछे इन्हीं लोगों को जिम्मेदार माना जा रहा है।
 
इस प्रकरण की तफ्तीश के लिए जब क्लाउन टाइम्स ने पत्रकारपुरम आवासीय समिति के महामंत्री राकेश चतुर्वेदी से संपर्क किया तो उन्होंने वैवाहिक समारोहों की आड़ में धनउगाही और मिट्टी लेकर आने वाले ट्रैक्टरों से 50-50 रुपये की वसूली होने की बात कही। कहा कि इसी कारणवश उपजा के विनोद बागी और काशी पत्रकार संघ से जुड़े योगेश कुमार गुप्त व केडीएन राय को समिति की काली सूची में डाल दिया गया है। ये लोग ही अवैध वसूली के लिए जिम्मेदार हैं। समिति ने इसका जोरदार ढंग से विरोध किया है। अपनी पोल-पट्टी खुलने के डर से विनोद बागी, केडीएन राय और योगेश कुमार गुप्त हम लोगों से बात करने में कतराते रहे। जब हम लोगों ने पत्रकारपुरम आवासीय समिति के माध्यम से यहां काफी विकास कार्य कराया तो ये सब पत्रकारों के इन तथाकथित हितैसियों के गले नहीं उतरा।
 
इस बारे में उपजा के निवर्तमान जिला मंत्री प्रदीप जी ने क्लाउन टाइम्स से बातचीत के दौरान बताया कि हमारे संघटन के विनोद बागी और काशी पत्रकार संगठन के योगेश गुप्त को जिम्मेदार ठहराया। उनका कहना था कि इन लोगों द्वारा पत्रकारपुरम में आने वाले मिट्टी से लदे ट्रैक्टरों से 50-50 रुपये की वसूली कराई जाती रही थी। इस अवैध वसूली की धनराशि की बंदरबांट दोनों संगठनों के पदाधिकारी करते रहे। बताया कि हम लोगों के साथ इन लोगों ने बाकायदा मीटिंग में यह बात स्वीकार की थी कि 50-50 नहीं बल्कि 25 रुपये प्रति ट्रैक्टर के हिसाब से वसूली की जा रही थी। यह वसूली केवल पत्रकारपुरम में सड़क निर्माण के लिए आने वाली मिट्टी से लदे ट्रैक्टरों से ही नहीं बल्कि वहां रहने वाले पत्रकार साथियों के लिए मिट्टी लाने वाले ट्रैक्टरों से भी की जा रही थी। उन्होंने बताया कि श्री बागी पिछले 8 वर्षों से उपजा का चुनाव न कराकर केवल मनोनयन करा पद पर बने रहे और हम लोगों को काम करनें नहीं दिया। इसी के चलते उपजा की स्थानीय इकाई को भंग कर फिलहाल स्थानीय स्तर पर प्रभारी अनिल अग्रवाल को बनाया गया है।
 
इस बारे में उपजा के निवर्तमान अध्यक्ष विनोद बागी ने क्लाउन टाइम्स को बताया कि वसूली उपजा के प्रदीप तथा उनके लोग करा रहे थे, जब मामला मेरे संज्ञान में आया तो मैंने मना कर दिया। श्री बागी ने कहा कि वे आरोप प्रत्यारोप में विश्वास नहीं रखते। रही बात चुनाव करानें कि तो जब भी मैं अपनें लोगों को इसके लिये कहता था तो वे लोग मनोनयन की बात करके टाल जाते थे। स्थानीय इकाई को भंग करना गलत है।
 
सूत्रों की मानें तो पत्रकारपुरम में आने वाले मिट्टी लदे ट्रैक्टरों से 50-50 रुपये की वसूली का काम पत्रकारपुरम के गेट पर चाय की दुकान चलाने वाले व्यक्ति से कराया जा रहा था। जब उसके पास काफी पैसा इकट्ठा हो जाता था तो वसूली कराने वाले लोग इसकी बंदरबांट आपस में कर लेते थे। इसके अलावा इन लोगों द्वारा आसपास रहने वालों को वैवाहिक समारोहों के लिए पत्रकारपुरम का खाली मैदान दिया जा रहा था। इसके बदले एक से डेढ़ हजार रुपये तक की वसूली किये जाने की बात चर्चा में है। इस प्रकार की वसूली के जरिये अब तक 40 से 50 हजार रुपये की उगाही किये जाने की बात सामने आई है। इसकी भनक लगने पर पत्रकारपुरम में रहने वाले पत्रकार साथियों में आक्रोश होना स्वाभाविक था। नतीजतन पत्रकारपुरम आवासीय समिति का गठन हुआ। इस समिति के अध्यक्ष चेतन स्वरूप, महामंत्री राकेश चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष डॉ. शैलेंद्र भारती व अरविंद सिंह, प्रदीप जी मंत्री और संजय कोषाध्यक्ष चुने गये। इस समिति के गठन में धर्मेंद्र सिंह और विकास पाठक की अहम भूमिका रही।
 
बहरहाल बुरे काम का बुरा नतीजा तो होता ही है। एक ओर जहां उपजा की स्थानीय इकाई भंग कर दी गई वहीं दूसरी ओर काशी पत्रकार संघ का वजूद खतरे में पड़ा हुआ है। वर्तमान में काशी पत्रकार संघ के अध्यक्ष और महामंत्री राजेंद्र रंगप्पा निर्वाचित कार्यसमिति के पंजीयन के लिए दर-दर भटक रहे हैं। पहले ये दोनों सहायक रजिस्ट्रार (सोसायटीज एंड चिट्स) के यहां दौड़ लगा रहे थे लेकिन वे इस काम में सफल नहीं हो पाये। अब यह मामला एसडीएम सदर के यहां पहुंच गया है, लिहाजा ये लोग उनके यहां चक्कर लगा रहे हैं। इस समय बनारस में काशी पत्रकार संघ, उपजा की स्थानीय इकाई, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जर्नलिस्ट एसोसिएशन आदि कई पत्रकार संघटन हैं लेकिन पत्रकारों और गैर पत्रकारों के हक और हुकूक की असली लड़ाई मात्र एक संगठन समाचार पत्र कर्मचारी संगठन के मंत्री अजय मुखर्जी कर रहे हैं। इसने स्थानीय श्रम कार्यालय से लेकर हाईकोर्ट तक के माध्यम से पत्रकारों को उनका हक दिलाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। खबर पत्रकार साथियों से बातचीत व चर्चाओं पर आधारित है, इसकी सच्चाई की तफ्तीश स्वयं करें।
 
साभार-क्लाउन टाइम्स

कमल सिंह को पलकों पर बिठाने वाले ही अब दे रहे गालियां

जादूगोड़ा : कमल जब खिला हुआ रहता है तो सब उसे पाने के लिए लालायित रहते हैं और जब वह मुरझा जाता है तो कोई उसे देखना भी पसंद नहीं करता है, कुछ ऐसा ही वाकया है जादूगोड़ा के महाठग चिटफंड किंग कमल सिंह का. हम बात कर रहे हैं आज से एक साल पहले जादूगोड़ा में कमल सिंह के राजशाही ठाट के. शादी विवाह हो या कोई भी बड़ा समारोह कमल सिंह ही मुख्य अतिथि रहते थे लोग कमल को बुलाना अपनी शान समझते थे. 
 
पिछले साल जादूगोड़ा के दुर्गा पूजा पंडालो में कमल सिंह मुख्य अतिथि के रूप में स्टेज में रहते था जबकि यूसिल के बड़े बड़े अधिकारी नीचे बैठकर उसे देखते रहते थे. कमल सिंह बीस लाख की टाटा आर्या में घूमते थे. उसके पास दर्ज़नो मंहंगी कारे थी. वो सबसे मंहगा मोबाइल इस्तेमाल करता था और हर दो-तीन महीने में मोबाइल बदलता था. लोग उसके एक नजर को दीदार रहते थे कि इतना बड़ा आदमी जादूगोड़ा में है.
 
अब कमल के लोगों का अरबों डुबोकर जादूगोड़ा से भाग जाने के बाद वहीं लोग जिन्होंने कमल को भगवान का दर्ज़ा दे रखा था, गालियां दे रहे हैं. कल तक अपने बेटे पर फक्र करने वाले कमल सिंह के पिता मुनमुन सिंह का कहना है कि मुझे मेरे बेटे की करनी का फल भोगना पड़ रहा है. लेकिन सच्चाई यह है की कमल के पिता ने सिर्फ कमल के पैसे देखे बल्कि कभी भी यह जानने की कोशिश नहीं किया की कमल कहां से पैसा ला रहा है. प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मुनमुन सिंह कमल के कारोबार में शामिल थे जिसकी सजा उनको एवं उनकी पत्नी राजमणी देवी को भुगतना पड़ रही है. 
 
कमल के पिता मुनमुन सिंह एवं उसकी मां राजमणी देवी की गिरफ्तारी उन अभिभावकों के लिए सबक है जो आँखे बंद करके बच्चो के गलत कामो में उनका साथ देते हैं.
 
कमल के भाग जाने के बाद अब लोग उसे गालियां दे रहे हैं लेकिन कमल के कंपनी में लाखों निवेश करते वक्त किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि आखिर वह इतना बड़ा रिटर्न कहां से दे रहा है.
 
एक पत्रकार द्वारा भेजे गये पत्र पर आधारित


जादूगोड़ा चिटफंड घोटाले से जुड़ी अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- भड़ास पर जादूगोड़ा

 

चंचल बीएचयू के बहाने कुछ फ़ेसबुकिया गुफ़्तगू

फ़ेसबुक पर हमारे एक मित्र हैं चंचल जी। फ़ेसबुक पर बेहद सक्रिय रहते हैं। पुराने समाजवादी हैं। चुनाव वगैरह भी लड़ चुके हैं। हार चुके हैं। कलाकार हैं। पर राजनीति में गहरी दिलचस्पी रखते हैं। एक समय हम उन्हें बी चयू के छात्र संघ के अध्यक्ष के रुप में जानते थे। जानते क्या थे, सुनते थे। गोरखपुर के इलाहीबाग मुहल्ले में हमारे एक पड़ोसी रहे हरिकेश प्रताप बहादुर सिंह जो हमें बड़े भाई की तरह तब प्यार करते थे, बचपन में। खेलते भी थे हम लोग साथ में। हालांकि वह बड़ी गोल के थे और हम छोटी गोल के। मतलब बहुत सीनियर थे तब हम से वह उम्र में। वह भी बीएचयू के छात्र संघ के अध्यक्ष रहे हैं और राजनीति में भी। गोरखपुर से दो बार सांसद भी रहे हैं। अब वह भी कांग्रेस में हैं। लेकिन साफ-सुथरी राजनीति के चलते परिदृष्य से भी बाहर हैं। 
 
कभी जब मैं दिल्ली में रहता था तो वह भी मीना बाग में रहते थे। उस इलाके में किसी भी शाम  वह टहलते हुए मिल जाते थे। संसद भी बस से जाते थे। अच्छे पार्लियामेंटेरियन के रुप में जाने जाते थे। सादगी में लिपटे, ईमानदार और सिद्धांतों की गांठ के पक्के इस पीढ़ी के राजनीतिज्ञ मैने बिरले ही देखे हैं। हरिकेश प्रताप बहादुर सिंह को याद कर के भी मन सादगी से भर जाता है। उनके कई किस्से हैं मेरे पास। मेरा एक उपन्यास है वे जो हारे हुए। उस उपन्यास में वह एक राजनीतिज्ञ के चरित्र में उपस्थित हैं। अपनी पूरी गरिमा के साथ। लेकिन उस चरित्र की छाप देखिए कि रांची में प्रभात खबर के संपादक हरिवंश जी ने जब वह उपन्यास पढ़ा तो मुझ से पूछ लिया उन्हों ने कि क्या यह चरित्र हरिकेश बहादुर का है? मैने बताया कि हां, वही हैं। पर आप कैसे जान गए? तो वह बोले कि मैं भी बीएचयू का ही पढ़ा-लिखा हूं, जान गया। फिर वह हरिकेश जी के झारखंड के कांग्रेस प्रभारी होने के ज़िक्र पर आए और बताने लगे कि जो भी कांग्रेस का प्रभारी यहां आता है, अरबपति बन कर लौटता है। पर हरिकेश ने एक पैसा नहीं छुआ। हरिकेश जी, एक बार उत्तर प्रदेश कांग्रेस में भी उपाध्यक्ष थे। लेकिन प्रदेश कांग्रेस के दफ़्तर में एक बार एक स्त्री के साथ कुछ अराजक तत्वों ने रात का फ़ायदा उठा कर कुछ अप्रिय किया तो हरिकेश बाबू ने तुरंत इस्तीफ़ा दे दिया था, इस घटना के विरोध में। यह कह कर कि जिस पार्टी के प्रदेश कार्यालय में एक स्त्री के साथ कुछ अराजक तत्व ही सही कुछ अप्रिय कर देते है और हम अपने कार्यालय को सुरक्षित नही रख सकते तो हमें अपने पद पर रहने का क्या अधिकार है? खैर यह भी बहुत पुरानी बात हो गई।
 
बीएचयू के एक और छात्र संघ अध्यक्ष हुए हैं शतरुद्र प्रकाश। उनसे तो मित्रता ही है। उनकी पत्नी क्या उन की भी दोस्त ही हैं अंजना प्रकाश। वह भी उपाध्यक्ष रही हैं बीएचयू की। वह भी मेरी बहुत अच्छी मित्र हैं। मेरी कहानियों और उपन्यासों की बेबाक प्रशंसिका भी। हर दुख-सुख में खड़ी हो जाने वाली मित्र भी। वर्ष १९९८ में जब मैं एक बड़ी दुर्घटना के बाद जीवन और मृत्यु से जूझ रहा था तो शतरुद्र जी और अंजना जी कैसे तो संबल बन कर मेरे उस दुख में दिन रात एक किए थे। मैं वह कैसे भूल सकता हूं। अंजना जी के बड़े भाई आनंद कुमार जी मुझे इतना स्नेह देते हैं, छोटे भाई आलोक जी भी कितना चाहते हैं यह सब यहां बताने का विषय नहीं है। अब पूर्वी उत्तर प्रदेश आंदोलन की बात भले स्थगित है पर शतरुद्र प्रकाश और अंजना प्रकाश के उस संघर्ष को समय दर्ज किए हुए है। यह सब फिर कभी।
 
खैर वे जो हारे हुए में बीएचयू के एक और छात्र संघ अध्यक्ष का ज़िक्र है। उन को भी लोगों ने पहचान लिया। लेकिन उन का ज़िक्र एक लतीफ़े के तौर पर है। सो उनको पहचानना भी आसान था, है। उन की एक अंगरेजी बहुत मशहूर हुई थी तब, आई टाक तो आइयै टाक, यू टाक तो यूवै टाक, डोंट टाक इन सेंटर-सेंटर ! तो वह पहचान लिए गए। लेकिन एक बार मिले वह लखनऊ में गलती से। हुआ यह कि तब अटल जी लखनऊ आए हुए थे और मैं उनका इंटरव्यू करने पहुंचा हुआ था। माल एवेन्यू के एक गेस्ट हाऊस में वह ठहरे हुए थे। बाहर के कमरे में मुरली मनोहर जोशी भी अटल जी से मिलने के लिए बैठे हुए थे। और भी कुछ लोग प्रतीक्षारत थे। मैं भी बैठ गया। कि तभी एक जनाब आए और जब जाना कि मैं मीडिया से हूं, अटल जी से मिलूंगा तो लपक कर वह मुझ से हाथ मिलाते हुए मिले और बोले, माई सेल्फ़ भरत सिंह फ़्राम बलिया। मैंने छूटते हुए उन से कहा कि आप को मैं जानता हूं, भले मिल आज रहा हूं। तो वह ज़रा अचकचाए। तो मैंने उन से कहा कि बीएचयू वाले भरत सिंह जी हैं न आप? तो वह कुछ खिले और बोले हां, हां। मैंने कहा कि आप को कौन नहीं जानता? आप की अंगरेजी इतनी मशहूर है कि कौन नहीं जानता। फिर मैंने उन की अंगरेजी आई टाक तो आइयै टाक का बखान शुरु किया। वे जो हारे हुए में भरत सिंह की अंगरेजी का हुनर देखें फिर बात आगे की होगी:
 
‘चुप बे बकलोल।’ विश्वविद्यालय नेता बोला, ‘बोलने भी दोगे।’ फिर ज़रा रुका और जब देखा कि पूरी सभा शांत है तो बोलना शुरू किया, ‘क़िस्सा बीएचयू का है। वहां छात्र संघ का अध्यक्ष अंगरेज़ी नहीं जानता था। चुनाव जीतने के बाद वह जब भी कोई मेमोरेंडम ले कर वाइस चांसलर के पास जाता। वाइस चांसलर उसे देख कर पहले तो मुसकुराता फिर कहता, ‘यस मिस्टर प्रेसिडेंट।’ कह कर वह अंगरेज़ी में ही कुछ गिटपिटाता और यह तुरंत वापस आ जाता। अपनी कोई बात कहे बिना, कोई मेमोरेडंम दिए बिना अंगरेज़ी की हीनता में मार खा कर लौट आता पांच मिनट में। बाहर खड़े छात्रों की ओर भी नहीं देखता और आंख चुरा कर भाग लेता। अंततः कुछ लवंडों ने रिसर्च की कि आखि़र मामला क्या है? रिसर्च में पता चला कि अपना अध्यक्ष अंगरेज़ी का जूता खा कर भाग आता है। फिर अध्यक्ष को अंगरेज़ी में बात करने की डट कर प्रैक्टिस कराई गई। प्रैक्टिस क्या बिलकुल रट्टा लगवा दिया गया। लेकिन बेचारा अध्यक्ष हिंदी मीडियम का होनहार था जा कर वहां लथड़ गया। पर ऐसा लथड़ा कि वाइस चांसलर की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई।’
‘क्या गाली वाली बक दी?’ 
‘गाली?’ पान की पीक थूकते हुए विश्वविद्यालय नेता बोला, ‘इससे भी बड़ा काम कर दिया। गाली वाली क्या चीज़ होती है?’ 
‘तो क्या पीट दिया?’ एक दूसरा छात्र उकता कर बोला। 
‘पीट दिया?’ विश्वविद्यालय नेता बोला, ‘अरे इस से भी बड़ा काम कर दिया।’ 
‘गोली मार दी?’ 
‘नहीं भाई इस से भी बड़ा काम किया।’ वह बिना रुके बोला, ‘हुआ यह कि जब अपना अध्यक्ष पहुंचा वाइस चांसलर के पास तो रवायत के अनुसार वाइस चांसलर मुसकुराते हुए ज्यों स्टार्ट हुआ कि, ‘यस मिस्टर प्रेसिडेंट।’ तो अपना अध्यक्ष भी फुल टास में बोल पड़ा, ‘यस मिस्टर वाइस चांसलर!’ वाइस चांसलर ने कुछ टोका टाकी की तो अपने अध्यक्ष ने मेज़ पीटते हुए कहा, ‘नो मिस्टर वाइस चांसलर! ह्वेन आई टाक तो आइयै टाक, ह्वेन यू टाक तो यूवै टाक! बट डोंट टाक इन सेंटर-सेंटर!’ और फिर मेज़ पीटा। अध्यक्ष ने इधर मेज़ पीटा, उधर वाइस चांसलर ने अपना माथा। फिर अपना अध्यक्ष हिंदियाइट अंगरेज़ी बोलता रहा, वाइस चांसलर सुनता रहा। जो अध्यक्ष दो मिनट में वाइस चांसलर के यहां से भाग निकलता था, एक घंटे बाद बाहर आया। और बाहर तक वाइस चांसलर सी ऑफ़ करने आया। फिर तो छात्र एकता ज़िंदाबाद से धरती हिल गई।’ वह रुका नहीं, बोलता रहा, ‘तो आनंद अगर कहो तो तुम्हें भी अंगरेज़ी का रट्टा लगवाने का इंतज़ाम किया जाए।’ वह बोला, ‘लगे हाथ दो काम हो जाएंगे। अंगरेज़ी की भी ऐसी तैसी कर देंगे और छात्र संघ ज़िंदाबाद भी।’
 
खैर यह आई टाक तो आइयै टाक वाली अंगरेजी जब वहां बैठे लोगों ने सुनी तो सब के सब हंसने लगे। मुरली मनोहर जोशी भी। लेकिन तभी जोशी जी को भीतर से अटल जी का बुलावा आ गया। वह हंसते हुए ही गए। अब भरत सिंह फिर मेरे साथ बतियाने लग गए। कहने लगे कि यह या ऐसी अंगरेजी कभी नहीं बोली मैने। यह सब चंचलवा ने हमको बदनाम करने के लिए किस्सा गढ़ दिया था बीएचयू में तब। वह बोले इस मज़ाक को छोड़िए और आगे की बात कीजिए। मैटर गंभीर है और कि मैं यह चुहुल छोड़ दूं। और यह सब भूल जाऊं। वह चाहते थे कि मैं किसी भी तरह अटल जी से उन के होनहार होने की चर्चा कर दूं। ताकि उस समय तैयार हो रही कल्याण सिंह की मंत्रिपरिषद की सूची में भरत सिंह का नाम भी जुड़ जाए। कल्याण सिंह तब शपथ लेने वाले थे। राजनीतिक गहमागहमी बहुत थी। तो हर कोई अपने-अपने जुगाड़ में था। भरत सिंह भी। वह बता रहे थे कि उन का बायोडाटा भी तगड़ा है और साथ ही शाम को अपने पार्क रोड स्थित आवास पर शाम को लिट्टी-चोखा की दावत पर आमंत्रित करते जा रहे थे। कि तभी भीतर से अटल जी ने मुझे भी बुलवा लिया। मै जाने लगा तो भरत सिंह ने फिर मुझ से लगभग चिरौरी की कि येन-केन-प्रकारेण मैं उन का नाम ज़रुर ले लूं अटल जी के सामने। वह जैसे जोड़ते जा रहे थे कि आप के कहने से बहुत अच्छा प्रभाव पड़ेगा। 
 
खैर मैं गया भीतर तो अटल जी, जोशी जी हंसते जा रहे थे। अटल जी मुझ से हंसते हुए ही बोले, इंटरव्यू तो बाद में पहले आप वह आई टाक वाली पूरी बात सुनाइए। हुआ यह था कि जब जोशी जी अटल जी के पास गए तो हंसते हुए गए। सो अटल जी ने उन से पूछा कि माज़रा क्या है। तो जोशी जी ने आई टाक तो आइयै टाक, यू टाक तो यूवै टाक, डोंट टाक इन सेंटर-सेंटर ! वाली बात बताई। तो अटल जी आमोद-प्रमोद के क्षण में आ गए। कहा कि पूरी बात बताइए। जोशी जी ने कहा कि मुझ से क्या पूछ रहे हैं सीधे सही आदमी से फ़र्स्ट हैंड सुनिए। और मेरा ज़िक्र कर दिया। सो मैं बुला लिया गया। तो मैं ने अटल जी से कहा कि फ़र्स्ट हैंड ही सुनना है तो मुझ से क्यों सीधे जिस की अंगरेजी है यह उसी से सुनिए, उसी को बुला लीजिए। अटल जी ने पूछा कि वह कौन है? मैंने बताया कि आप की पार्टी के विधायक हैं। नाम है, भरत सिंह। बाहर वह बैठे हैं आप के सामने आने और मिलने के लिए लालयित भी हैं। मंत्री पद के प्रार्थी हैं। यह सुन कर अटल जी ने माथे पर थोड़ा जोर डाला। खैर बुलाए गए भरत सिंह भी। अब अटल जी, लाख कहें कि भरत सिंह जी,  वह अंगरेजी सुनाइए। पर भरत सिंह अंगरेजी तो बोले पर, कभी यस सर, कभी नो सर, कभी सारी सर।  बस यही तीन शब्द। इस के आगे उन की घिघ्घी बंध-बंध गई। और अंतत: वह बाहर चले गए।
 
बाद में मैं जब अटल जी का इंटरव्यू कर के बाहर निकला तो भरत सिंह बाहर मेरी प्रतीक्षा में खड़े मिले। बिलकुल आग्नेय नेत्रों से देखते हुए। उनका वश चलता तो वह मुझे शर्तिया गोली मार देते। जो व्यक्ति लिट्टी चोखे की दावत पर थोड़ी देर पहले मुझे न्यौत रहा था, वही अब आग्नेय नेत्रों से देख रहा था। मैने माहौल को हलका बनाने की गरज़ से कहा कि भरत सिंह जी, आप का तो अटल जी से इंट्रोडक्शन हो ही गया अब तो। भरत सिंह गोली की ही तरह बमक कर बोले, हां बहुत इज़्ज़त करवा दिए हमारा आप। धन्यवाद। कह कर उन्हों ने दोनों हाथ कस कर जोड़े ऐसे कि बस मुझे मार ही देना चाहते हैं। कहने लगे ऊ चंचलवा के चक्कर में आप हम को कहीं का नहीं छोड़े हैं। और वह तेज़-तेज़ कदमों से चले गए। खैर कारण जो भी रहा हो उस बार मंत्री नहीं बन पाए भरत सिंह। लेकिन बाद के दिनों में वह मंत्री पद की शपथ पा गए थे।
 
अब इस आई टाक तो आइयै टाक, यू टाक तो यूवै टाक, डोंट टाक इन सेंटर-सेंटर। मामले में कितना योगदान भरत सिंह का था, कितना चंचलवा का, हम नहीं जानते। पर चंचल जी को मैंने पहली बार दिल्ली के १० दरियागंज  स्थित दिनमान कार्यालय में ही देखा था। मैं उन दिनों दिनमान नियमित जाता था। वह चुपचाप बैठते थे। खादी के सफ़ेद कपड़ों में। कभी पैंट बुशर्ट में, कभी कुरता-पायज़ामा में। चुपचाप सिगरेट फूंकते हुए। शायद उदय प्रकाश जी ने कि राम सेवक जी ने पहली बार उनसे मिलवाया। पर बहुत खुले नहीं चंचल जी। तब बहुत सबसे बोलते भी नहीं थे। शायद राजेश खन्ना जैसों से दोस्ती का नशा रहा हो। खैर तो जब दिनमान जाता तो उन्हें देखते हुए ही चला आता। फिर जब अचानक वह दिखना बंद हो गए तो पूछा लोगों से। तो बताया गया कि अब वह नौकरी छोड़ कर चुनाव लड़ने गए हैं। शायद मछली शहर से वह श्रीपति मिश्र के खिलाफ़ चुनाव लड़े थे। ठीक याद नहीं। फिर मैं दिल्ली छोड़ कर लखनऊ आ गया। पर अब यही चंचल जी फ़ेसबुक पर कुछ दिनों से मिल गए हैं। खूब बोलते हुए, खूब बतियाते हुए। धकापेल। अकसर कांग्रेस का जयगान करते हुए। सारी दुनिया एक तरफ़, कांग्रेस एक तरफ़। कांग्रेस न हो उन की माशूका हो। कि होंगे उस में हज़ार ऐब, पर हम तो उस की गाएंगे।  कहा ही गया कि दिल तो आखिर दिल है, गधी पर भी आ जाए तो आप को क्या। लैला काली थी कि गोरी, मजनू हिसाब कर लेगा उस का, आप से क्या? कुछ-कुछ ऐसी ही तबीयत है इन दिनों चंचल बी एच यू की फ़ेसबुक पर। 
 
सोचता हूं कि बीएचयू छात्र संघ की आबोहवा भी कितने-कितने रंग में रही है। हरिकेश बहादुर प्रताप सिंह भी है, शतरुद्र प्रकाश भी। चंचल जी भी हैं और भरत सिंह भी। मदन मोहन मालवीय का तो खैर वह सपना ही है। और कि कांग्रेस का पानी भी कितने रंग का है। कि एक तरफ़  हरिकेश प्रताप बहादुर सिंह है कि एक घटना घट जाती है प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में और वह पद से इस्तीफ़ा दे देते है, जिस में उन का कोई दोष नहीं। बस नैतिकता का तकाज़ा है। और नेपथ्य में चले जाते हैं। दूसरी तरफ़ हमारे चंचल जी भी हैं तो नेपथ्य में ही और दबी ज़ुबान मानते भी हैं कि कांग्रेस में खामी है। पर साथ ही पूछते भी फिरते हैं कि कौन सी डगर जाऊं फिर? और इस सवाल के साथ कांग्रेस का उन का जयगान जारी रहता है। उनकी यह यातना हिला कर रख देती है। बहुत कठिन है डगर पनघट की चंचल जी, यह तो हम भी जानते हैं। पर क्या करें हम सब एक आग में हैं। और यह कोई आग का दरिया भी नहीं है कि जिस में डूब कर भी जाया जा सके। बहरहाल आज उन से उन की एक पोस्ट पर कई बार गुफ़्तगू हुई तो सोचा कि ब्लाग पर इस बतकही के अपने हिस्से को तो डाल ही दूं। और भी बतकही हुई है कई बार चंचल जी से फ़ेसबुक पर। पर वह बहुत खोजने पर भी नहीं मिली। या तो चंचल जी ने वह पोस्टें मिटा दी हैं या मैं खोज नहीं पाया। कहना बहुत कठिन है। पर मैने खोजा बहुत इस लिए भी कि वह सब भी ब्लाग पर सरिया दूं। आखिर सरोकार की ही बाते हैं। तो सरोकारनामा पर नहीं होंगी यह बातें तो और कहां होंगी भला?
 
चंचल जी, आप पुरानी बातें लिखने में तथ्यों की बड़ी गड़बड़ी कर जाते हैं। राजेश खन्ना, राज बब्बर के नाम ले कर उन के बारे में कुछ भी लिखिए कोई बात नहीं। लोग हजम कर लेंगे। कांग्रेसी चश्मा लगा कर मोदी को भी आप कुत्ता बनाए रखिए लोग बर्दाश्त कर लेंगे। अच्छा यह भी ज़रुरी है कि आप अपनी बात में वज़न डालने के लिए फ़िल्मी लोगों की हरदम टेर लेते ही रहें? जो सिर्फ़ पैसे के लिए ही जीते-मरते रहे हैं? अपने आप पर भरोसा नहीं है? यह सब समाजवादी होने की आड़ में आप कहते हैं। किसी समाजवादी को यह शोभा नहीं देता। खैर, सारिका जब मुंबई से दिल्ली आई थी तब कमलेश्वर को हटाने की मुहिम में आई थी। यह १९७७-७८ की बात है। जब कमलेश्वर ने एक संपादकीय लिखा था कि यह देश किसी मोरार जी देसाई, किसी चरण सिंह, किसी जगजीवन राम भर का नहीं है। यह जनता पार्टी के पतन काल का दौर था। टाइम्स मैनेजमेंट ने सारिका का वह अंक जलवा दिया था। सारिका को दिल्ली शिफ़्ट किया कमलेश्वर को खाली करने के लिए। अवध नारायण मुदगल तब उप संपा्दक बन कर ही आए थे, संपादक बन कर नहीं। बाद में जब कमलेश्वर के चक्कर में रह कर आनंद प्रकाश सिंह भी मुंबई छोड़ कर दिल्ली नहीं आए तब मुदगल जी को उप मुख्य संपादक बनाया गया। संपादक नंदन जी बनाए गए थे। जो पहले से पराग के संपादक थे। रघुवीर सहाय को जब दिनमान से हटाया गया तब दिनमान के भी वह संपादक बना दिए गए। फिर बाद के दिनों में नंदन जी के ही प्रयास से सर्वेश्वर जी, जो तब दिनमान के मुख्य उप संपादक थे, को सहायक संपादक बना कर पराग के संपादन की ज़िम्मेदारी दी गई। लेकिन संपादक नहीं बनाया गया। आप पराग की पुरानी फ़ाइलें देखिए उस में संपादक की जगह संपादन लिखा मिलेगा। यह १९८२- १९८३ की बात है। हां, जब नंदन जी के भी बुरे दिन आए और उन्हें नवभारत टाइम्स में शिफ़्ट किया गया तब मुदगल जी को सारिका का सहायक संपादक बना दिया गया। संपादक नहीं। तो मुदगल जी ने भी सारिका के प्राण ले कर ही छोड़े। देह कथा विशेषांकों की झड़ी लगा दी। और जाने क्या-क्या किया। यह कथा फिर कभी। और जो बार-बार आप राज बब्बर का नाम रटते रहते हैं तो एक बात और नोट कर लीजिए और जान लीजिए कि राज बब्बर ने दलाली भी की है, करते ही हैं। राजनीतिक पार्टियों की भी और कारपोरेट सेक्टर के लिए भी। इसीलिए, इसी नशे में वह मुंबई में बारह रुपए में भरपेट खाना पाने का बेशर्म बयान भी दाग लेते हैं। और आप जैसे वाचाल लोग इस पर चुप रहते हैं। राज बब्बर, राजीव शुक्ला जैसों से किसी भी अर्थ में अलग नहीं हैं। बस कैरेट अलग है। हैं एक ही धातु के।
 
चंचल जी, मैं तो समाजवादियों को उन की लोकतांत्रिकता के लिए जानता हूं। कम्युनिस्ट साथियों को अलबत्ता अपने से असहमत होने वालों को दरकिनार करते देखता-भुगतता रहता हूं।भला-बुरा कहते या असंतुलित भाषा का प्रयोग करते भी यह लोग मिल जाते हैं। बहरहाल, अमिताभ बच्चन के ज़्यादा क्या बिलकुल करीब नहीं हूं। और जो मिल बतिया लेने से ही कोई करीब हो जाता है किसी से तो राज बब्बर से भी कई दफ़ा मिला हूं इसी लखनऊ में। अमिताभ बच्चन और राज बब्बर दोनों ही लोग बड़ी मुहब्बत से मिलते हैं। अमिताभ बच्चन के साथ तो नहीं लेकिन राज बब्बर के साथ मयकशी भी की है। लेकिन अब जब देखता हूं कि वह बारह रुपए में मुंबई में भरपेट भोजन करवा देते हैं तो तकलीफ़ होती है। वैसे अमिताभ बच्चन और राज बब्बर अभिनेता दोनों ही जन अच्छे हैं। बाकी कारोबार में दोनों एक हैं। चाहे अमर सिंह के साथ रहें या लड़ कर रहें। राही उसी राह के हैं। हां, भाषा मेरी कलक्टरी नहीं है, यह मैं ज़रुर अर्ज करना चाहता हूं। रही बात घटिया मानने न मानने की यह आप के अपने विवेक पर मुन:सर है। आप हमारे आदरणीय हैं, हक है आप को। हां, चिखुरी बिचारे की बात क्यों यहां इन सब के बीच ला रहे हैं, वह तो आप का मुल्ला नसिरुद्दीन है ही और आप की ताकत भी।
अफ़सोस तो चंचल जी इसी बात का है कि हम सभी सापनाथ -नागनाथ से घिर गए हैं। कोई इन की नकेल कसने वाला हम में से ही निकलना चाहिए। बतर्ज़ दुष्यंत इस आकाश से कोई गंगा निकलनी चाहिए।
 
मुझे किसी चश्मे से चिढ़ नहीं है। न किसी चश्मे की ज़िद है। जिस को जो नंबर फिट लगे, लगाए। हम कोई फ़ासिस्ट थोड़े ही हैं। कि यही चाहिए, और यह नहीं चाहिए का पहाड़ा पढ़ें। बात बस तार्किक हो और आसानी से गले उतर जाए।
 
कोई एक नहीं। अब सारे अखबार छक्के हो गए हैं। बेहतर होगा कि आप अपने ब्लाग पर ही लिख डालिए। बस एक बात का खयाल रखिएगा कि इस लिखे में कांग्रेसी नज़रिया मत घुसेड़िएगा। कांग्रेसी नज़रिए के साथ आप का लिखना बेईमानी भरी लफ़्फ़ाज़ी हो जाती है।
 
चंचल जी, आप तो भैया हो कर भी भौजी की तरह कोंहा गए। यह गुड बात नहीं है। मैने किसी का मज़ाक नहीं उड़ाया है। भरत सिंह का भी नहीं। सिर्फ़ एक वाकया बताया है। अंगरेजी मुझे भी नहीं आती। मैं तो हिंदी का भी नहीं, भोजपुरी का आदमी हूं। भोजपुरी ही हमारी मातृभाषा है। भोजपुरी में ही खाता, पहनता, रहता, जीता हूं। भोजपुरी में ही सांस लेता हूं। हिंदी तो हमारी रोजगार की भाषा है। बहुत छोटा था तब अंगरेजी हटाओ आंदोलन में कूद गया था। इस के लिए किशोरावस्था में ही पुलिस की लाठियां भी खाई हैं और पिता की थप्पड़ और डांट भी। मैं ने अंगरेजी पढ़ना छोड़ दिया था। पिता जी कहते थे कि अंगरेजी जान कर, अंगरेजी छोड़ो, अंगरेजी हटाओ आंदोलन चलाओ तब ठीक लगेगा। लेकिन तब मैने पिता जी की बात नहीं मानी थी। अब पछताता हूं। गोरखपुर में रवींद्र सिंह तब हमारे इस आंदोलन के नेता थे। कुछ समाजवादियों और कम्युनिस्टों की सोहबत हो गई थी। उन्हीं दिनों मार्क्सवाद का सौंदर्य शास्त्र और लोहिया को साथ-साथ पढ़ा है। लोहिया ही कहते थे, अंगरेजी छोड़ो। दाम बांधो, डेरा डालो, हल्ला बोल। हम इसी में पले-बढ़े और पढ़े हैं। और जब हम पढ़ते थे तब गोरखपुर विश्वविद्यालय नाम होता था। दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय नही। यहां यह कहने का मतलब हरगिज़ नहीं है कि दीनदयाल जी कोई मामूली आदमी थे। उन का एकात्म मानववाद भी मैं ने पढ़ा है। और वह भी बड़े विचारक हैं।
  
चंचल जी, आप की बात पर अब एक गंवई जुमला याद आता है कि पंचों की राय सर माथे लेकिन खूंटा वहीं रहेगा। ठीक है यह आप की अपनी सुविधा है। लेकिन बहस मुबाहिसे में एकतरफ़ा पुलिसिया कार्रवाई से काम चलता नहीं है। सभी जानते हैं कि राजबब्बर छात्र जीवन से समाजवादी हैं। आप को यह बताने की ज़रुरत नहीं है। लेकिन अब वह क्या कर रहे हैं इसे बताने की ज़रुरत है। बारह रुपए में आप का पान भी नहीं आता और वह भोजन भरपेट करवा देते हैं। समाजवाद अब उन के लिए सिर्फ़ सुविधा है, एक औज़ार है, विचार नहीं। व्यवहार तो कतई नहीं। और जो आप में समाजवादी धैर्य का तेल कुछ शेष रह गया हो, कांग्रेसी होने में चुक न गया हो तो थोड़ा दूसरों को सुनने-समझने की भी कोशिश करने में कोई हर्ज़ नहीं है। कर लिया कीजिए। आप तो एक बहुत बड़े आदमी महामना मदन मोहन मालवीय की बनाई यूनिवर्सिटी के पढ़े हैं। बता दूं कि हमारी गोरखपुर यूनिवर्सिटी जिस का नाम अब दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय है उस के संस्थापकों में एक आचार्य नरेंद्र देव भी हैं। खैर लीजिए उदय प्रकाश की एक कविता का पाठन- वाचन कीजिए। शायद बात के मर्म तक आप को पहुंचने और एकतरफ़ा बहस से बचने में मदद करे। कविता का शीर्षक है न्याय : 
 
उन्होंने कहा हम न्याय करेंग
हम न्याय के लिए जांच करेंगे
मैं जानता था 
वे क्या करेंगे
तो मैं हंसा
हंसना ऐसी अंधेरी रात में
अपराध है
मैं गिरफ़्तार कर लिया गया. 
 
चंचल जी, कोई भी विश्वविद्यालय हर किसी का है। तेरा-मेरा की कोई बात ही नहीं है। रही बात बीएचयू की तो उस पर भी मुझे नाज़ है। मैं वहां का पढ़ा भले नहीं हूं पर बीएचयू में पढ़ाने और परीक्षक होने का सौभाग्य भी मुझे है। बहस को और बात को भटकाइए नहीं गोविंदाचार्य की तरह। रही बात दस-बारह रुपए में भोजन की तो आप के एक कांग्रेसी नेता राशीद मसूद तो पांच रुपए में भी भोजन करवा कर जेल चले गए हैं। लोग तो भूखे भी इस देश में सोना जानते हैं। वैसे भी दुष्यंत यों ही तो नहीं लिख गए हैं कि, 'न हो कमीज़ तो पाँओं से पेट ढँक लेंगे/ ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिए। और जिस मुख्तार अनीस की बात आप कर रहे हैं, डालीबाग में मैं रहता हूं, मेरे पड़ोसी रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री रहे हैं। सीतापुर के उन के क्षेत्र में चुनावी दौरे भी मैं ने किए हैं। अब वह नहीं हैं सो उन के बारे में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। 
 
अब तो मान लीजिए चंचल जी कि आप की भाषा एक तानाशाह की भाषा हो गई है। आप जो लिख रहे हैं कि, 'राजनीति कविता की जड़ के बाहर एक व्यवस्था है. और वह इतनी छूट देती है के कविता भी उस पर लांछन लगा सके !' यह कौन सी राजनीति है जो कविता को छूट देती है? और यह राजनीति होती कौन है किसी को छूट देने वाली? माफ़ कीजिए राजनीति सिर्फ़ बेईमानों को लूट की छूट दे सकती है, देती ही है। कवि और कविता तो राजनीति और सत्ता की छाती पर चढ़ कर अपना काम कर लेते हैं। ब्रेख्त से लगायत नेरुदा, नाज़िम हिकमत, बिस्मिल, नज़रुल इस्लाम, फ़ैज़, पाश आदि की एक लंबी फ़ेहरिस्त है। और 'वह कवि' जी कौन हैं जो राजनीति से रोटी की मांग कर रहे थे। नाम का खुलासा कीजिए। इस लिए भी ज़रुरी है कि बिना नाम के तो कोई किसी को कुछ कह सकता है। और फिर रोटी मांगना कोई अपराध भी नहीं है। और वही राजनीति गरीब की बीवी होती है, देश को गरीब बनाती है, जो भ्रष्ट होती है। जैसे कांग्रेस, जैसे भाजपा, जैसे सपा, जैसे बसपा, जैसे द्रमुक, जैसे अन्ना द्रमुक आदि। इन्हीं की राजनीति गरीब की बीवी होती है। और कोई भी गरिया सकता है। क्यों कि यह भ्रष्ट और बेईमान राजनीति है। और यही राजनीति जब कोई बचाव, कोई तर्क नहीं पाती तो तानाशाही में तब्दील हो जाती है। तानाशाही की भाषा से इस की शुरुआत होती है। यह बहुत खतरनाक होती है।

लेखक दयानंद पांडेय वरिष्ठ पत्रकार और उपन्यासकार हैं. उनसे संपर्क 09415130127, 09335233424 औरdayanand.pandey@yahoo.com के जरिए किया जा सकता है. यह लेख उनके ब्‍लॉग सरोकारनामा से साभार लिया गया है.


दयानंद पांडेय के लिखे अन्य विचारोत्तेजक लेखों और उनसे जुड़े आलेखों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

भड़ास पर दनपा

 

तरुण तेजपाल की तरह फाल्स ‘गॉड फादर’ पत्रकार नहीं थे अरुण शौरी

शंभूनाथ शुक्ल : एक खोजी पत्रकार थे अरुण। और अब ये तरुण! चौथे खंभे के स्तंभ थे अरुण शौरी न कि ये तरुण तेजपाल… १९८० में कानपुर में दैनिक जागरण ज्वाइन करने के कुछ ही महीनों बाद मुझे "आंख फोड़ो" कांड कवर करने के लिए भागलपुर भेजा गया। साथ में फोटोग्राफर रामकुमार सिंह थे। सुबह चार बजे हम विक्रमशिला एक्सप्रेस से निकले और शाम करीब सात बजे भागलपुर पहुंचे। वहां के एकमात्र होटल नीलम होटल में हम रुके। होटल का रजिस्टर भरते हुए मुझे ठीक ऊपर अरुण शौरी का नाम दर्ज दिखा। मैने पूछा कि क्या अरुण शौरी यहीं रुके हैं। वहां बैठे युवक ने बताया कि जी अभी दोपहर को आए हैं।

मैंने फटाफट रजिस्टर की खानपूरी पूरी की और रामकुमार को कमरे की चाभी देकर अरुण शौरी के कमरे की तरफ लपका। वे मिल भी गए और मिले भी बड़ी शालीनता से। मैंने कहा कि सर आप अकेले अंग्रेजी पत्रकार हैं जिन्हें हिंदी बेल्ट के गांवों का बच्चा-बच्चा जानता है। अरुण शौरी ने पूछा कि कैसे? मैने उन्हें बताया कि मैं जिस अखबार में हूं वह इंडियन एक्सप्रेस में छपी आपकी रपटों का अनुवाद नियमित छापता है इस कारण। शौरी साहब ने पूछा कि हिंदी पट्टी के लोग मेरी रपटों को किस तरह लेते हैं?

मैंने कहा कि उनका कहना है कि पत्रकार तो बस अरुण शौरी ही हैं जो हिम्मत के साथ लिखता है और जिसके लिखने से सरकारें डरती हैं, इंदिरा गांधी डरती है। बाद के दिनों में जब मैने इंडियन एक्सप्रेस के हिंदी अखबार जनसत्ता को ज्वाइन किया तब तक अरुण शौरी टाइम्स आफ इंडिया में जा चुके थे पर कुछ ही साल बाद वे फिर से इंडियन एक्सप्रेस में आ गए। मैं एक दिन उनसे मिला और उनको भागलपुर की याद दिलाई तब तो अरुण शौरी इतने खुश हुए कि अपने हर लिखे को जनसत्ता में छपवाने के लिए मुझसे ही कहते। और यह आग्रह भी करते कि उनके लेखों का अनुवाद भी मैं ही करूं।

अब यह न तो जनसत्ता के लोगों को अच्छा लगता कि इंडियन एक्सप्रेस का चीफ एडिटर जनसत्ता के चीफ सब एडिटर के पास आ कर मनुहार करे न इंडियन एक्सप्रेस के लोगों को पसंद आता। मगर अरुण शौरी का अपना तरीका जो था। वे कोई तरुण तेजपाल की तरह फाल्स "गॉड फादर" पत्रकार नहीं थे और आज भी नहीं हैं। मंत्री बनने के बाद आईआईटी कानपुर ने उन्हें बुलाया (तब मैं कानपुर में अमर उजाला का संपादक था) तो मैने उनसे मिलने के लिए समय मांगा। लेकिन वे बोले नहीं मैं तुम्हारे घर आता हूं। एक सामान्य हिंदी संपादक के घर का दारिद्रय देखकर वे बोले कि जमीन के पत्रकार तो तुम ही लोग हो।

वरिष्ठ पत्रकार शंभूनाथ शुक्ला के फेसबुक वॉल से.

वीपी सिंह को उनकी पुण्यतिथि पर याद करते हुए…

Santosh Singh : आज वीपी सिंह की पुण्यतिथि है…उनको उनकी पुण्यतिथि पर सादर नमन… केवल इतना लिख दूँ तो कई लोग नहीं समझेंगे.. क्योंकि उनको अन्य दूसरे लोगों की तरह मैंने भी शुरू में नहीं समझा था..1992 के शुरुआती दिन थे. मैं गाँव से मैट्रिक करके आगे की पढाई के लिए इलाहाबाद आया था. तब मंडल आयोग लागू ही हुआ था और दिल्ली के साथ इलाहाबाद भी उन दिनों मंडल आयोग द्वारा लागू आरक्षण के विरोध के आन्दोलन का केंद्र था..

जिधर देखो, धरना-प्रदर्शन और वीपी सिंह को गाली देने वाली सभा दिखाई देती थी..चारो ओर बड़ा ही डिप्रेसिंग माहौल था…हम जैसे किशोर छात्रों के मन में यह बात घर कर गयी थी कि अब हमारा अब कोई भविष्य नहीं है क्योंकि हमारे सीनियर हमे ऐसे ही समझा रहे थे….इसी चक्कर में मैंने एक साल ड्राप भी कर लिया था.. बाद के दिनों में जब पूरी बात वृहत्तर समाजिक परिप्रेक्ष्य में समझ में आई तो लगा कि यह लिखना जरूरी है..

आज कई लोग कागजी/जबानी क्रांति की बात करते है पर उनसे आरक्षण या भागीदारी पर स्पष्ट सवाल पूछिए तो कन्नी काटते नजर आते हैं और उनसे पूछिए कि क्या वह बाबा साहब अम्बेडकर या वी पी सिंह को एक क्रन्तिकारी के रूप में मानते हैं तो निश्चित रूप से उनका जवाब नहीं होगा… जबकि मेरी दृष्टि में आंबेडकर और वीपी सिंह दोनों ऐसे क्रन्तिकारी थे जिन्होंने सदियों से वंचित आबादी के लिए मुख्यधारा के बंद दरवाजे को एक झटके में तोड़ दिया था…देश का टैलेंट-बेस जो पहले 15-20% से आ पाता थी, उसका परसेंटेज एकाएक बढ़ गया…देश की एक बड़ी आबादी जो अपने को मार्जिनलाईज्ड समझती थी, अपने को देश के लोकतंत्र का अभिन्न अंग समझने लगी..जो कि हरेक दृष्टि से एक क्रन्तिकारी घटना थी…

देश के एक इमानदार नेता और समाजिक न्याय के पुरोधा को पुनःनमन…और इस मौके पर यही आशा करूँगा कि शायद कभी उनको इस बात के लिए श्रेय और प्रशंसा भी मिलें, जितनी कभी गलियाँ मिली!

संतोष सिंह के फेसबुक वॉल से.

उफ्फ… इंडिया न्यूज पर डिबेट का इतना घटिया स्तर.. इस पतन को क्या नाम दें?

Abhishek Srivastava :  क्‍या किसी ने इधर बीच पब्लिक स्‍पेस में अचानक आए मौखिक/भाषायी/नैतिक स्‍खलन के मौन सेलिब्रेशन/सहमति पर ध्‍यान दिया है? अभी इंडिया न्‍यूज़ चैनल पर एक वकील ने दीपक चौरसिया से ऑन एयर कहा कि तुम तो मुझसे बिना मतलब नाराज़ हो, ऐसा है किसी शाम आओ बैठते हैं।

अवधेश कुमार ने एक कदम आगे बढ़ कर बताया कि कैसे जंतर-मंतर पर आसाराम के पक्ष में बोलने पर उन्‍हें 3100 रुपये का लिफाफा थमाया गया। अंत कुछ यों हुआ कि चौरसिया ने अवधेश से पूछ डाला कि क्‍या आप भी आसाराम की तरह बिना विकेट लगाए बैटिंग करते हैं। इस परिचर्चा में महिलाएं भी थीं। आप समझ रहे हैं कि ये क्‍या हो रहा है? मतलब, ये हो क्‍या रहा है?

पत्रकार अभिषेक श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से. इस स्टेटस पर आए कुछ कमेंट इस प्रकार हैं…

    Sushant Jha There should be appropirate laws to check such contents. But who cares and who will lodge complaints..?
 
    Ashish Maharishi दीपक चौरसिया से आपको अभी भी उम्‍मीद बची है क्‍या अभिषेक भाई?
   
    Ankit Muttrija आठ-आठ खिड़कियां खोलकर पैनल सजता हैं इनका।यक़ीन जानिए पैनल में हिस्से ले रहें लोगों और एंकर का चेहरा जाना-पहचाना ना हों तो दर्शक समझ ही नहीं सकेंगे कि कौन एंकर हैं।फिर दीपक चौरसिया तो वैसे भी कहीं से भी पैनल में शामिल हो जाते हैं।कुल मिलाकर कम से कम आठ लोगों में इनकी आवाज़ शोर-शराबे में दर्ज तो होती हैं बाकि तो बस कैमरा से मालूम पड़ते हैं कि अच्छा ये भी हैं।
    
    Kavita Krishnapallavi 'वर्चुअल स्‍पेस' में नैतिक अध:पतन की अभिव्‍यक्तियाँ 'रीयल स्‍पेस' में समाज के मुखर तबके — बौद्धिक जमात के नैतिक अध:पतन का परावर्तन है। ये सभी खाये-अघाये, विलासी, आवारा लोग हैं जो पूँजी के चाकर और भाड़े के भोपू हैं। इनकी ''प्रगतिशीलता'' भी अपना बाज़ार भाव बढ़ाने का हथकण्‍डा है। बुर्ज़ुआ वर्चस्‍व की राजनीति ''सहमति'' का निर्माण करने के साथ ही व्‍यवस्‍था के दायरे के भीतर ''असहमति'' का भी निर्माण करती है।

तेजपाल के बहाने तहलका का शिकार चल रहा है

आज लगातार छठवें दिन टाइम्स ऑफ इंडिया ने तेजपाल कांड को मुख पृष्ठ (front page ) की खबर बनाई है। 22, 23, 24, 25, 26 और आज 27 नवम्बर को तेजपाल कांड, TOI की फ्रन्ट पेज की खबर है। आज फ्रंट पेज के साथ-साथ पेज नं 5 पर टाइम्स नेशन पर कुल चार खबरों में से तीन खबरें तेजपाल पकरण की हैं। पहली मुख्य खबर चार कॉलम की बॉक्स के साथ, दूसरी दो कॉलम की, तीसरी तेजपाल को गिरफ्तार करने की बीजेपी कि मांग। पेज 7 टाइम्स नेशन पर तीन कॉलम की बड़ी सी खबर। 22, 23 और 24 (रविवार) को तेजपाल काण्ड मोटी-मोटी हेडिंग्स के साथ मुख पृष्ठ की मुख्य खबर थी। 26 नवम्बर को पेज 5 टाइम्स नेशन पर कुल सात खबरें।
 
कुल सातों खबरें तेजपाल प्रकरण की, arrest rapist tarun tejapal emmediatly नामक शीर्षक और फोटो के साथ। पीड़िता के full email के साथ। अरुंधती राय का पूरा, बड़ा सा बयान। ये अलग बात है कि इन्हीं अख़बारों ने अरुंधती राय को देशद्रोही और गद्दार तक घोषित कर दिया था। पिछले छः दिनों में बहुत कुछ हुआ। छत्तीसगढ़, मिजोरम और मध्य प्रदेश में चुनाव हुआ। मीडिया के लिये सबसे बड़ा मुद्दा, आरुषि हत्याकांड का फैसला आया। ईरान का अन्य देशों के साथ महत्वपूर्ण समझौता हुआ। जहीर खान की वापसी और आनन्द की हार हुई। देश की सबसे बड़ी खबर, देश के भावी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के 'साहेब और शाह' जासूसी काण्ड का खुलासा हुआ। आईएएस प्रदीप शर्मा ने बड़ा खुलासा किया। लेकिन इन खबरों की बाढ़ के बीच टाइम्स ऑफ़ इंडिया के लिए मुख्य खबर है तेजपाल कांड। 
 
इस देश में बलात्कार की संस्कृति को सबसे ज्यादा बढ़ावा देने वाला टाइम्स ग्रुप, औऱत को एक इंसान से एक माल (comodity), एक उपभोक्ता वस्तु बनाने में सबसे ज्यादा योगदान देने वाला टाइम्स ग्रुप, बिजनेस घरानों और कम्पनियों से पैसा लेकर खबर छापने की शुरुआत करने वाला टाइम्स ग्रुप, अखबार को पैसा कमाने की मशीन बनाने वाला टाइम्स ग्रुप, पेड न्यूज़ के दलदल में आकण्ठ डूबे टाइम्स ग्रुप और इसी टाइप के तमाम मीडिया ग्रुपों से इसी तरह की पत्रकारिता की उम्मीद की जा सकती है। तेजपाल को उसके कुकृत्य के लिए सजा मिलनी चाहिए, नहीं, बहुत पहले ही मिल जानी चाहिए थी लेकिन अखबारों, चैंनलों को अपने-अपने तेजपालों को भी एक्सपोज करना चाहिए। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया जैसे अखबारों और 'जनरल' अर्णव गोस्वामी जैसे फतवा देने वाले पत्रकारों की प्राथमिकता में कहीं भी स्त्री नहीं है। स्त्री अस्मिता, स्त्री स्वतंत्रता, स्त्री बराबरी इनके एजेण्डे में हो भी नहीं सकती। पीड़िता के सहारे किसी तहलका, बाबा और सेलेब्रिटीज़ का कैसे शिकार कर लिया जाये। बलात्कार को किस तरह से बेंच कर टीआरपी कमा ली जाये। ये इनकी प्राथमिकता में सबसे ऊपर है। 
 
                        लेखक प्रशान्त कुमार मिश्र माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल में पत्रकारिता के छात्र हैं. इनसे 09826181687 के जरिए संपर्क किया जा सकता है.

मीडिया संगठन यौन उत्पीड़न निवारण के लिए समिति गठित करें : काटजू

नई दिल्ली : भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) ने सभी मीडिया संगठनों से कार्यस्थलों पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न रोकने और मामलों के निवारण के लिए आंतरिक समितियां गठित करने को कहा है आंतरिक शिकायत समितियों के गठन का निर्देश तहलका संपादक तरुण तेजपाल के खिलाफ एक महिला पत्रकार द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों के मद्देनजर आया है।

पीसीआई अध्यक्ष न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) मार्कंडेय काटजू ने एक बयान में कहा कि उच्चतम न्यायालय द्वारा 1997 में तय किए गए विशाखा दिशा-निर्देशों और कार्य स्थलों पर महिला यौन उत्पीड़न (नियंत्रण, निषेध और निवारण) कानून 2013 लागू किए जाने के बावजूद बहुत से मीडिया संगठनों में कोई आंतरिक शिकायत समिति नहीं है।

उन्होंने कहा कि कार्य स्थल संबंधी यौन उत्पीड़न कानून की धारा 4(1) ने इन समितियों की स्थापना अनिवार्य कर दी थी। काटजू ने मीडिया संगठनों से कहा कि इस तरह की स्थापना मीडिया संगठनों में और भी उपयोगी हो जाती हैं, जहां महिलाओं के काम का समय और ड्यूटी स्थल सामान्य से हटकर होता है। उन्होंने आग्रह किया कि मीडिया संगठन आंतरिक समितियों की स्थापना करें।

कोर्ट ने अनुरंजन और फर्जी स्टिंग के खिलाफ कंप्लेन पर 25 जनवरी की तारीख तय की

दिल्ली की एक अदालत ने समाचार पोर्टल मीडिया सरकार के खिलाफ बुधवार को आम आदमी पार्टी की आपराधिक मानहानि शिकायत पर विचार करने के लिए 25 जनवरी की तारीख तय की। यह शिकायत आप के कुछ प्रत्याशियों के कथित रूप से गैर कानूनी ढंग से धन लेने के मामले में संपादित किये गये वीडियो जारी किये जाने के खिलाफ की गयी है। आप की मानहानि शिकायत मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट आकाश जैन के समक्ष सुनवायी के लिए आयी। उन्होंने कहा कि वह कार्यवाही आगे बढ़ाने से पहले शिकायत पर गौर करेंगे। मजिस्ट्रेट ने आप के लिए पेश हुए वकील से कहा कि पहले मुझे मामले पर गौर करने दीजिये, तब मैं आगे बढ़ाऊंगा।

सुनवाई के दौरान आप की ओर से पेश वकील वी के ओहरी ने अदालत से कहा कि उनकी शिकायत का स्वरूप ऐसा है कि उस पर फौरन सुनवाई होनी चाहिए, क्योंकि दिल्ली विधानसभा के चुनाव चार दिसंबर को होने हैं। संपादित सीडी को टीवी पर दिखाया गया है ताकि पार्टी और उसके उम्मीदवारों को बदनाम किया जा सके। ओहरी ने अदालत से कहा कि टीवी पर दिखायी गयी सीडी और वास्तविक बातचीत संपादित है। आप कृपया सीडी देखिये और आप महसूस करेंगे कि किस प्रकार अपराध किया गया है। उन्होंने हमारे उम्मीदवारों को बदनाम करने का प्रयास किया है। इससे नुकसान हो चुका है।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस एवं भाजपा नहीं चाहते कि आगामी चुनाव से पहले आप गति पकड़ सके। मीडिया पोर्टल ने पार्टी एवं उसके उम्मीदवारों के खिलाफ मानहानि कारक आरोपों वाली सीडी को वितरित किया।
 

‘पंजाब केसरी’ पत्रकार को जान से मारने की धमकी

धर्मशाला: कांगड़ा के पंजाब केसरी के पत्रकार अविनाश वालिया का कैमरा तोडऩे व अभद्र व्यवहार और जान से मारने की धमकी देने पर पुलिस ने आई.पी.सी. की धाराओं 341, 506 और 504 के तहत मामला दर्ज किया है। बुधवार को जिला के पत्रकारों ने धर्मशाला प्रैस कल्ब अध्यक्ष राकेश पठानिया के नेतृत्व में पुलिस थाना प्रभारी को ज्ञापन सौंपकर आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की।

धर्मशाला प्रैस कल्ब के अध्यक्ष राकेश पठानिया, महासचिव शशि भूषण पुरोहित, प्रेम सूद, सुरेश कुमार, कपिल शर्मा, ओम प्रकाश मक्कड़, संजय अग्रवाल, नगरोटा प्रैस कल्ब अध्यक्ष विनय सरोत्री, महासचिव बिशन दास, नीरज शर्मा, कुलदीप नारायण, स्वामी राम, कांगड़ा से अजय परवान, अमन पठानिया, दिनेश कटोच, किशोर कौशिक, सुरेंद्र कालड़ा, अशोक रैणा, योगेश धीमान, चंदन महाशा, सुनील, शिवा, संदीप, राजेंद्र मल्होत्रा, पं. राम प्रसाद शर्मा व अतुल ने इस की निंदा करते हुए कहा कि पत्रकारों की सुरक्षा के लिए सख्त कदम सरकार को उठाने चाहिए।

पुलिस थाना प्रभारी मोहिंद्र सिंह मन्हास ने बताया अविनाश वालिया की शिकायत पर पुलिस ने आई.पी.सी. की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। टूटा हुआ कैमरा पुलिस ने कब्जे में लिया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। उन्होंने कहा कि  नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
 

नेटवर्क 10 के मालिक राजीव गर्ग के घर फिर पुलिस का छापा

देहरादून : नेटवर्क 10 चैनल की मुसीबत कम होती नजर नही आ रही है। धोखा धड़ी और चार सौ बीसी में फंसे इस चैनल के मालिक राजीव गर्ग और रनवीर पवार के घर पर बुधवार की सुबह साढ़े नौ बजे पंजाब पुलिस ने दोबारा दबिश दी। गौरतलब है कि पंजाब के माहोली जिले में चंडीगढ निवासी कमलजीत सिंह ने नेटवर्क 10 चेनल के मालिक राजीव गर्ग और रनवीर सिंह के खिलाफ मोहाली में शिकायत दर्ज करायी थी। शिकायत में बताया गया था कि राजीव गर्ग और रनवीर सिंह पवार ने नेटवर्क 10 न्यूज चैनल बेचने के नाम पर कमलजीत सिंह से 1 करोड़ 35 लाख रुपये ठग लिये। 
 
बुधवार की सुबह पंजाब पुलिस ने देहरादून के इंजीनियर्स इन्क्लेव में दबिश दी। रनवीर सिंह पवार घर पर नही मिलें। वहीं राजीव गर्ग पुलिस के शिकंजे में आ गये। मोहाली पुलिस उन्हे पकड़ कर अपने साथ ले जाने लगी। इस बीच राजीव गर्ग ने मोहाली के एसपी से रिकवेस्ट की कि वो 2 दिसम्बर को सुबह 11 बजे एसएसपी मोहाली के आफिस में सरेन्डर कर देंगे। राजीव गर्ग ने दबिश देने आये पुलिस टीम को मोहाली में हाजिर होने की बात लिख कर दी। तब उनकी जान छूटी। सूत्रो के अनुसार नेटवर्क 10 के मालिकों को अब मध्य प्रदेश से भी धोखाधड़ी के नोटिस मिले हैं।
(एफआईआर की स्कैन्ड कॉपी)
 
रोज रोज पुलिस के छापे से नेटवर्क 10 में हड़कम्प मचा हुआ है। चैनल को खरीदने वाले नये लोग भी रोज के इस ड्रामे से बेचैन हैं। गौरतलब है कि राजीव गर्ग और रनबीर सिंह ने चंडीगढ़ के कमलजीत सिंह से धोखाधड़ी करने के बाद में देहरादून के नेगी को नेटवर्क 10 न्यूज चैनल 7 करोड़ 50 लाख में बेच दिया था।
 
देहरादून से राजीव रावत की रिपोर्ट
 

मोदी और ‘माधुरी’ की इस तस्वीर से खुल रही कई दावों की पोल

जिस लड़की की जासूसी कराने के प्रकरण से आजकल नरेंद्र मोदी घिरे हुए हैं, उस लड़की के साथ मोदी की एक तस्वीर फेसबुक समेत सोशल मीडिया व वेब-ब्लाग पर घूमने लगी है. इस तस्वीर में आईएएस प्रदीप शर्मा भी दिख रहे हैं. सोशल मीडिया पर लोग इस तस्वीर को शेयर करके एक दूसरे को बता रहे हैं कि "साहेब" इन्हीं की जासूसी करवा रहे थे.

यह तस्वीर तबकी है जिन दिनों आईएएस प्रदीप शर्मा कच्छ के कलेक्टर (कार्यकाल 2003 से 2005 तक) हुआ करते थे. अपने कार्यकाल के आखिर दिनों वर्ष 2005 के अक्टूबर महीने में कच्छ शरद उत्सव का आयोजन किया गया था. इसी आयोजन के दौरान की यह तस्वीर है जिसमें नरेंद्र मोदी और बेंगलोर की महिला आर्किटेक्ट एक साथ दिखाई  रहे हैं.

(पहचान छुपाने के मकसद से तस्वीर में लड़की का चेहरा ब्लर कर दिया गया है और इस खबर में लड़की का काल्पनिक नाम प्रकाशित किया गया है.)


कहा जा रहा है कि इस तस्वीर से कई बातें साबित हो रही हैं. लड़की के पिता ने जासूसी प्रकरण के सामने आने के बाद बयान दिया कि उन्होंने ही 2009 में मोदी से बेटी की देखभाल करते रहने को कहा था. पर तस्वीर से पता चलता है कि मोदी और माधुरी के बीच घनिष्ठ परिचय जासूसी कराए जाने के घटनाक्रम के पांच वर्षों पहले से था. इससे बीजेपी का भी यह बयान झूठा साबित होता है कि मोदी का परिचय सिर्फ लड़की के पिता से था और लड़की के पिता के कहने पर लड़की का ध्यान रखने के मकसद से मोदी ने निर्देश दिए थे.

साभार- गुलेल डॉट कॉम

संबंधित खबरें…

मोदी को शक था कि मेरे पास उनकी सेक्स सीडी है : प्रदीप शर्मा
 
साहेब हसीना और जासूस
 
साहेब के इस जासूसी कांड में कहीं युवती की जान ना चली जाये
 
 अमित शाह, साहेब, आईपीएस, महिला, जासूसी… (सुनें टेप)

अनुरंजन झा ने भी ‘आप’ के कई नेताओं के खिलाफ मानहानि का मुकदमा किया

नई दिल्ली। 'आप' के खिलाफ फर्जी स्टिंग करने वाले अनुरंजन झा ने आम आदमी पार्टी और उसके 5 नेताओं अरविंद केजरीवाल, कुमार विश्वास, योगेंद्र यादव, मनीष सिसोदिया एवं शाजिया इल्मी पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। अनुरंजन झा के मुताबिक इन नेताओं ने बिना किसी आधार के उनके खिलाफ गद्दार, दलाल और फर्जी जैसे अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया। साथ ही बिना किसी सबूत के स्टिंग ऑपरेशन के लिए 12 करोड रुपये लेने का आरोप लगाकर उनके करियर और छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की।

भड़ास तक सूचनाएं bhadas4media@gmail.com के जरिए पहुंचा सकते हैं.

कुछ तथाकथित न्यायप्रिय लोग खुर्शीद अनवर का ‘कैरेक्टर असेश्नेशन’ करने पर तुले हुए हैं

Mohammad Anas :  पिछले दो तीन महीनों से फेसबुक और तमाम तरह के ब्लॉग पर आईएसडी के कर्ताधर्ता खुर्शीद अनवर को लेकर भद्दा आरोप लगाया जा रहा है. मिर्च मसाला लगाकर, मनोहर कहनियों की जैसी भाषा में कुछ तथाकथित न्यायप्रिय लोग खुर्शीद अनवर का 'कैरेक्टर असेश्नेशन' करने पर तुले हुए हैं. दशकों से वामपंथ और महिलाअधिकारों के लिए पहचाने जाने वाले खुर्शीद अनवर पर एक लड़की के कथित यौन हिंसा का आरोप लगा कर सोशल मीडिया में लोग रोटियां सेंक रहे हैं.

यौन हिंसा की कथित शिकार लड़की किसी गाँव या सुदूर आँचल की नहीं बल्कि मणिपुर की है, जहाँ पुरुषों से अधिक सजग एवं जागरूक महिलाएं होती हैं और वह लड़की भी हिम्मत और ताकत से भरपूर है. लड़की ने जिस दिन अपने साथ बलात्कार होने की बात अपने ही कुछ साथियों को बताई जो फेसबुक एवं जनवाद के पहरुआ बनते हैं, उन्होंने उस लड़की की मेडिकल जांच न करवा कर उसे सीधा मधु किश्वर के घर ले कर चले जाते हैं. वहां कथित पीडिता अपने साथ हुए तथाकथित कृत्य को कैमरे के सामने रखती है. देखिए किस तरह से खेल हो रहा है, जिसके साथ हिंसा हुई, जो यौन हिंसा के खिलाफ रैलियां निकालते हैं और बड़ी बड़ी चर्चा एवं विमर्श करते हैं, उन सबने उस लड़की का मेडिकल जांच करना उचित नहीं समझा बल्कि उसके बयान का वीडियो बनाना ज्यादा ज़रूरी समझा.

आगे कहानी बढ़ती है. लड़की के साथ सहानुभूति हर किसी को थी मुझे भी थी लेकिन मैं खुर्शीद अनवर को बहुत अच्छे से जानता हूं इसलिए भरोसा करना मुश्किल था पर मामला यौन हिंसा का था इसलिए प्रथमदृष्टया पीड़िता के साथ मैं भी हो गया. कुछ लोगों ने मेडिकल जांच के लिए उस लड़की को कहा तो पहले उसने अपना बयान बदला की उसके साथ सेक्स नहीं हुआ है, फिर उसके बाद वह कहती है कि उसके साथ अनल सेक्स हुआ है. फिर बयान बदलती है अपने ही साथियों के सामने कि मैंने ही खुर्शीद अनवर से कहा की मेरे साथ सो जाएं लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

फिर से बयान बदलने की नौबत आती उससे पहले ही वह लड़की अपने ही कुछ साथियों से हजारों रुपए लेकर दिल्ली से भाग निकलती है. जिन सबने पूरा कैम्पेन अपने सर आँखों पे उठा रखा है उन्हीं लोगों ने यह सब बातें कहीं. आज उनका भी बयान बदला हुआ फेसबुक पर आ रहा है. तमाम अधिकारवादी कार्यकर्त्ता लगातार उससे संपर्क की कोशिश में हैं लेकिन वह दिल्ली नहीं आ रही. वजह साफ़ है कि उसने खुर्शीद अनवर को पहले अपने ही बुने जाल में फांसना चाहा फिर वह नहीं फंसे तो बलात्कार की झूठी कहानी बुन दी और जब खुर्शीद अनवर ने खुद कहा की वह पुलिस में चले, शिकायत करे तो दिल्ली छोड़ कर भाग उठी.

आज खुर्शीद अनवर तथाकथित महिलाअधिकारवादियों, कथित वामपंथियों, संघियों, कट्टर तालिबानियों एवं निजी खुन्नस निकालने वालों के निशाने पर हैं. लेकिन किसी को न तो उस लड़की के साथ क्या हुआ उसकी खबर है न तो उन्हें खुर्शीद अनवर पर क्या बीत रही उसकी चिंता. एक व्यक्ति जिसने अपने जीवन के हर क्षण जन अधिकार की बात करने में निकाल दी, एक ऐसा व्यक्ति जिसने तमाम वैभव और सुख सुविधाओं के बावजूद सदैव से स्त्री सशक्तिकरण की बात की हो आप सब उसके साथ ऐसा बर्ताव करेंगे यह न तो उसने कभी सोचा था न किसी और ने.

खैर, यह सब लिखने का मेरा यह मतलब नहीं है कि आप लिखना बंद कर दें. आप तो लिखेंगे ही क्योंकि इसके सिवा आपके पास कोई और 'हथियार' नहीं है, खुर्शीद अनवर को मारने के लिए. अरे जाते क्यों नहीं पुलिस के पास. जाओ उस लड़की के पास जिसने कथित यौन हिंसा की बात करके अपने घर निकल गयी. आप नहीं जायेंगे क्योंकि झूठ कभी सच के सामने टिक नहीं पाता. जब तक जनता की नज़र से चीजें दूर रहेंगी तब तक जनता को सिर्फ वही दिखेगा जो आप दिखाना चाहेंगे.

बहुत सारे ब्लॉग और पोर्टल पर चर्चाएँ हो रही हैं. उन सब लेखकों, प्रोफेसरों, क्रांतिकारियों से निवेदन है की इस मामले में जल्दी से कोई कार्यवाई करें वर्ना न्याय दम तोड़ देगा उनकी ढेहरी के नीचे और यह न्यायसंगत कदापि नहीं होगा. लेकिन जिस मामले का कोई ओर छोर ही न मालूम हो, जिस मामले में असल आरोप लगाने वाले ही न हो, जब सारा मामला ही किसी को बदनाम करने के लिए बुना गया हो तब भला क्या हो सकता है. वही हो सकता है जो फेसबुक वाले चाहे. जय हो फेसबुक की. जय हो.

लेकिन इसे पढ़ते हुए यह कदापि न समझिएगा की मैं व्यंग्य की मुद्रा में हूं. असल में मुझे घिन्न आ रही है आपके इस 'जस्टिस कैम्पेन' पर. घिन्न आ रही है आपके निजी स्वार्थों को देख कर. पुलिस में जाते क्यों नहीं? क्या कभी किसी बलात्कारी ने कहा है कि पुलिस में जाओ. खुर्शीद अनवर ने खुलेआम कह दिया है कि पुलिस में जाओ. और, सुने खरपतवारों, उन्होंने अपना फेसबुक अकाउंट इसलिए बंद कर दिया है कि क्योंकि तुम्हारी उल्टियों से उनका मन व्यथित हो उठा है. कभी तुम पर जब तुम निर्दोष होगे और ऐसा आरोप लगेगा तो एहसास होगा कि तुम सबने क्या किया है.

युवा पत्रकार और सोशल एक्टिविस्ट मोहम्मद अनस के फेसबुक वॉल से. इस स्टेटस पर आईं कुछ टिप्पणियां यूं हैं…

Salman Rizvi बिल्कुल हक़ीक़त लिखा है भाई लेकिन उल्टियों कि बदबू सबसे पहले करने वालों पर पहुँचती है और पहुँच रही है/भले ही तकलीफ़ पहुँच जाये कुछ वक़तों के लिए लेकिन सच नहीं बदला जा सकता

Saiyed Kamran खुर्शीद अनवर साहब जैसे इंसान पर ऐसे आरोप हज़म नहीं होते है। हालंकि उन्होंने मुझे ब्लाक कर रखा है कुछ जनसत्ता में लिखे लेख पर आवाज़ उठाये जाने के कारण और कई बार नोक झोंक भी हुई धर्म को लेकर पर वो एक अच्छे इंसान है। धर्म को मानना ना मानना उनका निजी विचार है पर वो एक बोहत अच्छे इन्सान है।

Shabina Tauqueer Khurshid Anwar जी को जितना पढ़कर समझ पाई हूँ उसके लिए मैं उनका सम्मान करती हूँ …. उल्टियाँ करने वाले हाजमा के कमज़ोर होते हैं उनकी फिक्र न करें …समय है बीत जायेगा ….खुर्शीद जी को मेरा सलाम कहियेगा ….।।।।।

Zafar Imam कुछ दिनों से खुर्शीद भाई के बारे में बहुत से लोगो ने लिखा … पर कोई इंसान कहाँ तक जा सकता है ये उसके व्यहवार से समझ आ जाता है…
मैं बहुत करीब नहीं था मगर जो लिखते है उन्हें पढना और उससे सिखना चाहता था… मुझे तो यकीन नहीं कही से किसी तरह इस मामले में उनकी संलिप्ता है

Zafar Imam तरक्की के इस दौड़ मे लोग अंधे और खुद को किसी भी हद तक ले जाने को तैयार है।। जब तक सब कुछ ठीक ठाक है सब सही अगर थोडा सा मन के मुताबिक नहीं तो हो गया बलात्कार

Mustejab Khan इसी का तो विरोध था खुर्शीद अनवर और हमारे बिच, यही मुतालबा था हमारा कि अगर आप इलज़ाम लगते हैं तो फिर उसे साबित भी करें — तथ्य प्रस्तुत करें — सुनी सुनाई बातों को आधार बना कर किसी पे भी इलज़ाम न लगायें | जिस इस्लाम को वो गलियां देते रहे हैं वही इस्लाम कहता है की अगर कोई किसी पे ग़लत इलज़ाम लगाये और कोई सबूत प्रस्तुतु न करे वो उसे दंड दो और उसकी गवाही दोबारा कबूल न करो | और आज यही सुनहरे नयम खुर्शीद अनवर के लिए ढाल बन रहे हैं | हम जिस चीज़ के लिए खुर्शीद अनवर के खेलाफ़ थे आज उसी चीज़ ने हमे खुर्शीद अनवर के पक्ष में ला खड़ा किया है | खुर्शीद अनवर पे लगाया गये इलज़ाम में अगर तथ्यों और सबूतों का अभाव है (जो की Mohammad Anas की पोस्ट से साबित होता है ) तो ऐसा तथ्हीन इलज़ाम लगाने वाले निंदा के पात्र है | हम इसकी पुर-जोर निंदा करते हैं |
 
Vandna Tripathi f.b.par jis tarah is prakran ka anand liya ja rha hai usee se sabit hota hai ki is sab ka uddeshya sirf unki fazeehat karna hi hai,kash fazeehat karne waalo par beet ti to jaan paate kitna taqleefdeh hota hai aise me survive karna….dukhad hai ye sab
 
Rubiyan Ghazi sajishan aisa bhadda aur ghatiya ilzam khurshed sahab. pr laganay walon pr. social media pr hi bheego kay juta marna chahiyai
 
Neeraj Dwivedi Mohammad Anas bhai….शुक्रिया इन सब जानकारी से अवगत कराने के लिये…… इधर कुछ दिनो से भागा-दौड़ी क चक्कर मे फेसबुक ढंग से फालो नही कर पाया….अभी कल ही मै सोच रहा था कि काफी दिनों से खुर्शीद भाई का अपडेट नहीं आया कोई….. और आज आपने ये सब बताया……. खुर्शीद भाई को बोलियेगा कि वापस लौट आयें । हम सब साथ हैं……. उल्टीयां और दस्त तो किसी न किसी को लगा ही रहेगा……
 
Sheeba Aslam Fehmi Achha kiya jo ye sab likha Anas.
 
Chandramauli Pandey ख़ुर्शीद सर एक बेहद संजीदा,ईमानदार और सम्मानित ब्यक्ति है,फ़ेसबुक पर जो लोग उनके बेदाग़ चरित्र पर कीचड़ उछाल रहे है उनमें ज़्यादातर वही लोग है जिन्हें हगना मूँतना भी ख़ुर्शीद भाई ने ही सिखाया है।ये वे लोग है जो जिसका खाते है उसी को गरियाते है।एसे लोगों के चरित्र पर शर्म आती है जो रामनामी ओढ़ कर वेश्या की दलाली करते है।लेकिन ये लोग नही जानते कि ख़ुर्शीद किस मिट्टी के बने है-
वो सूरज है अँधेरा चीर कर हर रोज़ निकलेंगे
उन्हे क्या रोक पाएँगे उजाला रोकने वाले।।
 
Adnan Kafeel Rahi ये बहुत बुरा हो रहा है. खुर्शीद अनवर एक बेहतर इंसान हैं. असहमतियां अपनी जगह हैं.
 
Ayesha Khan bina tathyo k kisi vyakti vishesh ya kisi jaati, dharm, ya kisi bhi sanstha pe ilzam lagana behad hi sharmnaak hai, #Khurshid_Anwar sahab k baare me padh kar thoda dukh hua, lekin is ghatna kram ne kahi na kahi unko aaina dikhaya hai, jo galtiya woh apne lekh me karte hain, woh hi unke sath hua, isse unhe sabak lene ki zaroorat hai, aur aainda se jab bhi woh koi lekh liye woh chahe jis topic pe ho, usme di hui daleelo k sath saakshy bhi rakhe, taaki baat aaine ki tarah saaf ho jaye….

तहलका का साहस अब कहां है : अरुंधति रॉय

तहलका के संस्थापक और प्रधान संपादक तरुण तेजपाल द्वारा गोवा में पत्रिका की एक युवा पत्रकार पर किए गए गंभीर यौन हमले के मामले पर अरुंधति रॉय की टिप्पणी। अनुवाद: रेयाज
 
तरुण तेजपाल उस इंडिया इंक प्रकाशन घराने के पार्टनरों में से एक थे, जिसने शुरू में मेरे उपन्यास गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स को छापा था. मुझसे पत्रकारों ने हालिया घटनाओं पर मेरी प्रतिक्रिया जाननी चाही है. मैं मीडिया के शोर शराबे से भरे सर्कस के कारण कुछ कहने से हिचकती रही हूं. एक ऐसे इंसान पर हमला करना गैरमुनासिब लगा, जो ढलान पर है, खास कर जब यह साफ साफ लग रहा था कि वह आसानी से नहीं छूटेगा और उसने जो किया है उसकी सजा उसकी राह में खड़ी है. लेकिन अब मुझे इसका उतना भरोसा नहीं है. अब वकील मैदान में आ खड़े हुए हैं और बड़े राजनीतिक पहिए घूमने लगे हैं. अब मेरा चुप रहना बेकार ही होगा, और इसके बेतुके मतलब निकाले जाएंगे. 
 
तरुण कई बरसों से मेरे एक दोस्त थे. मेरे साथ वे हमेशा उदार और मददगार रहे थे. मैं तहलका की भी प्रशंसक रही हूं, लेकिन मुद्दों के आधार पर. मेरे लिए तहलका के सुनहरे पल वे थे जब इसने आशीष खेतान द्वारा गुजरात 2002 जनसंहार के कुछ गुनहगारों पर किया गया स्टिंग ऑपरेशन और अजित साही की सिमी के ट्रायलों पर की गई रिपोर्टिंग को प्रकाशित किया. हालांकि तरुण और मैं अलग अलग दुनियाओं के हैं और हमारे नजरिए (राजनीति भी और साहित्यिक भी) भी हमें साथ लाने के बजाए दूर करते हैं. अब जो हुआ है, उसने मुझे कोई झटका नहीं दिया, लेकिन इसने मेरा दिल तोड़ दिया है. तरुण के खिलाफ सबूत यह साफ करते हैं कि उन्होंने ‘थिंकफेस्ट’ के दौरान अपनी एक युवा सहकर्मी पर गंभीर यौन हमला किया. ‘थिंकफेस्ट’ उनके द्वारा गोवा में कराया जाने वाला ‘बौद्धिक’ उत्सव है. थिंकफेस्ट को खनन कॉरपोरेशनों की स्पॉन्सरशिप हासिल है, जिनमें से कइयों के खिलाफ भारी पैमाने पर बुरी कारगुजारियों के आरोप हैं. विडंबना यह है कि देश के दूसरे हिस्सों में ‘थिंकफेस्ट’ के प्रायोजक एक ऐसा माहौल बना रहे हैं जिसमें अनगिनत आदिवासी औरतों का बलात्कार हो रहा है, उनकी हत्याएं हो रही हैं और हजारों लोग जेलों में डाले जा रहे हैं या मार दिए जा रहे हैं. 
 
अनेक वकीलों का कहना है कि नए कानून के मुताबिक तरुण का यौन हमला बलात्कार के बराबर है. तरुण ने खुद अपने ईमेलों में और उस महिला को भेजे गए टेक्स्ट मैसेजों में, जिनके खिलाफ उन्होंने जुर्म किया है, अपने अपराध को कबूल किया है. फिर बॉस होने की अपनी अबाध ताकत का इस्तेमाल करते हुए उन्होंने उससे पूरे गुरूर से माफी मांगी, और खुद अपने लिए सजा का एलान कर दिया. अपनी ‘बखिया उधेड़ने’ के लिए छह महीने की छुट्टी की घोषणा, यह एक ऐसा काम है जिसे केवल धोखा देने वाला ही कहा जा सकता है. अब जब यह पुलिस का मामला बन गया है, तब अमीर वकीलों की सलाह पर, जिनकी सेवाएं सिर्फ अमीर ही उठा सकते हैं, तरुण वह करने लगे हैं जो बलात्कार के अधिकतर आरोपी मर्द करते हैं-उस औरत को बदनाम करना, जिसे उन्होंने शिकार बनाया है, उसे झूठा कहना. अपमानजनक तरीके से यह कहा जा रहा है कि तरुण को राजनीतिक वजहों से ‘फंसाया’ जा रहा है- शायद दक्षिणपंथी हिंदुत्व ब्रिगेड द्वारा. तो अब एक नौजवान महिला, जिसे उन्होंने हाल ही में काम देने लायक समझा था, अब सिर्फ एक बदचलन ही नहीं है बल्कि फासीवादियों की एजेंट हो गई? यह एक और बलात्कार है- उन मूल्यों और राजनीति का बलात्कार जिनके लिए खड़े होने का दावा तहलका करता है. यह उन लोगों की तौहीन भी है, जो वहां काम कर रहे हैं और जिन्होंने अतीत में इसको सहारा दिया था. यह राजनीतिक और निजी, ईमानदारियों की आखिरी निशानों को भी खत्म करना है. स्वतंत्र, निष्पक्ष, निर्भीक. तहलका अपना परिचय इन शब्दों में देता है. तो कहां है अब वो साहस?
 
साभार- हाशिया ब्लॉाग

तरुण तेजपाल मेरा भांजा नहीं : कपिल सिब्बल

सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे झूठ का आखिरकार कपिल सिब्बल को खंडन करना पड़ा. कानून मंत्री ने कहा कि तरुण तेजपाल उनका भांजा नहीं हैं और न ही तहलका में उनका कोई शेयर है. लोकसभा की नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज ने इशारों में कपिल सिब्बल पर तरुण तेजपाल को बचाने का आरोप लगाया तो कानून मंत्री ने मीडिया के सामने आकर सफाई दी. कपिल सिब्बल ने कहा कि उनके बारे में सोशल मीडिया में झूठ फैलाया जा रहा है.

सुषमा स्वराज पर पलटवार करते हुए कानून मंत्री ने कहा कि वैसे तो झूठ फैलाने की महारथ आरएसएस के पास है पर ऐसा लगता है कि नेता विपक्ष भी इस राह पर चल पड़ी हैं. कपिल सिब्बल ने कहा, 'बड़े दुख से कहना पड़ रहा है कि एक मैसेज सोशल मीडिया में घूम रहा है. जिसमें बताया जा रहा है कि तरुण तेजपाल की माता मेरी सगी बहन हैं. जब मैंने नरेंद्र मोदी को खुली बहस की चुनौती दी थी तबसे ये जानता था कि मुझपर हमले होंगे. पर यह मेरी फैमिली तक पहुंच जाएगा ये नहीं सोचा था. मैं बता दूं कि मेरी एक मात्र बहन है और वो महरानी बाग में रहती है. सच तो ये है कि उनके पास मेरी चुनौती का कोई जवाब नहीं है इसलिए झूठ फैला रहे हैं.'

कपिल सिब्बल ने कहा, 'सोशल मीडिया में एक और झूठ फैलाया जा रहा है. 2011 के रिकॉर्ड से साफ है कि तहलका के 80 फीसदी शेयर मेरे पास हैं. पर सच ये है कि मैंने आज तक तहलका से एक शेयर नहीं मांगा. न ही उन्होंने मुझे आज तक कोई शेयर सर्टिफिकेट दिया. इस तरह का झूठ फैलाना उचित नहीं है. इस काम में आरएसएस को महारथ हासिल है पर सुषमा स्वराज इसका सहारा लेंगी ये नहीं पता था.'

उन्होंने कहा, 'इस मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए. ये बेहद ही संवेदनशील मामला है. एक महिला की अस्मिता से जुड़ा हुआ है. ऐसे मामलों पर राजनेताओं को चुप ही रहना चाहिए. इसे ज्यादा उछालोगे तो देश की गरिमा को ठेस पहुंचेगी.'

उल्लेखनीय है कि तहलका कांड पर बड़ा हमला बोलते हुए लोकसभा की नेता प्रतिपक्ष ने ट्वीट किया, 'एक केंद्रीय मंत्री जो तहलका के संस्थापक और संरक्षक हैं, तरुण तेजपाल को बचाने की कोशिश कर रहे हैं.' आपको बता दें कि तहलका में केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल की हिस्सेदारी की खबरें आई थीं.

जब कुछ नहीं मिल रहा तो फेक स्टिंग व ऑटो के पीछे तर्कहीन पोस्टर चिपकाए जा रहे

Payal Chakravarty : आम आदमी पार्टी के खिलाफ हो रही है छिछोरी राजनीति.. हालत टाइट है बॉस…..आम आदमी पार्टी……झाड़ू…..अरविंद केजरीवाल…….ये तीनों मौजूदा राजनीति में नए समीकरण लेकर आए हैं….ज़ाहिर है…इलेक्शन को लेकर विरोधी दलों की नींदें उड़ी हुई हैं……

अब जब 'आप' के खिलाफ कुछ नहीं मिल रहा….तो फेक स्टिंग और ऑटो के पीछे आप विरोधी तर्कहीन पोस्टर चिपकाए जाने लगे हैं…..अब कोई इस पोस्टर चिपकाने वाले एनजीओ से पूछे…..कि भइया…जब भाग सिंह को कोई परेशानी नही है…..तो बाकियों को क्या खुजली हो रही है….भइया….पंजे और कमल को खिलते हुए देख लिया है…..एक बार झाड़ू भी चलवा कर देख लो….क्या पता गंदगी साफ हो जाए……जागो रे जागो रे जागो…रे..

फोकस, महुआ, इंडिया न्यूज समेत कई मीडिया संस्थानों में कार्य कर चुकीं युवा टीवी जर्नलिस्ट पायल चक्रवर्ती के फेसबुक वॉल से.

‘इंडिया न्यूज’ चैनल में ‘भड़ास’ पर पाबंदी

इंडिया न्यूज में भड़ास देखना मना है. ये आदेश दीपक चौरसिया की तरफ से दिया गया है. इसके बाद चैनल की आईटी टीम ने भड़ास4मीडिया डाट काम डोमेन नेम को आफिस के सभी कंप्यूटरों पर ब्लाक कर दिया है. इस कारण इंडिया न्यूज के मीडियाकर्मी भड़ास अपने मोबाइल या टैब पर देख रहे हैं, वो भी चोरी चोरी चुपके चुपके.

असल में जब भड़ास पर आम आदमी पार्टी के फर्जी स्टिंग का पोलखोल शुरू हुए और इस स्टिंग के पीछे की ताकतों के बारे में जानकारी विस्तार से दी जाने लगी तो इससे इंडिया न्यूज प्रबंधन बौखला गया. दांव उल्टा पड़ता देख खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे की तर्ज पर इंडिया न्यूज आफिस के अंदर भड़ास को ब्लाक करा दिया ताकि इंडिया न्यूज के कर्मचारी हकीकत न जान सकें. पर आज के सूचना संचार में जब कोई जानकारी छिप नहीं सकती, यह कवायद हास्यास्पद बनकर रह गया. इंडिया न्यूज से जुड़े सभी लोग अब अपने मोबाइल, आईपेड, लैपटाप आदि पर भड़ास खोलकर पढ़ रहे हैं.

इस बारे में एक पत्रकार का कहना है कि दीपक चौरसिया जैसे लोगों को समझना चाहिए कि अगर वो पूरी दुनिया को अपने हिसाब से तोड़-मरोड़कर दिखाने बताने का ठेका लिए हुए हैं तो उनकी भी खबरें बताने दिखाने का ठेका सोशल मीडिया और न्यू मीडिया ले चुका है. पत्रकारिता का मतलब यह कतई नहीं होता कि आप एजेंडा पत्रकारिता और सुपारी पत्रकारिता करिए. टीआरपी के लिए आप किसी भी ईमानदार आदमी के खिलाफ मीडिया ट्रायल शुरू कर देंगे तो एक दिन ऐसा जरूर होगा कि कोई आपको चैलेंज कर देगा और आपकी हकीकत सबके सामने ला देगा. आम आदमी पार्टी के लोगों ने इंडिया न्यूज के कांग्रेसी मालिक विनोद शर्मा, संपादक दीपक चौरसिया और अनुरंजन झा के खिलाफ फर्जी स्टिंग करने को लेकर मुकदमा कर दिया है. आने वाले दिन में कई और खुलासे किए जाने की तैयारी चल रही है.

नो वन किल्ड शशि : अरुषि-हेमराज से बड़ी मर्डर मिस्ट्री

चलिए अरुषि और हेमराज को तो सीबीआई ने इंसाफ दिला दिया. सीबीआई को कोर्ट मे मिली जीत के लिए बधाई. लेकिन मुझे याद आ रहा है शशि हत्याकांड. ये भी लगभग अरुषि-हेमराज हत्याकांड के ही समय का था. जिसमें तत्कालीन मंत्री आनन्दसेन यादव पर एक लॉ स्टुडेंट शशि के अपहरण और फिर अपने ड्राईवर से उसकी हत्या करा देने के आरोप लगे थे. मायावती ने आनन्दसेन का मंत्री पद तुरंत छीन लिया था और सीबीआई को जांच दिए जाने की संस्तुति कर दी थी. इसके पहले लगभग ऐसे ही मामले मधुमिता हत्याकांड मे अपने ही मंत्री अमरमणि और उनकी पत्नी के खिलाफ मायावती सीबीआई जांच करा चुंकी थीं. आज ये दम्पति आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा है.

खैर. सीबीआई ने आश्चर्यजनक तरीके से इस मामले की जांच करने से साफ इंकार कर दिया. पीड़ित पक्ष कोर्ट भी गया लेकिन सीबीआई ने मामले को नहीं लिया तो नहीं लिया. बाद मे यूपी पुलिस ने ही मामले की जांच की. निचली अदालत से आनन्दसेन को सजा भी हो गई लेकिन उच्च न्यायालय से वो बरी कर दिए गए, सिर्फ उनके ड्राईवर को दस साल की सजा हुई. जिसमें से 6 साल वो काट चुका है.

यहां ये भी बता दूं कि शशि का शव आजतक बरामद नहीं हो पाया. जहां तक मुझे जानकारी है कि यूपी पुलिस मामले को सुप्रीम कोर्ट मे भी नहीं ले गई क्योंकि आनन्दसेन के पिता मित्रसेन यादव अब समाजवादी रथ पर सवार हैं. उच्च न्यायालय के लखनऊ बेंच ने आनन्दसेन यादव के ड्राईवर विजयसेन यादव को आईपीसी की धारा- 364 का दोषी पाते हुए शशि के अपहरण के लिए जिम्मेदार पाया. इसी जुर्म के लिए विजयसेन को दस साल की सजा भी सुना दी गई. लेकिन आज भी ये सवाल अनुत्तरित है कि यदि शशि की हत्या नही हुई तो शशि आज 6 साल बाद भी कहां है? जब विजयसेन ने उसका अपहरण किया था जैसा कि उच्च न्यायालय मानता है तो शशि की हत्या के लिए विजयसेन द्वारा उसका अपहरण करना, ये सर्कमटांसेज एविडेंस नहीं है? एक साल बाद यानि शशि के अपहरण या गुमशुदा हो जाने के 7 साल पूरे हो जाने के बाद जब कानूनी तौर पर उसे मरा हुआ मान लिया जाएगा तो क्या न्यायालय विजयसेन व अन्य आरोपियों पर शशि को मरा हुआ मानते हुए पुनः मुकदमा चलाएगा? अगर इन सभी सवालों के जवाब नकारात्मक हैं तो क्या हम कह सकते हैं कि शशि और उसके परिवार को इंसाफ मिल गया? या शशि और उसका परिवार सिर्फ इसलिए इंसाफ के काबिल नहीं क्योंकि वो दिल्ली एनसीआर मे नहीं रहते, वो एक छोटे से फैज़ाबाद जिले के निवासी हैं. क्या सीबीआई भी अब टीवी मीडिया की तरह सिर्फ एनसीआर के मामलों को सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री मानेगी?

क्या अरुषि-हेमराज का मर्डर शशि कांड से ज्यादा बड़ी मिस्ट्री है? जहां उच्च न्यायालय न्याय कर चुका है, प्रॉसिक्युशन उच्चतम न्यायालय मे नहीं गया क्योंकि प्रॉसिक्युशन अब बसपा का नहीं सपा का हो चुका है और इन्ही बदली परिस्थितियों मे तब के आरोपी लेकिन आज के बरी लोग सपा वाले पाले मे जाकर खड़े हो गए हैं. शशि मर चुकी है उसकी लाश भी देखी गई थी. जिस मल्लाह ने उसकी लाश देखी थी सुल्तानपुर के गोमती नदी मे, उसने उसकी कलाई की घड़ी निकालकर वापिस नदी की गहराईयों मे ढकेल दिया था. जिसे पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था. घड़ी भी बरामद की गई थी और तभी हत्या और सम्बन्धित धाराएं अल्टर की गईं थीं. पुलिस ने इस मल्लाह को गवाह बनाया लेकिन जैसा कि होता आया है ये मल्लाह कोर्ट मे पक्षद्रोही हो गया. निचली अदालत ने अपने फैसले मे कहा भी था कि इस कोर्ट रूम के बाहर ही गवाह तोड़े जा रहे थे, उन्हें होस्टाईल किया जा रहा था. कहा जाता है कि आनन्दसेन यादव के शशि से प्रेम सम्बन्ध थे. लेकिन अब शशि उन्हें गले की फांस लगने लगी थी. आनन्दसेन और शशि की बातचीत की पुष्टि कॉल डिटेल भी कर रहे थे.

शशि का मामला नवम्बर 2007 का था जबकि अरुषि का मई 2008 का. शशि काण्ड के आरोपी बहुत ही ताक़तवर और रसूखदार लोग थे, जिनसे एक सामान्य दलित व्यक्ति शशि का बाप लड़ रहा था. दूसरी तरफ अरुषि-हेमराज के मामले मे ऐसा नहीं था. देखा जाय तो सीबीआई ने यूपी पुलिस की उसी बात को 5 सालों तक घसीटा जिसे यूपी पुलिस महज 48 से 72 घंटे मे साफ कर चुकी थी. बहरहाल सीबीआई ने अरुषि मामले को लेने मे जो तत्परता दिखाई थी वो कम से कम मेरी समझ से परे थी, क्योंकि अरुषि मामला ऐसा भी नहीं था कि देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी उसमें यूं कूद पड़े. अरुषि मामले मे सीबीआई की तत्परता मेरे लिए आश्चर्यजनक तब और हो गई जबकि वो शशि कांड की जांच करने से साफ इंकार कर चुके थे. बहरहाल आज तो शशि के लिए यही कहा जा सकता है कि “नो-वन किल्ड शशि”. 

लेखक चंदन श्रीवास्तव युवा और तेजतर्रार पत्रकार हैं. अयोध्या-फैजाबाद से पत्रकारीय जीवन शुरू करते हुए लखनऊ से होते हुए दिल्ली तक पहुंचे. कई न्यूज चैनलों में कार्यरत रहे हैं. न्यू मीडिया के माध्यम से सामयिक मुद्दों पर सक्रिय हस्तक्षेप. चंदन से संपर्क  chandan2k527@yahoo.co.in के जरिए किया जा सकता है.

मीडिया में आरक्षण की जरूरत

एक दशक से भी अधिक समय पूर्व चन्द्रभान प्रसाद व अन्य दलित थिंक टैंक भारतीय प्रेस परिषद में ज्ञापन देने गये थे और मां की थी कि मीडिया में भी आरक्षण व्यवस्था को लागू किया जाये। ज्ञापन देने वालों को शिकायत थी कि मीडिया में सवर्णों के एक छत्र राज से उसमें वस्तुपरक दृष्टिकोण का विकास नहीं हो पा रहा जो इस विधा की साख के लिये बुनियादी जरूरत है। इस मुहिम को कई प्रगतिशील बुद्धिजीवियों ने भी समर्थन प्रदान किया था। इसके कारण मीडिया में शूद्रों का छिटपुट प्रवेश कराया गया। दलितों व पिछड़ों की समस्याओं पर भेजे जाने वाले लेखन का प्रकाशन भी सेफ्टी वाल्व के तौर पर शुरू हुआ लेकिन संपूर्णता में इसके बावजूद मीडिया के वर्ग दृष्टिकोण में कोई बदलाव नहीं आया है।

मीडिया में वर्ण व्यवस्था के चश्मे के तहत विचारों और घटनाओं का प्रस्तुतीकरण किया जाता है और इस प्रक्रिया में लोकतंत्र के प्रति निर्मल, निश्छल निष्ठा को कोई स्थान नहीं है। वर्ण व्यवस्था की इमारत भेदभाव पर आधारित अन्याय की नींव पर खड़ी है। अन्याय सबसे बड़ी अनैतिकता है जिसकी वजह से वर्ण व्यवस्था के सभी उत्पाद नैतिक रूप से प्रदूषित और जहरीले हैं। मीडिया भी वर्ण व्यवस्था की गिरफ्त में होने से समाज वैचारिक जहर फैलाने का काम कर रही है। हैरत होती है कि जो लोग अपने अखबार में राजनीति में बढ़ते जातिगत दृष्टिकोण पर बड़े-बड़े अग्रलेख छापते हैं वहीं ऐसी खबरों को प्रोत्साहित करते हैं जिनसे अपराधी को जातिगत सहानुभूति का लाभ लेने का आधार मिले और कानून व्यवस्था लागू करने वाली एजेन्सियां दबाव में आ जायें।

नोट करने वाली बात यह है कि अपराधी से नेता बने लोगों पर जब भी कार्रवाई हुई है तो उसके सजातीय आधार पर समर्थन में ब्राह्म्ण महासभा या क्षत्रिय महासभा की खबरें सबसे ज्यादा छपी हैं जबकि यह जातियां अपने आपको संस्कारित कहती हैं। देश भर में कुछ ही जातियां हैं जिनका उम्मीदवार भारत के किसी भी क्षेत्र के किसी भी पार्टी से छूट जाये तो यह खबरें छपने लगेंगी कि उस जाति के लोग अब अमुक पार्टी को वोट नहीं देंगे। क्या अखबार ऐसी खबरें छापने के लिये बाध्य हैं।

अखबार अनजाने में अपनी करतूत से यह साबित करते हैं कि अमुक जाति के लोग पार्टी या विचारधारा के आधार पर नहीं जातिवाद के आधार पर वोट करते हैं। अगर उस जाति में यह सोच न भी हो तो इस तरह की खबरें इस सोच को पैदा करेंगी और बढ़ायेंगी फिर भी मीडिया को अपने इस काम पर आज तक अफसोस नहीं हुआ। मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है, उसे लोकतंत्र में विशिष्ट स्थान व सम्मान मिला है तो उसे लोकतंत्र का वफादार होना चाहिये। लोकतं की सबसे बड़ी सेवा है जनचेतना का निर्माण करना लेकिन उक्त सूचनाओं के ताबड़तोड़ प्रहार से लोगों को जातिगत चेतना से उबरने और जन होकर लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं के बारे में सोचने का अवसर क्या मिल सकता है।

मीडिया के कारपोरेट होने के बाद भी इसमें सुधार नहीं हो पाया है। अखबार हो या चैनल उनके पत्रकार पेशेवर सिद्घांतों के आधार पर आज तक कार्य करना नहीं सीख पाये जबकि कारपोरेट का यह बुनियादी लक्षण है। पेशेवर सिद्घांतों में सबसे प्रमुख है औचित्य। जो खबर दी जा रही है उसको लिखने या प्रसारित करने का औचित्य क्या है। रंगीले बादशाह नारायण दत्त तिवारी अगर शूद्र होते तो चरित्रहीनता के एवरेस्ट के रूप में उजागर होने के बाद भी क्या मीडिया में महामंडित बने रह सकते थे। जब मुलायम सिंह के मुख्यमंत्रित्व काल में विवेकाधीन कोष से सहायता देने में हुए दुरुपयोग की खबरें चर्चा में थीं तो एक प्रमुख इलेक्ट्रानिक चैनल पर तुलना में मुलायम सिंह के साथ कल्याण सिंह के समय विवेकाधीन कोष से साध्वी ऋतंभरा और हिन्दूवादी संस्थाओं को प्रदत्त अनुदान का कच्चा चिट्ठा भी खोला जा रहा था। क्या इस तुलना का कोई औचित्य था।

मुलायम सिंह ने विचारधारा के आधार पर नहीं अपने और पार्टी के फायदे के लिये अनुदान बांटा था। वह भी जो बीमार नहीं था, उसे इलाज के लिये रुपये दे दिये थे। इसके विपरीत कल्याण सिंह ने जिस विचारधारा के आधार पर उन्हें जनादेश मिला था उसके लिये काम करने वाली संस्थाओं को दान दिया था। भाजपा को जनादेश मिलता है तो संघ की संस्थाओं और वामपंथियों को जनादेश मिलता है तो उनकी सरकार इप्टा व अन्य समानधर्मी संगठनों को अनुदान देते हैं। इसमें दुरुपयोग क्या है। स्थानीय स्तर की खबरों में तो मीडिया द्वारा इस तरह की गफलत की पराकाष्ठा देखने को मिलती है।

दरअसल विद्वान से विद्वान और व्यक्तिगत स्तर पर काफी हद तक ईमानदार संपादक भी फील्ड के मीडिया कर्मियों का चयन योग्यता व समझ के मानकों को किनारे कर जाति के आधार पर किया जाता है। मीडिया में लाइजनिंग की योग्यता के आधार पर संपादक बनाने का भी फैशन चल पड़ा है जो दलाल मानसिकता की वजह से सफाई कर्मी बनने की योग्यता भी न रखने वाले अपने किसी खास की संस्तुति पर आये किसी बेरोजगार युवक को फील्ड का मीडिया कर्मी यह कहते हुए चुन लेता है कि मैंने अमुक-अमुक अपने चेलों को सडक़ से सिंहासन पर बैठाया है। तुम्हें भी मौका दे रहा हूं। अमुक जिले में जाओ माल ही माल है। 2 साल में आदमी बन जाओगे, कार से चलोगे। अच्छे संपादक भी वर्ण व्यवस्था की वर्ग चेतना की वजह से खुशामदी के प्रति अतिरिक्त सहानुभूति की भावना से ग्रस्त रहते हैं और वे जाति के आधार पर नहीं तो इस आधार पर किसी भी चेले चपाटे को फील्ड वाली जागीर सौंप देते हैं।

फील्ड में मीडिया कर्मी किसी अखबार के सबसे बड़े ब्रांड अम्बेसडर होते हैं। कारपोरेट दुनिया में ट्रेनिंग, ट्रांसफर, एचआर पालिसी के नाते जरूरी है। इस आड़ में हर जिले में गैर जिले के पत्रकार की 2 साल के लिये नियुक्ति का चलन भी शुरू कर दिया गया है। कारपोरेट के अन्य क्षेत्रों की नकल तो मीडिया में कर ली गयी लेकिन बेचारे मीडिया कर्मी को दूसरी कंपनियों की तरह बाहर रहने पर आवास भत्ता, बाहर रहने का भत्ता व अन्य सुविधाओं की कोई व्यवस्था नहीं की गयी। उस पर संपादक का माल काट कर आने का गुरुमंत्र। नतीजतन यह ब्रांड अम्बेसडर अपने ब्रांड की क्या पहचान बना रहे हैं यह गौर करने लायक है। रिक्शा वाला और नेत्रहीन विकलांग तक अपनी खबर इनसे बिना पैसा दिये नहीं छपवा सकता। जब स्थानीय पत्रकार ही मुख्य कर्ताधर्ता होता था तो उसे लोकलाज का डर था लेकिन बहिरागत तो जिसे पता है कि उसे दो वर्ष में ही इस जिले से चले जाना है तो वहां के लोग उसे अच्छा समझें या बुरा क्या लेना देना। वह तो पैसे के लिये नंगा होकर नाचेगा और यही हो रहा है। इस कारण न केवल खबरों के नाम पर सिर्फ एडवरटोरियल चल रहे हैं बल्कि ब्लैकमेलिंग भी सारी सीमायें पार कर चली है। आज किसी जिले में व्यापार या ठेकेदारी करने वाले पुलिस, गुंडों और अन्य सरकारी पदाधिकारियों की वसूली से इतने परेशान नहीं हैं जितने पत्रकारों से हैं।

जाहिर है कि बिना वर्ण व्यवस्था से छुटकारा प्राप्त किये किसी समूह या वर्ग के लिये नैतिक मूल्यों का महत्व स्वीकार करना असंभव है। इस कारण मीडिया में आरक्षण लागू करने की मांग आज एक दशक पहले से कहीं ज्यादा प्रासंगिक हो चुकी है। बुर्जुआ लोकतंत्र में राजनैतिक दलों का भविष्य तय करने में मीडिया की बड़ी भूमिका है। इतनी भ्रष्ट मीडिया के रहते हुए लोकतंत्र का सत्यानाश तय है जिसके कारण अगर इसमें परिवर्तन नहीं होता तो जनचेतना के निर्माण के लिये लोगों को प्रचार व शिक्षण की वैकल्पिक मशीनरी तलाशनी पड़ेगी। बसपा के संस्थापक मान्यवर कांशीराम बहुजन चेतना को तभी संगठित कर पाये जब उन्होंने वर्ण व्यवस्थावादी मीडिया को गाली गलौज कर अपने कार्यक्रमों से भगा देने का ढर्रा बना लिया था। अगर मीडिया में वर्ग चेतनागत बदलाव नहीं होता तो शायद राजनीति का आने वाला कोई और धूमकेतु भी ज्यादती का ऐसा ही रास्ता पकडऩे को मजबूर होगा। मीडिया में आरक्षण होगा तो बहुलतावादी प्रतिनिधित्व बढ़ेगा और पत्रकार एकांगी होकर सोचने की बजाय समग्रता में स्थितियों का विश्लेषण करने में सक्षम हो सकेंगे।

केपी सिंह

bebakvichar2012@gmail.com

राजनीति और धर्म पर दो किताबों पकवान बनाने की विधियां अज्ञात भाषा में दर्ज!

भारत के संदर्भ में राजनीति और धर्म मुझे लाइब्रेरी में रखी दो ऐसी किताबें लगती हैं जिनमें पकवान बनाने की ढेर सारी विधियां किसी अज्ञात भाषा में लिखी गई हैं। हम सिर्फ चित्र देखकर उन पकवानों के बारे में अनुमान लगा सकते हैं। हम में से हर कोई खुद के अनुमान को सही ठहराने का दावा करता है। इन किताबों को हम पसंद या नापसंद कर सकते हैं, लेकिन नजरअंदाज नहीं कर सकते। इन दोनों विषयों पर मैंने कभी कुछ नहीं लिखा, क्योंकि ऐसा जरूरी नहीं समझा।

मैं न तो राजनीति का विरोधी हूं और न ही नास्तिक हूं। देश चलाने के लिए राजनीति अनिवार्य है और धर्म इस दुनिया के ज्यादातर लोगों की जिंदगी से जुड़ा है। एक व्यक्ति को जितना आस्तिक होना चाहिए, उतना मैं भी हूं, लेकिन कुछ दिनों पूर्व एक बहुत पुरानी घटना के बारे में सुनकर इन दिनों मैं धर्मगुरुओं की हमारे जीवन में भूमिका के बारे में विचार कर रहा हूं।

इस घटना के बारे में मुझे मेरी मां ने बताया। यह एक बिल्कुल सच्ची घटना है। इससे पहले मैंने कभी इसके बारे में नहीं सुना था। भारत में ब्रिटिश हुकूमत के दौर की बात है। मेरे गांव के पुराने घर में एक लड़की का जन्म हुआ। प्यार से नाम रखा – छोटी। वह रिश्ते में मेरे दादाजी की बुआ लगती थी। जब वह पांच साल की हुई तो पड़ोस के शहर में रहने वाले एक लड़के से उसकी शादी तय कर दी गई। वह लड़का छोटी की उम्र से करीब चार गुना बड़ा था। जब बारात आई तो मालूम हुआ कि दूल्हे की तबीयत बहुत ज्यादा खराब है। जब उसकी हालत और बिगड़ने लगी तो पंडितजी का हुक्म हुआ- शुभ मुहूर्त्त निकला जा रहा है। कन्या को फेरों के लिए जल्द हाजिर करो। खैर… किसी तरह रस्म पूरी हुई, लेकिन आखिरी फेरे तक दूल्हे की नाड़ी भी थम चुकी थी। छोटी का हमसफर हाथ थामने से पहले ही उसे छोड़कर जा चुका था। तब गांव के धार्मिक विद्वानों की बैठक हुई और फैसला लिया गया कि दूसरे गांव का शव हमारे दरवाजे से नहीं निकाला जा सकता। लिहाजा रस्सियों का इंतजाम हुआ और शव को उनसे बांधकर घर की छत से नीचे उतारा गया। छोटी के लिए धर्मगुरुओं का हुक्म हुआ कि भगवान ने तुम्हारी जिंदगी का फैसला शादी के पहले दिन ही कर दिया है, इसलिए तुम हमेशा विधवा के वेश में अपने मायके रहो। सात जन्मों का साथ निभाने वाला इतनी जल्दी अलविदा कह देगा, छोटी ने ऐसा ख्वाब में भी नहीं सोचा था।

वक्त गुजरते वक्त नहीं लगता। धीरे-धीरे छोटी के मन से उस दूल्हे की तस्वीर धुंधली पड़ती गई जिसके साथ उसने कभी सात फेरे लिये थे। वह पूरी जिंदगी विधवा बनकर जिंदा रही, क्योंकि उसकी जिंदगी का फैसला कुछ लोग ले चुके थे। उसने हमेशा सफेद साड़ी पहनी, क्योंकि कुछ लोगों ने उसकी जिंदगी के लिए सिर्फ यही रंग चुना था। वह अपनी जिंदगी का कोई फैसला अपनी मर्जी से नहीं ले सकती थी, क्योंकि जिंदा रहने के सभी अधिकार उससे बहुत पहले छीन लिए गए थे। कई साल बाद छोटी ने इस दुनिया को अलविदा कहा और हमेशा के लिए मर गई। कम्प्यूटर पर जब मैं ये लफ्ज टाइप कर रहा हूं तो मेरी अंगुलियां कांप रही हैं। मैं उन सब लोगों को छोटी की ‘हत्या’ का जिम्मेदार मानता हूं जिन्होंने कुछ ग्रंथों की मनमानी व्याख्या के आधार पर उसकी सभी खुशियां छीन लीं।

कुछ दिनों पहले मैं एनबीटी की वेबसाइट पर एक धार्मिक नेता से संबंधित समाचार पढ़ रहा था। उनका कहना है कि 2014 के चुनावों में यदि हम सत्ता में आएंगे तो कानून बनाकर अयोध्या में राम मंदिर बनाएंगे। यह समाचार पढ़ने के बाद मुझे कई दशक पहले धर्म के विद्वान कहलाने वाले उन लोगों की याद आ गई जिन्होंने उस जिंदगी को खत्म कर दिया था जो शुरू भी नहीं हुई थी। मैं फिर इस बात का जिक्र करना चाहूंगा कि श्रीराम मेरे भी उतने ही भगवान हैं जितने वे और प्राणियों के हैं। मैं कितना भी बड़ा बन सकता हूं लेकिन उनसे बड़ा कभी नहीं बन सकता।

आप आस्तिक बनते हैं तो आजाद हैं। आप नास्तिक बनते हैं तो भी आजाद है, लेकिन अगर आप अपने धार्मिक और राजनीतिक फैसले किसी और पर छोड़ते हैं तो आप भविष्य में निश्चित रूप से गुलाम होने वाले हैं। हमें अयोध्या या देश के किसी भी हिस्से में तब तक राम मंदिर बनाने का कोई हक नहीं जब तक कि हर घर तक शिक्षा, चिकित्सा, रोटी और इंसाफ न पहुंचा सकें। यही बात मस्जिद और इस श्रेणी की दूसरी इमारतों पर लागू होती है। मैं देश में हिंदू आधिपत्य के खिलाफ हूं लेकिन मैं मुस्लिम आधिपत्य के भी खिलाफ हूं। अल्लाह पूरी कायनात का मालिक है और कहीं मस्जिद बनने या न बनने से उसकी हैसियत को कोई फर्क नहीं पड़ता। आज जब जन्नत से मुहम्मद (सल्ल.) इस जमीन को देखते होंगे तो उन्हें इस बात का जरूर अफसोस होता होगा कि किन लोगों के लिए मैंने पत्थर और जुल्म सहे? ये तो आज तक इन्सान भी नहीं बन सके।

मैं नहीं जानता कि देश के अगले प्रधानमंत्री कौन बनेंगे। मैं इस देश के कानून को मानता हूं और उसके मुताबिक जो चुना जाएगा उसे मैं भी प्रधानमंत्री ही कहूंगा। भारत के नए प्रधानमंत्री जी, मैं नहीं जानता कि आप कौन हैं। मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप टीका लगाते हैं या टोपी पहनते हैं। मुझे आपके कुर्ता या साड़ी पहनने से भी कोई ऐतराज नहीं है। मुझे इस बात से भी कोई मतलब नहीं कि आपका चुनाव चिह्न क्या है। मुझे इस बात से जरूर मतलब है कि देश चलाने की आपकी नीतियां क्या हैं। हमें अब और मंदिर-मस्जिद, चर्च या गुरुद्वारे नहीं चाहिए। कृपया हमारे लिए स्कूल, अस्पताल और कारखानों का प्रबंध कीजिए। हमें अमेरिका और ब्रिटेन से भी बेहतर लोकतंत्र चाहिए। हम माला, टोपी, कृपाण और क्रॉस जैसे कई मसलों को एक संदूक में बंद करना चाहते हैं, क्योंकि फिलहाल हमें रोटी की जरूरत है। अगर मुमकिन हो तो इस संदूक को ताला लगाकर अरब सागर में दफन करवा दीजिए, ताकि इसे कोई नहीं खोल सके। आप धर्म के उन गुरुओं को नजरअंदाज कीजिए जो अपने उटपटांग फैसले जनता पर थोपते हैं और ग्रंथों की मनमानी व्याख्या करते हैं। असल में ये लोग हमारे लिए गुलामी का फंदा तैयार कर रहे हैं। और सिर चाहे फंदे में दिया जाए या फंदा सिर में लगाया जाए, खत्म तो जिंदगी ही होती है।

राजीव शर्मा

ganvkagurukul.blogspot.com

दुष्कर्मी पिता की गिरफ्तारी के लिए महिलाएं सड़क पर उतरीं

पीलीभीत : दुष्कर्मी पिता की शिकार पीलीभीत की 'दामिनी' को इंसाफ दिलाने के लिए महिला संगठनों के स्वर मुखर हो गए है। एकमंच पर आई महिलाओं ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए पीड़िता को इंसाफ दिलाने की मांग की। गोदावरी स्टेट में एकत्र हुई दर्जनों महिलाएं जुलूस की शक्ल में पहले डीएम कार्यालय पहुंची।

इसके बाद डीएम कार्यालय में ज्ञापन देकर पुलिस लाइन पहुंची। यहां एसपी के न मिलने पर महिलाएं भड़क गई। उन्होनें पुलिस लाइन में ही पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सीओ जहानाबाद को भी महिलाओं ने निशाने पर लिया। सीओ सिटी का भी घेराव कर आरोपी पिता की गिरफ्तारी की मांग की । गिरफ्तारी न होने पर सड़क पर उतरकर विशाल आंदोलन की चेतावनी दी।

शहर की पॉश कॉलोनी में अशोक शर्मा नामक शख्स ने अपनी पुत्री के साथ दुष्कर्म की वारदात को चार वर्षो तक अंजाम दिया। पुलिस अधीक्षक के आदेश पर पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया। पर तीन दिन बीतने के बाद भी आरोपी को गिरफ्तार नही किया। जिससे सोमवार को महिला संगठन भड़क गए। गोदावरी स्टेट कॉलोनी की दर्जनों महिलाओं के अलावा जिला पंचायत सदस्य रमा गैरोला, अलका सिंह, भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष रेखा परिहार, कांग्रेस कमेटी की वसुंधरा सुरभि के नेतृत्व में जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करती हुई डीएम कार्यालय पहुंची। यहां उन्होनें ज्ञापन दिया। इसके बाद महिलाएं नारेबाजी करते हुए पुलिस लाइन पहुंची। यहां महिलाओं ने एसपी के न मिलने पर सीओ जहानाबाद से तीखी नोंकझोंक हुई। ज्ञापन देकर लौट रही महिलाओं ने कचहरी तिराहे पर सीओ सिटी का भी घेराव किया। दुष्कर्मी पिता की शीघ्र गिरफ्तारी न होने पर पुलिस के खिलाफ मोर्चा खोलने की भी चेतावनी दी। प्रदर्शन करने वालों में दीपशिखा गुप्ता, प्रमिला सिंह, संगीता चौहान समेत तमाम महिलाएं थी।
 

कांग्रेसी चैनल की दलाली करने वाले अनुरंजन झा को डा. कुमार विश्वास ने दिया ज्ञान

Dr. Kumar Vishwas : दूसरों को स्टिंग-ऑपरेशन का ज्ञान सिखाने वाले मेरे मित्र अनुरंजन झा की फेसबुक वाल से एक पुराना ज्ञान –

1. स्टिंग बच्चों का खेल नहीं
2. 'फंसाना' और 'एक्सपोज़ करना' अलग अलग है
3. expose और entrapment में बारीक फर्क है

इसी 'बारीक फर्क' को भली-भांति समझ चुके अनुरंजन और उनकी टीम ने इस फर्क को मिटाने के लिए वीडियो में से 10-10 सेकंड के महत्वपूर्ण हिस्से काट लिए, और हमें 'बेईमान', 'काला धन' लेने वाला और 'अनैतिक धंधे में लिप्त' साबित कर दिया। कांग्रेसी चैनल की दलाली में उन्होंने यह सब तो कर लिया, लेकिन वो यह भूल गए, कि 'सच' नहीं हारता!

Dr. Kumar Vishwas : पूरी रॉ फुटेज अब देश के सामने है। दस-दस सेकण्ड के सबसे महत्वपूर्ण हिस्से, जैसे कि "आप चेक दो या कैश दो, हम तो टैक्स देते ही हैं", "हम हर साल CA से हिसाब करवाते हैं और कैश और चेक की पूरी इंट्री दिखा कर उस पर प्रॉपर टैक्स देते हैं" इत्यादि को काट कर ईमानदारी को बेईमानी करार दे दिया गया!!! क्या अब मीडिया कुछ बोलेगी? जिन चैनलों ने (दलाली वाले कांग्रेसी चैनलों को छोड़ कर) दो दिन पूरे 'आप' का स्टिंग दिखाया (भले ही किसी बहकावे में आ कर), क्या वो अब इस फ़र्ज़ी स्टिंग की सच्चाई दो दिनों तक दिखाएंगे?? और आश्चर्य ये हैं, कि अब, जब कांग्रेसी चैनल की साज़िश सामने आ गई है, तो भाजपा क्यों इस पर चुप है?

डा. कुमार विश्वास के फेसबुक वॉल से.


इसे भी पढ़ें…

बहुत घटिया पत्रकार निकला अनुरंजन झा, देखिए स्टिंग की सच्चाई…

xxx

सुपारी पत्रकारों और कांग्रेसी चैनल मालिक के खिलाफ मुकदमा ऐतिहासिक

xxx

'पेड स्टिंग' के सरताज दीपक चौरसिया और अनुरंजन के काम की हकीकत देखिए

xxx

दीपक चौरसिया और अनुरंजन झा यानि सुपारी पत्रकार!

xxx

कांग्रेसी मालिक ने अपने पालतू पत्रकार दीपक चौरसिया को 'आप' को बदनाम करने के मिशन पर लगाया!

xxx

कृष्ण कल्पित की कविता पर ओम थानवी ने जताई आपत्ति तो शुरू हो गई ऐसी-तैसी

Om Thanvi : दूरदर्शन के एक अधिकारी-कवि हैं जो अपने आप को मानो कबीर, मीर, ग़ालिब, पार्थ, सार्त्र आदि का अवतार समझते हैं और आजकल अपने "महाकाव्य" 'बाग़-ए-बेदिल' को किसी नामी लेखक के हाथों थमा उसका फोटो खींच फेसबुक पर चस्पां कर देने के लिए जाने जाते हैं। फेसबुक पर हाल ही शाया उनका यह "कवित्त" एक मित्र ने मुझे पढ़वाया हैः

( "रावण ने सीता का अपहरण ज़रूर करवाया था
लेकिन ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं की
बल्कि सहमति की कोशिश और इन्तिज़ार करता रहा, पार्थ!

लेकिन इस तेज़-तर्रार पंजाबी रावण ने
मिथिला-बिहार की बेटी के साथ
गोवा के एक पाँच-सितारा होटल में ज़ोर-ज़बरदस्ती की, सार्त्र!

रावण तो सचमुच विद्वान था
लेकिन यह द्वि-कौडिक अंग्रेज़ी-लेखक और पीत-पत्रकार
दूसरे, तीसरे और चौथे बलात्कार पर उतारू है, अरुन्धती!

(बलात्कार नम्बर दो-१(१६२)//कृक//प्रथम पेय//)

और शूर्पण खां इन दिनों अंग्रेज़ी में रावण का बचाव कर रही थी, देशवासियो!" )

आप कुछ समझे? ये कथित महाकवि "पंजाबी रावण" और "मिथिला-बिहार की बेटी" उपमाएं देकर क्षेत्रवाद की आग ही नहीं भड़का रहे, पीड़ित पत्रकार युवती की पहचान की ओर भी स्पष्ट संकेत कर रहे हैं।

इतना ही नहीं, कवि महाशय प्रकारांतर से बलात्कारी को जोर-जबरदस्ती न कर (रावण की तरह!) जैसे "सहमति" की कोशिश और "इंतिज़ार" की प्रेरणा भी दे रहे हैं! क्या "प्रथम पेय" के बाद ऐसे 'कवि' भूल जाते हैं कि रावण और उसकी बहन शूर्पणखा (शूर्पण खां नहीं) के साथ वे सीता के बहाने जिस युवती पत्रकार की बात कर रहे हैं, वह तरुण तेजपाल के समक्ष बेटी-सरीखी थी और मातहत सहकर्मी भी?

बहुत तरस आता है ऐसे "काव्य" बोध पर। और खीझ भी होती है।

जनसत्ता के संपादक ओम थानवी के फेसबुक वॉल से. इस पर आईँ कुछ टिप्पणियां यूं हैं…

    Priyam Tiwari ऐसे हाल में पांचवां पेय/ और फिर नींबू का सेवन कवि मन को धरातल पर जल्द ही ला पटकता है। और इस क्षेत्रवादी रामायण पर से पटाक्षेप होता है।

    Bharat Tiwari सर ! तरस और खीझ दोनों शब्द नाराज़ हो जायेंगे … पेंच कस की ज़रुरत है यहाँ

    Hindi Mamta Dhawan आपकी टिप्पणी ने उन्हें अब महतवपूर्ण बना दिया

    Dinesh Chandra Purohitt sir tarun tejpaal ne to patrakareta ko badnam kardiya hai ,or baad mai choudhary jo hmesa mahela adhikaro ki baat karti hai aaj vo bhi apna sur bdal rahi hai.
 
    Zubair Shahid Naye jamane ka Ramayan rach rahe ho shayad?
 
    Rajeev Raj Tarun tejpal ka wo kavi bhi sahodar bhai hi hoga…by birth nahi…by work
   
    Vibhore M Seth ha ha hs..baap mare 'ANDHERE' me beta power house…
    
    Madhu Arora पीने के बाद ऐसा ही लगता होगा उनको।
     
    Om Thanvi Hindi Mamta Dhawan अब इसका क्या करूँ जो इसी से महत्त्व पा जाय है मुझसे!!
     
    Hindi Mamta Dhawan Om Thanvi जी लोगों को तो आपकी जुबान पर अपना नाम चाहिए बस .आपकी तवज्जो रहे ,कैसे भी
 
    Sarvesh Dinanath Upadhyay shuparn khan ' aisa likhne ki apko jarurat kyu padi ? khan ho ya hindu isse kya blatkar ki paribhasha badal jati hai ? thanvi sahab aaap kabhi kabhi betuki bate kartey hain . baat saaf aur seedhi honi chahiye , koi mod – tod kar nahi
   
    सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी भगवन से प्रार्थना है मूर्खों के सींग पूँछ दे दे। चाहे मैं खुद ही लपेटे में क्यों ना आ जाऊं

    Sunil Mishr आदरणीय सर, ये तथाकथित परिपक्वता उनके व्यक्तित्व पर मुहासों की तरह उग आयी लगती है, बड़ा शर्मनाक है।

    Sunil Sharma Bakvas hai

    Om Thanvi Sarvesh Dinanath Upadhyay "शूर्पण खां" मेरा प्रयोग नहीं है मेरे गुरु, मैंने बस उद्धृत किया है! दो-दो उद्धरण-चिह्न दे कर।

    Asim Jairajpuri इन्हें भी "भारतीय राजनीति कॉलोनी " में एक घर कि चाहत हो गयी है !!! क्राइसिस ऑफ़ आइडेंटिटी तो हईये है !

    Sarvesh Dinanath Upadhyay sir maine to apke status par dekha ,
 
    ठा. कृष्ण प्रताप सिंह सर ! काव्य-बोध और लेखन की गरिमाओं को भुलाकर आधुनिक रामायण की नींव रखी जा रही है शायद काव्य लेखन की उनकी बौद्धिकता भी प्रदर्शित होती है

    Fahad Saeed hum sab azad hai kuch bhi kehno ko
 
    Sarvesh Dinanath Upadhyay mujhe nhi pta aap ' khan; ko itna importance kyu diye , darasal aap puurvagrah se grasit hain ya controversy aa
   
    Akbar Rizvi कवि महोदय का नाम बता देते तो हम भी उनका पेज दर्शन कर आते।
    
    संजय महापात्र जब कविता इतनी भयंकर है तो महाकाव्य बाग-ए-बेदिल किसी सूनामी से कम ना होगा ।

    Dinesh Chandra Purohitt LOG FOMOUS HONEKE LIYE KUCH BHI LEKAH SAKTE HAI
 
    Dhirendra Pandey फेसबुक पर फेमस होने की चाह में तमाम कुकुरमुत्ते हैं जो अपने को छाता समझते हैं  
 
     Mukesh Bahuguna कविता लिखना उनका अधिकार है ,, उनके इस अधिकार का सम्मान किया जाना चाहिए ,,, और कविता पढ़ना ,, न पढ़ना या पढने के बाद कविता और महाकाव्य को कुंवे में फेंक देना आपका अधिकार है ,,, आपके अधिकार का भी सम्मान किया जाएगा
 
    Aman Dwivedi यह तो हद हो गई सर…..!!

    Ved Prakash Gupta Baudhik vilas bhar hai… Ac me gaddedar sofe par baithkar ubkai aati hai !!
 
    Chandan Srivastava सर माफ कीजियेगा लेकिन आपने इस कविता को प्रचारित भी कर डाला, आलोचना के ही सहारे. लेकिन प्रचार तो किया

    Inderjeet Singh Modesty and righteousness both have vanished, and falsehood struts around like a leader, O Lalo.
    (Guru Granth Sahib)
 
    Nirbhay Kulkarni "प्रथम पेय"
 
    Balendra Shekhar महाशय #controversy चाहते हैं मेरा मानना है ऐसे मामलो में
    बेहतर होगा के महाशय को खोपचे में ले जा कर वतर्मान रीत रिवाज से समझाइश दी जाये ..
    गर बवाल हुआ तो ..जिस के खातिर उन्होंने ये लिखा है वो उनका सपना साकार हो जायेगा
    मीडिया में चार लोगो को बैठा कर डिबेट करना … आप बताइये आप बताइये
    ये तर्क संगत नहीं होगा …

    Bodhi Sattva रावण ने सीता का हरण करवाया था किससे करवाया था, यह इनसे कौन पूछे। यह तो इनके ही पौराणिक संदर्भ की खेती है।

    Om Thanvi Akbar Rizvi कवि का नाम कृष्ण कल्पित। पन्ना Kalbe Kabir नाम से।

    Anjum Sharma काव्य से इतनी ज़ोर जबर्दस्ती क्यों की पार्थ? यह क्या किया सार्त्र…
 
    आदित्य भारतीय koi link dega lekhak ki ….
 
    Sanjay Sharma मेरे मन में तो इन तथाकथित कवि महोदय के हरण की इच्छा और तत्पश्चात ,इनकी भोपाली आवभगत के साथ ही इनकी अशोकवाटिका को उजाड़ने की इच्छा बलवती हो उठी है !! शर्म आती है ऐसे लोगों पर ,…।
 
    Praveen Praveen KABITA PREM PER LIKHI JATI HAI RAPE PER NHI
 
    Anil Khamparia इन पर तो विभागीय एक्शन तत्काल होना चाहिये ……
   
    Om Thanvi Mukesh Bahuguna यह कविता है? कुछ कविता की हम भी खबर रखते हैं। अज्ञेय, नागार्जुन से लेकर भवानीप्रसाद मिश्र, विजयदेव नारायण साही, नरेश मेहता, रघुवीर सहाय, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, कुंवर नारायण, केदारनाथ सिंह, विष्णु खरे, नरेश सक्सेना, अशोक वाजपेयी, आलोकधन्वा, ज्ञानेन्द्रपति, ऋतुराज, नंदकिशोर आचार्य, चंद्रकांत देवताले, उदय प्रकाश, राजेश जोशी, वीरेन डंगवाल, लीलाधर जगूड़ी, मंगलेश डबराल, असद ज़ैदी आदि की सोहबत भी मिली है। कविता के अधिकार के नाम पर हमें कविता से इतना न मोड़ें बंधुवर।See Translation
 
    Manish Mishra Om Thanvi sir…. sambhav hai jin mahakaviyon ka aapne naam liya hai we tahalka purm sadi ke hon. Doordarshan wale kavi abhi panap rahe hain….. waise sita bhi ravan ki hi putri thi…..
   
    Mukesh Bahuguna हा हा हा हा हा ,, भाई जी ,, मैं व्यंगकार हूँ तो कृपया अन्यथा न ले ,, असल में तो मैं इस जलन से जल रहा हूँ की काश नेकी कर दरिया में डाल की तरह कविता पढ़ और कवी ( दूरदर्शन के अधिकारी-कवि छाप कवि को ) को दरिया में डालने का अधिकार भी होता
    
    Manish Mishra Om Thanvi sir… मिथिला बिहार की बेटी दोहरा कर आप क्या साबित करना चाहते हैं? यही कि कवि महोदय का इशारा किस तरफ है? यहाँ आत्मावलोकन की जरूरत है।
     
    Om Thanvi Anil Khamparia एक्शन? एक बार तो रिश्वत लेते रंगे-हाथ CBI गिरफ्तार कर चुकी है। तब कविश्री जयपुर दूरदर्शन में थे। … ऐसी गिरफ्तारी के बरसों बाद कोई बहाल कैसे होता है, यह खुदा ही जानता होगा।
 
    Manish Mishra अब तक यह स्पष्ट नहीं कर पाए Om Thanvi sir कविता बुरी है या कवि का चरित्र?
 
    Siddhant Mohan जो हर कुंठा पर कविता रचे, उसे कवि न कहा जाए भले ही कुछ भी कह दिया जाए क्योंकि हिन्दी में हमनें कवियों के बहुत ऊंचे मानक सेट कर रखे हैं.
     
    Shayak Alok बस खीझ के छोड़ दीजिये .. कविता क्या रहेगी .. स्फुट विचार सा है ..इसी शैली में वे लिखते रहे हैं फेसबुक पर .. पंजाबी बिहारी करने से क्षेत्रवाद आया तो है जो नहीं आना चाहिए था .. बाकी सब ठीक ही है .. छूट दी जा सकती है ..
 
    Siddhant Mohan मनीष भाई, जो भाजपा सरीखा इतिहास ख़राब तुकबंदी में परोसे और घूम-घूमकर क़िताब बेचे, उसके लिए नज़र ज़्यादा साफ़ करने की ज़रूरत तो नहीं है.
 
    Manish Mishra धन्य हैं ऐसे महाप्रभु जो खुद को पत्रकार और intellectual कहलाने का शौक रखते हैं सिद्धांत भाई। छी छी
 
    Siddhant Mohan मनीष भाई, आप बताइये कि आप किधर इशारा कर रहे हैं? मैं तो कल्पित जी को कह रहा हूँ.
 
    Shayak Alok कवि का अभिप्राय मुझे तो बड़ा स्पष्ट लगा कि लोकाचार में सबसे बड़े विलेन के रूप में स्थापित रावण तक ने स्त्री के खिलाफ सेक्स क्राइम नहीं किया बल्कि इन्तजार करता रहा कि किसी कारण सीता की सहमति प्राप्त हो जाए .. बाकी मॉडर्न रावण का जो चरित्र चित्रण कवि ने किया प्रकट ही है .. एक पंक्ति में अरुंधति के सेकण्ड रेप व्याख्यान को भी ले आये अपने पक्ष को मजबूत दिखाने .. अंत में शूर्पनखा के रुप में शोमा चौधरी को प्रस्तुत कर थोड़ी चिढ दिखा दी .. सही है .. खीझ हो सकती है इस पोस्ट से .. किन्तु ..बस .. खीझ तक ही
 
    Shayak Alok हा हा .. बिजनेस भास्कर का सब एडिटर जनसत्ता के सम्पादक को पत्रकारिता और बुद्धिजीविता का सर्टिफिकेट दे रहा है .. हमरी अहिन्दीभाषी गर्लफ्रेंड ठीके कहती है कि तुम हिंदी वालों ने फेसबुक को सर्कस बनाकर छोड़ा हुआ है जहाँ अलहदा किस्म के किरदार होते नहीं हैं पाए जाते हैं ..

    Siddhant Mohan फेसबुक ने बड़े बड़ों और नोखे-निठल्लों को आश्रय दिया है, तो कल्ब की जगह भी महफूज़ रहे.
 
    Bholanath Kushwaha like
 
    Ajit Priyadarshi phesbukiya aasu-kavita ko lekar etane gahan-vimarsh ki jarurat hi kya….
   
    Prathak Batohi आशा है वे आपकी इस विवेचना से कुछ सुधार लायेगे, अन्यथा आपकी विवेचना और उनकी कविता दोनों व्यर्थ ही रहेंगी
   
   संतोष त्रिवेदी ई कबिताई नहीं भड़ैती है!

    Pervaiz Alam Aap ne izzat bakhsh di varna in hazrat ka zikr bhi fuzool hai.
 
    Sudhendu Patel daagi kave ka apana aanuva ve dagail he hai purane pape hai!!!
 
    Baldeo Pandey Very unfortunate!
   
    Pankaj Tiwari हा हा रावण दुर्दशा देखी नही जाई
    
    Mukesh Popli महोदय, कबीर, मीर, गालिब तो हर कवि के आदिगुरु कहे जाते हैं, दो-चार शब्‍दों या वाक्‍यों की हेरा-फेरी करके, अपने से वरिष्‍ठ कवियों की चमचागिरी करके (सम्‍मानपूर्वक नहीं), बे-गैरत होकर गोष्ठियों में पहुंचकर जबर्दस्‍ती वाह-वाही करके और बे-वक्‍त ही-ही, वाह-वाह करके प्रसिद्धि पाने के इच्‍छुक लोग हमारे साहित्‍य क्षेत्र में बहुत हैं। कम-से-कम दर्जन भर तो मैं भी ऐसे कवियों को जानता हूं जिनका नाम सिर्फ और सिर्फ दूसरे लोगों की सिफारिश या बड़े पदों पर काम करने के कारण कविता क्षेत्र में लिया जाता है। अब रही बात इनकी रचना की, इस बात पर तो मेरा इतना भर कहना है कि कविता रचना कोई बच्‍चों का खेल नहीं है, अगर महाभारत और रामायण के प्रसंगों को ही उठाना है तो अपने थीसिस में उठाइए,पूर्व प्रसंगों या रचनाओं को तोड़-मरोड़ कर लिखने का काम फिल्‍मी गीतकारों या भाड़े के टट्टुओं पर छोड़ दीजिए, कविता तो समाज को बदलने का एक जरिया है, लोगों को जागरुक करने का एक माध्‍यम है, आजादी (चाहे वह किसी भी देश की हो) पाने की लड़ाई में पत्रकारिता और कविता सबसे ऊपर रही है, कविता केवल अभिव्‍यक्ति नहीं होती, समाज को प्रगति की ओर ले जाने का एक जरिया होता है, शायद इसीलिए मैं ऐसे लोगों का सम्‍मान नहीं कर पाता या उनके साथ अपने ख्‍यालात नहीं बांटता जोकि बात-बात पर कविता करने लगते हैं। पिछले दिनों जावेद अख्‍तर साहब के ख्‍याल पढ़कर भी हैरानी हुई और बहुत से दूसरे महानुभावों के विचार जानकर भी। लगे-हाथ इतना तो मैं भी कह सकता हूं कि 'तुम में अपनापन न सही, थोड़ी सी गैरत तो होगी, अतीत में झांकने से पहले, आंखों का शीशा तो साफ कर लीजिए'
 
    Govind Goyal he bhagvaan…tune kaise kaise namune banayehain
 
    Pankaj Kumar ese chapau rog kahate hai.
   
    DrDeepak Acharya हर युग में मूर्ख रहे हैं। ये बुद्धिजीवी जो बुद्धि को बेच कर जैसे-तैसे परायों पर पल रहे हैं, उनसे इससे ज्यादा अपेक्षा भी नहीं की जा सकती। हे ईश्वर…. उन लोेगों को अच्छी बुद्धि दे ….. आजकल भारतीय संदर्भ को विकृत ढंग से पेश करने वाले कमीनों का जमघट हर कहीं लगने लगा है। फिर साहित्य भी तो बकरा मण्डी से कहां कम रह गया है।

    Banwari Lal Gaur बहुत सुंदर और तार्किक बात कही है थानवी जी ।

    Shriniwas Rai Shankar तरस कम खीझ ही ज्यादा होती है…ये खुद मामा मारीच की कटेगरी के दिखते हैं.इनकी चिंता भी रावण के ही बचाव की है..'लंकाई रावण' के .

    Sandip Naik Shame……..on this…….
 
    Samir Gupteshwar Singh आप के इस पोस्ट से असहमत हूँ कविता में कवि के भाव महत्त्व पूर्ण है मेरे समझ से कवि जो कह रहा है पहला तेजपाल का कृत्य रावण से भी ज्यादा घृणित है दूसरा एक आर्थिक रूप से मजबूत (पंजाब) का कमजोर व रोजगार आश्रित (मिथिला) पर अत्याचार की भावना है तीसरा नारी होकर शोमा का कृत्यशूर्पनखा सा है ।कवि अपनी बात अपने तरह से कहा है पर तेजपाल के समर्थको को तेजपाल की आलोचना से अपच हो रही है ।
 
    शंभूनाथ शुक्ल गपोड़पंथी कल्पना के धनी ऐसे कवियों से और उम्मीद ही क्या की जा सकती है।

    Gunjan Sinha छोड़िये जाहिल है।

    अंजू शर्मा कविता कहाँ है???? यहाँ तो केवल कुंठा हैं।

    Aflatoon Afloo कचरा.आपकी समीक्षा से तर गया होगा.
 
    Om Banmali yeh kavya shilp ki arthi hai akal ka divaliyapan
 
    Pooja Singh Ye kabita nahi unke man ki atript abhilasha hai
 
    Rajendra Sharma हिंदी मै ऐसे कितने कवि,कथाकार,लेखक,आलोचक है जो दिल से मानते हो कि मै जितना काबिल था हिंदी ने मुझे उससे ज्यादा दिया है ,ज्यादातर को यही गिला रहता हे कि उन्हे कुछ नहीं मिला ,उतना नहीं मिला जितना मिलना चाहीये था और ज्यादातर को यही लगता रहता है कि उनके खिलाफ सब साजिस रच रहे है .हिंदी के एक कवि को फेसबुक पर यही शिकायत रहती है की उसी कभी किसी ने प्यार नहीं किया..
 
    Manish Mishra Siddhant Mohan bhai मेरा इशारा भी कल्पित जी के तरफ ही है

    Piyush Kumar Pandey कृष्ण कल्पित

    Rajeev Gupta रावण ने भी अपने प्रचारक छोड़ रखे थे । कुछ राम व उनकी सेना के हाथों मारे गये और जो बच गये कुछ ज्रिदा रह गये आज के रावण का गुणगान करने के वास्ते कुन्ठित मानसिकता लिये।

    Ranjit Choudhary उनकी भावना तो तरूण तेजपाल के कृत की आलोचना की ही है। भावना प्रधान है, शब्द नही। शब्दों के चयन मे गलती हो सकती है।
 
    Radheyshyam Singh Apne mithako ka virupikaran ghatak hai.
 
    Rakesh Achal he ram
   
    Anoop Pandey निरंकुशा: कवय: ।
    
    Vijay Rana That was my first reaction: why blame all Punjabis.
     
    Narayan Singh Deval Aise hi kuch alochak soor,tulsi ko neecha jatakar khud ko pratishthit karte rahe hain.
     
    Ashok Gupta संकीर्ण और तात्कालिक आवेग का प्रतिफल होती हैं ऐसी रचनाएँ… इनके पीछे कोई वैचारिक तंत्र नहीं होता…यह क्षम्य नहीं हैं.
     
    Brijraj Singh सही कहा आपने

    Indra Mani Upadhyay सही कहा सर
 
    Preeta Bhargava jee , bilkul
 
    Raviraj Singh तुकबंदी..
   
    Manoj Trivedi This ia a rape of poetry
    
    Rakesh Rk रावण ने अपहरण करवाया कहाँ था, खुद किया था| दूरदर्शन के निदेशक यदि साहित्यकार हैं तो उन्हें देखना चाहिए किस श्रेणी में उनके मातहत अधिकारी नियुक्त हुए थे और क्या किसी को लेखक/कवि होने का लाभ भी मिला था? बहरहाल कवि/अधिकारी महोदय अकेले नहीं हैं, तीन-चार रोज पहले ही मीडिया छाप/घोषित कर चुका था कि तरुण तेजपाल पर आरोप लगाने वाली युवती मिथिला/बिहार से आती है|
 
    Vikram Singh Bhadoriya jo bhi ho inki kavita ko share karke aapne inhen kavi kahaa yah badi baat hai Om Thanvi ji
 
    Mukund Mishra ऐसे ही सुशिक्षीत लोगों ने भारत का बेडा गर्क किया है..उन्हें मै बता दूँ की मिथिला संस्कार की जननी है,सभ्यता की सिरमौर है.इतना कहने के बावजूद वो मिथिला आये और यहाँ का आतिथ्य संस्कृति देखें,…
   
    Ashraf Alam hahahaaa
 
    Arun Srivastava अच्छा है कल्पित कृष्ण जी !!!!!!!!!! कविता क्या , भाव प्रदर्शन है बस बिना किसी कारीगरी के ! अधिकतर जगहों पर भाव कुछ बीमार-बीमार से लग रहे हैं ! बाकि सब तो ठीके है !  
   
    Priyam Tiwari सर नमस्कार। कहीं किसी ब्लॉग में अविनाश को पढ़कर आपको लेकर कृष्ण कल्पित के विचार मालूम हुए। वो यह रहे कि हिंदी -पत्रकारिता के ज्ञात इतिहास में एक से एक कामी कुटिल अयोग्य अर्द्ध-शिक्षित गंवार नीम-पागल जघन्य जंगली जरायम संपादक हुए हैं, पार्थ! लेकिन ऐसा संपादक नजरों से पहले नहीं गुजरा, जिसके भीतर असंख्य मुर्दों का वास हो और जो स्वयं एक चलता फिरता मुरदों का टीला हो। मुइन जो दड़ो – 5. (116-4) ।। कृ.क.।। प्रथम पेय।।
    कृष्ण कल्पित और ओम थानवी एक ही सूबे से दोनों आते हैं। एक बार भ्रष्टाचार के आरोप में कृष्ण कल्पित को हथकड़ी लगी और उन्हें जेल जाना पड़ा। उन्होंने थानवी जी मदद के लिए कहा। थानवी जी ने हाथ खड़े कर दिये कि मामला संगीन है और इस मामले में आपको खुद ही जूझना होगा। बस इसी गांठ ने कृष्ण कल्पित को ओम थानवी के खिलाफ एक अनवरत अभियान का खलनायक बना दिया है।  
 
    Swapnil Tiwari mujhe laga sirf main hi hun jo iritate ho raha hun unse… yahaan to lambi list hai… ghazal par bhi haath aazmaate hain wo.. tab ghazal par taras aata hai mujhe…
 
    Jitendra Kalra शोचनीय है कि एक बलात्कारी ना केवल लड़की के घर जाकर उसको धमकाता है बल्कि खुले आम उस लड़की कीमत लगाने की कोशिश करते हुए ना केवल सभ्य समाज के लोगों बल्कि हमारे संविधान और लोकतंत्र के मुँह पर ज़ोरदार तमाचा मारकर चला जाता है और समाज में उसकी गिरफ्तारी की माअंग का स्वर उस बुलंदी के साथ सुनाई नहीं पड़ता जितना एक सभ्य समाज से अपेक्षा की जाती है। विश्वास नहीं होता कि भारत की राजधानी दिल्ली में जी रहा हूँ कि कोई हिन्दी फिल्म चल रही है। IS MUDDE PAR DO TOOK BAAT KAHIYE KI AAP US BALAATKAARI KE SAATH HAIN YA JALD SE JALD USAKE DOSHI SATHIYON KE SAATH USKI GIRAFTAARI KI MAANG KO BULAND KARTE HAIN. FAISALA AAPKAA KYONKI JEEWAN HAI AAPKA.
 
    Om Nishchal सुना हे, इसमें बहुत सारी कविताऍं अशोक वाजपेयी, अज्ञेय, अन्‍यान्‍य कलावादियों, उनके जीवन और जीवनशैलियों और आपके विरोध में रची गयी हैं। पहली बार तो यही लगा कि यदि ये लोग न होते तो ये कविताएं भी कहां होतीं। पर इसके ब्‍लर्ब पर अरुण कमल जी की मुँहमॉंगी प्रशस्‍ति भी दर्ज है सो इसे पढ़ने के लिए मँगाया है। पर एक बात मुझे जो लगी वह यह कि कविताओं में व्‍यक्‍तियों का ऐसा पट्टीदारी जैसा विरोध पहली बार देखा। प्रवृत्‍तियों का विरोध होता तो शायद कुछ बात बनती। तभी कवि से मैंने पूछा था कि ऐसा काव्‍य लिखने की प्रेरणा देवीप्रसाद मिश्र तो कतई न देंगे, जैसा कि उन्‍होंने कहीं उनके प्रति प्रेरक आभार दर्ज किया है।

    बाकी टाइमलाइन पर बैठे हुए लेटे हुए खड़े हुए,सोते हुए जागते हुए, बैलगाड़ी पर पढते हुए, प्रियदर्शन, खगेंद्र ठाकुर, अरुण कमल, कर्मेंदु शिशिर, नंद किशोर नवल आदि और खुद कल्‍पित जी का प्रदर्शन , यद्यपि कवि का यह अपना अधिकार है, उनके उत्‍साहजन्‍य अतिरेक का पर्याय तो है ही। मेरा मानना है कि यदि कोई सच्‍चा सलाहकार होता तो उनका काव्‍य इस रूप प्रतिरूप में तो कतई न होता। चूँकि वे भी हमारे सुपरिचित हैं, इससे ज्‍यादा कहना मैत्री के विपरीत होगा।
 
    Pratyush Pushkar कलम आजमाने की गज़ब होड़ है .. मुद्दे की प्रतीक्षा में ताक़ लगाकर बैठे रहिये .. और जैसे कुछ मिला अपनी सारी कुंठा, साहित्य का जो जहां पढ़ा लिखा सब समेट कर गीतासार लिख दीजिये ! कवियों को शिकार करते ऐसे कभी नहीं देखा था! 'Desperate Attempt'!
 
    Dheeraj Kumar lajwab
 
    Om Thanvi Vikram Singh Bhadoriya कविता नहीं, तथाकथित कविता।
 
    Santosh Dwivedi 'Manuj' Tthakathit adbhut shbd h……dil jeet leta h y jitni bar b samne aata h….chuki khud b khud kafi kuchh byaan kr deta h.
   
    Shashikant Singh ये कलम के साथ की गई 'जबरदस्ती' है।
    
    Monika Jain Ye kabhi Laxmi Shankar Bajpai to nahi hai wo Bhi isi Khushfehmi me jite hai ki wo hi asl udhar karta hai Hindi sahitya k
     
    Rajshekhar Vyas आपने जाने -अनजाने कल्पित को कुख्याति दे कर उग्र मुक्तिबोध राजकमल सा विवादित तो बना ही दिया अब देखिये न जो बिहार कभी राजेंद्र बाबु ,जय बाबू ,शिवपूजन सहाय ,राम वृक्ष बेनीपुरी के कारण चर्चा मैं रहता था आज अजित रॉय (उसको भी चर्चित बनाने मैं आपका योगदान हैं -जैसे अशोक वाजपेयी को अशोक वाजपेयी बनाने मैं जाने अनजाने शरद जोशी -प्रभाष जोशी का महनीय योगदान हैं )त्रिपुरारी,अनुरंजन ,यशवंत ,से ले कर आपके मेरे प्रिय अविनाश की वज़ह से चर्चा मैं रहता हैं ……थोड़ी लिखी घनी बांच जो जी ,जोग लिखी ,गुस्ताखी मुआफ ………बहुत पाहिले आपके मेरे प्रिय सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ,,दिनमान (अज्ञेय काल से ले कर शायद रघुवीर सहाय काल तक )""चर्चा मैं ………स.द.स नाम से लिखते थे चर्चे और चरखे "आप भी शुरू कर दी जिए –गुर्गे और करघे टाइप ,,वैसे मैं आपको राजेंद्र माथुर ,प्रभाष जोशी परम्परा का संपादक मानता हूँ मगर आप भी सुम (जान बुझकर लिखा हैं )सुम -सामयिक मुद्दों को प्रज्वल्लित कर चुटकिया लेने से बाज़ नहीं आते ,,,,,,,,,,,,आपके अंदर भी एक उग्र रहता हैं !

    Abdul Wahid Maza Aagaya.
 
    Om Thanvi Rajshekhar Vyas फेसबुक को इतना गम्भीरता से न लो प्रभु! जैसे हम जब-तब सुम (जान-बूझ कर) पर आ जाते हैं, आप भी आया करो (यह करो भी बूझ कर)!
 
    Shashikant Singh व्यास जी ! दिमाग के ऊपर से निकल गया !! भगवान मुझे थोड़ी और बुद्धि दे।
 
    Om Thanvi Monika Jain Nahin. Culprit ka naam upar aa chuka hai.
   
    Mahesh Sharma inhe milna chahiye bharat ratn
 
    शंभूनाथ शुक्ल हिंदी का हर मास्टर कवि होता है, अखबार का हर पत्रकार क्रांतिकारी होता है ठीक उसी तरह आकाशवाणी और दूरदर्शन का हर अधिकारी साहित्यकार।
 
    Prakash K Ray 'Culprit' !!!
 
    Abdul Wahid true mahesh sb.
 
    Ramakant Roy उनका नाम काला है और वे कपोल कल्पित भी हैं..
   
    IP Singh Is this Kavita? It is an atrocity on a reader/listner if one is subjected to listen to or read such poem. Man seems to be intellectually bankrupt, emotionally hollow and seems to be Raping the Poetry. Yes is forcing himself on poetry. An example of Literary Rape.
     
    Shivji Joshi Ye taras aur kheej ke sarvtha yogay he.
     
    Tejkesari Daily काव्य कि समझ को लेकर दुखी होने या खीज होने कि आप की बात जायज है पर आज का काव्य तो यही है, इसी तरह के काव्य का वाचन व श्रवण तो लोगों कि पसंद बनता जा रहा है।
     
    Rakesh Rk कवितामयी माहौल में कविता-वायरस से पीड़ित हो जाना अनपेक्षित नहीं है| क्षमा सहित [वे काव्य का निर्माण करते हैं
    जैसे तंग गलियों में
    मैले कुचले कपड़े पहने
    लोग निर्मित करते हैं
    देसी तमंचे और कट्टे|
    ऐसे हथियार और उनका काव्य
    काम दोनों का एक ही है|
    बदला लेना,
    औरों को खत्म करना|
    चाकू, तमंचों, गोला-बारूदों से
    भी एक कदम आगे जाकर उनका काव्य
    वार करता है
    औरों को अपमानित करना,
    अराजकता फैलाना,
    या अपने जैसी बुद्धि वालों के
    लिए औरों का उपहास करने की
    सामग्री जुटाना उनका प्रिय शगल है|
    जिस पर हो जाए उनकी कोप-दृष्टि
    उसके भेजे में वे काव्य-बम फोड़ देते हैं
    अपनी तरफ से तो वे
    टाइम-बम बनाया करते हैं
    पर अधिकतर उनके बम
    जलते हैं सील गये सुतली बम की तरह|
    वे न थकते हैं कभी
    वे न रुकते हैं कभी
    अखबार,
    फिल्म,
    किताब,
    व्यक्ति,
    कुछ भी,
    कोई भी
    उन्हें कुपित कर सकता है|
    शोले देख वे
    गब्बर के पक्ष में
    ठाकुर से खफा गये
    एक बार इस बात से पारा हाई
    कि जब नाम “ अज्ञेय “
    तो क्यों इतनी बड़ी संख्या में
    लोग उन्हें जानने की कोशिश
    करते हैं,
    उनके रचे को पढ़ा करते हैं
    उन्हें गुमनामी के अँधेरे में क्यों नहीं पड़ा रहने देते?
    वे लगे हैं अपने जीवन की सार्थकता को पूरा करने में,
    वे न बदले हैं या रब न बदलेंगे
    वे काव्य की ऐसी मिसाइल
    बना रहे हैं
    जो उनके कम्प्यूटर से
    पृथ्वी के हरेक कोने में मार कर सके
    हवा में, पानी में और आकाश में
    औरों का साहित्यिक विध्वंस कर सके
    उन्हें उनके सामने नीचा दिखा सके|
    वैसे वे बड़े अहिंसक हैं
    इसीलिए तो काव्य बम
    बनाया और फोड़ा करते हैं|]
     
    Atul K Bhaskar samay badal raha hai… samaj badal raha hai… logon ki manshikta bhi badal rahi hai!
     
    Bharti Kuthiala aj har koi kavi ban jana chahta hai!!!!!!!!!!!!!
 
    Krishnamurarilal Agarwal Right.like
 
    Nishant Kumar Rishu I’m a failed poet.All of us failed to match our dreams of perfection. So I rate us on the basis of our splendid failure to do the impossible. Maybe every novelist wants to write poetry first, finds he can’t, and then tries the short story, which is the most demanding form after poetry. And, failing at that, only then does he take up novel writing.
    __________ Faulkner
 
    Shreesh Chandra सर और कुछ हुआ हो या नहीं एक क्षण के लिए सब गौण हो जाता है जितना कि कविता या काव्य बोध के साथ होने वाला बलात्कार प्रभावी दीखता है

    Asha Singh ye kya hai???
 
    Ashutosh Mitra सर इनको…. शीघ्र ही… बोध प्राप्त हो … ऐसी मंगल कामना ही कर सकते है…  
 
    Om Thanvi Asha Singh घोषित रूप से एक शराबी की "सूक्तियां"!
 
    Prateek Abhay ….Pr isme kavita kaha hai sir…!
 
    Jaideep Pandey Om Thanvi ji. Aisee kavi kavitaa ka star giraane me koi kasar nahi chor rahe…….acche kaviyo ko bhi badnaam karne me lage hai
   
    Vinod Bhatnagar kisi bhi poranik dharm granth par koi abdhra tippni karna apne apako kaya jayda buddiman batrana chata hai
     
    Manish Gupta Om Thanvi हाहाहाहा कवियों से तो पूरी दुनिया पीडित रही है,ये जिसको पाते है उसे ही अपनी कविता सुनाना शुरू कर देते हैं, अबकी बारी आपकी थी सो आप फंस गये, वैसे उंट भी कभी कभी पहाड के नीचे आ जाता है, हाहाहाहा
     
    Sunita Bharal ये भी कैसा है मेल
    मिथिला की ज्योति कुमारी
    मिथिला की तहलका कुमारी
    ये ही क्यूँ रचें ऐसे खेल
 
    डॉ नीहारिका रश्मि कवितातोछोडिए ये तो का बिले गौर पंक्तियाँ भी नहीं है .किसी तथ्य के प्रति आश्वत हुए बिना कैसे लिखा जाता है ,रावण को श्राप मिला था उसके सर के सौ टुकड़े हो जाते ,यदि वो जबरदस्ती करता तो ,काश ऐसा श्राप आज लोगों को मिला होता तो ,अपराधी की पहचान सहज ही हो जाती .

    Geeta Shree सर, ये महाकुंठित प्राणी हैं…इनसे सारी जनता आहत है। किसी को नहीं बख्शा है। खासकर महिलाओं के बारे में गंदे शेर शायरी गढ कर पुरुष साथियों को एसएमएस करने के लिए भी कुख्यात है। किसी के बारे में भी बकवास कर सकते हैं। मुझे तो ईश्वर का वह ढांचा ही यकीन के लायक नहीं लगता जिसमें यह केमिकल लोचा तैयार हुआ होगा…
          
    Brijendra Dubey paagal longon hain……….inse yahi ummid hai

लो जी, यशवंत का भी हो गया स्टिंग! भड़ास पर ही देख लें

Yashwant Singh : यह शायद पहली बार हो रहा होगा कि जिसका स्टिंग हुआ है, वही उसको पेश कर रहा है… थोड़ा अप्रत्याशित करने की आदत है… बुरा भी और अच्छा भी, इसलिए यह भी कर रहा हूं… कई मित्रों के मना करने के बावजूद… एक सज्जन ने मेरा स्टिंग किया… मुझे भेजा.. कुछ डिमांड की.. बेहद हाल-फिलहाल का मामला है.. आजकल का ही… सो, इससे पहले कि वो कुछ करें, मैं अपने खिलाफ हुए स्टिंग को खुद शेयर कर रहा हूं… अपने वॉल पर, अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड करके…. ध्यान रखिए… अपन फार्मूलओं से परे आदमी हैं.. और, अब ठान लिया है कि खुद की बुराइयों के बारे में लिखूंगा… क्योंकि मेरी नजर में अच्छा बुरा पाप पुण्य आदि इत्यादि सब केवल परसेप्शन हैं, मनुष्य के बनाए नियम उपनियम हैं.. और नियमों की खेती सबसे ज्यादा मिडिल क्लास, लोवर मिडिल क्लास करता है… स्टिंग देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें…


yashwant bhadas waale ka sting operation!

http://www.youtube.com/watch?v=EhbYrnBq_08

भड़ास के एडिटर यशवंत के फेसबुक वॉल से. उपरोक्त स्टेटस पर आईं कुछ प्रतिक्रियाएं नीचे दी जा रही हैं और इन्हीं प्रतिक्रियाओं में ही कहीं स्टिंग की असलियत के बारे में भी जिक्र है…

Deepak Sharma Sharma sahab ne kaha tha aapse mil len…. Hahaha Ye sharma sahab kaun he ?

Ranjit Bharati Deepak Bhai can you put some light on AAP sting ?

Govind Goyal o teri ki

Ankur Tyagi sahi class lagai ………..

Shakti Kumar sir video dekh ker achha laga or jana ki aaj bhi kuchh patrakar bikte nahi hai…. or aapse aage bhi yahi umid rakhnga..

अनूप श्रीनारायण स्टिंग करने वाले ही बेनकाब हो गए यसवंत भाई बधाई हो

Vikash Gupta badhiya

Narayan Pargain salam hai yaswat bhai ko

Praveen Kumar Khariwal Himmat ki kimmat

Bikash K Sharma saahasi kadam…

Akhilesh Krishna Mohan वास्तव में यशवंत देश के सबसे बेवाक पत्रकार हैं। उन्हों ने मंच भी खुद ही बनाया और मंजिल भी खुद ही तय कर रहे हैं। पत्रकारिता में पाप और पुण्य का लेखा जोखा कोई उनसे ले सकता है। वो देश की हिन्दी पत्रकारिता के सरकार बन सकते हैं। (फिल्म सरकार की तरह) बीते दिनों यशवंत का किरदार मीडिया में कुछ ऐसा ही दिखा है। धन्यवाद यशवंत जी।

Vikas Gupta दीपक जी कहीं वो शर्मा जी आप तो नहीं थे। हाहाहा…. । क्या सही कदम उसमें कुछ गलत होता तो ये बिल्कुल नहीं दिखाते।। उसमें इनके ख़िलाफ़ कुछ था ही नहीं इसी लिये डाल भी दिया।

Mohit Khan वाकई……कुछ तो अलग है भाई……..ज़बरदस्त

शशांक शेखर … क्या भाई आप भी… लगाए रहिए… हम भी आ रहे हैं…

Vidrohi Gauraw Solanki Gyan ki ganga bha di aapne to…… jai ho

Mayank Chirantan हा हा हा ये हुई न बात। दमदार।।।
 
Emran Rizvi chori aur seenazori
 
Yashwant Singh मेरा हिडेन पार्ट…
 
शशांक शेखर झा जी ये था क्या हो.. निकाह वाला चैनल ले कर…
 
Arvind Sinha aap v sir ek dm kmal k h…
 
Imran Zaheer Kya baat hai… Ise kahte hai nahle pe dahla… Tussi Great Ho bhaiya…
 
Yogesh Garg 'तंबाखू खैनी ज़र्दा चबाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है' आपको इस स्टिंग मे एक जगह ये लाइन चलानी चाहिए थी
 
Neeraj Diwan ये स्टिंग है भाई या प्रमोशनल वीडियो ? प्रयोग अच्छा लगा। इन अंतिम पंक्तियों से सहमत हूं.. मेरी नजर में अच्छा बुरा पाप पुण्य आदि इत्यादि सब केवल परसेप्शन हैं, मनुष्य के बनाए नियम उपनियम हैं.. और नियमों की खेती सबसे ज्यादा मिडिल क्लास, लोवर मिडिल क्लास करता है…
 
Masaud Akhtar हाहाहा…. बेचारा उसका वीडियो बनाने की मेहनत भी बेकार गई …
 
Shruti Thakur Isme sting jaisa kya tha???
 
