मैनेजिंग एडिटर पद पर आसीन किसी पत्रकार का पहला म्यूजिक एलबम होने वाला है रिलीज, सुनें कुछ अंश

राणा यशवंत टीवी न्यूज इंडस्ट्री में पहले ऐसे मैनेजिंग एडिटर होंगे जिनकी रची ग़ज़लों का एलबम आ रहा है. राणा यशवंत इंडिया न्यूज चैनल में मैनेजिंग एडिटर पद पर कार्यरत हैं. राणा यशवंत टीवी न्यूज इंडस्ट्री में एक अलग मायने का नाम है. अलग सोच, अलग तबीयत, अलग फलसफा और कुछ अलग करने की धुन. …

इंडिया न्यूज वाले राणा यशवन्त को हार्ट अटैक, कैलाश अस्पताल में भर्ती

एक बड़ी और दुखद सूचना इंडिया न्यूज चैनल से आ रही है। चैनल के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत को हार्ट अटैक के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

‘इंडिया न्यूज’ के पत्रकार रोहित सावल बने हिमाचल प्रदेश के सीएम के मीडिया सलाहकार

Rana Yashwant : कुछ उपलब्धियां आपके लिए खुशी और नाज़ दोनों का ख़ज़ाना लेकर आती है. इंडिया न्यूज उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड और हरियाणा के संपादक रोहित सावल का नया मुकाम मेरे लिये ऐसा ही है. आज उन्हें हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का मीडिया सलाहकार बनाने का एलान हुआ. नोटिफिकेशन जारी किया गया. रोहित एक सुलझे और साहसी पत्रकार हैं.

इंडिया न्यूज के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत और उनके परिजनों को ‘भक्त’ देने लगे धमिकयां!

Rana Yashwant : इस देश में एक कौम पैदा की जा रही है जो पूरी तरह से नंगा है और आप पर अपनी सारी सड़ांध, लिजलिजापन और गंध लिए कभी भी हमला बोल देती है. ये सोशल मीडिया पर होता है और फोन के जरिए भी. मुझे अभी एक कॉल आया एक नंबर से. (ये नंबर जरूरत पड़ी तो मैं आप लोगों से साझा करुंगा) निहायत घटिया जुबान और हर बात के आखिर में- ”तुम…देशद्रोही”. ये देशभक्ति का ठेका लेकर चलनेवाली जमात सनकी, दिमागी तौर पर अपाहिज और लफंगों-लुहेड़ों की है.

सच ये है कि मोदी अब एक ब्रैंड में बदल गए हैं : राणा यशवंत

उत्तर प्रदेश से जो जनादेश है उसका चाहे जितना पोस्टमार्टम कर लें, खुद बीजेपी के लिये भी ये समझ पाना मुश्किल है कि ऐसा हुआ कैसे! लेकिन सुनामी आई और इसने कई जकड़बंदियों, राजनीतिक रिवाजों, फरेब के हवाईकिलों और बेहूदगियों-बदज़ुबानियों को ध्वस्त कर दिया. सामाजिक न्याय के नाम पर जातियों को अपनी जागीर बनानेवाले नेताओं के लिये ये जनादेश एक सबक है. कानून-व्यवस्था और सड़क-बिजली जैसी बुनियादी जरुरतों की जगह एक्सप्रेस-वे और स्मार्ट फोन देने की राजनीति के लिये ये जनादेश एक सबक है.

राणा यशवंत की अगली किताब ‘अर्धसत्य’

Rana Yashwant : मेरी अगली किताब ‘अर्धसत्य’ पर काम जारी है. आमिर ख़ान पर जो एपिसोड था, उस पर जो लिखा है, उसका एक टुकड़ा आपके लिए. कांटेंट और टेक्सचर दोनों का थोड़ा ख्याल रखा है.

