आबकारी विभाग के सबसे भ्रष्ट अफसर नोएडा में पाए जाते हैं, तभी जारी है ये महालूट!

Yashwant Singh : आज हमने जीवन का पहला स्टिंग कर दिया। दारू ठेके वाले का। दो साल से लूट रहा था। कुछ रोज पहले दाम बढ़े होने और पुराना माल होने का झांसा देकर ढाई सौ रुपए एक्स्ट्रा ले लिया। दस रुपए मुझसे तो एक्स्ट्रा हर खरीद पर लेता ही है, न बोलने न लड़ने वालों से 30 से 50 रुपए एक्स्ट्रा लेता है। दुकान बंद होने से ठीक घण्टे भर पहले इसके अवैध वसूली के रेट में बेतहाशा उछाल आ जाता है। 50 से 150 तक एक्स्ट्रा वसूलता है। नकली दारू की भरपूर बिक्री करता है। ये संयोग होगा कि आपको असली दारू मिल जाए।

इस सोभड़ी वाले की दुकान नोएडा वेस्ट के गौर सिटी के पास न्यू हैबतपुर गांव में है।

आबकारी और जेल, ये सबसे भ्रष्टतम विभागों में एक है। नोएडा का जिला आबकारी अधिकारी कउनो राकेश बहादुर सिंह हैं। इन जनाब का कभी फोन ही नहीं उठता। जाहिर है, इस विभाग के संरक्षण के बिना बेधड़क दो साल से कोई कैसे ज्यादा दामों पर शराब बेच सकता है.

इन्हीं सब कारणों से अपने हाथों जीवन का पहला स्टिंग खुद करना पड़ा। चलचित्र कल डलेगा, आज केवल गद्य-चित्र!

कौन कहता है कि योगीराज में भ्रष्टाचार कम हो गया है?

बढ़ गया है रे बाबू! जमीन पर आ, आंखें खोल, फिर देख।

भड़ास एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

इस पर आए ढेरों कमेंट्स में से कुछ प्रमुख देखें-

Ayush Srivastava एक ईमानदार और जुझारू पियक्कड़ से मनमानी रेट लेना उस मधुशाला विक्रेता को मँहगा पड़ेगा.

Sandhir Sharma Journalist बड़े भाई कभी सिंगर कभी एंकर कभी स्टिंगबाज… कुछ और बचा है?

Asit Nath Tiwari हमने तो सुना था कि आपने सुरा से दूरी बना ली है

Yashwant Singh सुना तो हमने भी है पर दिल ने नहीं सुना!

Asit Nath Tiwari ई तो गजबे है भाई

Umesh Kumar Singh राकेश तो बहुत पहले महाराजगंज चले गए

Yashwant Singh कब गए? पहले जब था तब भी यही हाल था। सरकारी नम्बर है, कॉल करने पर उठाता ही नहीं कोई। जो था या जो है, सब तूचिये हैं भाई! ये साले भ्रष्ट लोग पैसा अपनी डांग में घुसाकर भगवान के पास ले जाएंगे।

Umesh Kumar Singh आज 1 साल हो गए

Yashwant Singh ओके। हम दो साल से पीड़ित हैं।

Madhur Yadav हमारी प्रार्थना है आपका पहला स्टिंग कामयाब हो

Yashwant Singh कामयाबी-नाकामयाबी के मकसद से शायद नहीं किया, सम्भवतः ये लगातार छले जाने के चलते मेरे गुस्से का प्रतिवाद था!

Madhur Yadav दादा आदमी भी मजबूर हो जाता है तभी करता है कब तक छलते ऐसे जान बूझ के

Niranjan Sharma ऐसे सोभड़ी वाले लगभग हर शहर में हैं ! गुण्डे-मर्डरर शराब के हर जगह ठेकेदार हैं ! मंत्री-मुख्यमंत्री तो इनकी जेब में रहते हैं ! लॉकडाउन के बाद दारू के अड्डों पर जो जनसैलाब उमड़ा और सरकारों की जो प्रतिक्रिया रही उससे इन दारमदचो लोगों की छाती और चौड़ी हुई है !

Manika Mohini बढ़ गया है। मैं भी कई बार रिश्वतखोरों के बारे में लिख चुकी हूँ।

Sushil Dubey बाबा गुरु… अब इसी पर धारावाहिक हो जाये… जनता प्यासी बैठी है…

Manoj Rai Duniya ke piyakkdo ek ho. Madhu Salaam

Umesh Srivastava Socialist इस तरह की हरकत करीब-करीब उत्तरप्रदेश के हर जिले में है ,आप जिस जिले के निवासी हैं वहां की भी वही हाल है, सारे अधिकारियों के कान और आख बंद हैं ,क्योंकि ठेकेदारों से इनकी मिलीभगत है, इसलिए ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए, आपकी जंग जायज है ,आपके जंग को सलाम,

Mo Arif Aziz Apne to Kamal Kar diya

Ved Ratna Shukla गोरखपुर के आगे बढ़ने पर पता नहीं ऐसा क्यों है. अब लखनऊ में नहीं है लेकिन आगे बढ़ने पर फिर है.