Hari Jaipur मनुष्य ना पाप करता है न पुण्य करता है, वो वही करता है जो उसे करना होता है – चित्रलेखा (भगवती चरण वर्मा )
 
Abhinav Sharma ये तो करवाया गया स्टिंग लगता है। 3:30 पर आपकी भाषा कुछ प्रमाणित कर रही है आपके व्यक्तित्व को। चैनल के बाकी विडियो भी देखने से लगता है आप भी कुछ सनसनी के लिए ही काम करना पसंद करते हैं। बिलकुल अपने हिसाब से।

Anurag Jagdhari हिम्मतवाला ………
 
Madan Tiwary कभी-कभी लोक्प्रियता के लिये खुद का भी स्टिंग लोग करवाते है । कही यह स्टिंग उसी तरह का तो नही है ? बाते जिस तरह घुमाकर आप कर रहे है उससे यह मामला उतना साफ़ दिखता नही जितना आप दिखाना चाहते है।
 
Meetu Mee KOI babtaye… isme STING jaisa tha kya…………???? pehli baat to ye ki isme kuch tha hi nahi….aur kuch tha bhi toh b self creaated zada lag raa tha….anyways…good luck..!!
 
Shiv Tiwari कुछ तो है राज…..
 
Peeyush Singh Rao बलात्कार ,भ्रस्टाचार सब परसेप्शन है!
 
Devendra Surjan Sting kar bhi liya aur karne waale kaa maqsad bhi poora nahi hua fir us sirfire ne is tape ko aapke paas kis niiyat se bheja . Agar yah banawati sting nahi hai to aapko badhai ki aap swyam ko fislan se bacha paaye Yashwant jii.
 
आशीष सागर दीक्षित भैया भड़ास का आपरेशन !
 
Upadhyaya Pratibha नियमों की खेती सबसे ज्यादा मिडिल क्लास, लोवर मिडिल क्लास करता है…
 
Acharya Sushil Gangwar Bhadasi ka sting .. ?
 
Pratik Godhara khud ka karva ya huva string lagta hai ………
 
Pankaj Yadav आखिर चिरकुट स्टिंगर लैाट गया बैंरग । अपने बॉस को क्या बोला होगा जाकर !वैसे ये स्टिंग ही है ना ?
 
Ajay Pandey sir ji Tarun Tejpal kand me bhi apne amulya vichar hum sab se FB aur bhadas pe share kijiye
 
ManmohanKiran Gupta Baqwaas hai !!! kya ho gaya hai logo ko kitna short cut use karengey … ye JHOLA CHAAP PAtrakaar
 
Abhi Nov अरे सुर्ती वुर्ती रखे हैं क्या … सरकारी बाबू लग रहे हो भइया ..
 
Rishi Khare नियमों की खेती सबसे ज्यादा मिडिल क्लास, लोवर मिडिल क्लास करता है !
 
Girijesh Kumar समझ में नहीं आ रहा है कि इसको दिखा के अगला मांगेगा क्या? इसमें तो खरेपन की आंच के सामने वो ही पिघला हुआ दिख रहा है
 
Shashwat Swatantra Very TRUE. .. last lines
 
Sanjay Sharma kya bat kahi hai sar jii…. क्या बात है ..बेंड ही बजा दी आपने ..आखिर में उसने कहा आपके मित्र शर्मा जी ने भेजा तो मैं समझा गधा कही मेरा ही नाम ना ले दे ..
 
Tp Singh STING NAHI HAI,,,,,,,,,,,,
 
Vijay Mishra bhai aapka sting ho gya aur vidio bhi aapke paas kuchh samjh me nhi aaya bhaiya, sting karne ke bad aapko vidio de gya kya banda kuchhh alag hi lag rha hai…
 
Mahendra Nath Mishra अपरिपक्व पत्रकारिता
 
Shalini Pandey khalihar media ab kono kaam nai bacha
 
राय संजय wese sahi gariyay guru dhar ke in chirkuton ke bare main bhi sahi kahye …sale kharedyingye ……ha.ha.haaaaaaa
 
Thakur Gautam Katyayn
 
Mohammad Anas hahahah . lol
 
Mansi Manish aap use ek batan wala camera gift kar dijiye.. photo to sahi aaye
 
Pushpendra Singh bhut achha likhte hai.
 
Rahul Tripathi ye to apni hi de ke chal gaya …hahahahahah
 
Rising Rahul इसमें दोनों आवाजों को मैं बखूबी पहचानता हूं।
 
Atul Chaurasia waise pahchanta to mai bhi hu
 
Murar Kandari good
 
Manoj Yadav like
 
Mazkoor Alam jo sting karte hain… unhe apne upar hue sting ko bhi ujagar karna chahiye… agar koi mamla dabane ki koshish kar raha hai… khud judge ban raha hai to gadbad hai… bahut sahi kadam yashwant bhai…
 
Prem Prakash हम देख नही सके विडियो..लेकिन कमेंट्स की भावनाओं से अंदाज़ा लगाते हैं..बेहतर कदम होगा..
 
Ram Joshi kamyabi ka pahala sopan
 
Devender Dangi व्यवस्था परिवर्तन इतना सरल नहीं है ! बेईमानों के झुण्ड में आपकी ईमानदारी सदैव अग्निपरीक्षा देती रहती है !
 
Rakesh Pannu jhuth or beimani kuch der hi strong rahati hai lekin jeet hamesha sach or imandhari ki hoti hai dangi ji
 
Yashwant Singh यहां यह अब बता दूं कि ये फ्रेंडली मैच था… फिक्सिंग वाला मैच था… मतलब कि जब देखा कि सबका स्टिंग हो रहा है, मेरा नहीं हो रहा तो मैंने अपना खुद स्टिंग करा लिया, Chandan Srivastava के सौजन्य से… जय हो.. yashwant bhadas waale ka sting operation!
http://www.youtube.com/watch?v=EhbYrnBq_08

Devender Dangi Yashwant bhai aap b na bs 'aap' hi ho hahaha

Ashish Mishra नाम बदल कर यश'पाल कर लीजिए
 
Gourav Sharma ha ha ha jisne sting kiya uski to lanka lag gayi bhaiya do chaar rokad kama leta ab wo bhi nahi…
 
Pradumn Kaushik आपका स्टिंग करने की हिम्मत किसने दिखा दी
   
Rajeev Gupta रिहर्सल में करनी ही पड़ती है ।
    
Manika Sonal Hahahah… ismei tha kya aisa??
     
पीयूष मिश्र आपके साथ साथ आपके शर्मा जी की जय हो………जिनके कारण आपका स्टिंग हो पाया…..
     
Nadim S. Akhter ये स्टिंग किसी को दिखाइएगा मत. जिसे देखना हो, आपके दफ्तर में आकर ही देख सकता है. यही लोकतांत्रिक तरीका है, जिसे आम आदमी पार्टी पर आजमाया जा रहा है. यानी गर्दन भी काटोगे और चाहोगे कि खून के छींटे भी ना उड़े. जमीन तो लाल होगी ही. आज नहीं तो कल. झूठ के पांव नहीं होते और सच्चाई छुप नहीं सकती बनावट के उसूलों से.
     
Madan Tiwary maine to pahle hi likha tha
     
Ashok K Sharma स्टिंग करले गीत, प्यारे यशवंत के नाम
    (जिस देश में गंगा बहती है के गीत “प्यार करले” की पैरोडी)

    स्टिंग करले वरना झंडू कहलायेगा
    झंडू कहलायेगा, यूं ही मर जायेगा
    स्टिंग करले…
    पोर्टल-एडिटर बना, कौन नयी बात है
    पोर्टल-एडिटर बना कौन नयी बात है
    कोई स्केंडल नहीं, क्या तेरी औकात है
    कोई स्केंडल नहीं क्या तेरी औकात है
    मिस-हेंडल करले, ब्रेकिंग न्यूज़ में आएगा
    स्टिंग करले…
    पीटे पाटे सैकड़ों, खबरों की मार से
    मीडिया किंग डरते, तेरे शब्दों की धार से
    मीडिया किंग डरते, तेरे शब्दों की धार से
    खुद पे भी हंसले वरना कायर कहलायेगा
    स्टिंग करले..
    -रचियेता “अंकुश”
    (अरे भाई मेरा ही उपनाम है यार)
 
Abhishek Srivastava इस चेहरे को गौर से पहचान लीजिये
 
Devanand Yadav हा हा … वेरी गुड जॉब ।
   
Chandrabhan Singh are yahi to bhadas hai..

ज़ी मरुधरा में अव्यवस्था का आलम, चुनाव से पहले ही भगदड़ शुरू

हाल ही में शुरू हुए ज़ी के राजस्थान के रीजनल चैनल ज़ी मरुधरा में अव्यवस्थाओं का आलम ये है कि भगदड़ शुरू हो गई है। हाल ही में जोधपुर के ब्यूरो चीफ अमित यादव ने चुनावों के बीच में ही जोधपुर को राम राम बोल कर जयपुर आने का फैसला इसलिए ले लिया, क्योंकि उनसे चैनल के रेजिडेंट  एडिटर ने नेताओं से ऐड की भीख मांग कर टारगेट पूरा करने का दबाव बनाया तो जयपुर ऑफिस से भी लोगों ने भागना शुरू कर दिया है। नोएडा में बैठे चैनल के आकाओं को कुछ दिखाई ही नहीं दे रहा।

3 महीने पहले ही नोएडा ऑफिस से जयपुर ऑफिस शिफ्ट किये हुए सनद गुप्ता ने भी न्यूज़ नेशन ज्वाइन करने के लिए अचानक बिना कोई नोटिस सर्व किये ही भागना ठीक समझा।  दरअसल जयपुर में हालात ऐसे बना दिए गए हैं कि जयपुर में बैठा चैनल के आउटपुट टीम का हर सदस्य अपने लिए इसे प्रोफेशनल मर्डर समझ रहा है।  आउटपुट टीम के करीब १५ लोग जयपुर ऑफिस में भेजे गए हैं, जिनमे से कुछ लोग तो काफी सीनियर हैं जो ८ – ८ चैनल्स में काम करने के बाद य़हां पहुंचे हैं।  लेकिन जानकर आप हैरान हो जायेंगे कि इन १५ लोगों का काम मिलकर चैनल का टिकर चलना है।  केवल ये टिकर ही है जो जयपुर ऑफिस चलाता है, और उसका भी केवल अपर बैंड, क्योंकि लोअर बैंड नोएडा ऑफिस चलाता है। 

लोगों के पास समय काटने तक के लिए भी कोई काम नहीं है। हैरानी की बात ये है कि जयपुर ऑफिस में भेजे गए ये तमाम लोग इतने काबिल लोगों के तौर पर पहचाने जाते हैं, जो अपने बूते किसी भी चैनल के ऑउटपुट को खड़ा कर दें।  यही वजह है चैनल के तालिबानी फैसलों के सामने हर शख्स असहज, असहाय है और मानसिक प्रताड़ना का सामना कर रहा है।  सबसे ज़यादा बुरे तो हालात उन लोगों के साथ हैं जो खूबसूरत जयपुर में काम करने का मौका मिलते ही बीवी बच्चों के साथ जयपुर पहुँच गए।  लेकिन यहाँ आकर पता चला कि साहब धोबी का कुत्ता, न घर का न घाट  का।  अब जिसके सब्र का बाँध जब टूटेगा, तब तब लोग भागते जाएंगे।

चैनल के इन्ही हालात की वजह से टीआरपी लिस्ट में चैनल का हाल दया करने लायक है, क्योंकि काम करने वाले लोगों के हाथ बांध कर जयपुर कि जेल  में भेज दिया गया है।  उससे भी बड़ा टॉर्चर तो जयपुर ऑफिस का आउटपुट हेड है।  मिस्टर चौधरी को केवल टिककर चलवाने के लिए चैनल ने १५ लोग दे दिए मगर सब कुछ गड़बड़ हुआ रहता है। अक्सर नाईट शिफ्ट में टिकर पर एक भी आदमी नहीं होता। 

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

दैनिक भास्कर की लगातार पोल खोल रहा ‘दबंग दुनिया’, अब दिखाया संपादक को आइना

इंदौर में बहुत जोरदार सीन है. एक नया-छोटा अखबार दूसरे-बड़े अखबार की पोलखोल में जुटा है. यह स्वस्थ परंपरा है. जो बड़ा है, जिसके कंधों पर बड़ी जिम्मेदारी है, उसे सजग रखने के लिए चिकोटी काटते रहना जरूरी है ताकि कहीं वह सो न जाए, कहीं मदमस्त न हो जाए, कहीं घमंड से न चूर हो जाए.

दबंग दुनिया नामक एक अखबार दैनिक भास्कर को लगातार उसकी गल्तियां, उसके पाखंड, उसके करप्शन, उसके दाग आदि के बारे में लिखकर बताता रहता है. दबंग दुनिया ने अब भास्कर मध्य प्रदेश के एक जिम्मेदार संपादक अभिलाष खांडेकर को आइना दिखाया है और इस बहाने भास्कर के उगाही करने, पेड न्यूज करने के नए ट्रेंड की तरफ इंगित किया है. नीचे कटिंग पर क्लिक करिए और पूरी कहानी पढ़िए..

अगर आप भी किसी मीडिया वाले या किसी मीडिया ग्रुप की पोलखोल करना चाहते हैं तो लिखिए और भेजिए, bhadas4media@gmail.com पर.

तेजपाल सेक्स कांड से पत्रकारों की छवि धूमिल नहीं होगी : मार्क टूली

कोलकाता: मशहूर पत्रकार मार्क टूली का मानना है कि तहलका के संस्थापक संपादक पर लगे एक महिला पत्रकार के कथित यौन उत्पीड़न की घटना से सभी पत्रकारों की छवि धूमिल नहीं होगी. तरूण तेजपाल घटना के बारे में पूछे जाने पर अपना बर्थ सर्टिफिकेट लेने महानगर आये बीबीसी के पूर्व प्रतिनिधि ने कहा कि उन्होंने इस घटना के बारे में पढ़ा और सुना है, पर उन्हें सच्चई की जानकारी नहीं है. मार्क टूली का मानना है कि  मात्र इस घटना से अगर इस पेशे में काम कर रहे सभी पत्रकारों की छवि पर कोई खराब असर पड़ता है तो यह बड़ा ही दुर्भाग्यपूर्ण होगा.

भारत में बीबीसी के प्रतिनिधि के रूप में 22 वर्ष तक काम करने वाले मार्क टूली ने कहा कि उन्होंने वर्षो तक भारत में पत्रकारिता की है, पर उन्हें याद नहीं पड़ता है कि आज से पहले किसी पत्रकार पर इस प्रकार का आरोप कभी लगा है. पर पत्रकारिता के पेशे से जुड़े लोगों को इससे घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि सचेत रहने की जरूरत है.

विख्यात मीडिया हाउस बीबीसी के प्रतिनिधि के रूप में भारत में 22 वर्ष तक पत्रकारिता करने वाले मार्क टूली भले ही ब्रिटिश नागरिक हैं, पर उनका दिल तो हिंदुस्तान और विशेष रूप से कोलकाता में बसता है. मार्क टूली का महानगर से यह लगाव आज का नहीं, बल्कि उनके जन्म से है, क्योंकि उनका जन्म 24 अक्तूबर 1935 को महानगर के टॉलीगंज इलाके में हुआ था. अपना बर्थ सर्टिफिेकेट लेने के लिए मार्क मंगलवार को कोलकाता नगर निगम मुख्यालय पहुंचे थे, जहां मेयर शोभन चटर्जी एवं स्वास्थ्य विभाग के मेयर परिषद सदस्य अतीन घोष ने उनका बर्थ सर्टिफिकेट उनके हवाले किया. इस मौके पर मार्क ने कहा कि कोलकाता नगर निगम ने उनके बर्थ सर्टिफिकेट की तलाश में जो मेहनत की है, उसके लिए वह उनके कृतज्ञ हैं.

कोलकाता से उनका गहरा लगाव है. इसी लगाव के कारण वह भारत आये हैं. भले ही वह ब्रिटिश हैं, पर वह काफी हद तक भारतीय हैं. मार्क ने कहा कि आज अगर उनके माता-पिता जिंदा होते तो उन्हें यह देख कर बेहद खुशी होती कि वह अपनी मिट्टी की तलाश में यहां आये हैं. मार्क ने बताया कि उनकी मां का जन्म पूर्वी बंगाल में हुआ था. कोलकाता के सेंट पॉल कैथेड्रल में उनके माता-पिता की शादी हुई थी. उनके पिता ने यहां 28 वर्ष तक नौकरी की.  वह छह भाई-बहन हैं और सभी का जन्म इसी शहर में हुआ है. बेहला चर्च में उन सभी के नाम रखे गये. इस शहर में उनके काफी दोस्त हैं. यह उनके जीवन का एक यादगार दिन है. गौरतलब है कि ओवरसीज इंडियन सिटिजेन तैयार करने के वास्ते उन्होंने निगम से अपना बर्थ सर्टिफिकेट जारी करने का आवेदन किया था. 78 वर्ष पहले के उनके जन्म के दस्तावेज को तलाश करने में पसीने छूट गये, पर निगम के स्वास्थ्य विभाग के मेयर परिषद सदस्य अतीन घोष एवं उनकी टीम ने दिन-रात की मेहनत के बाद आखिरकार उन दस्तावेजों को तलाश कर ही लिया, जिसके आधार पर बर्थ सर्टिफिकेट तैयार कर मार्क टूली के हवाले किया गया.

‘आप’ के खिलाफ जारी होंगे और चार सीडी

आम आदमी पार्टी के नेता प्रशांत भूषण का कहना है कि एक मीडिया संस्थान से किसी राजू पारेलेकर नामक व्यक्ति ने मुझे फोन किया और कहा कि दिसंबर के पहले सप्ताह तक चार और सीडी जारी किए जाएंगे, जो 'आप' की छवि पूरी तरह खराब कर देंगे। प्रशांत का कहना है कि कुछ राजनीतिक दल एवं मीडिया समूह दिल्‍ली विधानसभा चुनाव के पहले उनकी पार्टी की छवि खराब करने की साजिश रच रहे हैं.

अभी कुछ समय पहले ही एक चैनल और एक वेबसाइट ने 'आप' नेताओं के स्टिंग का दावा कर चैनल पर दिखाया लेकिन बाद में पता चला कि स्टिंग में ऐसा कुछ भी नहीं है जो आपत्तिजनक है. केवल एडिटिंग के खेल से स्टिंग को आप नेताओं को घेरने वाला बताया गया. पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने चैनल के खिलाफ मानहानि का केस करने का फैसला किया. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी पार्टी को चुनाव के पहले बदनाम करने के लिए मीडिया चैनलों को 1400 करोड़ रूपये बांटे गये हैं.

भास्कर ग्रुप के रेडियो ‘माई एफएम’ के सीईओ हरीश भाटिया पर यौन उत्पीड़न का मामला

एक और वरिष्ठ मीडियाकर्मी यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिर गए हैं. भास्कर समूह के रेडियो स्टेशन माई एफएम के सीईओ हरीश भाटिया पर यहां कार्य कर चुकी एक महिला कर्मचारी ने कई संगीन आरोप लगाए हैं. इन आरोपों का समर्थन यहां कार्यरत रहीं दो अन्य महिलाकर्मियों ने भी किया है. इस प्रकरण में भाटिया को गिरफ्तारी के बाद जमानत मिल चुकी है. अब मामला कोर्ट में जा चुका है. पूरे प्रकरण से संबंधित विस्तृत खबर द हिंदू अखबार में प्रकाशित हुई है, जो इस प्रकार है…

Dainik Bhaskar group official taken to court over sexual harassment allegations

Chander Suta Dogra

Chandigarh, November 27, 2013  : A former employee at a radio station run by the group, supported by two former colleagues, has made the accusations against the station’s CEO Harish Bhatia

A case of sexual harassment and intimidation filed by a former female employee of MY FM, run by the Dainik Bhaskar group (DB corps), against CEO Harish Bhatia came up for hearing at the Mahila court in Saket on Tuesday, but was adjourned till February due to the absence of the judge.

The woman journalist has filed similar complaints before the National Commission for Women (NCW) and the Delhi High Court, alleging extreme sexual harassment by the accused.

She is being supported by two other colleagues who, after allegedly encountering similar sexual victimisation and intimidation at the hands of Mr. Bhatia, resigned in 2010. Synergy Media Entertainment Ltd. (SMEL) of the DB Corps operates My FM radio stations in 17 cities across the country.

On a complaint by the journalist, the Chittaranjan Park police station booked Mr. Bhatia under Sections 354 and 509 of the IPC and chargesheeted him last year. He was arrested but got bail. Her FIR gives details of several alleged instances of sexual harassment that took place not only in Delhi, but Chandigarh, Raipur and Mumbai, where she went for work with Mr. Bhatia.

Before going to the police, the journalist went to the National Commission for Women (NCW) in May 2010, saying that Mr. Bhatia had been sexually harassing her for more than a year and gave details of one particular incident on May 7 when he “outraged her modesty.”

Her complaint to the NCW states that when she threatened to complain “a resignation was sent by deceitful means from her office e-mail address.” Another former female employee of My FM, who left the organisation as she “could not tolerate the constant sexual intimidation,” also appeared before the NCW in support of her colleague.

“NCW ineffective”

Speaking to The Hindu, the complainant said: “We found the NCW quite ineffective and sometimes biased, which is why we have filed a writ petition before the Delhi High Court against the inaction of the NCW.” Her colleague has also given a detailed affidavit about alleged sexual victimisation by Mr. Bhatia.

When The Hindu got in touch with Mr. Bhatia over phone, he refused to comment and did not respond to subsequent calls and text messages. Pawan Aggarwal, a director at DB Corps who looks after SMEL, also did not respond to written and oral queries.

The journalist’s petition before the HC notes: “Harish. M. Bhatia, CEO of SMEL because of his vast and tremendous power in the company had been ill treating and victimising the female employees of the same company to satisfy his carnal desires and many a female employee, including the petitioner, who would not yield to his desires would be humiliated, insulted and put in such mental state by his acts, so as to force the female employees to put in their resignation as per his terms and condition.”

Echoing these allegations, a former Regional Head of My FM at Chandigarh said she was summarily shifted to a post with no work when she complained. “I left the organisation and now earn half of what I used to.”

All the three women said it had taken them three years of concerted effort, frustrating delays and a dent in their savings to bring the matter to this stage.

“All of us earn a fraction of what we used to, because wherever we applied, Mr. Bhatia would badmouth us and prevent us from getting jobs. Taking up such cases is very difficult because not only is there no support from the organisation that we worked for, but the redress machinery is painfully slow.”