आईआईटी का ये प्रोफेसर नौकरी छोड़ एक दिन चल पड़ा जंगल की ओर…

Rana Yashwant : आज एक स्टोरी आई. स्क्रिप्ट पढते ही मैं चौंक गया. कहा- कल इसको ठीक से करेंगे. अभी वही खबर दिख गई तो सोचा आपसे साझा कर लूं. शहाबुद्दीन जैसे लोगों के लिये सैकड़ों गाड़ियों का काफिला और हजारों की भीड़ चुटकियों में खड़ा हो जाते हैं, लेकिन एक आदमी इस देश की सेवा की बेहतरीन मिसाल खड़ी कर गया और हम उसको जानते तक नहीं. आलोक सागर, आईआईटी में प्रोफेसर हुआ करते थे. उनके छात्रों में रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन भी हैं.

टॉप तीन चैनलों में शुमार इंडिया न्यूज़ ने RedInk अवॉर्ड के तीन categories पर भी क़ब्ज़ा जमाया

Rana Yashwant : तीन साल के फ़ासले में इंडिया न्यूज़ ने देश के टॉप तीन चैनल में ना सिर्फ़ अपनी मज़बूत जगह बनायी है बल्कि पत्रकारिता के लिए देश के सबसे प्रतिष्ठित सम्मान RedInk अवॉर्ड पर तीन categories में क़ब्ज़ा कर ये भी जता दिया है देश में इंडिया न्यूज़ ने पत्रकारिता का मान बहुत बढ़ाया है. बुंदेलखंड के किसानों पर अर्धसत्य के एपिसोड को मानवाधिकार के लिए बेहतरीन शो का पुरस्कार मिला.

‘अर्द्ध सत्य’ के इस शानदार एपिसोड के लिए राणा यशवंत बधाई के पात्र हैं

भड़ास4मीडिया के कामकाज की व्यस्तता और यहां-वहां की यात्राओं-भागदौड़ के कारण न्यूज चैनल देखने का कम ही मौका मिल पाता है. लेकिन जब भी देखता हूं तो ज्यादातर निराश होता हूं और तुरंत डिस्कवरी, डिस्कवरी साइंस, एनजीसी, हिस्ट्री आदि चैनलों पर जाकर टिक जाता हूं. बकवास की चीख पुकार की जगह धरती ब्रह्मांड समुद्र जीव जंतु आदि के बारे में जानना सुनना समझना श्रेयस्कर है. दो रोज पहले ऐसे ही हिंदी न्यूज चैनलों पर भटक रहा था तो इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत का शो ‘अर्द्ध सत्य’ देखने लगा. शो अभी शुरू ही हुआ था. कंटेंट प्रभावित करता गया. रुक कर देखने को बाध्य हुआ.

रेखा पर राणा यशवंत की कविता

Rana Yashwant : रेखा पर कई दफा कविता लिखने की सोची, लेकिन कैनवास इतना बड़ा है कि हर बार रहने दिया। आज कुछ ऐसा हुआ कि बात बनती सी गयी और रेखा रच गयी।

फ्लिपकार्ट विज्ञापन और नेटवर्क क्रैश का निहितार्थ : घर में घुसकर जेब से पैसा निकालने की कोशिश

Rana Yashwant : ६ अक्टूबर की सुबह जब दिल्ली के लोगों ने शहर का नामी गिरामी अखबार हाथ में लिया तो उसके पहले औऱ आखिरी पन्ने पर ई शापिंग की कंपनी फ्लिपकार्ट के विज्ञापन दिखे। बंपर डिस्काउंट का विज्ञापन। रसोई की जरुरत से लेकर टीवी लैपटॉप मोबाइल औऱ कई छोटी मोटी जरुरत तक की चीजों की ऑनलाइन बुकिंग का विज्ञापन। समय भी लिख दिया गया था- सुबह ८ बजे से। नतीजा ये हुआ कि कंपनी का नेटवर्क क्रैश कर गया। कहने का मतलब ये कि हिंदुस्तान में ऑनलाइन शॉपिंग के लिये इतने लोग आ गये कि ट्रैफिक कंजेशन ने सिस्टम ठप कर दिया।

( File Photo Rana Yashwant )