Sanjaya Shepherd ye sahi kiya aapne, is chij mein beimani nahin honi chahiye.

नीलाभ राय एक राकेश बहादुर सिंह गाज़ीपुर के भी आबकारी विभाग में हैं. यह भाई साहब भी बड़े वाले हैं.

Sudhir Singh वाह भाई शानदार काम किया है आपने। बेसब्री से चलचित्र की प्रतीक्षा रहेगी।

Brijendra Singh अभी होम डिलीवरी होने दीजिए, तब डिलीवरी चार्ज के नाम पर खुशी से देंगे सज्जन लोग!!

Riyaz Hashmi ये तो गया। हो गया भड़ासी बाबा के हाथों एनकाउंटर।

Azad Hemraj सही किया बस योगी से लेकर मंत्री तक टैग कीजिए

Kanhaiya Shukla एक सीरीज़ बन सकती “आली की बौछार ” जिसमें गाली की जगह आली का प्रयोग हो ..😂

Manish Dubey जोगी राज में हरामखोरी चरम पे है

Punit Shukla कौनो फरक नहीं पड़े का। मूतो ज्यादा, हिलाओ कम।

Dev Nath ई तो बिना पिए नंगा हो गया।

Avnish Jain हमने तो कई बार कार्ड से पैमेंट करने के बाद रसीद तक उपलब्ध कराई मगर जय राम जी की

Santosh Upadhyay कइलै त गईलै सार अब। नपाई अब ई त। बड़े भाई की जय जय

Atul Tyagi Nikku रामराज में ऐसा काम, हे राम

Durgesh Yadav कमोवेश यही स्थिति है। मीडिया के लोग भी ठेके चलवा रहे है, तो कोई खबर होती भी है तो दबा ली जाती है।

Akhil Kumar Shukla आज पहली बार कोई दारू की कीमतों के खिलाफ आवाज उठाया है

Putan Singh साले को जूता क्यों नहीं मारा

Krishna Awadh Yadav पहली बार देखा सर किसी को दारू पे आवाज उठाते… सर

Sanjeev Srivastava Adv Sabhi bibhag me chori ho raha hai

R K Pandey आबकारी के ये रामजादे… केवल लात की ही भाषा समझते हैं

Lokesh Salarpuri यूपी में पहली बार थाने में होमगार्ड वालो से भी हिस्सा मांगने की खबरें हैं !!कोरोना तो जबरदस्त कमाई का साधन बन गया है!!कुछ जानकार लोग चर्चा कर रहे थे कि सामाजिक संस्थाओं द्वारा बांटे जा रहे भोजन के पैकेटों को प्रशासन खुद के नाम से वितरित दिखा कर सरकार से आयी सहायता हड़प ले तो कौन रोकेगा …

Om Raturi देश के सच्चे राजस्व देने वालों से ऐसी लूट? मिलकर एक फैक्ट्री ही लगाने के बारे में सोचा जाय। कुछ को रोजगार तो मिलेगा।

Vivek Tiwari Hindustan ki GDP jo badha rahe hai unse bhi loot sala poora chor h kya ,bahut achha kiye bhai

Yashwant Singh सत्य वचन ब्रदर 🙁

Vivek Tiwari बाकि इस मुहिम में आपके साथ भावी पियक्कड़ समूह भी है ,सालो ने हर जगह लूट मचा रखी है काश हमारे राजा का इतना डर होता की मजाल है भाई दुबई में एक दिरहम भी ज्यादा ले कोई साला,सैंया भए कोतवाल वाली बात है

Chandan Sharma गज़ब गुरु, वैसे रिश्वत का रेट पहले से बढ़ चुका है योगिराज में।

Yashwant Singh सबको पता है जी, बस योगी राज के चमचों के पास नहीं है पारलेजी!

Chandan Sharma उ सब भक्ति में लीन हैं प्रभु पहिले राम भक्त थे। मंदिर के फैसले के बाद अब योगी भक्त बन गए। 🤣🤣

इसके आगे की कथा पढ़ें-

भड़ासी स्टिंग अभी रिलीज भी न हुआ, ठेका सील हो गया!

देखें स्टिंग-

नोएडा में आबकारी विभाग के संरक्षण में ज्यादा दाम पर बेखौफ बिक रही मदिरा का भड़ासी स्टिंग देखें

ये भी सच जानें-

आबकारी विभाग में जब ऐसे भ्रष्ट अफसर रहेंगे तो शराब की दुकानों पर लूट मचेगी ही!

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

One comment on “आबकारी विभाग के सबसे भ्रष्ट अफसर नोएडा में पाए जाते हैं, तभी जारी है ये महालूट!”

  • पुनीत शुक्ला says:

    नोएडा की पोस्टिंग का रेट भी बहुत है है।
    इसलिए जनता से बसूलते हैं।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *