Connect with us

Hi, what are you looking for?

सियासत

NDTV व चिदंबरम से लंबी लड़ाई लड़ने वाले IRS अफसर एसके श्रीवास्तव हरा दिए गए?

IRS अफसर एसके श्रीवास्तव

संजय श्रीवास्तव उर्फ संजय कुमार श्रीवास्तव उर्फ एसके श्रीवास्तव उर्फ एसकेएस. ये एक ही नाम है. बस उन्हें बुलाने पुकारने के सबके अपने अपने तरीके-अंदाज़ हैं. एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय और देश के तत्कालीन गृह मंत्री पी. चिदंबरम की मिलीभगत से दुनिया भर में फैलाई गई ब्लैकमनी के संजाल का खुलासा करने वाले और इस नेक्सस में मददगार अन्य अफसरों को निशाने पर लेने वाले निर्भीक आईआरएस अफसर एसके श्रीवास्तव को जबरन रिटायरमेंट दे दिया गया. इनकम टैक्स के जिन बारह अफसरों को एक साथ जबरन रिटायर किया गया, उनमें एक नाम संजय का भी है. अन्य अफसरों पर तो भ्रष्टाचार के संगीन आरोप हैं लेकिन संजय श्रीवास्तव को रिटायर किए जाने के पीछे उनकी भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लंबी लड़ाई को माना जा रहा है.

एनडीटीवी में काम कर चुके लोग संजय श्रीवास्तव की इस हार पर जश्न मना रहे हैं. खासतौर पर एनडीटीवी में काम कर चुके एंकर अभिसार शर्मा इसे संजय श्रीवास्तव से अपनी लंबी लड़ाई की आखिरी जीत मान कर चल रहे हैं. अभिसार को तमाम नामी गिरामी लोग इस जीत के लिए बधाई भी दे रहे हैं. ज्ञात रहे कि अभिसार शर्मा की पत्नी भी आईआरएस अफसर रही हैं और उन्हीं के कार्यक्षेत्र में एनडीटीवी का इलाका आता था. अभिसार की पत्नी ने संजय श्रीवास्तव पर कई किस्म के आरोप लगाए और मुकदमें सुप्रीम कोर्ट में चल रहे हैं. संजय श्रीवास्तव को सत्ता और मीडिया के बेहद ताकतवर गठजोड़ ने पागलखाने तक भिजवा दिया पर ये शख्स हारा नहीं. लड़ता रहा. संजय श्रीवास्तव का ज्यादातर वक्त आफिस की बजाय कोर्ट के चक्कर काटने और मुकदमों को संयोजित करने, जवाब बनवाने, अपना पक्ष मजबूती से रखने में जाया होता है. पर यह सत्य की जंग है और इस जंग में अक्सर सच के साथ खड़े रहने वाले को बीच बीच में तगड़ा झटका झेलना पड़ता है.

माना जाता है कि अरुण जेटली और पी. चिदंबरम की बेहद नजदीकी के कारण संजय श्रीवास्तव को निशाने पर लिया गया. सूत्रों का कहना है कि जबरन रिटायर करने वाली लिस्ट में संजय श्रीवास्तव का नाम आखिरी क्षणों जोड़ा गया. सूत्रों का दावा है कि सब कुछ मोदी के संज्ञान में लाए बिना किया गया. बताया जा रहा है कि पीएम मोदी तक संजय श्रीवास्तव को जबरन रिटायर करने का प्रकरण ले जाया जा रहा है. एसके श्रीवास्तव के नजदीकी लोगों का कहना है कि ये हार फाइनल नहीं है. ये बस एक बड़ा झटका भर है. नरेंद्र मोदी जी इस मामले में संज्ञान लेंगे और चीजों को ठीक जरूर करेंगे.

उधर, यह भी कहा जा रहा है कि नेताओं के बीच की अंदरुनी एकता ने एक ईमानदार अफसर के करियर का कत्ल कर दिया. बीजेपी हो या कांग्रेस, दोनों के ढेरों बड़े नेता आपस में नाभिनाल बद्ध रहते हैं. ये खुद को एक्सपोज करने वाले अफसरों से सामूहिक तौर से निपटते हैं. यही कारण है कि एनडीटीवी प्रबंधन के काले कारनामों की पूरी फाइल तैयार होने के बावजूद इसे पेंडिंग में रखा गया है. वहीं, जो अफसर बड़े लेवल का भ्रष्टाचार पकड़ता है और तत्कालीन सरकार के बड़े नेताओं, मंत्रियों, मीडिया हाउसेज के मालिकों से लड़ता है, उसे जबरन रिटायर कर यह संदेश दिया जा रहा है कि जो भी चोरी के खिलाफ मुंह खोलेगा, उसके खिलाफ नेता लोग सीनाजोरी करके उसे तबाह कर देगा.

Advertisement. Scroll to continue reading.

संजय श्रीवास्तव को भ्रष्ट-चोर अफसरों की लिस्ट में साजिशनडालकर जबरन रिटायर करना उनके चाहने वालों के लिए एक बड़ा झटका, सदमा है. देखना है कि अब संजय इस पूरे मामले पर कैसे रिएक्ट करते हैं और इससे कैसे निपटते हैं.

संजय को जबरन रिटायर किए जाने से उन लोगों को भी पीड़ा हुई है जो मानते रहे हैं कि पीेएम नरेंद्र मोदी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में किसी के साथ भेदभाव नहीं करते. खासकर कांग्रेस के जमाने के करप्शन के मामले में कतई ढील नहीं देंगे. लेकिन संजय के साथ मोदीराज में जो कर दिया गया है उससे अब यह संदेश जाने लगा है कि दावे चाहें जो करें, बड़े नेताओं की चोरी पर कोई आंच नहीं, चाहें वे किसी पार्टी के हों.

Advertisement. Scroll to continue reading.

इन्हें भी पढ़ें-

मानना पड़ेगा ‘इंडियन एक्सप्रेस’ अब भी सत्ता विरोधी है, देखें ये खबर

इस IRS अफसर ने किया चिदंबरम, प्रणय राय और NDTV को एक्सपोज… देखें 3 Video

एनडीटीवी, ब्लैकमनी, एसके श्रीवास्तव, जांच और जेठमलानी-चिदंबरम पत्राचार

‘यथावत’ मैग्जीन में ‘चिदंबरम, एनडीटीवी और पांच हजार करोड़’ पर स्टोरी

एनडीटीवी मनी लांड्रिंग केस : सीबीआई जांच के लिए पूर्व मुख्य न्यायाधीश समेत कइयों ने नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा

‘पंजाब केसरी’ वालों ने हिम्मत कर दी चिदंबरम-जेठमलानी पत्राचार के बारे में छापने की

मुंबईवाला डाट काम ने अभिसार शर्मा और तेलगुमिर्ची डाट काम ने दीपक चौरसिया को लपेटा

एनडीटीवी मनी लांड्रिंग को लेकर प्रणय राय और गुरुमूर्ति के बीच हुए पत्राचार को पढ़ें

कंटेप्ट आफ कोर्ट में आईआरएस अधिकारी एसके श्रीवास्तव को जेल व जुर्माना

एनडीटीवी वालों ने प्रकाशित की इनकम टैक्स कमिश्नर संजय श्रीवास्तव के जेल जाने की खबर

अभिसार शर्मा और एबीपी न्यूज़ का कोर्ट में बचाव क्यों कर रहे हैं सीबीडीटी और आयकर विभाग?

एनडीटीवी के खिलाफ जांच से सूचना मंत्रालय ने पल्ला झाड़ा

IT slaps 525 cr fine on NDTV!

सीबीआई जांच के घेरे में आए पत्रकार अभिसार शर्मा और उनकी आईआरएस पत्नी सुमाना सेन, पढ़ें पत्र

भड़ास के कार्यक्रम में जब ‘शेम शेम’ की आवाजें उठने लगीं….

क्या एनडीटीवी ने मोदी सरकार के दबाव में चिदंबरम का इंटरव्यू नहीं दिखाया?

1 Comment

1 Comment

  1. Sanjay Agnihotri

    August 11, 2019 at 4:12 pm

    सरकारी तन्त्र/निकाय का एक ऐसा सिपाही जो निकाय के साथ तो काम करता है लेकिन उसका हिस्सा बन कर नहीं । दुनियाँ की गाली खा कर भी वो टस से मस नहीं होता । He knows how to make a difference in this world.वो बेईमान कैसे हो सकता है?
    संजय अग्निहोत्री
    उपन्यासकर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement