सुप्रीम कोर्ट में ‘लोकमत’ को साकुरे ने दी मात, एरियर 50 लाख और वेतन 40 हजार मिलेगा

सुप्रीम कोर्ट ने श्री साकुरे का वेतन अस्थायी रूप से रु. 10,000/- करने के आदेश को कायम रखते हुए रु. 10 लाख बतौर एरियर्स श्री साकुरे को देने के आदेश में सुधार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा, वर्तमान में श्री साकुरे को रु. 5 लाख नगद दिए जाएं और बाकी रु. 5 लाख हाईकोर्ट में फिक्सड् डिपॉजिट में जमा किया जाए एवं मामले का अंतिम फैसला आने के बाद वह राशि उन्हें दी जाए. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का निपटारा 6 महीने के भीतर करने का निर्देश भी हाईकोर्ट को दिया.

24.07.2015 को प्रबंधन की मूल रिट पिटीशन मा. न्या. हक साहब के समक्ष सुनवाई के लिए आई. मा. न्यायमूर्ति ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद औद्योगिक न्यायालय, भंडारा के फैसले को कायम रखा और हाईकोर्ट में जमा रु. 5 लाख ब्याज सहित श्री साकुरे को देने का आदेश सुनाया. साथ ही मुकदमे के खर्च के रूप में साकुरे को रु. 10,000/- देने का आदेश भी दिया. हाईकोर्ट के आदेश के विरुद्ध प्रबंधन ने फिर सुप्रीम कोर्ट में दौड़ लगाई. मगर मा. सुप्रीम कोर्ट ने भी प्रबंधन की याचिका ठुकरा दी. इस तरह मा. सुप्रीम कोर्ट के उक्त फैसले के बाद अब मा. औद्योगिक न्यायालय, भंडारा का 18.10.2011 का आदेश व मा. हाईकोर्ट का 24.07.2015 आदेश अंतिम हो गया है.

1.10.1996 से साकुरे को पालेकर, बछावत, मणिसाना व अब मजीठिया अवार्ड के लाभ और क्लासीफिकेशन के आधार पर लागू वेतन श्रेणी व अन्य लाभों से उन्हें जानबूझकर वंचित रखा गया. साकुरे को अब करीब 50 लाख रु. की राशि का भुगतान लोकमत प्रबंधन को करना होगा. श्री महेश साकुरे की ओर से नागपुर के विख्यात कामगार वकील अधिवक्ता श्री एस. डी. ठाकुर ने पैरवी की.

सुप्रीम कोर्ट में भी हारने के बाद जब लोकमत प्रबंधन के पास कोई विकल्प नहीं बचा है तो अब साकुरे को मनाने की कोशिशें होने लगी हैं. उन पर विभिन्न तरह से दबाव बनाया जा रहा है. अभी पिछले महीने ही प्रबंधन की ओर से दो वरिष्ठ अधिकारियों ने भंडारा जाकर साकुरे से मुलाकात की और उन्हें  वेतन आयोग के अनुसार तय वेतन के अलावा एरियर्स के रूप में 25-30 रुपए लेकर मामला निपटाने की अपील की. बताते हैं कि साकुरे ने प्रबंधन के अनुरोध को खारिज कर दिया है.

इसे भी पढ़ सकते हैं>

मजीठिया वेज बोर्ड मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई में हो रही देरी पर यशवंत ने मुख्य न्यायाधीश को भेजा पत्र

 xxx

पत्रकार संगठनों का संसद पर प्रदर्शन का कार्यक्रम आपसी झगड़े के कारण पड़ा खटाई में, रास बिहारी का इस्तीफा

xxx

Union Labour Ministry asks UP Government to ensure implementation of Majithia Award

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “सुप्रीम कोर्ट में ‘लोकमत’ को साकुरे ने दी मात, एरियर 50 लाख और वेतन 40 हजार मिलेगा

  • Hariom shivhare says:

    Dear Sir
    Majithiya ke bare me jo muhim aapne chalayi hai uske liye mai Shree Yashwant ji ko bhot bhot Dhanyawad krta hu aur Sadar Aabhar pragat krta hu.
    sir aapse ek request hai hum logo tak supreme court me Majithiya case ki date kab hai aur supreme court me case ki date ke din kya hua iski jankari nhi phuch pati kripya aap case se related details update krwa diya kre aur mujhe lgta hai ab hme Majithiya se related news ko aur jyda prsarit krna chahiye qki ye ldai ab bhadas 4 media team ke bina nhi jit sakte Respected yashwant sir ab bhot late ho rha hai kripya koi aisa rasta nikaliye ki supreme court me case run ho aur pariman jald aaye please.
    Regards
    Hariom shivhare

    Reply
  • Yashvant ji, Ek Jagah jo apney likha hai ki Prabandhan ne Sri Sakure ko 25-30 Rupya deker mamle ko Niptaney ki koshish ker rahi hai…. To 25-30 Hazaar me yah Rupya hai ya 25-30 Lakh hai… Kripya Clear Karein… Dhanyabad.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *