सच ये है कि मोदी अब एक ब्रैंड में बदल गए हैं : राणा यशवंत

उत्तर प्रदेश से जो जनादेश है उसका चाहे जितना पोस्टमार्टम कर लें, खुद बीजेपी के लिये भी ये समझ पाना मुश्किल है कि ऐसा हुआ कैसे! लेकिन सुनामी आई और इसने कई जकड़बंदियों, राजनीतिक रिवाजों, फरेब के हवाईकिलों और बेहूदगियों-बदज़ुबानियों को ध्वस्त कर दिया. सामाजिक न्याय के नाम पर जातियों को अपनी जागीर बनानेवाले नेताओं के लिये ये जनादेश एक सबक है. कानून-व्यवस्था और सड़क-बिजली जैसी बुनियादी जरुरतों की जगह एक्सप्रेस-वे और स्मार्ट फोन देने की राजनीति के लिये ये जनादेश एक सबक है.

सरेआम ब्रांडेड धोखाधड़ी, अमूल के चार सौ ग्राम के पैक में दही सिर्फ 272 ग्राम

 

मेरठ : तरह तरह के ब्रांडेड प्रोडक्ट्स आजकल बाजार पटे पड़े हैं। ग्राहक प्रायः खुली आंखों से ऐसे सामान खरीदते समय सावाधानियां नहीं बरतते हैं। हर शहर में डेयरी फार्म खुले हुए हैं। वे ब्रांडेड रैपर चिपकाकर नकली माल ऊंचे दाम पर ठिकाने लगा रहे हैं। दुग्ध उत्पादित सामानों में तो तरह तरह की धोखाधड़ी सामने आने लगी हैं। अमूल मस्ती दही का तो अजब हाल है। वह जितना पैकेट पर लिखा है, उससे आधे वजन की निकल रही है।  

गोएबल्स की संतानें बनाम ब्रांड मोदी का शोर

इतिहास अपने आपको दोहराने के साथ कुछ समानताएं भी लाता है। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अमूमन उन्हीं की पार्टी के लोगों से लेकर मीडिया और तमाम विश्लेषकों द्वारा तानाशाह भी निरुपित किया जाता रहा है। हालांकि इसमें भी कोई शक नहीं कि भारत में जो कुव्यवस्थाएं हैं उसके लिए किसी आपातकाल या तानाशाह की जरूरत ही महसूस की जाती रही है। वैसे तो दुनिया भर में तानाशाह के रूप में जो व्यक्ति कुख्यात रहा उसका नाम अडोल्फ हिटलर है, जिसका प्रचार मंत्री गोएबल्स हुआ करता था। उसका कहना यह था कि किसी भी झूठ को 100 बार अगर जोर से बोला जाए तो वह अंतत: सच लगने लगता है…